मन पर नियंत्रण :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

02 नवम्बर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (428 बार पढ़ा जा चुका है)

मन पर नियंत्रण :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस धराधाम पर परमात्मा द्वारा सृजित सभी प्रकार के जड़ - चेतन में सबसे शक्तिशाली मनुष्स ही है | सब पर विजय प्राप्त कर लेने वाला मनुष्य किसी से पराजित होता है तो वह उसका स्वयं का मन है जो उसको ऐसे निर्णय व कार्य करने के लिए विवश कर देता है जो कि वह कभी भी करना पसंद नहीं करता | कभी - कभी तो मन के बहकावे में उत्पन्न उत्तेजना के वशीभूत होकर मनुष्य ऐसे कृत्य भी मनुष्य के द्वारा हो जाते हैं जिसके लिए वह जीवन भर पश्चाताप की अग्नि में झुलसता रहता है | मनुष्य को संचालित करने वाला मन इतना चंचल एवं शक्तिशाली है कि मनुष्य स्वयं इस पर नियंत्रण कर पाने में स्वयं को सक्षम नहीं पाता | ऐसा नहीं है इस मन पर नियंत्रण हो ही नहीं सकता | हमारे महापुरुषों ने , ऋषि - महर्षियों ने इस मन पर नियंत्रण करके एक उदाहरण प्रस्तुत किया है | यह सत्य है कि मन पर नियंत्रण कर पाना कठिन है परंतु असंभव नहीं है | बड़े-बड़े तपस्वियों ने अपनी तपस्या के माध्यम से इस संसार में सब कुछ प्राप्त किया है , और कोई कोई भी तपस्या तब तक नहीं सफल हो सकती है जब तक इस मन को नियंत्रित नहीं किया जाता | पुराणों एवं इतिहास में प्राप्त कथाओं का यदि अवलोकन किया जाय तो यह देखने को मिलता है कि इस चंचल मन को किस प्रकार नियंत्रित करके घनघोर तपस्या हमारे महापुरुषों ने की है और उस तपस्या के माध्यम से जन कल्याणक मार्गदर्शन भी प्रस्तुत किया है , जिनका लाभ आज तक मानव समाज ले रहा है | मन को नियन्त्रित करना इतना सरल भी नहीं है | यह मन बार हार मनुष्य को कुचेष्टाओं की ओर अग्रसर करने के प्रयास में लगा रहता है , यही मनुष्य की परीक्षा की घड़ी होती है | इसी समय यदि अपने मन को मार करके उस विषय से अपना ध्यान हटा लिया जाय तो यह कार्य तो सम्भव हो ही जायेगा साथ ही मनुष्य किसी ऐसे कुकृत्य से स्वयं को बचा भी सकता है जो कि स्वयं एवं समाज के अनुकूल नहीं होते है | मन पर नियंत्रण करने के लिए मनुष्य को सत संगति करने का अधिक से अधिक प्रयास करना चाहिए |*


*आज समाज में मनुष्य के मन की चंचलता ने एक भयावह रूप ले लिया है | , मन अपनी चंचलता की पराकाष्ठा को पार कर रहा है तो उसका एक मुख्य कारण यह है कि आज मनुष्य आधुनिकता के चक्रव्यूह में फंसकर अपनी संस्कृति एवं सभ्यता से दूर होता चला जा रहा है | अधिक से अधिक सोशल मीडिया एवं टी०वी० , दूरदर्शन की फूहड़ता में व्यतीत करने वाला मनुष्य अपने सद्ग्रन्थों का अध्ययन नहीं करना चाहता , मन को नियंत्रित करने वाले सतसंग - कथाओं से दूर होता चला जा रहा है | आज प्राय: लोग कहते हुए सुने जा सकते हैं कि :- क्या करें मन ही नहीं मानता , मन को नियन्त्रित करना बड़ा मुश्किल है | ऐसे सभी लोगों से मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" बताना चाहूँगा कि जिस प्रकार किसी वाहन का चालक बनने के लिए मनुष्य सर्वप्रथम चालक की गद्दी पर बैठकर उस बाहन को चलाना सीखने का प्रयास करता है और एक लम्बे अभ्यास के बाद वह उस वाहन को कुशलता से नियंत्रित करते हुए जिधर से इच्छा होती है उधर से निकाल ले जाता है , उसी प्रकार इस मन को नियंत्रित करने के लिए ध्यान रूपी वाहन की गद्दी पर बैठकर निरन्तर मन को चलाने / नियंत्रित करने की कला को सीखना पड़ेगा | निरन्तर मन को एकाग्र करने का अभ्यास करते हुए एक दिन ऐसा आयेगा कि आप एक कुशल चालक की भाँति इस मन को जिधर से चाहेंगे उधर से ले जाने सफल हो जायेंगे | मन पर नियंत्रण करना यदि सीखना है तो भिखारी के उस बच्चे से सीखिये जो आपके विवुध पकवानों को देखकर भी अपने ऊपर नियंत्रण रखता है और बचे - खुचे जूंठन से अपना पेट भर लेता है | इस संसार में असंभव कुछ भी नहीं है आवश्यकता है उसके अभ्यास की | बिना अभ्यास के यहाँ कुछ भी मिल पाना सम्भव नहीं है | मन आपको अपने वश में करने का प्रयास करे उसके पहले आपको इस मन पर शासन करने का प्रयास प्रारम्भ कर देना चाहिए और यह तभी सम्भव है जब नित्य एकान्त में कुछ क्षण के लिए संसार से स्वयं को अलग करते हुए शून्य में अपना ध्यान लगाने का प्रयास करेंगे | ऐसा यदि नित्य की दिनचर्या में समेमिलित हो गया तो मन को नियंत्रित करना बहुत ही सरल हो सकता है |*


*मन ही मनुष्य को मानव परिवार एवं समाज से जोड़े रखने में मुख्य भूमिका निभाता है | यही मन अनियंत्रित होकर मनुष्य को समाज से अलग - थलग भी कर देता है , अत: मन को अनियंत्रित न होने दें |*

अगला लेख: आज के भगवान :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
16 नवम्बर 2019
*परमात्मा की बनाई यह सृष्टि निरन्तर क्षरणशील है | एक दिन सबका ही अन्त निश्चित है | सृष्टि का विकास हुआ तो एक दिन महाप्रलय के रूप में इसका विनाश भी हो जाना है , सूर्य प्रात:काल उदय होता है तो एक निश्चित समय पर अस्त भी हो जाता है | उसी प्रकार इस सृष्टि में जितने भी जड़
16 नवम्बर 2019
28 अक्तूबर 2019
*कार्तिक माह में चल रहे "पंच महापर्वों" के चौथे दिन आज अन्नकूट एवं गोवर्धन पूजा का पर्व मनाया जाएगा | भारतीय सनातन त्योहारों की यह दिव्यता रही है कि उसमें प्राकृतिक , वैज्ञानिक कारण भी रहते हैं | प्रकृति के वातावरण को स्वयं में समेटे हुए सनातन धर्म के त्योहार आम जनमानस पर अपना अमिट प्रभाव छोड़ते हैं
28 अक्तूबर 2019
19 अक्तूबर 2019
*हमारा देश भारत आध्यात्मिक सांस्कृतिक एवं वैज्ञानिक दृष्टि से आदिकाल से ही सर्वश्रेष्ठ रहा है | संपूर्ण विश्व भारत देश से ही ज्ञान - विज्ञान प्राप्त करता रहा है | संपूर्ण विश्व में भारत ही एक ऐसा देश है जहां समय-समय पर ईश्वरीय शक्तियों ने अवतार धारण किया जिन्हें भगवान की संज्ञा दी गई | भगवान धरा धा
19 अक्तूबर 2019
16 नवम्बर 2019
*इस धराधाम पर जन्म लेने के बाद मनुष्य येन - केन प्रकारेण ईश्वर प्राप्ति का उपाय किया करता है | ईश्वर का प्रेम पिराप्त करने के लिए मनुष्य पूजा , अनुष्ठान , मन्दिरों में देवदर्शन तथा अनेक तीर्थों का भ्रमण किया करता है जबकि भगवान को कहीं भी ढूंढ़ने की आवश्यकता नहीं है मानव हृदय में तो ईश्वर का वास है ह
16 नवम्बर 2019
12 नवम्बर 2019
*आदिकाल से ही से ही इस धराधाम पर अनेकों योद्धा ऐसे हुए हैं जिन्होंने अपनी शक्तियों का संचय करके एक विशाल जनसमूह को अपने वशीभूत किया एवं उन्हीं के माध्यम से मानवता के विरुद्ध कृत्य करना प्रारंभ किया | पूर्वकाल में ऐसे लोगों को राक्षस या निशाचर कहा जाता था | इनके अनेक अनुयायी ऐसे भी होते थे जिनको यह न
12 नवम्बर 2019
20 अक्तूबर 2019
*इस धराधाम पर जन्म लेने के बाद मनुष्य सबकुछ प्राप्त करना चाहता है | परमात्मा की इस सृष्टि में यदि गुण हैं तो दोष भी हैं क्योंकि परमात्मा गुण एवं दोष बराबर सृजित किये हैं | यह मनुष्य के ऊपर निर्भर करता है कि वह क्या ग्रहण करना चाहता है | जीवन भर अनेक सांसारिक सुख साधन के लिए भटकने वाला मनुष्य सबकुछ प
20 अक्तूबर 2019
03 नवम्बर 2019
*इस संसार में मनुष्य ने अपनी कार्यकुशलता से अनहोनी को भी होनी करके दिखाया है | अपनी समझ से कोई भी ऐसा कार्य न बचा होगा जो मनुष्य ने कपने का प्रयास न किया हो | संसार में समय के साथ बड़े से बड़े घाव , गहरे से गहरे गड्ढे भी भर जाते हैं | समुद्र के विषय में बाबा गोस्वामी तुलसीदास जी ने मानस में लिखा है
03 नवम्बर 2019
02 नवम्बर 2019
*प्रत्येक शरीर में एक आत्मा निवास करती है जिस प्रकार भगवान शिव के हाथ में सुशोभित त्रिशूल में ती शूल होते हैं उसी प्रकार आत्मा की तुलना भी एक त्रिशूल से की जा सकती है, जिसमें तीन भाग होते हैं- मन, बुद्धि और संस्कार | इनको त्रिदेव भी कहा जा सकता है | मन सृजनकर्ता ब्रह्मा , बुद्धि संहारकारी शिव तथा सं
02 नवम्बर 2019
30 अक्तूबर 2019
*मानव जीवन में पवित्रता का बहुत बड़ा महत्त्व है | प्रत्येक मनुष्य स्वयं को स्वच्छ एवं पवित्र रखना चाहता है | नित्य अनेक प्रकार से संसाधनों से स्वयं के शरीर को चमकाने का प्रयास मनुष्य द्वारा किया जाता है | क्या पवित्रता का यही अर्थ हो सकता है ?? हमारे मनीषियों ने बताया है कि प्रत्येक तन के भीतर एक मन
30 अक्तूबर 2019
24 अक्तूबर 2019
*सनातन धर्म में मानव जीवन को चार भागों में विभक्त करते हुए इन्हें आश्रम कहा गया है | जो क्रमश: ब्रह्मचर्य , गृहस्थ , सन्यास एवं वानप्रस्थ के नाम से जाना जाता है | जीवन का प्रथम आश्रम ब्रह्मचर्य कहा जाता है | ब्रह्मचर्य एक ऐसा विषय है जिस पर आदिकाल से लेकर आज तक तीखी बहस होती रही है | स्वयं को ब्रह्म
24 अक्तूबर 2019
28 अक्तूबर 2019
*मानव जीवन पा करके मनुष्य लंबी आयु जीता है | जीवन को निरोगी एवं दीर्घ जीवी रखने के लिए मनुष्य की मुख्य आवश्यकता है भोजन करना | पौष्टिक भोजन करके मनुष्य एक सुंदर एवं स्वस्थ शरीर प्राप्त करता है | मानव जीवन में भोजन का क्या महत्व है इसको बताने की आवश्यकता नहीं है , नित्य अपने घरों में अनेकों प्रकार
28 अक्तूबर 2019
10 नवम्बर 2019
!! भगवत्कृपा हि केवलम् !!*सनातन धर्म की दिव्यता विश्व विख्यात है | संपूर्ण विश्व ने सनातन धर्म के ग्रंथों को ही आदर्श मान कर दिया जीवन जीने की कला सीखा है | प्राचीन काल में शिक्षा का स्तर इतना अच्छा नहीं था जितना इस समय है परंतु हमारे पूर्वज अनुभव के आधार पर समाज के सारे कार्य कुशलता से संपन्न कर दे
10 नवम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x