ऐसे करे दहेज के दानव का नाश

29 अक्तूबर 2019   |  शिल्पा रोंघे   (487 बार पढ़ा जा चुका है)

ऐसे करे दहेज के दानव का नाश

भारत में लड़कों के मुकाबले लड़कियों की संख्या काफी कम हो गई है इसका मुख्य कारण दहेज प्रथा ही है कुछ लोग दहेज प्रथा के डर से चाहते है कि उनके घर लड़कियां पैदा ही ना हो। अगर भविष्य में इस कुप्रथा पर काबू ना पाया गया तो हो सकता है कि लड़के वालों को ही शादी करने के लिए दहेज ना देना पड़े।

आए दिन समचार पत्र के पन्ने और समाचार चैनल में दहेज हत्या या फिर दहेज प्रताड़ना की खबरें सुनने को मिलती है। तब ज़हन में यही ख़्याल आता है कि हम क्या सचमुच उसी समाज का हिस्सा है जो तकनीकी रुप से काफी आगे बढ़ चुका है और मार्डन ख्यालों वाला होने का दावा करता है।

ये समस्या केवल अशिक्षित और निम्नवर्ग तक सीमित नहीं है बल्कि मध्यमवर्ग और उच्चवर्ग तक पैर पसार चुकी है। विवाह दो दिलों का मेल नहीं धन संपत्ति और दिखावे का खेल बन चुका है।


ऐसा कहा जाता है कि जितना शिक्षित और सेटल लड़का उस हिसाब से दहेज भी तय होता है प्रश्न ये उठता है कि अगर किसी के पास किसी चीज़ की कमी नहीं है तो फिर उनको क्यों दूसरों के सामने झुकना पड़ता है।

इस प्रथा के संबंध में तरह तरह के तर्क दिए जाते कि लड़की का रंग रूप अगर कम है तो दहेज देकर उसकी पूर्ती की जा सकती है क्या यह बात किसी लड़के पर लागू होगी क्या जो रंग रुप में कम हो और उसे सुंदर पत्नी मिल जाए तो क्या वो लड़की के परिवार वालों को दहेज देते है क्या ? तब समाज के मानदंड बदल जाते है। लड़के और लड़की का ये भेदभाव खत्म किए जाने की ज़रूरत है।

दहेज लेना कोई सम्मान की बात नहीं है लोगों ने उसे समाज में मान सम्मान का विषय बना लिया है कि जिसे जितना अधिक दहेज मिलेगा वह उतना ही सम्मानित होगा, लेकिन हकीकत ये है कि लेने वाले से ज्यादा देने वाले का दर्जा बड़ा हो जाता है। दहेज लेना और देना दोनों ही अपराध है।

दहेज प्रथा के लिए कहीं ना कहीं हमारा समाज भी जिम्मेदार है दहेज लोभियों का बहिष्कार होना चाहिए जो कि नहीं होता है उलट लोग ये जानने में दिलचस्पी लेते है कि किसको क्या मिला।

दहेज प्रथा के खिलाफ़ अब लड़कियों को खुद ही खड़ा होना होगा, अपने माता पिता से कहे कि उन्हें पढ़ाएं लिखाए और अपना करियर बनाने दे या फिर दहेज के पैसों को उपयोग अपना बिजनेस शुरू करने में लगाए ताकि वो आत्मनिर्भर हो सके ।

अपने बॉयोडाटा में भी ये बात लिख दे कि वो दहेज के खिलाफ है। अगर कोई लड़का दहेज की शर्त पर आपसे शादी करना चाहे तो उसे साफ मना कर दे सोचे कि वो आपके लिए बना ही नहीं है।

वधु पक्ष को भी अपनी तरफ से लड़के पर बंगला, कार और मंहगे गहनों का दबाव नहीं डालना चाहिए ताकि दहेज देने की नौबत आए। हो सकता है ऐसा लड़का ढूंढने में आपको वक्त लगे लेकिन ये नामुमकिन नहीं है। कई लोग बिना दहेज के भी शादी करके मिसाल कायम कर रहे है।

अगला लेख: जानिए भाग्य बड़ा या कर्म



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
02 नवम्बर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <
02 नवम्बर 2019
05 नवम्बर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKer
05 नवम्बर 2019
28 अक्तूबर 2019
पता नहीं ये जो कुछ भी हुआ, वो क्यों हुआ ?पता नहीं क्यों मैं ऐसा होने से नहीं रोक पाया ?मैं जानता था कि ये सब गलत है।लेकिन फिर भी मैं कुछ नहीं कर पाया।आखिर मैं इतना कमजोर क्यों पड़ गया ?मुझमें इतनी बेबसी कैसे आ गयी ?क्यों मेरे दिल ने मुझे लाचार बना दिया ?क्यों इतनी भावनाएं हैंइस दिल में ?क्यों मैंने अ
28 अक्तूबर 2019
12 नवम्बर 2019
सांप सीढ़ी सिर्फखेल नहीं,जीवन दर्शन भी है.सफलता और विफलता दुश्मन नहीं, एक दूसरे की साथी है.हर रास्ते पर सांप सा रोड़ा, कभी मंजिल के बेहद करीब आकर भी लौटना पड़ता है.कभी सिफ़र से शिखर तो कभी शिखर से सिफ़र का सफ़र तय करना पड़ता है.सफलता का कोई
12 नवम्बर 2019
18 अक्तूबर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKe
18 अक्तूबर 2019
19 अक्तूबर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedC
19 अक्तूबर 2019
17 अक्तूबर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedC
17 अक्तूबर 2019
09 नवम्बर 2019
*सनातन धर्म में मानव जीवन को चार आश्रमों में बांटा गया है , जिनमें से सर्वश्रेष्ठ आश्रम गृहस्थाश्रम को बताया गया है , क्योंकि गृहस्थ आश्रम का पालन किए बिना मनुष्य अन्य तीन आश्रम के विषय में कल्पना भी नहीं कर सकता | मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है समाज का निर्माण परिवार से होता है | व्यक्ति के जीवन में
09 नवम्बर 2019
19 अक्तूबर 2019
*हमारा देश भारत आध्यात्मिक सांस्कृतिक एवं वैज्ञानिक दृष्टि से आदिकाल से ही सर्वश्रेष्ठ रहा है | संपूर्ण विश्व भारत देश से ही ज्ञान - विज्ञान प्राप्त करता रहा है | संपूर्ण विश्व में भारत ही एक ऐसा देश है जहां समय-समय पर ईश्वरीय शक्तियों ने अवतार धारण किया जिन्हें भगवान की संज्ञा दी गई | भगवान धरा धा
19 अक्तूबर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x