मन की साधना :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

03 नवम्बर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (3104 बार पढ़ा जा चुका है)

मन की साधना :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*भारतीय परंपरा में आदिकाल से एक शब्द प्रचलन में रहा है साधना | हमारे महापुरूषों ने अपने जीवन काल में अनेकों प्रकार की साधनायें की हैं | अनेकों प्रकार की साधनाएं हमारे भारतीय सनातन के धर्म ग्रंथों में वर्णित है | यंत्र साधना , मंत्र साधना आदि इनका उदाहरण कही जा सकती हैं | यह साधना आखिर क्या है ? किसी उद्देश्य के प्रति स्वयं के चित्त को एकाग्र करना ही साधना कहा गया है | किसी भी साधना को करने के पहले आवश्यक है स्वयं के मन को साधना पड़ता है क्योंकि जब तक कोई साधक अपने मन को नहीं साधेगा तब तक कोई भी साधना फलीभूत नहीं हो सकती | वृक्ष का मूल मन को कहा गया है , मन ही मनुष्य का चालक है | मनुष्य अपने शरीर के वाह्य अंगों से तो परिचित होता है किंतु अपने स्वयं के मन से उतना परिचित नहीं हो पाता | वस्तुत: मनुष्य का व्यक्तित्व मनुष्य का मन होता है , शरीर तो उसका थोड़ा सा अंश है | शरीर मन को प्रभावित करता है और मन शरीर को प्रभावित करता है | परंतु मुख्यत: मनुष्य के जीवन के अधिकांश व्यवहार मन के कारण ही होते हैं | अच्छा - बुरा , सुख-दुख मन में ही अनुभव होता है , मन के बाहर कुछ नहीं | कोई साधना करने के लिए सर्वप्रथम अपने मन का साधन करना पड़ेगा | बड़े-बड़े महापुरुषों ने तपस्या करके अनेकों वरदान प्राप्त किए हैं तो उन्होंने सर्वप्रथम अपने मन को साधा है | जिस दिन मनुष्य अपने मन को साध लेता है उस दिन के बाद उसके जीवन में कोई भी साधना कर लेना असंभव नहीं रह जाता | हमारे भारतीय वांग्मय में कठिन से कठिन साधनाओं का वर्णन है परंतु सबसे कठिन है स्वयं के मन को साध लेना क्योंकि मन की चंचलता सर्वविदित है | प्रायः लोग संसार को समझने का , उसको जानने का नित्य प्रयास करते हैं परंतु अपने मन को नहीं जान पाते हैं या जानने का प्रयास नहीं करते | वैसे तो अपने मन को समझ पाना बहुत कठिन है किन्तु जो एक बार अपने मन को समझ गया उसके लिए सब कुछ आसान हो जाता है | जो साधक - साधिकायें अपने मन को समझने का निरंतर प्रयास करते हैं एक दिन उनके जीवन में ऐसी क्षमता आ जाती है कि उनके भाव प्रकट होने के पहले की उन पर रोक लगा देते हैं | जब मनुष्य के अंदर मन में प्रकट हुए भाव को पकड़ने की क्षमता आ जाती है तब यह समझ लेना चाहिए इनकी साधना प्रारंभ हो गई है |*


*आज समाज में अनेकों साधक अनेक प्रकार की साधनाओं के विषय जानने को उत्सुक रहते हैं | कोई मंत्र विद्या जानना चाहता है तो कोई तंत्र विद्या जानना चाहता है और उसकी साधना करना चाहता है परंतु अपने मन की चंचलता को जानने का प्रयास नहीं किया जाता है | प्राय: देखा जाता है कि मनुष्य हाथ में माला लेकर के जप करने तो बैठता है परंतु उसका मन सांसारिकता में लगा रहता है | मेरा "आचार्य अर्जुन तिवारी" का मानना जब तक मन को नहीं साधा जाता है तब तक कोई भी जब कोई भी अन्य साधना सफल नहीं हो सकती | आज समाज में जिस प्रकार की घटनाएं घट रही उसका मूल कारण मनुष्य के मन का भटकाव ही है | मनुष्य अपने मन को नियंत्रित करने में असफल हो रहा है | अनेक प्रकार की साधना करने का दम भरने वाला मनुष्य अपने मन को नहीं साध पा रहा है | यदि मन को साध लिया जाय तो कोई भी साधना कर पाना निश्चित हो जाता है | किसी ने कहा है :- "एकहि साधे सब सधे , सब साधे सब जाय " जिस प्रकार वृक्ष को हरा भरा रखने के लिए पत्तों और डालियों में पानी ना दे कर के उसकी जड़ में पानी देना होता है उसी प्रकार कोई भी साधना करने के पहले मन रूपी की जड़ को संस्कारों से सींचकर के उसको नियंत्रित करना पड़ेगा , मन को साधना पड़ेगा | परंतु आज यही सब नहीं हो पा रहा है इसी कारण समाज में त्राहि त्राहि मची हुई है |*


*यदि साधना करने का कोई भी विचार मन में उत्पन्न होता है तो मनुष्य को सर्वप्रथम नित्य अपने मन को साधने का प्रयास करना चाहिए क्योंकि मन की साधना किए बिना कोई भी साधना फलीभूत नहीं हो सकती |*

अगला लेख: आज के भगवान :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



दिव्य सन्देश

प्रणाम आचार्य श्री
जय श्री राधे

शशि भूषण
04 नवम्बर 2019

बहुत बहुत सुन्दर लेख

आभार !! उपाध्याय जी

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
01 नवम्बर 2019
*इस संसार में मनुष्य एक चेतन प्राणी है , उसके सारे क्रियाकलाप में चैतन्यता स्पष्ट दिखाई पड़ती है | मनुष्य को चैतन्य रखने में मनुष्य के मन का महत्वपूर्ण स्थान है | मनुष्य का यह मन एक तरफ तो ज्ञान का भंडार है वहीं दूसरी ओर अंधकार का गहरा समुद्र भी कहा जा सकता है | मन के अनेक क्रियाकलापों में सबसे महत्
01 नवम्बर 2019
16 नवम्बर 2019
*परमात्मा की बनाई यह सृष्टि निरन्तर क्षरणशील है | एक दिन सबका ही अन्त निश्चित है | सृष्टि का विकास हुआ तो एक दिन महाप्रलय के रूप में इसका विनाश भी हो जाना है , सूर्य प्रात:काल उदय होता है तो एक निश्चित समय पर अस्त भी हो जाता है | उसी प्रकार इस सृष्टि में जितने भी जड़
16 नवम्बर 2019
02 नवम्बर 2019
*इस धराधाम पर परमात्मा द्वारा सृजित सभी प्रकार के जड़ - चेतन में सबसे शक्तिशाली मनुष्स ही है | सब पर विजय प्राप्त कर लेने वाला मनुष्य किसी से पराजित होता है तो वह उसका स्वयं का मन है जो उसको ऐसे निर्णय व कार्य करने के लिए विवश कर देता है जो कि वह कभी भी करना पसंद नहीं करता | कभी - कभी तो मन के बहकाव
02 नवम्बर 2019
06 नवम्बर 2019
🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🌻☘🌻☘🌻☘🌻☘🌻☘🌻 *इस धरती पर अनेकों जीव विचरण कर रहे हैं इनमें सर्वश्रेष्ठ प्राणी मनुष्य को कहा गया है | चौरासी लाख योनियों में सर्वश्रेष्ठ मानव योनि कही गई है | साधारण से दिखने वाले मनुष्य में इतनी शक
06 नवम्बर 2019
19 अक्तूबर 2019
*हमारा देश भारत आध्यात्मिक सांस्कृतिक एवं वैज्ञानिक दृष्टि से आदिकाल से ही सर्वश्रेष्ठ रहा है | संपूर्ण विश्व भारत देश से ही ज्ञान - विज्ञान प्राप्त करता रहा है | संपूर्ण विश्व में भारत ही एक ऐसा देश है जहां समय-समय पर ईश्वरीय शक्तियों ने अवतार धारण किया जिन्हें भगवान की संज्ञा दी गई | भगवान धरा धा
19 अक्तूबर 2019
08 नवम्बर 2019
*सनातन धर्म में चातुर्मास्य का विशेष महत्त्व है | चार महीने चलने वाला यह विशेष समय भगवत्भक्ति प्राप्त करने वाले साधकों के लिए महत्त्वपूर्ण होता है | आषाढ़ मास के शुक्लपक्ष की एकादशी अर्थात हरिशयनी एकादशी को जब भगवान सूर्य मिथुन राशि पर जाते हैं तो चातुर्मास्य प्रारम्भ हो जाता है | हरिशयनी का अर्थ हो
08 नवम्बर 2019
19 अक्तूबर 2019
*इस धरा धाम पर वैसे तो मनुष्य की कई श्रेणियां हैं परंतु आध्यात्मिक दृष्टि से मनुष्य को दो श्रेणियों में बांटा गया है :- प्रथम भक्त एवं दूसरा ज्ञानी | भक्त एवं ज्ञानी दोनों ही आध्यात्मिक पथ के पथिक हैं परंतु दोनों में भी भेद है | जहाँ भक्त बनना कुछ सरल है वहीं ज्ञानी बनना अत्यंत कठिन | भक्तों के लिए
19 अक्तूबर 2019
03 नवम्बर 2019
*इस संसार में मनुष्य ने अपनी कार्यकुशलता से अनहोनी को भी होनी करके दिखाया है | अपनी समझ से कोई भी ऐसा कार्य न बचा होगा जो मनुष्य ने कपने का प्रयास न किया हो | संसार में समय के साथ बड़े से बड़े घाव , गहरे से गहरे गड्ढे भी भर जाते हैं | समुद्र के विषय में बाबा गोस्वामी तुलसीदास जी ने मानस में लिखा है
03 नवम्बर 2019
30 अक्तूबर 2019
*मानव जीवन में पवित्रता का बहुत बड़ा महत्त्व है | प्रत्येक मनुष्य स्वयं को स्वच्छ एवं पवित्र रखना चाहता है | नित्य अनेक प्रकार से संसाधनों से स्वयं के शरीर को चमकाने का प्रयास मनुष्य द्वारा किया जाता है | क्या पवित्रता का यही अर्थ हो सकता है ?? हमारे मनीषियों ने बताया है कि प्रत्येक तन के भीतर एक मन
30 अक्तूबर 2019
24 अक्तूबर 2019
*सनातन धर्म में मानव जीवन को चार भागों में विभक्त करते हुए इन्हें आश्रम कहा गया है | जो क्रमश: ब्रह्मचर्य , गृहस्थ , सन्यास एवं वानप्रस्थ के नाम से जाना जाता है | जीवन का प्रथम आश्रम ब्रह्मचर्य कहा जाता है | ब्रह्मचर्य एक ऐसा विषय है जिस पर आदिकाल से लेकर आज तक तीखी बहस होती रही है | स्वयं को ब्रह्म
24 अक्तूबर 2019
06 नवम्बर 2019
🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🌻☘🌻☘🌻☘🌻☘🌻☘🌻 *इस धरती पर अनेकों जीव विचरण कर रहे हैं इनमें सर्वश्रेष्ठ प्राणी मनुष्य को कहा गया है | चौरासी लाख योनियों में सर्वश्रेष्ठ मानव योनि कही गई है | साधारण से दिखने वाले मनुष्य में इतनी शक
06 नवम्बर 2019
07 नवम्बर 2019
🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🌻☘🌻☘🌻☘🌻☘🌻☘🌻 *हमारे देश में हिंदू संस्कृति में बताए गए बारहों महीने में कार्तिक मास का विशेष महत्व है , इसे दामोदर मास अर्थात भगवान विष्णु के प्रति समर्पित बताया गया है | कार्तिक मास का क्या महत्व है इसका वर
07 नवम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x