देवउठनी एकादशी २०१९ - देवउठनी एकादशी का विशेष महत्व और मुहूर्त

04 नवम्बर 2019   |  दैनिक राशिफल   (420 बार पढ़ा जा चुका है)

देवउठनी एकादशी २०१९ - देवउठनी एकादशी का विशेष महत्व और मुहूर्त

हिन्दू धर्म में बहुत सारे पर्व और त्योहार मनाये जाते है | उसी तरह हिन्दू धर्म में देवउठनी एकादशी का बहुत महत्व होता है | यह पर्वे शुक्ल पक्ष की एकादशी को देव जागरण के रूप में मनाया जाता है | इस बार यह पर्वे ८ नवम्बर २०१९ को मनाया जाना है |

चार महीने की निंद्रा के बाद इस दिन विष्णु भगवान अपनी नींद से जागते है | और इस दिन से सभी मांगलिक कार्य प्रारम्भ हो जाते है | विष्णु पुराण के अनुसार भगवान विष्णु ने शंखासुर राक्षस का वध किया था और फिर आषाढ़ शुक्ल पक्ष की एकादशी जिसे हरिशयनी एकादशी कहते है इस दिन श्री हरि ने क्षीर सागर में शेषनाग की शय्या पर शयन किया था |

यह भी पढ़े …..२१ दिनों तक इन राशियों पर बुध का रहेगा प्रभाव, बदलेगी इनकी किस्मत

एकादशी तिथि प्रारंम्भ – 7 नवम्बर 2019 को 9:55 A.M.
एकादशी तिथि समाप्त – 8 नवम्बर 2019 को 12:00 P.M.
कार्तिक का पंच तीर्थ स्नान भी इसी दिन से प्रारंम्भ होकर कार्तिक पूर्णिमा तक चलता है |

यह भी पढ़े ….. मंगलवार करे हनुमान जी के ये तीन उपाय, बहुत जल्द बदल जाएगी आपकी जिंदगी

देवउठनी एकादशी २०१९ - देवउठनी एकादशी का विशेष महत्व और मुहूर्त

अगला लेख: वृषभ(Taurus) राशि को इन तीन राशि से है खतरा - हो सकता है बड़ा नुकसान



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
08 नवम्बर 2019
हर परम्परा का अपना एक गुरु मंत्र होता है और किसी भी मंत्र को गुप्त रूप से और मौखिक रूप से एक गुरु द्वारा संप्रेषित किया जाता है जो उस व्यक्ति के लिए एक गुरु-मंत्र बन जाता है, जिसके लिए इसका संचार किया जाता है
08 नवम्बर 2019
08 नवम्बर 2019
हर परम्परा का अपना एक गुरु मंत्र होता है और किसी भी मंत्र को गुप्त रूप से और मौखिक रूप से एक गुरु द्वारा संप्रेषित किया जाता है जो उस व्यक्ति के लिए एक गुरु-मंत्र बन जाता है, जिसके लिए इसका संचार किया जाता है
08 नवम्बर 2019
23 अक्तूबर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <
23 अक्तूबर 2019
23 अक्तूबर 2019
भारतीय संस्कृति के अनुसार दिवाली साल का प्रमुख त्यौहार और बड़ा पर्व होता है। दिवाली का त्यौहार जीवन में ख़ुशी, उल्लास, नयी रौशनी लेकर आता है। इस बार दिवाली 27 अक्टूबर को आ रही है। यह त्यौहार क्यों खास है इसका पता बाज़ारो की रौनक से पता लगाया जा सकता है। चारो तरफ सजावट, बाजार
23 अक्तूबर 2019
06 नवम्बर 2019
लगभग १२ वर्षो के बाद शनि और बृहस्पति का मिलन एक ही राशि में होता है | इस बार गुरु की राशि धनु में वर्षो के बाद यह मिलन होगा | धनु राशि में पहले से शनि और केतु विद्यमान हैं | और बृहस्पति के अजाने के बाद तीनो गृह एक साथ हो जायेंगे| इस संयोग पर राहु और मंगल की दृष्टि पूर्ण र
06 नवम्बर 2019
07 नवम्बर 2019
मकर राशिकल ८ नवंबर २०१९ मकर राशि वाले जातको के लिए बड़ा शुभ दिन है | इन राशि वालो को कल अपना सच्चा प्यार मिल सकता है जो आपकी भावनाओं की कद्र करेगा | जो आपके दुःख और सुख में आपका साथ देगा| आपके जीवन के अटके सभी कार्य में सफलता प्राप्त होगी| संतान की सफलता से आपका मन अत्यधिक
07 नवम्बर 2019
22 अक्तूबर 2019
धनतेरस का पर्व दिवाली से ठीक 2 दिन पहले मनाया जाता है। यह पर्व बहुत ही खास होता है इस बार तो यह पर्व और भी खास होने वाला है। इस बार धनतेरस पर लग्नादि, चंद्र, मंगल, सदा संचार और अष्टलक्ष्मी फलदायी के संयोग बन रहे है जो इस दिन को बहुत खास बना
22 अक्तूबर 2019
21 अक्तूबर 2019
दिवाली का त्यौहार बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है। दिवाली से कुछ ही दिन बचे है। इस बार दिवाली रविवार २७, अक्टूबर को है। दिवाली के ठीक २ दिन पहले धनतेरस को बड़े धूम से मनाया जाता है। इस दिन मान्यता है की भगवान् धनतेरस का जन्म हुआ था। अधिकतर लोग इसी दिन नए गहने, और अन्य समान की
21 अक्तूबर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x