मन को कैसे बदलें :--- आचार्य अर्जुन तिनारी

04 नवम्बर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (401 बार पढ़ा जा चुका है)

मन को कैसे बदलें :--- आचार्य अर्जुन तिनारी

!! भगवत्कृपा हि केवलम् !!


मानव के जीवन में मन का निर्माण एक सतत प्रक्रिया है | मन को साधने की कला एक छोटे बच्चे से सीखना चाहिए जो एक ही बात को बार बार दोहराते हुए सतत सीखने का प्रयास करते हुए अन्तत: उसमें सफल भी हो जाता है | मन की चंचलता से प्राय: सभी परेशान हैं | सामान्य जीवन में मन की औसत स्थिति होती है क भी वह स्थिर हो जाता है तो कभी तनावग्रस्त , कुछ क्षण के योगी भी बन जाता है तो अगले ही पल भोगी बनकर रोगी भी बन जाता है | कभी योगी एवं अगले क्षण भोगी बनने वाली स्थिति मन को तनावग्रस्त कर देती है | तनाव से मन टूट जाता है और नकारात्मकता की ओर अग्रसर हो जाता है | मन की दिशा और दशा को सुधारकर सकारात्मक करने के लिए मनुष्य को अपने जीवन की दिशा बदलकर सकारात्मक करनी होगी | क्योंकि यदि जीवन नहीं बदलेगा , जीवनशैली नहीं बदलेगी तो भला मन कैसे बदल सकता है ? मन नहीं तब तक नहीं बदलेगा जब तक संग नहीं बदलेगा | प्राचीनकाल में मन का रख रखाव करने के लिए , उसे शक्तिसम्पन्न एवं सकारात्मक बनाने के लिए अनेकों साधन थे जिसके माध्यम से मनुष्य अपने मन पर नियंत्रण रख पाने में सफल होता था | जहाँ एक मर्यादापुरुषोत्तम श्रीराम ने सकारात्मकता , संस्कार आदि से अपने मन पर नियंत्रण रखने की कला सीखी थी , वहीं त्रैलोकेय विजयी होने के बाद भी रावण जैसा प्रकाण्ड विद्वान यदि पतित हुआ तो उसका एक ही प्रमुख कारण था कि उसका अपने मन पर नियंत्रण नहीं था | जीवन में मन की दिशा एवं दशा बहुत महत्त्व रखती है , जिसने यह रहस्य जान लिया उसरा मानव जीवन पाना सफल हो गया |*


*आज संसार में इस शरीर को बनाने के लिए , शरीर को स्वस्थ को दिखाने के लिए अनेकों प्रकार की व्यायामशालाएं जगह जगह पर मिल जाएंगी , जहां लोग नई नई मशीनों के द्वारा व्यायाम करके अपने शरीर को बलवान बनाने में लगे हुए हैं , परंतु दुर्भाग्य है कि मन को बलवान बनाने के लिए , मन के निर्माण के लिए कहीं कोई व्यायामशाला नहीं दिखाई पड़ती है | कोई ऐसी प्रयोगशाला / कार्यशाला नहीं है जो मन का निर्माण कर सके , जहां अंतस चेतना को विकसित करने की बात हो | यही कारण है कि आज मनुष्य का मन दिन प्रतिदिन अस्थिर होता चला जा रहा है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" देख रहा हूं कि आज समाज में प्रतिस्पर्धा है , प्रतियोगिता है , वैमनस्य है , वैर है एवं अनेकों प्रकार की नकारात्मकता है जिसे मनुष्य अपने व्यक्तित्व में लगातार सम्मिलित करता चला जा रहा है | कुछ लोग कहते हैं कि मन हमारा चंचल है , अस्थिर है | तो उसको स्थिर बनाने के लिए स्वयं प्रयास करना पड़ेगा | मानव जीवन बड़ा दुर्लभ और यह एक पुल की तरह होता है एक छोर पर देवत्व है तो दूसरी छोर पर पशुता विद्यमान है | मनुष्य का मन देवत्व की ओर जाएगा या पशुता की ओर यह उसके संस्कारों एवं वातावरण पर निर्भर करता है | मनुष्य प्रायः तनाव में रहता है और इसी मन के तनाव के कारण मनुष्य रोता रहता है | यह स्पष्ट है कि जब-जब जीवन की दिशा गलत होगी , जब जब जीवन के मूल्य पतित होंगे तब तब मन चंचल होगा | मन की चंचलता को रोकने के लिए अपने जीवन की दशा को बदलना होगा , जीवन शैली को बदलना होगा , यदि ऐसा करने में मनुष्य सफल हो जाता है तो मन पर नियंत्रण करना सरल हो सकता है | इसके अतिरिक्त कोई दूसरा साधन इस संसार में नहीं है जो अपने मन को नियंत्रित करने में सहायक है |*


*इस संसार में समय-समय पर उत्पन्न होने वाले परिदृश्य एवं परिस्थितियां तो नहीं बदली जा सकती हैं लेकिन अपने मन की स्थिति को बदलना मनुष्य के बस में है और सदा रहेगा | आवश्यकता है सतत प्रयास करने की |*

अगला लेख: नारी का त्याग / अहोई अष्टमी :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
24 अक्तूबर 2019
*सनातन धर्म में मानव जीवन को चार भागों में विभक्त करते हुए इन्हें आश्रम कहा गया है | जो क्रमश: ब्रह्मचर्य , गृहस्थ , सन्यास एवं वानप्रस्थ के नाम से जाना जाता है | जीवन का प्रथम आश्रम ब्रह्मचर्य कहा जाता है | ब्रह्मचर्य एक ऐसा विषय है जिस पर आदिकाल से लेकर आज तक तीखी बहस होती रही है | स्वयं को ब्रह्म
24 अक्तूबर 2019
28 अक्तूबर 2019
*मानव जीवन पा करके मनुष्य लंबी आयु जीता है | जीवन को निरोगी एवं दीर्घ जीवी रखने के लिए मनुष्य की मुख्य आवश्यकता है भोजन करना | पौष्टिक भोजन करके मनुष्य एक सुंदर एवं स्वस्थ शरीर प्राप्त करता है | मानव जीवन में भोजन का क्या महत्व है इसको बताने की आवश्यकता नहीं है , नित्य अपने घरों में अनेकों प्रकार
28 अक्तूबर 2019
31 अक्तूबर 2019
*मनुष्य इस धरा धाम पर जन्म लेकर के जीवन भर अनेकों कृत्य करते हुए अपनी जीवन यात्रा पूर्ण करता है | इस जीवन अनेक बार ऐसी स्थितियां प्रकट हो जाती है मनुष्य किसी वस्तु , विषय या किसी व्यक्ति के प्रति इतना आकर्षित लगने लगता है कि उस वस्तु विशेष के लिए कई बार संसार को भी ठुकराने का संकल्प ले लेता है | आखि
31 अक्तूबर 2019
09 नवम्बर 2019
*सनातन धर्म में मानव जीवन को चार आश्रमों में बांटा गया है , जिनमें से सर्वश्रेष्ठ आश्रम गृहस्थाश्रम को बताया गया है , क्योंकि गृहस्थ आश्रम का पालन किए बिना मनुष्य अन्य तीन आश्रम के विषय में कल्पना भी नहीं कर सकता | मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है समाज का निर्माण परिवार से होता है | व्यक्ति के जीवन में
09 नवम्बर 2019
10 नवम्बर 2019
!! भगवत्कृपा हि केवलम् !!*सनातन धर्म की दिव्यता विश्व विख्यात है | संपूर्ण विश्व ने सनातन धर्म के ग्रंथों को ही आदर्श मान कर दिया जीवन जीने की कला सीखा है | प्राचीन काल में शिक्षा का स्तर इतना अच्छा नहीं था जितना इस समय है परंतु हमारे पूर्वज अनुभव के आधार पर समाज के सारे कार्य कुशलता से संपन्न कर दे
10 नवम्बर 2019
22 अक्तूबर 2019
*भारत देश में अपने परिवार तथा समाज को संपन्न एवं दीर्घायु की कामना से नारियों ने समय-समय पर कठिन से कठिन व्रत का पालन किया है | वैसे तो वर्ष भर कोई न कोई पर्व एवं त्योहार यहां मनाया जाता रहता है , परंतु कार्तिक मास विशेष रुप से पर्व एवं त्योहारों के लिए माना जाता है | कार्तिक मास में नित्य नए-नए त्य
22 अक्तूबर 2019
30 अक्तूबर 2019
*मानव जीवन में पवित्रता का बहुत बड़ा महत्त्व है | प्रत्येक मनुष्य स्वयं को स्वच्छ एवं पवित्र रखना चाहता है | नित्य अनेक प्रकार से संसाधनों से स्वयं के शरीर को चमकाने का प्रयास मनुष्य द्वारा किया जाता है | क्या पवित्रता का यही अर्थ हो सकता है ?? हमारे मनीषियों ने बताया है कि प्रत्येक तन के भीतर एक मन
30 अक्तूबर 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x