आस्था और विचारधारा

28 अक्तूबर 2019   |  डॉ पूर्णिमा शर्मा   (422 बार पढ़ा जा चुका है)

आस्था और विचारधारा

आस्था और विचारधार का प्रत्येक व्यक्ति का अपना व्यक्तिगत दृष्टिकोण हो सकता है, लेकिन अपनी आस्था और विचारधारा को दूसरे व्यक्ति पर थोपने का प्रयास ग़लत है | इस विषय में डॉ दिनेश शर्मा के लेख. ..

आस्था और विचारधारा

डॉ दिनेश शर्मा

हर आदमी की अपनी धार्मिक और राजनीतिक विचारधारा है । कोई कट्टर मुसलमान है तो कोई कट्टर हिन्दू , सिख या क्रिश्चियन । कोई नास्तिक है तो कोई आस्तिक । कोई कांग्रेसी है, भाजपाई है, सपाई है, बसपाई है, वामपंथी है । सबको ऐसा होने का पूरा पूरा हक़ है । दिक्कत वहां आती है जहां हम अपनी विचारधारा या आस्था को दूसरों से श्रेष्ठ मानकर बहस खड़ी करते हैं । आप अपनी विचारधारा और आस्था को अगर बेहतरीन मानते है तो उसमे कोई परेशानी नही है । आप उस श्रेष्ठता के भाव को अपने अंदर रखिये और खुश रहिये । कई बार आप खास दोस्तों और रिश्तेदारों से अपनी आस्था या विचारधारा की बेहतरी सिद्ध करने के चक्कर में आपसी रिश्ते खराब कर लेते है । वो अच्छी बात नही है ।

बदकिस्मती से चाहे समाज हो या देश, उपनिवेश हो या संसार , ऐसी ही वजहों से अलगाववाद पनप रहा है। हज़ारों साल पहले ये दुनिया छोटे छोटे कबीलों में बंटी हुई थी । हर कबीले की अपनी परम्पराएं और मान्यताएं थी, छोटा मोटा देवता था, रीति रिवाज थे । आवाजाही के साधन विकसित नही थे तो लोगों के आपसी संपर्क भी सीमित ही थे । आज सब कुछ बदल गया है ।

बिखरे कबीले विज्ञान और टेक्नोलोजी के धागे से जब जुड़ने लगे तो एक दूसरे की भिन्न मान्यताओं , आस्थाओं और विचारधाराओं से रूबरू हुए । सबने एक दूसरे से जहां बहुत कुछ अलग अलग सीख कर अपने बुद्धिबल को विकसित किया वही भिन्न आस्थाओं की वजह से विरोध भी पनपे जिनकी वजह से हिंसक संघर्षों में लाखों निरपराध जाने गयी । इस हिंसा की बड़ी वजहों में दूसरों पर अपनी आस्था आरोपित करना भी था ।

आज फिर दुर्भाग्य से वैसी ही आस्थाओं और विचारधाराओं को आरोपित करने वाली स्थितियां बनने लगी हैं । इतिहास से सबक न लेने वाली सभ्यताएं इतिहास की दुखद दुर्घटनाओं की पुनरावृत्ति झेलने को अभिशप्त हो जाती हैं । इसीलिए मैंने शुरू में कहा कि आप अपनी विचारधारा और आस्था की श्रेष्ठता के भाव को अपने अंदर रखिये और खुश रहिये । अपने दोस्तों और जानने वालों से अपनी आस्था या विचारधारा की बेहतरी सिद्ध करने के चक्कर में आपसी रिश्ते मत खराब करिए ।

अगला लेख: ध्यान धर्म नहीं है



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
14 अक्तूबर 2019
ध्यान धर्म नहीं है :पिछले अध्याय में हम चर्चा कर रहे थेकि भ्रमवश कुछ अन्य स्थितियों को भी ध्यान समझ लिया जाता है | जैसे चिन्तन मननअथवा सम्मोहन आदि की स्थिति को भी ध्यान समझ लिया जाता है | किन्तु हम आपको बता दें कि ध्यान न तोचिन्तन मनन है और न ही किसी प्रकार की सम्मोहन अथवा आत्म विमोहन की स्थिति है |
14 अक्तूबर 2019
17 अक्तूबर 2019
सुप्रीम कोर्ट में राम मंदिर मामले की अंतिम दिन की सुनवाई 16 अक्टूबर को पूरी हो गई। इस दिन राजीव धवन ने हिंदू महासभा द्वारा पेश किए गए नक्शे को फाड़ दिया। सुन्नी वक़्फ़ बोर्ड के वकील धवन काफी गुस्सा हो गए और उन्होने कागज को कई बार फाड़ा और इस हरकत को सभी लोग देख रहे थे। इसके बाद न्यायधीश ने वकील को फ
17 अक्तूबर 2019
14 अक्तूबर 2019
आज के समय में महिलाओं की दशा काफी चिंताजनक है, क्योंकि जितना खुलापन आज के दौर में महिलाओं में देखने को मिल रहा है उतनी ही वारदातें उनमें हो रही हैं। सबसे ज्यादा पर्दा मुस्लिम धर्म में होता है और ये बहुत पुरानी प्रथा है जो आज तक चल रही है। मगर विदेशी लड़कियों में खुलापन आज से नहीं बल्कि उस समय से है
14 अक्तूबर 2019
16 अक्तूबर 2019
प्यार भरे कुछ दीप जलाओदीपमालिका काप्रकाशमय पर्व बस आने ही वाला है... कल करवाचौथ के साथ उसका आरम्भ तो हो हीजाएगा... यों तो श्रद्धापर्व का श्राद्ध पक्ष बीतते ही नवरात्रों के साथ त्यौहारोंकी मस्ती और भागमभाग शुरू हो जाती है... तो आइये हम सभी स्नेहपगी बाती के प्रकाशसे युक्त मन के दीप प्रज्वलित करते हुए
16 अक्तूबर 2019
17 अक्तूबर 2019
भारत में हर जगह की कोई ना कोई चीज फेमस है और अगर कोई उस जगह जाता है तो लोग बोलते हैं वहां का ये प्रसिद्ध चीज जरूर लाना। इसी तरह से कश्मीर का सेब पूरे एशिया में फेमस है और सभी जानते हैं कश्मीर में सेब के हजारों बगान है और पूरे भारत में सेब कश्मीर से ही सप्लाई होते हैं। खासकर जम्मू की बाजारों में सेब
17 अक्तूबर 2019
14 अक्तूबर 2019
अर्थों को सार्थकता दे दें शब्दों के उदास होने पर अर्थ स्वयं पगला जातेहैं |आओ शब्दों को बहला दें, अर्थों को सार्थकता दे दें ||दिल का दीपक यदि जल जाए, जीवन भर प्रकाश फैलाए और दिये की जलती लौ में दर्द कहीं फिर नज़र न आए |स्नेह तनिक सा बढ़ जाए तो दर्द कहीं पर छिप जातेहैं आओ बाती को उकसा दें, प्रेममयी आभा
14 अक्तूबर 2019
19 अक्तूबर 2019
अहोई अष्टमी व्रत17 अक्तूबर को करवाचौथ का व्रत था | करवाचौथ के चार दिन बाद और दीपावली से आठदिन पूर्व यानी 21 अक्तूबर को कार्तिक कृष्ण अष्टमी अहोई अष्टमी के रूप में मनाई जाती है | यह व्रत भी करवाचौथकी ही भाँति उत्तरी और पश्चिमी अंचलों का पर्व है और प्रायः ऐसी मान्यता है कि जिस दिन दीपावली हो उसी इन अह
19 अक्तूबर 2019
25 अक्तूबर 2019
धनतेरस - धन्वन्तरी त्रयोदशीआजधनतेरस है – यानी देवताओं के वैद्य धन्वन्तरी की जयन्ती – धन्वन्तरी त्रयोदशी | प्राचीनकाल में इस पर्व को इसी नाम से मनाते थे | कालान्तर में धन्वन्तरी का केवल “धन”शेष रह गया और इसे जोड़ दिया गया धन सम्पत्ति के साथ, स्वर्णाभूषणों के साथ | पहलेक
25 अक्तूबर 2019
24 अक्तूबर 2019
कार्तिक मास का महत्त्वकार्तिक मास चल रहा है और कल से पञ्चपर्वों की श्रृंखला दीपावली कामहान पर्व आरम्भ हो जाएगा | वास्तव में हिन्दू मान्यता में कार्तिक मास का विशेषमहत्त्व माना गया है | इसे भगवान विष्णु का महीना कहा जाता है तथा विष्णु पूजा काइस माह में विशेष महत्त्व माना जाता है | साथ ही ऐसी भी मान्य
24 अक्तूबर 2019
23 अक्तूबर 2019
बुध कावृश्चिक में गोचर आज कार्तिक कृष्ण दशमी को विष्टि करण और शुक्ल योगमें रात्रि ग्यारह बजकर बयालीस मिनट लगभग पर बुध मित्र ग्रह शुक्र की तुला राशि सेनिकलकर मंगल की वृश्चिक राशि में प्रविष्ट हो जाएगा | इसप्रवेश के समय बुध विशाखा नक्षत्र पर होगा | यहाँ से 29 अक्टूबर को अनुराधा नक्षत्र पर जाएगा | जहाँ
23 अक्तूबर 2019
18 अक्तूबर 2019
शिक्षा वो शस्त्र है जिसे प्राप्त करके हम दुनिया की हर लड़ाई जीत सकते हैं लेकिन जब इस शस्त्र को पाने के लिए हमें मेहनत और तपस्या के अलावा पैसे भी खर्च करने पड़े तो इसे कैसे पाया जा सकता है? ये सोचने वाली बात है क्योंकि आज के दौर में शिक्षा एक कारोबार बन गया है और लोग शिक्षा जरूरी है इसका फायदा उठाकर
18 अक्तूबर 2019
16 अक्तूबर 2019
नागालैंड की राजधानी कोहिमा में 5 अक्टूबर को मिस कोहिमा ब्यूटी पीजेंट 2019 का फाइनल राउंड आयोजित हुआ ता। इनमें तीन विनर्स को चुना गया और उनसे अलग-अलग तरह के सवाल किए जा रहे थे। अब इनमें एक कंटेस्टेंट से ऐसा सवाल पूछा गया जिसका जवाब उसने अपनी सूझ-बूझ के साथ दिया। ये सवाल भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र म
16 अक्तूबर 2019
17 अक्तूबर 2019
सूर्य का तुला में गोचरआज रात 25:03(अर्द्धरात्र्योत्तर एक बजकर तीन मिनट) के लगभग बालव करण औरव्यातिपत योग में सूर्यदेव कन्या राशि से निकल कर तुला राशि में प्रविष्ट होजाएँगे | तुला राशि आत्मकारक सूर्य की नीच राशि भी होती है | सूर्य के इस प्रस्थानके समय आश्विन कृष्ण चतुर्थी तिथि होगी तथा सूर्य चित्रा नक
17 अक्तूबर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x