गोपाष्टमी :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

04 नवम्बर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (2651 बार पढ़ा जा चुका है)

गोपाष्टमी :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

!! भगवत्कृपा हि केवलम् !!

आदिकाल से भारतीय परंपरा में सनातन के अनुयायियों के द्वारा अपने धर्म ग्रंथों का दिशा निर्देश प्राप्त करके भांति भांति के पर्व त्यौहार एवं व्रत का विधान करके मानव जीवन को सफल बनाने का प्रयास किया गया है | सनातन धर्म का मानना है ईश्वर कण - कण में व्याप्त है इसी मान्यता को आधार बनाकर के सनातन धर्म ने समय-समय पर प्रकृति पूजा के साथ-साथ गंगा , गायत्री , गीता एवं गोवर्धन की भांति गाय के महत्व को भी दर्शाया है | गौ माता के लिए विशेष पर्व "गोपाष्टमी" अर्थात आज के दिन मनाया जाता है | कार्तिक शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से सप्तमी तक गो समुदाय एवं गोप - गोपियों की रक्षा के लिए भगवान श्री कृष्ण ने गोवर्धन को अपने नख पर धारण किया था | आठवें दिन अपने अहंकार का त्याग करके देवराज इंद्र भगवान की शरण में आया और कामधेनु ने अपने दुग्ध से भगवान श्री कृष्ण का अभिषेक किया | तब भगवान का नाम गोविंद पड़ा एवं तभी से गोपाष्टमी का पर्व मनाए जाने का विधान सनातन परंपरा में विद्यमान है | हमारे धर्म शास्त्रों में कहा गया है कि :-- "मातर: सर्वभूतानाम् गाव:" अर्थात गाय समस्त प्राणियों की माता है | भारत देश में शैव , शाक्त , वैष्णव , गाणपत्य , जैन , बौद्ध , सिख आदि सभी धर्म संप्रदायों में अनेक भिन्नता होने के बाद भी गौ माता के प्रति आदर एवं सम्मान का वही भाव है | हमारे सनातन के धर्म ग्रंथ कहते हैं कि "सर्वे देवा स्थिता देहे सर्वदेवमयी हि गौ:" अर्थात सृष्टि के समस्त देवी-देवता गाय के शरीर में निवास करते हैं | इसलिए उसे सर्वदेव में ही कहा जाता है | कहने का तात्पर्य है सनातन धर्म में जितने भी देवी देवता बताए गए हैं उनके पूजन करने का फल प्राप्त करना है तो एक साथ सब के पूजन का फल गाय की पूजा करने से प्राप्त हो सकता है |*


*आज गोपाष्टमी का पर्व पूरे देश में मनाया जा रहा है विशेषकर ब्रजमंडल में इसका विशेष महत्व है | परंतु आज वर्तमान परिदृश्य देखा जाए तो लोगों ने गोपालन करना बंद कर दिया है जिसके कारण आज गौ माता दर बदर भटकने एवं लोगों के द्वारा प्रताड़ित होने को विवश हैं | यह आज के मनुष्य की मूर्खता है जो गाय के महत्व को नहीं समझ पा रहा है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" सनातन साहित्यों के अध्ययन को आधार मानकर गाय की महिमा का वर्णन करते हुए इतना कहना चाहूंगा कि गाय के अंग प्रत्यंग में देवताओं का निवास माना गया है | गाय के गोबर में लक्ष्मी , गोमूत्र में भवानी , चरणों के अग्रभाग में आकाशचारी देवता , रभांने की आवाज में प्रजापति और उसके स्तनों में समुद्र प्रतिष्ठित हैं | हमारी ऐसी मान्यता रही है गाय के पैरों में लगी हुई मिट्टी का तिलक करने से किसी भी तीर्थ स्नान का पुण्य मनुष्य को प्राप्त हो जाता है | आज भी ब्रजमंडल में और भारतवर्ष के विभिन्न भागों में गोपाष्टमी का पर्व बड़े ही उल्लास एवं उत्सव के साथ मनाया जाता है | आज प्रातः काल उठकर के गाय का पूजन करने से मनोवांछित फल मनुष्य को प्राप्त होता है | परंतु आज मनुष्य की मानसिकता इतनी विकृत हो गई है उसके मन मस्तिष्क पर अविश्वास की एक गहरी धुंध जमी दिखाई पड़ती है | सनातन ग्रंथों में वर्णित तथ्यों को मानना आज के मनुष्य को दुष्कर लग रहा है | यही कारण है कि आज धीरे-धीरे मनुष्यता एवं मनुष्य पतित होता चला जा रहा है | आधुनिकता के चक्कर में अपनी सनातन परंपराओं को भूलता हुआ मनुष्य अंधकार के गहरे समुद्र में समाता चला जा रहा है | आज वह समय एवं परिदृश्य स्पष्ट दिखाई पड़ रहा है कि भारत देश को सनातन परंपराओं की ओर लौटने की आवश्यकता है |*


*सनातन धर्म में वृक्ष , पहाड़ , नदी आदि की पूजा करने का भी विधान बताया गया है | उसी प्रकार गाय को भी एक दूध देने वाला पशु न समझकर के देवताओं का प्रतिनिधि मानकर पूजा जाता है | यही सनातन धर्म की दिव्यता है |*

अगला लेख: मन का उपादान :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



अनूप दीक्षित
12 नवम्बर 2019

जो भी जीव काम क्रोध मद और लोभ को त्याग कर प्रभू के शरण मे चला जाता है उस जीव का उद्धार निश्चित है इस प्रकार आचरण करने से उसे सारा संसार जीव जंतु पशु पक्षी पेड़ पौधे सभी प्रभू मय प्रतीत होने लगते हैं

जय हो दीक्षित जी

प्रणाम आचार्य श्री
जय श्री राधे

सदैव भगवत्कृपा बनी रहे

दिव्य उपदेश...

सदैव प्रसन्न रहो वत्स

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
07 नवम्बर 2019
🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🌻☘🌻☘🌻☘🌻☘🌻☘🌻 *हमारे देश में हिंदू संस्कृति में बताए गए बारहों महीने में कार्तिक मास का विशेष महत्व है , इसे दामोदर मास अर्थात भगवान विष्णु के प्रति समर्पित बताया गया है | कार्तिक मास का क्या महत्व है इसका वर
07 नवम्बर 2019
10 नवम्बर 2019
!! भगवत्कृपा हि केवलम् !!*सनातन धर्म की दिव्यता विश्व विख्यात है | संपूर्ण विश्व ने सनातन धर्म के ग्रंथों को ही आदर्श मान कर दिया जीवन जीने की कला सीखा है | प्राचीन काल में शिक्षा का स्तर इतना अच्छा नहीं था जितना इस समय है परंतु हमारे पूर्वज अनुभव के आधार पर समाज के सारे कार्य कुशलता से संपन्न कर दे
10 नवम्बर 2019
16 नवम्बर 2019
*इस धराधाम पर जन्म लेने के बाद मनुष्य येन - केन प्रकारेण ईश्वर प्राप्ति का उपाय किया करता है | ईश्वर का प्रेम पिराप्त करने के लिए मनुष्य पूजा , अनुष्ठान , मन्दिरों में देवदर्शन तथा अनेक तीर्थों का भ्रमण किया करता है जबकि भगवान को कहीं भी ढूंढ़ने की आवश्यकता नहीं है मानव हृदय में तो ईश्वर का वास है ह
16 नवम्बर 2019
28 अक्तूबर 2019
*कार्तिक माह में चल रहे "पंच महापर्वों" के चौथे दिन आज अन्नकूट एवं गोवर्धन पूजा का पर्व मनाया जाएगा | भारतीय सनातन त्योहारों की यह दिव्यता रही है कि उसमें प्राकृतिक , वैज्ञानिक कारण भी रहते हैं | प्रकृति के वातावरण को स्वयं में समेटे हुए सनातन धर्म के त्योहार आम जनमानस पर अपना अमिट प्रभाव छोड़ते हैं
28 अक्तूबर 2019
22 अक्तूबर 2019
*भारत देश में अपने परिवार तथा समाज को संपन्न एवं दीर्घायु की कामना से नारियों ने समय-समय पर कठिन से कठिन व्रत का पालन किया है | वैसे तो वर्ष भर कोई न कोई पर्व एवं त्योहार यहां मनाया जाता रहता है , परंतु कार्तिक मास विशेष रुप से पर्व एवं त्योहारों के लिए माना जाता है | कार्तिक मास में नित्य नए-नए त्य
22 अक्तूबर 2019
28 अक्तूबर 2019
*मानव जीवन पा करके मनुष्य लंबी आयु जीता है | जीवन को निरोगी एवं दीर्घ जीवी रखने के लिए मनुष्य की मुख्य आवश्यकता है भोजन करना | पौष्टिक भोजन करके मनुष्य एक सुंदर एवं स्वस्थ शरीर प्राप्त करता है | मानव जीवन में भोजन का क्या महत्व है इसको बताने की आवश्यकता नहीं है , नित्य अपने घरों में अनेकों प्रकार
28 अक्तूबर 2019
24 अक्तूबर 2019
*सनातन धर्म में मानव जीवन को चार भागों में विभक्त करते हुए इन्हें आश्रम कहा गया है | जो क्रमश: ब्रह्मचर्य , गृहस्थ , सन्यास एवं वानप्रस्थ के नाम से जाना जाता है | जीवन का प्रथम आश्रम ब्रह्मचर्य कहा जाता है | ब्रह्मचर्य एक ऐसा विषय है जिस पर आदिकाल से लेकर आज तक तीखी बहस होती रही है | स्वयं को ब्रह्म
24 अक्तूबर 2019
31 अक्तूबर 2019
..... इंसानियत ही सबसे पहले धर्म है, इसके बाद ही पन्ना खोलो गीता और कुरान का......"जय हिन्द"
31 अक्तूबर 2019
01 नवम्बर 2019
*इस संसार में मनुष्य एक चेतन प्राणी है , उसके सारे क्रियाकलाप में चैतन्यता स्पष्ट दिखाई पड़ती है | मनुष्य को चैतन्य रखने में मनुष्य के मन का महत्वपूर्ण स्थान है | मनुष्य का यह मन एक तरफ तो ज्ञान का भंडार है वहीं दूसरी ओर अंधकार का गहरा समुद्र भी कहा जा सकता है | मन के अनेक क्रियाकलापों में सबसे महत्
01 नवम्बर 2019
24 अक्तूबर 2019
भारत में जितने भी बड़े-बड़े व्यापारी और सेलिब्रिटीज हैं उनके अपने पर्सनल पंडितजी होते हैं। जिनसे पूछकर ही वे अपने सारे शुभ काम करते हैं। ऐसा हर कोई करता है और धार्मिक गुरु पर उनका ये विश्वास ही उन्हें सच्ची सफलता प्रदान करता है। ज्योतिषीयों के बारे में बहुत सारी बातें होती हैं जिन्हें समझने के लिए ज
24 अक्तूबर 2019
14 नवम्बर 2019
*सृष्टि के आदिकाल में वेद प्रकट हुए , वेदों का विन्यास करके वेदव्यास जी ने अनेकों पुराणों का लेखन किया परंतु उनको संतोष नहीं हुआ तब नारद जी के कहने से उन्होंने श्रीमद्भागवत महापुराण की रचना की | श्रीमद्भागवत के विषय में कहा जाता है यह वेद उपनिषदों के मंथन से निकला हुआ ऐसा नवनीत (मक्खन) है जो कि वेद
14 नवम्बर 2019
30 अक्तूबर 2019
*मानव जीवन में पवित्रता का बहुत बड़ा महत्त्व है | प्रत्येक मनुष्य स्वयं को स्वच्छ एवं पवित्र रखना चाहता है | नित्य अनेक प्रकार से संसाधनों से स्वयं के शरीर को चमकाने का प्रयास मनुष्य द्वारा किया जाता है | क्या पवित्रता का यही अर्थ हो सकता है ?? हमारे मनीषियों ने बताया है कि प्रत्येक तन के भीतर एक मन
30 अक्तूबर 2019
08 नवम्बर 2019
*पंचतत्त्वों से बने मनुष्य को इस धरा धाम पर जीवन जीने के लिए मनुष्य को पंचतत्वों की आवश्यकता होती है | रहने के लिए धरती , ताप के लिए अग्नि , पीने के लिए पानी , सर ढकने के लिए आसमान , एवं जीवित रहने के लिए वायु की आवश्यकता होती है | मनुष्य प्रत्येक श्वांस में वायु ग्रहण करता है | श्वांस लेने के लिए
08 नवम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x