गोवर्धन पूजा अर्थात प्रकृति पूजा :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

28 अक्तूबर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (440 बार पढ़ा जा चुका है)

गोवर्धन पूजा अर्थात प्रकृति पूजा :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*कार्तिक माह में चल रहे "पंच महापर्वों" के चौथे दिन आज अन्नकूट एवं गोवर्धन पूजा का पर्व मनाया जाएगा | भारतीय सनातन त्योहारों की यह दिव्यता रही है कि उसमें प्राकृतिक , वैज्ञानिक कारण भी रहते हैं | प्रकृति के वातावरण को स्वयं में समेटे हुए सनातन धर्म के त्योहार आम जनमानस पर अपना अमिट प्रभाव छोड़ते हैं | फसल के घर आने की प्रसन्नता में जहां दीपावली मनाई जाती है , वही दूसरे दिन मनाया जाता है अन्नकूट | यदि अन्नकूट का संधि विच्छेद किया जाय तो स्पष्ट हो जाता है कि अन्न को कूटना | खेतों में पक कर तैयार हुए नए अन्न जब किसानों के घर पहुंचते हैं तो उन्हें कूटकर तैयार करके अन्नकूट के दिन नये - नये व्यंजनों को बना करके नवान्न का भक्षण करने की परंपरा रही है | द्वापर युग में आज के ही दिन भगवान श्याम सुंदर कन्हैया के मतानुसार गोवर्धन पूजा प्रारंभ हुई | हमारे अवतारों ने सदैव प्रकृति पूजा एवं प्रकृति का संरक्षण करने के लिए आम जनमानस को प्रेरित किया है | जहां आदिकाल से इंद्र की पूजा होती आई थी वहीं बालकृष्ण ने गोवर्धन पूजा का प्रस्ताव रखा | भगवान कन्हैया का मानना था कि यदि हम प्रकृति की पूजा करके उनका संरक्षण करेंगे तो जनसाधारण सुख से जीवन व्यतीत कर पाएगा | सनातन धर्म की मान्यता रही है कि नदियों को मां के रूप में एवं गोवर्धन के रूप में पहाड़ों की पूजा की जाय | जब भगवान श्याम सुंदर कन्हैया ने गोवर्धन को धारण किया तब ब्रजवासी गोवर्धन की पूजा करने के लिए छप्पन प्रकार के भोग बनाकर प्रेम से उनको समर्पित किया | तभी से अन्नकूट एवं गोवर्धन पूजा प्रारंभ हुई | गोवर्धन पूजा करने का मुख्य कारण प्रकृति का संरक्षण एवं प्रकृति की पूजा ही थी |*


*आज के अंधानुकरण के युग में जहां एक मनुष्य दूसरे से आगे निकलने की होड़ में लगा हुआ है वहीं जल्द से जल्द विकास कर लेना चाहता है | मनुष्य की विस्तारीकरण की नीति दिन प्रतिदिन प्रकृति का दोहन कर रही है , यही कारण है कि प्रतिदिन पृथ्वी पर प्राकृतिक आपदाएं आती रहती हैं | जिस प्रकार पृथ्वी का दोहन एवं पहाड़ों को तोड़कर नई बस्तियां बनाना मनुष्य ने प्रारंभ कर रखा है उसी प्रकार प्राकृतिक आपदाएं असमय मनुष्य को काल के गाल में पहुंचा रही है | आज पहाड़ों को तोड़ने वाले यह भूल गए हैं कि पहाड़ स्वयं भगवान कृष्ण का स्वरूप अर्थात गोवर्धन है | नदियों का दोहन करने वाले यह भूल गए हैं की नदियों को हमारे परमात्मा ने माँ कहके पुकारा था | दिन प्रतिदिन आज पृथ्वी का दोहन हो रहा है | जिस पृथ्वी को हम माँ कहते हैं उसी की छाती छलनी करने पर तुले हुए हैं , यही कारण है कि आए दिन भूकंप , भूस्खलन आदि देखने को मिल रहे हैं | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" आज देख रहा हूं कि जिस प्रकार मनुष्य अपने कृषि योग्य भूमि को नष्ट करके उसका शहरीकरण करता जा रहा है वह आने वाले दिनों के लिए शुभ संकेत नहीं है | जब खेत ही नहीं रहेंगे तो नये अन्न कैसे पैदा होंगे और कैसे मनाया जायेगा "अन्नकूट" | भारत आदिकाल से कृषि प्रधान देश रहा है परंतु आज धीरे धीरे जिस प्रकार खेत विलुप्त होते जा रहे हैं वह दिन दूर नहीं है जब हमारा देश भारत भी अन्य देशों की तरह भूखमरी के मुहाने पर खड़ा होगा | सतयुग में मानव जाति के कल्याण के लिए देवताओं और राक्षसों ने मिलकर की समुद्र मंथन किया था और उसमें से चौदह प्रकार के रत्न निकाले थे | परंतु आज मनुष्य नित्य समुद्र मंथन कर रहा है जिसके परिणाम स्वरूप आए दिन सुनामी जैसे रत्न मनुष्य को मिल रहे हैं | आज मनुष्य को विचार करने की आवश्यकता है कि हमारे महापुरुषों ने यदि प्रकृति का संरक्षण करने का संदेश दिया था तो उसमें मानव मात्र की भलाई छुपी हुई थी | आज हम अपने महापुरुषों के आदेशों एवं संदेशों को भूल कर के मनमाना व्यवहार कर रहे हैं जिसके कारण हमें अनेक प्रकार की आपदाओं का सामना करना पड़ रहा है | अभी समय है जाग जाने का यदि हम प्रकृति के प्रति सजग नहीं हुए तो आने वाला दिन बहुत ही भयावह होगा |*


*आज गोवर्धन पूजा के दिन प्रत्येक व्यक्ति को प्रकृति के प्रति जागरूक होने एवं अन्य लोगों को भी जागरूक करने की प्रतिज्ञा करनी चाहिए तभी गोवर्धन पूजा या अन्नकूट मनाने का प्रयोजन सिद्ध होगा |*

अगला लेख: नारी का त्याग / अहोई अष्टमी :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
24 अक्तूबर 2019
*सनातन धर्म में मानव जीवन को चार भागों में विभक्त करते हुए इन्हें आश्रम कहा गया है | जो क्रमश: ब्रह्मचर्य , गृहस्थ , सन्यास एवं वानप्रस्थ के नाम से जाना जाता है | जीवन का प्रथम आश्रम ब्रह्मचर्य कहा जाता है | ब्रह्मचर्य एक ऐसा विषय है जिस पर आदिकाल से लेकर आज तक तीखी बहस होती रही है | स्वयं को ब्रह्म
24 अक्तूबर 2019
19 अक्तूबर 2019
*इस धरा धाम पर वैसे तो मनुष्य की कई श्रेणियां हैं परंतु आध्यात्मिक दृष्टि से मनुष्य को दो श्रेणियों में बांटा गया है :- प्रथम भक्त एवं दूसरा ज्ञानी | भक्त एवं ज्ञानी दोनों ही आध्यात्मिक पथ के पथिक हैं परंतु दोनों में भी भेद है | जहाँ भक्त बनना कुछ सरल है वहीं ज्ञानी बनना अत्यंत कठिन | भक्तों के लिए
19 अक्तूबर 2019
31 अक्तूबर 2019
*मनुष्य इस धरा धाम पर जन्म लेकर के जीवन भर अनेकों कृत्य करते हुए अपनी जीवन यात्रा पूर्ण करता है | इस जीवन अनेक बार ऐसी स्थितियां प्रकट हो जाती है मनुष्य किसी वस्तु , विषय या किसी व्यक्ति के प्रति इतना आकर्षित लगने लगता है कि उस वस्तु विशेष के लिए कई बार संसार को भी ठुकराने का संकल्प ले लेता है | आखि
31 अक्तूबर 2019
28 अक्तूबर 2019
*मानव जीवन पा करके मनुष्य लंबी आयु जीता है | जीवन को निरोगी एवं दीर्घ जीवी रखने के लिए मनुष्य की मुख्य आवश्यकता है भोजन करना | पौष्टिक भोजन करके मनुष्य एक सुंदर एवं स्वस्थ शरीर प्राप्त करता है | मानव जीवन में भोजन का क्या महत्व है इसको बताने की आवश्यकता नहीं है , नित्य अपने घरों में अनेकों प्रकार
28 अक्तूबर 2019
27 अक्तूबर 2019
*दीपावली का पावन पर्व आज हमारे देश में ही नहीं वरन् सम्पूर्ण विश्व में भी यह पर्व मनाया जा रहा है | मान्यता के अनुसार आज दीपमालिकाओं को प्रज्वलित करके धरती से अंधकार भगाने का प्रयास मानव समाज के द्वारा किया जाता है | दीपावली मुख्य रूप से प्रकाश का पर्व है | विचार करना चाहिए कि क्या सिर्फ वाह्य अंधका
27 अक्तूबर 2019
11 नवम्बर 2019
*मानव जीवन में षट्कर्मों का विशेष स्थान है | जिस प्रकार प्रकृति की षडरितुयें , मनुष्यों के षडरिपुओं का वर्णन प्राप्त होता है उसी प्रकार मनुष्य के जीवन में षट्कर्म भी बताये गये हैं | सर्वप्रथम तो मानवमात्र के जीवन में छह व्यवस्थाओं का वर्णन बाबा जी ने किया है जिससे कोई भी नहीं बच सकता | यथा :- जन्म ,
11 नवम्बर 2019
11 नवम्बर 2019
*मानव जीवन में षट्कर्मों का विशेष स्थान है | जिस प्रकार प्रकृति की षडरितुयें , मनुष्यों के षडरिपुओं का वर्णन प्राप्त होता है उसी प्रकार मनुष्य के जीवन में षट्कर्म भी बताये गये हैं | सर्वप्रथम तो मानवमात्र के जीवन में छह व्यवस्थाओं का वर्णन बाबा जी ने किया है जिससे कोई भी नहीं बच सकता | यथा :- जन्म ,
11 नवम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x