भाई भाई के मध्य भाई दूज

30 अक्तूबर 2019   |  कात्यायनी डॉ पूर्णिमा शर्मा   (417 बार पढ़ा जा चुका है)

भाई भाई के मध्य भाई दूज

भाई दूज भाई भाई के मध्य भी हो तो कैसा रहे

कल यों ही दो मित्रों की बातें सुनकर मन में कुछ विचार उत्पन्न हुआ जो मित्रों के साथ साझा करने की सोची | एक मित्र दूसरे मित्र से बोल रहा था कि भाई कल दिल्ली वापस आ रहा हूँ और तब हम दोनों भाई मिलकर भाई दूज मनाएँगे | मन में विचार आया कि बात तो सही है, बहन भाई की मङ्गलकामना से भाई का तिलक कर सकती है तो दो भाई आपस में एक दूसरे की मङ्गलकामना से भाई दूज का तिलक क्यों नहीं कर सकते ? मित्रों के साथ इस विचार को साझा किया तो मज़ाक़ मज़ाक़ में शुरू हुई बात ने एक गम्भीर मन्त्रणा का रूप ले लिया जिसे देखकर अच्छा भी लगा और बात को आगे बढ़ाने का मन भी हुआ | अधिकाँश मित्रों ने पुराणों का तर्क देकर इस पर्व को भाई बहन के मध्य ही रहने देने की बात कही - क्योंकि पौराणिक आख्यान यही कहते हैं |

एक मित्र ने बड़ा तर्कसंगत उत्तर लिखा "पुरुष में अहंकार होता है जिससे भाई भाई लड़ते रहते हैं | पिता की संपत्ति हड़पने के लिये गला काटने को तैयार रहते हैं | ऐसे भाई दूसरे भाई की रक्षा क्या करेंगे ? वहीं बहन, यमुना की तरह कालिया से त्रासित होकर भी श्यामल रंग होने के बावजूद भाई के कुशलता की कामना करती है | सहोदर का स्नेह प्राचीन काल से भाई-बहन के बीच ही रहा है, भाई भाई तो महाभारत करवा देते हैं |"

धन्यवाद प्राणनाथ मिश्रा जी, भाई-भाई के मध्य भाई दूज की बात से हम इसी बिन्दु पर पहुँचना चाहते थे | यदि भाई भी भाई को और मित्र भी मित्र को भाई मानकर टीका करने लग जाएँ तो शायद ये "महाभारत" फिर से लिखने का कारण ही न बने | क्योंकि धार्मिक भाव से एक दूसरे के प्रति स्नेहशील रहेंगे दोनों | जैसे रक्षाबंधन को ही लीजिये, पौराणिक काल से यजमान और पुरोहित एक दूसरे को रक्षा सूत्र बाँधते हैं, शत्रु को मित्र बनाने के लिए रक्षा सूत्र बाँधा जाता है, आचार्य रवीन्द्रनाथ टैगोर ने तो बंग भंग के विरोध में लोगों को एकजुट करने के लिए राखी बाँधने का आन्दोलन चलाया था - यानी किसी तर्क और नीति संगत बात को जन आन्दोलन का रूप देने के लिए - ताकि जन साधारण उसका महत्त्व समझ सके - रक्षा बन्धन जैसा कार्य किया जा सकता है | बंगाल के हिन्दू-मुसलमानों को आपसी भाईचारे का संदेश देने के लिए टैगोर ने राखी का उपयोग किया था | रवीन्द्रनाथ टैगोर चाहते थे कि हिंदू और मुसलमान एक दूसरे को राखी बाँधकर शपथ लें कि वे जीवन भर एक-दूसरे की सुरक्षा का एक ऐसा रिश्ता बनाए रखेंगे जिसे कोई तोड़ न सके |

पर्यावरण और प्रकृति की सुरक्षा के विषय में चिन्ता करने वाले लोग वृक्षों की रक्षा के लिए रक्षा बन्धन के दिन तथा अन्य अवसरों पर भी “वृक्षाबन्धन” करते हैं | वट सावित्री अमावस्या को वटवृक्ष की पूजा, इसके अतिरिक्त पीपल के वृक्ष की, आँवले के वृक्ष और तुलसी के वृक्ष इत्यादि की पूजा इस का तो प्रतीक हैं | किसी भी अच्छे प्रयास को यदि धर्म के साथ जोड़ दिया जाता है तो उसका प्रभाव निश्चित रूप से मानव मात्र पर पड़ता है, क्योंकि स्वभावतः मनुष्य धर्मभीरु होता है | इसी प्रकार से यदि भाई दूज जैसे पवित्र और हर्षपूर्ण अवसर का भी ऐसा ही सदुपयोग किया जाए और इसे भाई-बहन के स्नेह के प्रतीक के साथ ही जन साधारण के मध्य तथा प्रकृति के प्रति स्नेह के प्रतीक के रूप में मनाया जाए तो हमारे विचार से इसका महत्त्व और भी बढ़ जाएगा |

अगला लेख: प्यार भरे कुछ दीप जलाओ



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
21 अक्तूबर 2019
भारत में कुछ जगहें ऐसी हैं जहां पर नकल कराकर पास करवाने की अलग से फीस लगती है और अगर कोई फीस नहीं दे पाता है तो उन्हें फेल कर दिया जाता है। स्टूडेंट्स स्कूल प्रशासन की बातों में आकर ऐसी फीस देने को तैयार भी हो जाते हैं क्योकि उन्हें अच्छे मार्क्स से मतलब होता है। मगर कर्नाटक के स्कूल में छात्रों के
21 अक्तूबर 2019
28 अक्तूबर 2019
गोवर्धन पूजा, भाई दूज, यम द्वितीया, चित्रगुप्तजयन्तीकल सबने ख़ूब धूमधाम से दीपोत्सव तथा लक्ष्मी पूजन का आयोजन किया | आज यानी दीपावली के अगले दिन –पाँच पर्वों की इस श्रृंखला की चतुर्थ कड़ी है – गोवर्धन पूजा और अन्नकूट | इस त्यौहार का भारतीय लोक जीवन में काफी महत्व है | इसकेपीछे एक कथा प्रसिद्ध है कि ए
28 अक्तूबर 2019
22 अक्तूबर 2019
इस संसार में महिलाओं का जीवन सरल नहीं है और हर पग पर उन्हें कोई ना कोई परीक्षा देनी होती है। उनके ही कारण रमायण, महाभारत जैसे कई युद्ध हुए लेकिन फिर भी हिंदू धर्म में कहीं ना कहीं महिलाओं को देवी का दर्जा दिया गया है। मगर इस्लामिक धर्म
22 अक्तूबर 2019
16 अक्तूबर 2019
प्यार भरे कुछ दीप जलाओदीपमालिका काप्रकाशमय पर्व बस आने ही वाला है... कल करवाचौथ के साथ उसका आरम्भ तो हो हीजाएगा... यों तो श्रद्धापर्व का श्राद्ध पक्ष बीतते ही नवरात्रों के साथ त्यौहारोंकी मस्ती और भागमभाग शुरू हो जाती है... तो आइये हम सभी स्नेहपगी बाती के प्रकाशसे युक्त मन के दीप प्रज्वलित करते हुए
16 अक्तूबर 2019
21 अक्तूबर 2019
धर्म और मज़हब के नाम पर जो एक सिरफिरापन हर तरफ दिखाई दे रहा है उसी विषय पर एक अच्छा लेख डॉ दिनेश शर्मा का. .. सिरफिरेदिनेश डॉक्टरकुछ सिरफिरे इधर भी है और उधर भी !क्योंकि ये सिरफिरे है तो इनका सोच भी बेसिर पैर का ही है ।जैसे कुछ सोचते हैं कि बी
21 अक्तूबर 2019
27 अक्तूबर 2019
दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँप्रिय मित्रों, प्रकाश पर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ |दीपमालिका में प्रज्वलित प्रत्येक दीप की प्रत्येक किरण आपके जीवनमें सुख, समृद्धि, स्नेह और सौभाग्य कीस्वर्णिम आभा प्रसारित करे…. दिवाली पर्व है प्रकाश का – केवल दीयों का प्रकाशनहीं, मानव हृदय आलोकित हो जिससे ऐसे स्नेहरस मे
27 अक्तूबर 2019
28 अक्तूबर 2019
आस्था और विचारधार का प्रत्येक व्यक्ति का अपना व्यक्तिगत दृष्टिकोण हो सकता है, लेकिन अपनी आस्था और विचारधारा को दूसरे व्यक्ति पर थोपने का प्रयास ग़लत है | इस विषय में डॉ दिनेश शर्मा के लेख. ..आस्था और विचारधाराडॉ दिनेश शर्माहर आदमी की अपनी धार्मिक और राजनीतिक विचारधा
28 अक्तूबर 2019
22 अक्तूबर 2019
लोकसभा चुनाव-2019 के दौरान वोटिंग टाइम में एक महिला की फोटो वायरल हो रही थी। पीली साड़ी में एक खूबसूरत महिला वोटिंग के दौरान सोशल मीडिया पर छाई हुई थी। मगर पुख्ता जानकारी नहीं मिली थी कि ये तस्वीर आखिर है कहां की और ये किसने वायरल की। मगर अब एक बार फिर पीली साड़ी वाली महिला की तस्वीर वायरल हो रही है
22 अक्तूबर 2019
17 अक्तूबर 2019
सूर्य का तुला में गोचरआज रात 25:03(अर्द्धरात्र्योत्तर एक बजकर तीन मिनट) के लगभग बालव करण औरव्यातिपत योग में सूर्यदेव कन्या राशि से निकल कर तुला राशि में प्रविष्ट होजाएँगे | तुला राशि आत्मकारक सूर्य की नीच राशि भी होती है | सूर्य के इस प्रस्थानके समय आश्विन कृष्ण चतुर्थी तिथि होगी तथा सूर्य चित्रा नक
17 अक्तूबर 2019
21 अक्तूबर 2019
देशभर में दीपावली का माहौल चल रहा है और हर कोई खरीददारी में लगा हुआ है। 25 अक्टूबर को धनतेरस का पर्व मनाया जाएगा और इस दिन आमतौर पर लोग बर्तन, सोना या चांदी खरीदते हैं, लेकिन इस विधायक ने ऐसा बयान दे दिया है कि आपको इनकी बात सही भी लग सकती है और गलत भी। ये बयान भारतीय जनता पार्टी के एक नेता ने कही ह
21 अक्तूबर 2019
21 अक्तूबर 2019
भारत की बड़ी नेटवर्क कंपनी रिलायंस टेलीकॉम ने तीन साल पहले एक नई सर्विस Jio के रूप में शुरु की। जिसमें सभी यूजर्स को फ्री सर्विस दी गई और सिम भी फ्री में ही बांटे गए। मगर अब तीन सालों के बाद कंपनी के टर्म एंड कंडीशन शुरु हुए और Jio के मालिक मुकेश अंबानी ने अपनी टीम के साथ मिलकर नई स्कीम पर काम किया
21 अक्तूबर 2019
25 अक्तूबर 2019
धनतेरस - धन्वन्तरी त्रयोदशीआजधनतेरस है – यानी देवताओं के वैद्य धन्वन्तरी की जयन्ती – धन्वन्तरी त्रयोदशी | प्राचीनकाल में इस पर्व को इसी नाम से मनाते थे | कालान्तर में धन्वन्तरी का केवल “धन”शेष रह गया और इसे जोड़ दिया गया धन सम्पत्ति के साथ, स्वर्णाभूषणों के साथ | पहलेक
25 अक्तूबर 2019
22 अक्तूबर 2019
भारत में जहां बहुत से लोग नरेंद्र मोदी के समर्थक और उन्हें पसंद करने वाले हैं वहीं उन्हें नापसंद करने वालों की संख्या भी कम नहीं है। पीएम के रूप में नरेेंद्र मोदी ने जितने भी अहम फैसले लिए है उऩके अधिकतर लोग नाराज और आक्रोशित ही हैं। फिर अगर उनकी सत्ता के दौरान अगर किसी की मौत हत्या करके हो जाती है
22 अक्तूबर 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x