प्रेम पावनी

30 अक्तूबर 2019   |  व्यंजना आनंद   (443 बार पढ़ा जा चुका है)

मात्रा---15, 12


🌹प्रेम पावनी 🌹

**""**""**


टकटकी लगा निहार रहे,

एक दूजे में लीन ।

मन के भीतर चलता रहा,

ख्वाबो का एक सीन।।


तेरे दर से न जाएंगे

मन में जगी है आस।

उठ रही दिलों में सैकड़ों

दबी हुई मिठी प्यास।।


पाकर प्रेम पावनी पिया ,

पीकर होती निहाल।

किसे कहूँ व्यथा ये अपनी

हुई जाऊँ बेहाल ।।


आकर मेरी उठा डोली,

अब न कटते दिन रैन।

जीवन में खुशियाँ तुम भरो,

मिले जीवन में चैन ।।

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹


व्यंजना आनंद ✍

अगला लेख: 16 मात्रा पर कविता



उत्कृष्ट सृजन👍👌👌👌👌👌

वाह वाह क्या बात है

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
23 अक्तूबर 2019
दो दिन गुजर गए-मुई ये रात भी-बीत हीं जाएगी।चलो तुम्हारीखुशबुओं से,कल की सुबह-दमक-गमक जाएगी।।रौशन शाम;महक------सराबोर कर जाएगी।ग़रीब की झोपड़ीआशियाना बन,मुहब्बत की,मिशाल बन जाएगी।।डॉ. कवि कुमार निर्मल
23 अक्तूबर 2019
01 नवम्बर 2019
शा
कुछ तो तड़प शांत हो जाएंगी हमारी।जब तेरे पहलू में कुछ पल सुकून के बिताया हम करें ।।💓💓💓💓💓💓💓मिथ्या ✍
01 नवम्बर 2019
05 नवम्बर 2019
गु
🌷गुरु की महता 🌷*****************गुरु तम मिटाने वाला ,गुरु हैं संजीवनी।उनकी कृपा वृष्टि हो तो,होती सुंदर जीवनी ।। *माँ प्रथम गुरु होती है, पिता मार्ग दर्शक।माँ पीड़ा हर लेती है, पिता बनते रक्षक।। *सच्चा गुरु वही होता है, जो चरित्र बदल दे।शिष्य के हर व्यवहार कर दे वे सरल रे।।
05 नवम्बर 2019
15 अक्तूबर 2019
आवारा मन की आवाज़....!_______________________________मैं आवारा हूँ, ये आवारा मन की आवाज़ हैकालकोठरी से भागा, जैसे ये सोया साज़ हैदिशाहीन कोरे पन्नों सा, आसमान का बिखरा तारातपोभ्रष्ट का हूँ मैं मनीषी, घूमूँ बनके बंजाराडूबा खारे सागर में, तट की रेतों से डरा-डराजुड़-जुड़ के भी टूट रहा, लहरों से मैं घिर
15 अक्तूबर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
17 अक्तूबर 2019
22 अक्तूबर 2019
24 अक्तूबर 2019
बा
18 अक्तूबर 2019
शा
01 नवम्बर 2019
सृ
17 अक्तूबर 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x