मन को कैसे बदलें :--- आचार्य अर्जुन तिनारी

04 नवम्बर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (410 बार पढ़ा जा चुका है)

मन को कैसे बदलें :--- आचार्य अर्जुन तिनारी

!! भगवत्कृपा हि केवलम् !!


मानव के जीवन में मन का निर्माण एक सतत प्रक्रिया है | मन को साधने की कला एक छोटे बच्चे से सीखना चाहिए जो एक ही बात को बार बार दोहराते हुए सतत सीखने का प्रयास करते हुए अन्तत: उसमें सफल भी हो जाता है | मन की चंचलता से प्राय: सभी परेशान हैं | सामान्य जीवन में मन की औसत स्थिति होती है क भी वह स्थिर हो जाता है तो कभी तनावग्रस्त , कुछ क्षण के योगी भी बन जाता है तो अगले ही पल भोगी बनकर रोगी भी बन जाता है | कभी योगी एवं अगले क्षण भोगी बनने वाली स्थिति मन को तनावग्रस्त कर देती है | तनाव से मन टूट जाता है और नकारात्मकता की ओर अग्रसर हो जाता है | मन की दिशा और दशा को सुधारकर सकारात्मक करने के लिए मनुष्य को अपने जीवन की दिशा बदलकर सकारात्मक करनी होगी | क्योंकि यदि जीवन नहीं बदलेगा , जीवनशैली नहीं बदलेगी तो भला मन कैसे बदल सकता है ? मन नहीं तब तक नहीं बदलेगा जब तक संग नहीं बदलेगा | प्राचीनकाल में मन का रख रखाव करने के लिए , उसे शक्तिसम्पन्न एवं सकारात्मक बनाने के लिए अनेकों साधन थे जिसके माध्यम से मनुष्य अपने मन पर नियंत्रण रख पाने में सफल होता था | जहाँ एक मर्यादापुरुषोत्तम श्रीराम ने सकारात्मकता , संस्कार आदि से अपने मन पर नियंत्रण रखने की कला सीखी थी , वहीं त्रैलोकेय विजयी होने के बाद भी रावण जैसा प्रकाण्ड विद्वान यदि पतित हुआ तो उसका एक ही प्रमुख कारण था कि उसका अपने मन पर नियंत्रण नहीं था | जीवन में मन की दिशा एवं दशा बहुत महत्त्व रखती है , जिसने यह रहस्य जान लिया उसरा मानव जीवन पाना सफल हो गया |*


*आज संसार में इस शरीर को बनाने के लिए , शरीर को स्वस्थ को दिखाने के लिए अनेकों प्रकार की व्यायामशालाएं जगह जगह पर मिल जाएंगी , जहां लोग नई नई मशीनों के द्वारा व्यायाम करके अपने शरीर को बलवान बनाने में लगे हुए हैं , परंतु दुर्भाग्य है कि मन को बलवान बनाने के लिए , मन के निर्माण के लिए कहीं कोई व्यायामशाला नहीं दिखाई पड़ती है | कोई ऐसी प्रयोगशाला / कार्यशाला नहीं है जो मन का निर्माण कर सके , जहां अंतस चेतना को विकसित करने की बात हो | यही कारण है कि आज मनुष्य का मन दिन प्रतिदिन अस्थिर होता चला जा रहा है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" देख रहा हूं कि आज समाज में प्रतिस्पर्धा है , प्रतियोगिता है , वैमनस्य है , वैर है एवं अनेकों प्रकार की नकारात्मकता है जिसे मनुष्य अपने व्यक्तित्व में लगातार सम्मिलित करता चला जा रहा है | कुछ लोग कहते हैं कि मन हमारा चंचल है , अस्थिर है | तो उसको स्थिर बनाने के लिए स्वयं प्रयास करना पड़ेगा | मानव जीवन बड़ा दुर्लभ और यह एक पुल की तरह होता है एक छोर पर देवत्व है तो दूसरी छोर पर पशुता विद्यमान है | मनुष्य का मन देवत्व की ओर जाएगा या पशुता की ओर यह उसके संस्कारों एवं वातावरण पर निर्भर करता है | मनुष्य प्रायः तनाव में रहता है और इसी मन के तनाव के कारण मनुष्य रोता रहता है | यह स्पष्ट है कि जब-जब जीवन की दिशा गलत होगी , जब जब जीवन के मूल्य पतित होंगे तब तब मन चंचल होगा | मन की चंचलता को रोकने के लिए अपने जीवन की दशा को बदलना होगा , जीवन शैली को बदलना होगा , यदि ऐसा करने में मनुष्य सफल हो जाता है तो मन पर नियंत्रण करना सरल हो सकता है | इसके अतिरिक्त कोई दूसरा साधन इस संसार में नहीं है जो अपने मन को नियंत्रित करने में सहायक है |*


*इस संसार में समय-समय पर उत्पन्न होने वाले परिदृश्य एवं परिस्थितियां तो नहीं बदली जा सकती हैं लेकिन अपने मन की स्थिति को बदलना मनुष्य के बस में है और सदा रहेगा | आवश्यकता है सतत प्रयास करने की |*

अगला लेख: मन का उपादान :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
31 अक्तूबर 2019
*मनुष्य इस धरा धाम पर जन्म लेकर के जीवन भर अनेकों कृत्य करते हुए अपनी जीवन यात्रा पूर्ण करता है | इस जीवन अनेक बार ऐसी स्थितियां प्रकट हो जाती है मनुष्य किसी वस्तु , विषय या किसी व्यक्ति के प्रति इतना आकर्षित लगने लगता है कि उस वस्तु विशेष के लिए कई बार संसार को भी ठुकराने का संकल्प ले लेता है | आखि
31 अक्तूबर 2019
16 नवम्बर 2019
*परमात्मा की बनाई यह सृष्टि निरन्तर क्षरणशील है | एक दिन सबका ही अन्त निश्चित है | सृष्टि का विकास हुआ तो एक दिन महाप्रलय के रूप में इसका विनाश भी हो जाना है , सूर्य प्रात:काल उदय होता है तो एक निश्चित समय पर अस्त भी हो जाता है | उसी प्रकार इस सृष्टि में जितने भी जड़
16 नवम्बर 2019
08 नवम्बर 2019
*पंचतत्त्वों से बने मनुष्य को इस धरा धाम पर जीवन जीने के लिए मनुष्य को पंचतत्वों की आवश्यकता होती है | रहने के लिए धरती , ताप के लिए अग्नि , पीने के लिए पानी , सर ढकने के लिए आसमान , एवं जीवित रहने के लिए वायु की आवश्यकता होती है | मनुष्य प्रत्येक श्वांस में वायु ग्रहण करता है | श्वांस लेने के लिए
08 नवम्बर 2019
22 अक्तूबर 2019
*भारत देश में अपने परिवार तथा समाज को संपन्न एवं दीर्घायु की कामना से नारियों ने समय-समय पर कठिन से कठिन व्रत का पालन किया है | वैसे तो वर्ष भर कोई न कोई पर्व एवं त्योहार यहां मनाया जाता रहता है , परंतु कार्तिक मास विशेष रुप से पर्व एवं त्योहारों के लिए माना जाता है | कार्तिक मास में नित्य नए-नए त्य
22 अक्तूबर 2019
02 नवम्बर 2019
*इस संसार में जन्म लेने के बाद मनुष्य अपने संपूर्ण जीवन काल में अनेकों मित्र एवं शत्रु बनाता है | वैसे तो इस संसार में मनुष्य के कर्मों के अनुसार उसके अनेकों शत्रु हो जाते हैं जिनसे वह युद्ध करके जीत भी आता है , परंतु मनुष्य का एक प्रबल शत्रु है जिससे जीत पाना मनुष्य के लिए बहुत ही कठिन होता है | वह
02 नवम्बर 2019
14 नवम्बर 2019
*सृष्टि के आदिकाल में वेद प्रकट हुए , वेदों का विन्यास करके वेदव्यास जी ने अनेकों पुराणों का लेखन किया परंतु उनको संतोष नहीं हुआ तब नारद जी के कहने से उन्होंने श्रीमद्भागवत महापुराण की रचना की | श्रीमद्भागवत के विषय में कहा जाता है यह वेद उपनिषदों के मंथन से निकला हुआ ऐसा नवनीत (मक्खन) है जो कि वेद
14 नवम्बर 2019
16 नवम्बर 2019
*इस धराधाम पर जन्म लेने के बाद मनुष्य येन - केन प्रकारेण ईश्वर प्राप्ति का उपाय किया करता है | ईश्वर का प्रेम पिराप्त करने के लिए मनुष्य पूजा , अनुष्ठान , मन्दिरों में देवदर्शन तथा अनेक तीर्थों का भ्रमण किया करता है जबकि भगवान को कहीं भी ढूंढ़ने की आवश्यकता नहीं है मानव हृदय में तो ईश्वर का वास है ह
16 नवम्बर 2019
30 अक्तूबर 2019
*मानव जीवन में पवित्रता का बहुत बड़ा महत्त्व है | प्रत्येक मनुष्य स्वयं को स्वच्छ एवं पवित्र रखना चाहता है | नित्य अनेक प्रकार से संसाधनों से स्वयं के शरीर को चमकाने का प्रयास मनुष्य द्वारा किया जाता है | क्या पवित्रता का यही अर्थ हो सकता है ?? हमारे मनीषियों ने बताया है कि प्रत्येक तन के भीतर एक मन
30 अक्तूबर 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x