मन की अवस्था :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

31 अक्तूबर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (403 बार पढ़ा जा चुका है)

मन की अवस्था :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस संसार में समस्त जड़ - चेतन को संचालित करने वाला परमात्मा है तो मनुष्य को क्रियान्वित करने वाला है मनुष्य का मन | मनुष्य का मन स्वचालित होता है और मौसम , खान - पान , परिस्थिति एवं आसपास घट रही घटनाओं के अनुसार परिवर्तित होता रहता है | जिस प्रकार मनुष्य के जीवन में बचपन , जवानी एवं बुढ़ापा रूपी तीन अवस्थायें होती रहती हैं उसी प्रकार इस मन की भी अवस्थायें होती रहती हैं | शास्त्रज्ञों ने इस मन की पाँच अवस्थायें बतायी हैं | ये पाँच अवस्थायें हैं :- १- क्षिप्त , २- मूढ़ , ३- विक्षिप्त , ४- एकाग्र एवं ५- निरू | जब मनुष्य का मन "क्षिप्त अवस्था" में होता है तो मन की चंचलता अपनी शिखर पर होती है | पल पल मनुष्य के विचार बदलते रहते हैं , मन में स्थायित्व न होने के भाव को कहते हैं क्षिप्त अवस्था | इस अवस्था में मनुष्य अपने मन को भाँति - भाँति के विचारों से नहीं रोक पाता | इस अवस्था में रजोगुण की प्रधानता होती है | क्षिप्त अवस्था के बाद मन की दूसरी अवस्था होती है :- "मूढ़ अवस्था" | इस अवस्था को तमोगुण प्रधान होता है , मनुष्य मूर्छित सा किसी नशेड़ी की तरह जीवन यापन करने को विवश होता है | आलस्य की प्रधानता होती है क्योंकि इस स्थिति में मनुष्य का मन पूर्णरूप से स्वस्थ नहीं होता है | मनुष्य कोई भी निर्णय कर पाने में सक्षम नहीं होता है | मनुष्य के मन की तीसरी अवस्था को "विक्षिप्त अवस्था" कहा जाता है | सत्त्वगुण की प्रधानता वाली यह अवस्था बीच बीच में रजोगुण एवं तमोगुण से प्रभावित होती रहती है जिसके कारण मनुष्य का स्थिर होता मन विचलित हो जाता है | सत्वगुण के प्रभाव से जैसे ही मन एकाग्र होने लगता है तभी रजोगुण या तमोगुण के आक्रमण से मन उचट जाता है | मनुष्य यह नहीं समझ पाता है कि मैं क्या करूँ या क्या न करूँ ? जब मनुष्य अपने मन में सतोगुण की वृद्धि करने में सफल हो जाता है तब रजोगुण एवं तमोगुण निष्प्रभावी हो जाते है और आत्मा का पूरा प्रभाव मन पर हो जाता है तब इस मन की "एकाग्र अवस्था" प्रारम्भ होती है | जब मन पूरी तरह नियंत्रण में आ जाता है , कुत्सित विचारों का अन्त हो जाता है तखा मनुष्य जो चाहता वही विचार उत्पन्न होने लगते हैं तब मन की "एकाग्र अवस्था" होती है | इस अनस्था में मनुष्य का अपने मन के ऊपर ठीक वैसा ही नियंत्रण होता है जैसा किसी वाहन चालक का अपने वाहन पर | इस अवस्था में जीवात्मा को समाधि की अनुभूति होने लगती है | इसे "संप्रज्ञात - समाधि" भी कहा जाता है | इन चारों अवस्थाओं को पार कर लेने पर मन की पाँचवी "निरू अवस्था" प्रारम्भ होती है | यह बिल्कुल एकाग्र का ही प्रतिरूप है अन्तर मात्र इतना होता है कि एकाग्र अवस्था में मन को प्राकृतिक तत्वों एवं जीवात्मा की अनुभूति होती है तो "निरू अवस्था" में मन को मात्र ईश्वर की ही अनुभूति होती है | यह भी समाधि की ही स्थिति कही जाती है परंतु इसका विषय बदल जाता है , इस अवस्था में ईश्वर के अतिरिक्त दूसरा चिंतन नहीं होता , इसे "असंप्रज्ञात समाधि" भी कहा जाता है | इस तरह मन की पाँच अवस्थायें होती हैं |*


*आज के इस आधुनिक युग में मनुष्य ने शिक्षा तो बहुत ग्रहण कर ली है परंतु इन गूढ़ रहस्यों को जानने या जानने का प्रयास करने वाले बहुत कम ही लोग मिलते हैं | यह आध्यात्मिकता का विषय है परंतु आज मनुष्य का मन क्षिप्त अवस्था में रहकर भौतिकता की ओर अधिक आकर्षित है | आज अधिकतर मनुष्य क्षिप्त , मूढ़ एवं विक्षिप्त अवस्था के ही वशीभूत दिखाई पड़ रहे हैं | निरू अवस्था की तो बात ही छोड़ दीजिए आज बड़े बड़े ज्ञानी - ध्यानी भी एकाग्र अवस्था को भी नहीं प्राप्त हो पा रहे हैं | मानव जीवन का उद्देश्य जहाँ मन को ईश्वर में लगाना बताया गया है वहीं आज मनुष्य निरुद्देश्य जीवन जी रहा है | कुछ लोग कहते हैं कि मन इतना चंचल है कि यह वश में ही नहीं आता आखिर मन को एकाग्र कैसे किया जाय ?? उन सभी लोगों से मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" इतना ही कहना चाहूँगा कि हाँ यह ठीक है कि मन को नियंत्रण में करना कठिन एवं दुष्कर कार्य है परंतु असम्भव तो नहीं है ? अभ्यास एवं योग को माध्यम बनाकर इस असम्भव दिख रहे कार्य को भी सम्भव किया जा सकता है | कहा गया है कि :- "योगश्चित्तवृत्तिनिरोध:" अर्थात :- मन के विचारों पर धीरे - धीरे नियंत्रण किया जाय , जैसे - जैसे ये विचार रूकते जायेंगे वैसे वैसे ही स्थिति दिव्य हो जायेगी | जिस दिन विचारों का आवागमन पूरी तरह बन्द हो जायेगा उसी दिन समाधि अर्थात एकाग्र अवस्था प्रारम्भ हो जायेगी | इससे भी आगे जायेंगे और विचारों के बन्धन से पूरी तरह बाहर आ जाने पर जब अपने जन्मदाता ईश्वर के प्रति ही चिन्तन होने लगेगा तो मनुष्य निरू अवस्था में पहुँच जायेगा | लोग कहते हैं कि कलियुग की चकाचौंध में यह कर पाना मुश्किल है परंतु उनको विचार करना चाहिए कि इसी कलियुग में अनेकों लोग हुए हैं जिन्होंने अपने मन के ऊपर शासन किया है | आवश्यकता है इस गूढ़ रहस्य को समझने की , जिस गिन यह रहस्य समझ में आ जायेगा उस दिन कुछ भी असम्भव नहीं रह जायेगा |*


*मानव शरीर में मन एक ही है परंतु उसकी अवस्थायें भिन्न हैं | यह मनुष्य के ऊपर निर्भर करता है कि वह किस अवस्था को प्राप्त होना चाहता है |*

अगला लेख: नारी का त्याग / अहोई अष्टमी :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
19 अक्तूबर 2019
*इस धरा धाम पर वैसे तो मनुष्य की कई श्रेणियां हैं परंतु आध्यात्मिक दृष्टि से मनुष्य को दो श्रेणियों में बांटा गया है :- प्रथम भक्त एवं दूसरा ज्ञानी | भक्त एवं ज्ञानी दोनों ही आध्यात्मिक पथ के पथिक हैं परंतु दोनों में भी भेद है | जहाँ भक्त बनना कुछ सरल है वहीं ज्ञानी बनना अत्यंत कठिन | भक्तों के लिए
19 अक्तूबर 2019
10 नवम्बर 2019
!! भगवत्कृपा हि केवलम् !!*सनातन धर्म की दिव्यता विश्व विख्यात है | संपूर्ण विश्व ने सनातन धर्म के ग्रंथों को ही आदर्श मान कर दिया जीवन जीने की कला सीखा है | प्राचीन काल में शिक्षा का स्तर इतना अच्छा नहीं था जितना इस समय है परंतु हमारे पूर्वज अनुभव के आधार पर समाज के सारे कार्य कुशलता से संपन्न कर दे
10 नवम्बर 2019
02 नवम्बर 2019
*प्रत्येक शरीर में एक आत्मा निवास करती है जिस प्रकार भगवान शिव के हाथ में सुशोभित त्रिशूल में ती शूल होते हैं उसी प्रकार आत्मा की तुलना भी एक त्रिशूल से की जा सकती है, जिसमें तीन भाग होते हैं- मन, बुद्धि और संस्कार | इनको त्रिदेव भी कहा जा सकता है | मन सृजनकर्ता ब्रह्मा , बुद्धि संहारकारी शिव तथा सं
02 नवम्बर 2019
08 नवम्बर 2019
*पंचतत्त्वों से बने मनुष्य को इस धरा धाम पर जीवन जीने के लिए मनुष्य को पंचतत्वों की आवश्यकता होती है | रहने के लिए धरती , ताप के लिए अग्नि , पीने के लिए पानी , सर ढकने के लिए आसमान , एवं जीवित रहने के लिए वायु की आवश्यकता होती है | मनुष्य प्रत्येक श्वांस में वायु ग्रहण करता है | श्वांस लेने के लिए
08 नवम्बर 2019
19 अक्तूबर 2019
*हमारा देश भारत आध्यात्मिक सांस्कृतिक एवं वैज्ञानिक दृष्टि से आदिकाल से ही सर्वश्रेष्ठ रहा है | संपूर्ण विश्व भारत देश से ही ज्ञान - विज्ञान प्राप्त करता रहा है | संपूर्ण विश्व में भारत ही एक ऐसा देश है जहां समय-समय पर ईश्वरीय शक्तियों ने अवतार धारण किया जिन्हें भगवान की संज्ञा दी गई | भगवान धरा धा
19 अक्तूबर 2019
20 अक्तूबर 2019
*इस धराधाम पर जन्म लेने के बाद मनुष्य सबकुछ प्राप्त करना चाहता है | परमात्मा की इस सृष्टि में यदि गुण हैं तो दोष भी हैं क्योंकि परमात्मा गुण एवं दोष बराबर सृजित किये हैं | यह मनुष्य के ऊपर निर्भर करता है कि वह क्या ग्रहण करना चाहता है | जीवन भर अनेक सांसारिक सुख साधन के लिए भटकने वाला मनुष्य सबकुछ प
20 अक्तूबर 2019
30 अक्तूबर 2019
*मानव जीवन में पवित्रता का बहुत बड़ा महत्त्व है | प्रत्येक मनुष्य स्वयं को स्वच्छ एवं पवित्र रखना चाहता है | नित्य अनेक प्रकार से संसाधनों से स्वयं के शरीर को चमकाने का प्रयास मनुष्य द्वारा किया जाता है | क्या पवित्रता का यही अर्थ हो सकता है ?? हमारे मनीषियों ने बताया है कि प्रत्येक तन के भीतर एक मन
30 अक्तूबर 2019
06 नवम्बर 2019
🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🌻☘🌻☘🌻☘🌻☘🌻☘🌻 *इस धरती पर अनेकों जीव विचरण कर रहे हैं इनमें सर्वश्रेष्ठ प्राणी मनुष्य को कहा गया है | चौरासी लाख योनियों में सर्वश्रेष्ठ मानव योनि कही गई है | साधारण से दिखने वाले मनुष्य में इतनी शक
06 नवम्बर 2019
01 नवम्बर 2019
*इस संसार में मनुष्य एक चेतन प्राणी है , उसके सारे क्रियाकलाप में चैतन्यता स्पष्ट दिखाई पड़ती है | मनुष्य को चैतन्य रखने में मनुष्य के मन का महत्वपूर्ण स्थान है | मनुष्य का यह मन एक तरफ तो ज्ञान का भंडार है वहीं दूसरी ओर अंधकार का गहरा समुद्र भी कहा जा सकता है | मन के अनेक क्रियाकलापों में सबसे महत्
01 नवम्बर 2019
09 नवम्बर 2019
*सनातन धर्म में मानव जीवन को चार आश्रमों में बांटा गया है , जिनमें से सर्वश्रेष्ठ आश्रम गृहस्थाश्रम को बताया गया है , क्योंकि गृहस्थ आश्रम का पालन किए बिना मनुष्य अन्य तीन आश्रम के विषय में कल्पना भी नहीं कर सकता | मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है समाज का निर्माण परिवार से होता है | व्यक्ति के जीवन में
09 नवम्बर 2019
12 नवम्बर 2019
*आदिकाल से ही से ही इस धराधाम पर अनेकों योद्धा ऐसे हुए हैं जिन्होंने अपनी शक्तियों का संचय करके एक विशाल जनसमूह को अपने वशीभूत किया एवं उन्हीं के माध्यम से मानवता के विरुद्ध कृत्य करना प्रारंभ किया | पूर्वकाल में ऐसे लोगों को राक्षस या निशाचर कहा जाता था | इनके अनेक अनुयायी ऐसे भी होते थे जिनको यह न
12 नवम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x