ब्रह्मचर्य क्या है ??:-- आचार्य अर्जुन तिवारी

24 अक्तूबर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (445 बार पढ़ा जा चुका है)

ब्रह्मचर्य क्या है ??:-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सनातन धर्म में मानव जीवन को चार भागों में विभक्त करते हुए इन्हें आश्रम कहा गया है | जो क्रमश: ब्रह्मचर्य , गृहस्थ , सन्यास एवं वानप्रस्थ के नाम से जाना जाता है | जीवन का प्रथम आश्रम ब्रह्मचर्य कहा जाता है | ब्रह्मचर्य एक ऐसा विषय है जिस पर आदिकाल से लेकर आज तक तीखी बहस होती रही है | स्वयं को ब्रह्मचारी कहने वाले प्राचीनकाल से ही होते आये हैं | प्राय: आम जनमानस यही मानता चला आया है कि जिसने विवाह नहीं किया वही ब्रह्मचारी है | परंतु यदि इसे आध्यात्मिक दृष्टि से देखा जाय तो विवाह एवं ब्रह्मचर्य का कोई सम्बन्ध ही नहीं है | ब्रह्मचर्य का अर्थ है ब्रह्म व्यवहार | अर्थात ब्रह्म में लीन होने की अवस्था | यह किसी को भी जीवन के किसी भी पड़ाव पर प्राप्त हो सकती है | इसके लिए मनुष्य को वीतरागी बनते हुए अपनी समस्त इन्द्रियों पर नियंत्रण करना होगा | चक्रीय जागरण की अवस्था को पार करते हुए सांसारिकता से आबद्ध होने की अपेक्षा आध्यात्मिकता से आबद्ध होकर आंतरिक यात्रा करनी होगी | तभी मनुष्य ब्रह्मलीन होने की स्थिति को प्राप्त करके ब्रह्मचारी कहा जा सकता है | यदि वास्तविकता में देखा जाय तो ब्रह्मचर्य परमानंद की स्थिति है इसे कोई भी प्राप्त कर सकता है | परमपिता परमात्मा से साक्षात्कार के लिए स्वयं मनुष्यत्व से ऊपर उठकर देवत्व का आरोपण करके तपश्चर्या के माध्यम से इस स्थिति को पहुँचा जा सकता है | यह स्थिति जितनी एक संयासी के लिए सुलभ है उतनी ही गृहस्थ के लिए भी | जिस प्रकार देहधारी महाराज जनक जी विदेह हो सकते हैं उसी प्रकार कोई भी विवाहित गृहस्थ भी ब्रह्मचारी हो सकता है | ब्रह्मचारी और ब्रह्मचर्य के विषय में लोगों को भ्रमित न होकर यह समझना चाहिए कि ब्रह्म के आचार में प्रवृत्त होना ही वास्तविक ब्रह्मचर्य है |*


*आज के युग में सनातन धर्म की मान्यताओं को लेकर अनेक भ्रांतियाँ समाज में व्याप्त हैं , इन भ्रांतियों को बल तब मिल जाता है जब सनातन के पुरोधा भी सत्यता को जाने बिना इन भ्रांतियों को हवा दे देते हैं | आज जिस प्रकार सनातन की सभी मान्यताओं का अर्थ आज बदल गया है उसी प्रकार ब्रह्मचर्य का अर्थ भी बदलकर रह गया है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" आज देख रहा हूँ कि अनेक लोग अपने नाम के साथ ब्रह्मचारी तो लिखते हैं परंतु उनके कृत्य यदि देखा जाय तो किसी व्यभिचारी को भी लज्जित करने वाले होते हैं | प्राय: लोग यह भी कहते हैं कि मैं विवाह न करके ब्रह्मचर्य का पालन करूँगा | परंतु क्या विवाह न करने मात्र से कोई ब्रह्मचर्य का पालन करने ब्रह्मचारी हो सकता है ?? अधिकतर लोग ब्रह्मचर्य पालन का ढोंग तो करते हैं परंतु उनकी चित्तवृत्ति सकारात्मक एवं नियंत्रित नहीं रह पाती है | ऐसे ब्रह्नचर्य से क्या लाभ ?? जो लोग विवाह न करने के पक्षधर हैं उनको यह ज्ञान होना चाहिए कि सनातन धर्म में बताये गये चारों आश्रमों में गृहस्थाश्रम ही सर्वश्रेष्ठ है | यदि इन्हीं लोगों की तरह इनके माता - पिता भी वैवाहिक बन्धन में न बंधे होते तो इनका जन्म कैसे होता | मन में यह भ्रांति कदापि नहीं रखनी चाहिए कि विवाहित व्यक्ति ब्रह्मचारी नहीं हो सकता ! भगवान श्रीकृष्ण के सोलह हजार एक सौ आठ रानियाँ थी और सभी रानियों से दस दस पुत्र थे , परंतु फिर भी उनको ब्रह्मचारी कहा जाता है | कामवासना का त्याग करके मात्र संतानोत्पत्ति के लिए स्त्री संग करने वाला ब्रह्मचारी की श्रेणी में गिना जाता है | इस प्रकार ब्रह्मचर्य का पालन करके मनुष्य ब्रह्मचर्य आश्रम एवं गृहस्थाश्रम दोनों का पालन कर सकता है |*


*ब्रह्मचर्य जीवन का प्रथम आश्रम है परंतु आज जीवन के प्रथम आश्रम में ही युवा पीढ़ी अपने पथ से भ्रष्ट होकर पतित हो रही है ! यह चिंतनीय विषय है |*

अगला लेख: नारी का त्याग / अहोई अष्टमी :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
31 अक्तूबर 2019
*मनुष्य इस धरा धाम पर जन्म लेकर के जीवन भर अनेकों कृत्य करते हुए अपनी जीवन यात्रा पूर्ण करता है | इस जीवन अनेक बार ऐसी स्थितियां प्रकट हो जाती है मनुष्य किसी वस्तु , विषय या किसी व्यक्ति के प्रति इतना आकर्षित लगने लगता है कि उस वस्तु विशेष के लिए कई बार संसार को भी ठुकराने का संकल्प ले लेता है | आखि
31 अक्तूबर 2019
24 अक्तूबर 2019
भारत में जितने भी बड़े-बड़े व्यापारी और सेलिब्रिटीज हैं उनके अपने पर्सनल पंडितजी होते हैं। जिनसे पूछकर ही वे अपने सारे शुभ काम करते हैं। ऐसा हर कोई करता है और धार्मिक गुरु पर उनका ये विश्वास ही उन्हें सच्ची सफलता प्रदान करता है। ज्योतिषीयों के बारे में बहुत सारी बातें होती हैं जिन्हें समझने के लिए ज
24 अक्तूबर 2019
22 अक्तूबर 2019
*भारत देश में अपने परिवार तथा समाज को संपन्न एवं दीर्घायु की कामना से नारियों ने समय-समय पर कठिन से कठिन व्रत का पालन किया है | वैसे तो वर्ष भर कोई न कोई पर्व एवं त्योहार यहां मनाया जाता रहता है , परंतु कार्तिक मास विशेष रुप से पर्व एवं त्योहारों के लिए माना जाता है | कार्तिक मास में नित्य नए-नए त्य
22 अक्तूबर 2019
17 अक्तूबर 2019
करवा चौथ का व्रत सुहागिन महिलाओ के लिए बहुत खास होता है। यह व्रत हर साल कार्तिक माह में कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को आता है। इस साल यह व्रत गुरूवार 17 अक्टूबर को आ रहा है। करवा चौथ वाले दिन महिलाये पति की लम्बी आ
17 अक्तूबर 2019
24 अक्तूबर 2019
उज्जैन (मध्यप्रदेश) निवासी आदरणीय पंडित सूर्य नारायण व्यास वह मूर्धन्य विद्वान ज्योतिषी थे जिन्होंने भारत की स्वतंत्रता का मुहूर्त 14 अगस्त की रात्रिकालीन अभिजीत (12 बजे ) या ये कहें की 15 अगस्त की सुबह 00 बजे का निकला था l स्वतंत्र भारत का जन्म 15 अगस्त 1947 को मध्यरात्रि दिल्ली में हुआ था और कुंडल
24 अक्तूबर 2019
17 अक्तूबर 2019
*सनातन धर्म एक दिव्य एवं अलौकिक परंपरा को प्रस्तुत करता है , समय-समय पर सनातन धर्म में प्रत्येक प्राणी के लिए व्रत एवं पर्वों का महत्व रहा है | परिवार के जितने भी सदस्य होते हैं उनके लिए अलग अलग व्रतविशेष का विधान सनातन धर्म में ही प्राप्त होता है | सृष्टि का आधार नारी को माना गया है | एक नारी के द्
17 अक्तूबर 2019
30 अक्तूबर 2019
*मानव जीवन में पवित्रता का बहुत बड़ा महत्त्व है | प्रत्येक मनुष्य स्वयं को स्वच्छ एवं पवित्र रखना चाहता है | नित्य अनेक प्रकार से संसाधनों से स्वयं के शरीर को चमकाने का प्रयास मनुष्य द्वारा किया जाता है | क्या पवित्रता का यही अर्थ हो सकता है ?? हमारे मनीषियों ने बताया है कि प्रत्येक तन के भीतर एक मन
30 अक्तूबर 2019
19 अक्तूबर 2019
*हमारा देश भारत आध्यात्मिक सांस्कृतिक एवं वैज्ञानिक दृष्टि से आदिकाल से ही सर्वश्रेष्ठ रहा है | संपूर्ण विश्व भारत देश से ही ज्ञान - विज्ञान प्राप्त करता रहा है | संपूर्ण विश्व में भारत ही एक ऐसा देश है जहां समय-समय पर ईश्वरीय शक्तियों ने अवतार धारण किया जिन्हें भगवान की संज्ञा दी गई | भगवान धरा धा
19 अक्तूबर 2019
31 अक्तूबर 2019
..... इंसानियत ही सबसे पहले धर्म है, इसके बाद ही पन्ना खोलो गीता और कुरान का......"जय हिन्द"
31 अक्तूबर 2019
22 अक्तूबर 2019
इस संसार में महिलाओं का जीवन सरल नहीं है और हर पग पर उन्हें कोई ना कोई परीक्षा देनी होती है। उनके ही कारण रमायण, महाभारत जैसे कई युद्ध हुए लेकिन फिर भी हिंदू धर्म में कहीं ना कहीं महिलाओं को देवी का दर्जा दिया गया है। मगर इस्लामिक धर्म
22 अक्तूबर 2019
11 अक्तूबर 2019
*माता - पिता के संयोग से परिवार में जन्म लेने के बाद मनुष्य धीरे धीरे समाज को जानता - पहचानता है क्योंकि मनुष्य एक सामाजिक जीव है। समाज ही उसका कर्मक्षेत्र है। अतः उसे स्वयं को समाज के लिए उपयोगी बनाना पड़ता है। मनुष्य ईश्वर की भक्ति एवं सेवा बहुत ही तन्मयता से करता है परंतु समाज की ओर बगुत ही कम ध्य
11 अक्तूबर 2019
11 अक्तूबर 2019
*संपूर्ण विश्व में भारत एक ऐसा देश है जहां के संस्कार एवं संस्कृति संपूर्ण विश्व पर अमिट छाप छोड़ती है | भारत ही ऐसा देश है जहां समय-समय पर नारायण ने अनेक रूपों में अवतार लिया है | वैसे तो भगवान के प्रत्येक अवतार ने कुछ ना कुछ मर्यादाएं स्थापित की हैं परंतु त्रेतायुग में अयोध्या के महाराज दशरथ के यह
11 अक्तूबर 2019
13 अक्तूबर 2019
*सृष्टि के आदिकाल में परब्रह्म के द्वारा वेदों का प्राकट्य हुआ | वेदों को सुनकर हमारे ऋषियों ने शास्त्रों की रचना की | उन्हीं को आधार मानकर हमारे महापुरुषों के द्वारा अनेकानेक ग्रंथों की रचना की गयी जो कि मानव मात्र के लिए एक मार्गदर्शक की भूमिका में रहे हैं | इन ग्रंथों का मानव जीवन में बहुत ही महत
13 अक्तूबर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x