पुत्री के यहाँ भोजन :--;- आचार्य अर्जुन तिवारी

25 अक्तूबर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (440 बार पढ़ा जा चुका है)

पुत्री के यहाँ भोजन :--;- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सनातन धर्म के मानने वाले भारत वंशी सनातन की मान्यताओं एवं परम्पराओं को आदिकाल से मानते चले आये हैं | इन्हीं मान्यताओं एवं परम्पराओं ने सम्पूर्ण विश्व के समक्ष एक उदाहरण प्रस्तुत किया है | सनातन की संस्त परम्पराओं में प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से वैज्ञानिकता भी ओतप्रोत रही है | हमारे देश में आदिकाल से परम्परा रही है कि दिये हुए दान का एक भी अंश यदि उपभोग किया जाता है तो मनुष्य का पुण्य तो क्षीण होता ही है साथ ही वह नरकवासी भी बनता है | शास्त्र / पुराणों में अनेक ऐसे कथानक प्राप्त होते हैं जहाँ दिये हुए दान का भूलवश भी उपयोग कर लेने पर दण्ड का भागी बनना पड़ा है | मनुष्य वोसे तो जीवन भर जाने - अन्जाने अनेक प्रकार के दान किया करता है परंतु मनुष्य के हाथ से किया जाने वाला "कन्यादान" सर्वश्रेष्ठ एवं महत्वपूर्ण दान होता है | इसीलिए कन्या के यहाँ का अन्न जल का उपभोग कन्यादाता को कदापि नहीं करना चाहिए | कुछ लोगों का मत है कि जब कन्या को पुत्र की प्राप्ति हो जाय तब कन्यादाता अन्न जल ग्रहण कर सकता है , परंतु ऐसा कोई निर्देश कहीं भी शास्त्रों में देखने को नहीं मिलता है | जिस घर में कन्या दे दी उस घर की बात तो दूर है हमारे पूर्वज उस पूरे गाँव का जल नहीं ग्रहण करते थे , क्योंकि उनकी मान्यता थी कि यह पूरा गाँव एक दिन बाराती बनकर हमारे द्वार पर गया था और मेरे द्वारा पूजित है , कुछ न कुछ दान देकर इन सबको विदा किया गया है तो इनके घर का भी अन्न जल ग्रहण करना उचित नहीं है | परंतु समय के साथ लोगों की मान्यताओं में परिवर्तन स्पष्ट देखा जा रहा है | यह परिवर्तन न तो प्राचीन भारतीय परम्परा थी और न ही शास्त्रोक्त है |*


*आज जिस प्रकार सनातन की प्राचीन परंपराओं का लोप हो रहा है वह किसी से छुपा नहीं है | जिस प्रकार लोग मनमाने ढंग से धर्म की व्याख्या करने लगे हैं उसी प्रकार आज लोग अपनी कन्या के यहां भोजन भी करने लगे हैं | लोगों का तर्क होता है कि चलते समय हम कन्या को उतना दे देते हैं जितना भोजन का दाम होता है | परंतु ऐसा कहने वाले सभी बुद्धिजीवियों को मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" यह बताना चाहूंगा कि हमारे शास्त्रों में स्पष्ट लिखा है कि जिस गाय का दान कर दिया जाए उस गाय का दूध धन देकर भी प्रयोग में नहीं लिया जा सकता है | जब दान की हुई गाय के दूध को हम धन देकर भी लेने के अधिकारी नहीं है तो कन्या के यहां भोजन करके उसके बदले उसको धन देना कहां तक उचित है ?? प्राचीन काल में ऐसी मान्यता थी कि जिस गांव मे हम अपनी कन्या का विवाह करते थे उस गांव से अपने घर के लिए बहू नहीं लाते थे , क्योंकि ऐसी मान्यता थी कि एक बार मैंने जिनको अपने दरवाजे पर पूजित किया है उनके द्वारा मैं भला कैसे पूजित हो पाऊँगा ! परंतु आज यह देखा जा रहा है गांव की बात छोड़ दो जिस घर में कन्या का विवाह किया जाता है उसी घर से अपने बेटे के लिए लोग बहू ला रहे हैं | यही कारण है आज हमारी आने वाली पीढ़ी संस्कार विहीन होती जा रही , क्योंकि हम स्वयं अपनी प्राचीन मान्यताओं को नहीं मान रहे हैं तो आने वाली पीढ़ी से क्या आशा क़ी जाए | आज रिश्तेदारियों में अनेक प्रेम प्रसंग सुनने को मिलते हैं इसका कारण यही है कि हमने अपनी संस्कृति और सभ्यता का त्याग कर दिया है | जब हम स्वयं सनातन के विपरीत आचरण कर रहे हैं तो अपनी आने वाली पीढ़ियों को वैसा आचरण करने से कैसे रोक पाएंगे | यह एक विचारणीय विषय है |*


*सनातन की मान्यताएं सदैव से दिव्य रही हैं | आज भी समाज में उन को मानने वाले लोग हैं जो किसी के बरगलाने पर भी अपनी मान्यताओं को नहीं छोड़ रहे हैं | इसीलिए सनातन को दिव्य एवं शाश्वत कहा जाता है |*

अगला लेख: नारी का त्याग / अहोई अष्टमी :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
19 अक्तूबर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedC
19 अक्तूबर 2019
11 अक्तूबर 2019
*माता - पिता के संयोग से परिवार में जन्म लेने के बाद मनुष्य धीरे धीरे समाज को जानता - पहचानता है क्योंकि मनुष्य एक सामाजिक जीव है। समाज ही उसका कर्मक्षेत्र है। अतः उसे स्वयं को समाज के लिए उपयोगी बनाना पड़ता है। मनुष्य ईश्वर की भक्ति एवं सेवा बहुत ही तन्मयता से करता है परंतु समाज की ओर बगुत ही कम ध्य
11 अक्तूबर 2019
28 अक्तूबर 2019
*मानव जीवन पा करके मनुष्य लंबी आयु जीता है | जीवन को निरोगी एवं दीर्घ जीवी रखने के लिए मनुष्य की मुख्य आवश्यकता है भोजन करना | पौष्टिक भोजन करके मनुष्य एक सुंदर एवं स्वस्थ शरीर प्राप्त करता है | मानव जीवन में भोजन का क्या महत्व है इसको बताने की आवश्यकता नहीं है , नित्य अपने घरों में अनेकों प्रकार
28 अक्तूबर 2019
29 अक्तूबर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <w:ValidateAgainstSchemas></w:Val
29 अक्तूबर 2019
19 अक्तूबर 2019
*हमारा देश भारत आध्यात्मिक सांस्कृतिक एवं वैज्ञानिक दृष्टि से आदिकाल से ही सर्वश्रेष्ठ रहा है | संपूर्ण विश्व भारत देश से ही ज्ञान - विज्ञान प्राप्त करता रहा है | संपूर्ण विश्व में भारत ही एक ऐसा देश है जहां समय-समय पर ईश्वरीय शक्तियों ने अवतार धारण किया जिन्हें भगवान की संज्ञा दी गई | भगवान धरा धा
19 अक्तूबर 2019
19 अक्तूबर 2019
*इस धरा धाम पर वैसे तो मनुष्य की कई श्रेणियां हैं परंतु आध्यात्मिक दृष्टि से मनुष्य को दो श्रेणियों में बांटा गया है :- प्रथम भक्त एवं दूसरा ज्ञानी | भक्त एवं ज्ञानी दोनों ही आध्यात्मिक पथ के पथिक हैं परंतु दोनों में भी भेद है | जहाँ भक्त बनना कुछ सरल है वहीं ज्ञानी बनना अत्यंत कठिन | भक्तों के लिए
19 अक्तूबर 2019
30 अक्तूबर 2019
*मानव जीवन में पवित्रता का बहुत बड़ा महत्त्व है | प्रत्येक मनुष्य स्वयं को स्वच्छ एवं पवित्र रखना चाहता है | नित्य अनेक प्रकार से संसाधनों से स्वयं के शरीर को चमकाने का प्रयास मनुष्य द्वारा किया जाता है | क्या पवित्रता का यही अर्थ हो सकता है ?? हमारे मनीषियों ने बताया है कि प्रत्येक तन के भीतर एक मन
30 अक्तूबर 2019
22 अक्तूबर 2019
*हम उस दिव्य एवं पुण्यभूमि भारत के निवासी हैं जहाँ की संस्कृति एवं सभ्यता को आदर्श मानकर सम्पूर्ण विश्व ने अपनाया था | जहाँ पूर्वकाल में समाज की मान्यताएं थी कि दूसरों की बहन - बेटियों को अपनी बहन -बेटियों की तरह मानो | जहाँ तुलसीदास जी ने अपने मानस में लिखा कि :- "जननी सम जानहुँ परनारी ! धन पराव वि
22 अक्तूबर 2019
28 अक्तूबर 2019
*कार्तिक माह में चल रहे "पंच महापर्वों" के चौथे दिन आज अन्नकूट एवं गोवर्धन पूजा का पर्व मनाया जाएगा | भारतीय सनातन त्योहारों की यह दिव्यता रही है कि उसमें प्राकृतिक , वैज्ञानिक कारण भी रहते हैं | प्रकृति के वातावरण को स्वयं में समेटे हुए सनातन धर्म के त्योहार आम जनमानस पर अपना अमिट प्रभाव छोड़ते हैं
28 अक्तूबर 2019
17 अक्तूबर 2019
*सनातन धर्म एक दिव्य एवं अलौकिक परंपरा को प्रस्तुत करता है , समय-समय पर सनातन धर्म में प्रत्येक प्राणी के लिए व्रत एवं पर्वों का महत्व रहा है | परिवार के जितने भी सदस्य होते हैं उनके लिए अलग अलग व्रतविशेष का विधान सनातन धर्म में ही प्राप्त होता है | सृष्टि का आधार नारी को माना गया है | एक नारी के द्
17 अक्तूबर 2019
08 नवम्बर 2019
*पंचतत्त्वों से बने मनुष्य को इस धरा धाम पर जीवन जीने के लिए मनुष्य को पंचतत्वों की आवश्यकता होती है | रहने के लिए धरती , ताप के लिए अग्नि , पीने के लिए पानी , सर ढकने के लिए आसमान , एवं जीवित रहने के लिए वायु की आवश्यकता होती है | मनुष्य प्रत्येक श्वांस में वायु ग्रहण करता है | श्वांस लेने के लिए
08 नवम्बर 2019
11 अक्तूबर 2019
*इस संसार में जन्म लेने के बाद प्रत्येक जीव का उद्देश्य होता है भगवान की भक्ति करके उनका दर्शन करने एवं मोक्ष प्राप्त करना | इसके लिए अनेक साधन बताये गये हैं , इन सभी प्रकार के साधनों में एक विशेष बात होती है निरन्तरता | अनन्य भाव के साथ निरन्तर प्रयास करने से इस सृष्टि में कुछ भी असम्भव नहीं है | अ
11 अक्तूबर 2019
19 अक्तूबर 2019
*हमारा देश भारत आध्यात्मिक सांस्कृतिक एवं वैज्ञानिक दृष्टि से आदिकाल से ही सर्वश्रेष्ठ रहा है | संपूर्ण विश्व भारत देश से ही ज्ञान - विज्ञान प्राप्त करता रहा है | संपूर्ण विश्व में भारत ही एक ऐसा देश है जहां समय-समय पर ईश्वरीय शक्तियों ने अवतार धारण किया जिन्हें भगवान की संज्ञा दी गई | भगवान धरा धा
19 अक्तूबर 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x