मन की विचित्रता :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

02 नवम्बर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (464 बार पढ़ा जा चुका है)

मन की विचित्रता :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस संसार में जन्म लेने के बाद मनुष्य अपने संपूर्ण जीवन काल में अनेकों मित्र एवं शत्रु बनाता है | वैसे तो इस संसार में मनुष्य के कर्मों के अनुसार उसके अनेकों शत्रु हो जाते हैं जिनसे वह युद्ध करके जीत भी आता है , परंतु मनुष्य का एक प्रबल शत्रु है जिससे जीत पाना मनुष्य के लिए बहुत ही कठिन होता है | वह शत्रु है स्वयं मनुष्य का मन | जैसे शत्रु से युद्ध करते समय इस बात का ध्यान रखना होता है कि ना जाने कब आक्रमण हो जाए , कब , किस ओर से , किस रूप में शत्रु प्रगट हो जाए उसी प्रकार मन रूपी शत्रु के प्रत्येक कार्य पर दिव्य दृष्टि रखना चाहिए | जहां मन तुम्हें अपने बस में करके उल्टा सीधा कराना चाहे वहाँ उसके व्यवहार में हस्तक्षेप करके स्वयं को संभाल लेना चाहिए | क्योंकि मन बड़ा बलवान शत्रु है इस से युद्ध करना भी अत्यंत दुष्कर कार्य हैं | इससे युद्धकाल में एक विचित्रता है यदि युद्ध करने वाला दृढ़ता से युद्ध में संलग्न रहते हुए इच्छा शक्ति में निरंतरता बनाए रखते हुए यदि लगातार अपने मन से युद्ध किया जाए तो विजय प्राप्त की जा सकती है | प्रत्येक मनुष्य को यह प्रयास करना चाहिए कि उसका मन सदैव व्यस्त रहे | मन को नए-नए कार्य सौंप देना चाहिए , क्योंकि जब यह मन खाली रहता है , इसके पास जब कोई कार्य नहीं होता है तो मन में दुर्व्यसन के भाव उत्पन्न हो जाते हैं | यही मन की बिचित्रता है , इसको समझने का प्रयास जिसने किया वह अपने जीवन में सफल हो गया और जो इस रहस्य को नहीं समझ पाया वह अपने जीवन में भटकता ही रहा है |*


*आज जिस प्रकार का समाज देखने को मिल रहा है उससे यह कहा जा सकता है कि आज अपने मन पर नियंत्रण करने वालों की संख्या बहुत अधिक नहीं रह गई है | अधिकतर मनुष्य मन के बहकावे में आकर के ऐसे ऐसे कृत्य कर रहे हैं जिसका उनको पश्चाताप भी नहीं होता है | आज अनेक लोग कहते हैं कि मन की विचित्रता को कैसे जाना जाय ? मन पर नियंत्रण कैसे किया जाय ? ऐसे सभी लोगों को मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" सिर्फ इतना ही बताना चाहूंगा कि जब जब तुम्हारे अंतःकरण में वासना की प्रबल जंग उत्पन्न हो निश्चयात्मक बुद्धि को जागृत करके मन से थोड़ी देर के लिए पृथक होकर के इसके द्वारा किए जा रहे कृत्यों पर तीव्र दृष्टि रखी जाय | जब अपने मन का आकलन स्वयं किया जाता है तो मन की विचार श्रृंखला टूट जाती है , और जब मन की विचार संख्या टूट जाएगी तो मन और मन के साथ स्वयं मनुष्य चलायमान नहीं हो सकता है | मनुष्य को यह सोचना चाहिए कि मन के व्यापार के साथ आत्मा की समस्वरता न होने पावे | यह सत्य है कि यह तुरंत नहीं हो पाएगा लेकिन धीरे धीरे अभ्यास के द्वारा अपने मन को यदि समय समय पर मनुष्य आज्ञा देता रहे तो यह मन मनुष्य को आज्ञा ना दे करके एक आज्ञाकारी दास की तरह मनुष्य के नियंत्रण में रहकर के कार्य करने लगेगा |*


*मनुष्य सबसे विचित्र प्राणियों में से एक प्राणी है | मनुष्य की विचित्रता का कारण मनुष्य के मन का विचित्र होना ही है | मनुष्य के मन को जान पाना , समझ पाना कभी-कभी स्वयं मनुष्य के बस के बाहर की बात हो जाती है | यही मन की विचित्र का है |*

अगला लेख: नारी का त्याग / अहोई अष्टमी :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
16 नवम्बर 2019
*इस धराधाम पर जन्म लेने के बाद मनुष्य येन - केन प्रकारेण ईश्वर प्राप्ति का उपाय किया करता है | ईश्वर का प्रेम पिराप्त करने के लिए मनुष्य पूजा , अनुष्ठान , मन्दिरों में देवदर्शन तथा अनेक तीर्थों का भ्रमण किया करता है जबकि भगवान को कहीं भी ढूंढ़ने की आवश्यकता नहीं है मानव हृदय में तो ईश्वर का वास है ह
16 नवम्बर 2019
14 नवम्बर 2019
*सृष्टि के आदिकाल में वेद प्रकट हुए , वेदों का विन्यास करके वेदव्यास जी ने अनेकों पुराणों का लेखन किया परंतु उनको संतोष नहीं हुआ तब नारद जी के कहने से उन्होंने श्रीमद्भागवत महापुराण की रचना की | श्रीमद्भागवत के विषय में कहा जाता है यह वेद उपनिषदों के मंथन से निकला हुआ ऐसा नवनीत (मक्खन) है जो कि वेद
14 नवम्बर 2019
24 अक्तूबर 2019
*सनातन धर्म में मानव जीवन को चार भागों में विभक्त करते हुए इन्हें आश्रम कहा गया है | जो क्रमश: ब्रह्मचर्य , गृहस्थ , सन्यास एवं वानप्रस्थ के नाम से जाना जाता है | जीवन का प्रथम आश्रम ब्रह्मचर्य कहा जाता है | ब्रह्मचर्य एक ऐसा विषय है जिस पर आदिकाल से लेकर आज तक तीखी बहस होती रही है | स्वयं को ब्रह्म
24 अक्तूबर 2019
04 नवम्बर 2019
!! भगवत्कृपा हि केवलम् !!मानव के जीवन में मन का निर्माण एक सतत प्रक्रिया है | मन को साधने की कला एक छोटे बच्चे से सीखना चाहिए जो एक ही बात को बार बार दोहराते हुए सतत सीखने का प्रयास करते हुए अन्तत: उसमें सफल भी हो जाता है | मन की चंचलता से प्राय: सभी परेशान हैं | सामान्य जीवन में मन की औसत स्थिति हो
04 नवम्बर 2019
12 नवम्बर 2019
*आदिकाल से ही से ही इस धराधाम पर अनेकों योद्धा ऐसे हुए हैं जिन्होंने अपनी शक्तियों का संचय करके एक विशाल जनसमूह को अपने वशीभूत किया एवं उन्हीं के माध्यम से मानवता के विरुद्ध कृत्य करना प्रारंभ किया | पूर्वकाल में ऐसे लोगों को राक्षस या निशाचर कहा जाता था | इनके अनेक अनुयायी ऐसे भी होते थे जिनको यह न
12 नवम्बर 2019
28 अक्तूबर 2019
*मानव जीवन पा करके मनुष्य लंबी आयु जीता है | जीवन को निरोगी एवं दीर्घ जीवी रखने के लिए मनुष्य की मुख्य आवश्यकता है भोजन करना | पौष्टिक भोजन करके मनुष्य एक सुंदर एवं स्वस्थ शरीर प्राप्त करता है | मानव जीवन में भोजन का क्या महत्व है इसको बताने की आवश्यकता नहीं है , नित्य अपने घरों में अनेकों प्रकार
28 अक्तूबर 2019
30 अक्तूबर 2019
*मानव जीवन में पवित्रता का बहुत बड़ा महत्त्व है | प्रत्येक मनुष्य स्वयं को स्वच्छ एवं पवित्र रखना चाहता है | नित्य अनेक प्रकार से संसाधनों से स्वयं के शरीर को चमकाने का प्रयास मनुष्य द्वारा किया जाता है | क्या पवित्रता का यही अर्थ हो सकता है ?? हमारे मनीषियों ने बताया है कि प्रत्येक तन के भीतर एक मन
30 अक्तूबर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x