अयोध्यापुरी की परिक्रमा :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

05 नवम्बर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (413 बार पढ़ा जा चुका है)

अयोध्यापुरी की परिक्रमा :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सनातन धर्म में मनुष्य को मोक्ष प्रदान करने वाली दिव्य सप्तपुरियों का उल्लेख मिलता है | यथा :- अयोध्या - मथुरा माया काशी कांचीत्वन्तिका ! पुरी द्वारावतीचैव सप्तैते मोक्षदायिकाः !! अर्थात :- अयोध्या , मथुरा , माया (हरिद्वार) काशी , कांची (कांचीपुरम्) अवन्तिका (उज्जैन) एवं द्वारिका यह सात ऐसे स्थान हैं हमारे भारत देश में जो मनुष्यों को मोक्ष प्रदान करने वाले कहे हैं जिसमें से प्रथम स्थान है अयोध्या का | अयोध्या' का रहस्य उद्घाटित करते हुए गया कि :--- "अकारो ब्रह्म च प्रोक्तं यकारो विष्णुरुच्यते ! धकारो रुद्ररुपश्च अयोध्या नाम राजते !! अर्थात :- अ कार ब्रह्मा है और य कार विष्णु तथा ध कार शिवरुप है | इस प्रकार अयोध्या के नाम में ब्रह्मा, विष्णु व महेश तीनों का निवास है | इसी अयोध्या में भगवान विष्णु के अवतारी पुरुष रूप में भगवान श्री राम का प्राकट्य हुआ था | अयोध्या के कण - कण में प्रभु श्रीराम की दिव्य छवि दिखाई पड़ती है | क्योंकि यह अयोध्या भगवान श्रीराम की क्रीड़ा भूमि रही है यहाँ कण कण में उनकी स्मृति अनुप्राणित है | यही कारण है कि यहां वर्ष भर श्रद्धालु भक्तों का तांता लगा रहता है | सनातन धर्म में षोडशोपचार पूजन के अंतर्गत एक विधान मिलता है प्रदक्षिणा का | प्रदक्षिणा का अर्थ होता है अपने आराध्य के दाहिनी ओर चारों ओर घूमना अर्थात परिक्रमा करना | इसी भाव को मन में रखकर लाखों श्रद्धालु प्रतिवर्ष पावन धाम अयोध्या की परिक्रमा करने के लिए पधारते हैं | अयोध्या में दो प्रकार की परिक्रमा होती है | एक बड़ी परिक्रमा जिसे चौदह कोसी परिक्रमा कहा जाता है तो दूसरी छोटी परिक्रमा जो पंचकोसी के नाम से जानी जाती है | चौदहकोसी परिक्रमा का विधान है की यह परिक्रमा सरयू में स्नान ध्यान करके स्वर्गद्वार से प्रारंभ होती है और पूरे नगर का भ्रमण करके पुनः आकर स्वर्ग द्वार पर ही इसका समापन हो जाता है | जिस प्रकार पूजन में आवाज देवताओं की प्रदक्षिणा की जाती है उसी प्रकार पूरे नगर का भ्रमण अर्थात परिक्रमा करके अपने आराध्य के प्रति श्रद्धा समर्पित की जाती है | नंगे पांव जय सियाराम के उद्घोष के साथ एक साथ लाखों श्रद्धालु एक ही मार्ग पर चलते हुए सनातन की दिव्यता को प्रदर्शित करते हैं |*


*आज कार्तिक शुक्ल पक्ष की नवमी को पावन धाम अयोध्या के चतुर्दिक चौदह कोसी परिक्रमा श्रद्धालुओं के द्वारा की जा रही है | परंतु प्राचीन काल की परिक्रमा और आज की परिक्रमा में विशेष अंतर देखने को मिल रहा है | जहां पहले लोग सरयू जी में स्नान करके हनुमान जी के दर्शन करने के बाद रामलला का पूजन करके स्वर्गद्वार में इकट्ठे होते थे और स्वर्गद्वार से अपनी परिक्रमा प्रारंभ करते थे , वही आज परिक्रमा का कोई विधान ही नहीं रह गया है जिसकी जहां से इच्छा होती है वहीं से परिक्रमा उठा देता है , और परिक्रमा करते हुए जब अयोध्या पहुंचता है तब इच्छा हुई तो स्नान कर लिया नहीं तो हाथ पैर धुल कर आगे बढ़ जाता है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" आज देख रहा हूं कि धर्मकार्य में भी आधुनिकता स्पष्ट देखने को मिल रही है | जहां जय श्री राम का नारा लगाते हुए परिक्रमा करने का विधान बताया गया है , जहां माताएं मंगल गीत गाते हुए परिक्रमा करते हुए देखी जाती थी आज वही परिक्रमा में जल्दबाजी एवं दौड़ते हुए परिक्रमा जल्दी से जल्दी पूरी करने की होड़ सी लगी रहती है | युवा वर्ग एक दूसरे को पछाड़ते हुए आगे बढ़ते रहते हैं | कोई गिर गया तो मुड़कर कोई देखना ही नहीं चाहता है जबकि श्रद्धा से परिक्रमा करने का अर्थ है कि यदि कोई ऐसा श्रद्धालु भी परिक्रमा करने आ रहे जो कि चलने में कुछ असहज लग रहा है तो उसकी सहायता करते हुए उसकी परिक्रमा भी पूरी कराई जाय | परोपकार की भावना मन में लेकर के भगवान के प्रति श्रद्धा लेकरके की गयी परिक्रमा अवश्य फलदायी होती है | आज सनातन धर्म की दिव्यता देखनी हो तो पावनधाम अयोध्या में देखी जा सकती है जहां आज लगभग २० लाख श्रद्धालु एक साथ एक ही मार्ग पर बढ़ते हुए देखे जा सकते हैं | यह अयोध्या एवं अयोध्या नाथ भगवान श्री राम के प्रति आम जनमानस की श्रद्धा भावना ही है | भगवान श्रीराम मनुष्य के रोम-रोम में बसते हैं | भगवान श्री राम की महिमा का वर्णन स्वयं ब्रह्मा जी भी नहीं कर सकते हैं | परिक्रमा की महिमा को ऋग्वेद में भी बताया गया है | कोई भी पूजा कोई भी अनुष्ठान बिना प्रदक्षिणा अर्थात परिक्रमा के पूर्ण नहीं माना जा सकता है | इसी भाव को मन में लेकर के अपने जीवन के ज्ञाताज्ञात कर्मों के उचित फल एवं मोक्ष की कामना से भक्तजन सप्तपुरियों में प्रथम स्थान पर वर्णित मोक्षदायिनी अयोध्यापुरी पहुंचते हैं |*


*परिक्रमा के लिए कहा गया है कि :- "ज्यों ज्यों पग आगे बढ़इ , कोटिन यज्ञ समान !" परिक्रमा में उठाया हुआ एक-एक पग करोड़ों यज्ञों के फल को प्रधान करने वाला होता है |*

अगला लेख: नारी का त्याग / अहोई अष्टमी :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
10 नवम्बर 2019
!! भगवत्कृपा हि केवलम् !!*सनातन धर्म की दिव्यता विश्व विख्यात है | संपूर्ण विश्व ने सनातन धर्म के ग्रंथों को ही आदर्श मान कर दिया जीवन जीने की कला सीखा है | प्राचीन काल में शिक्षा का स्तर इतना अच्छा नहीं था जितना इस समय है परंतु हमारे पूर्वज अनुभव के आधार पर समाज के सारे कार्य कुशलता से संपन्न कर दे
10 नवम्बर 2019
24 अक्तूबर 2019
27 अक्टूबर के दिन पूरा देश दीपावली का शुभ त्यौहार मनाएगा। हर कोई इसकी खरीदारी और तैयारी में लगा हुआ है लेकिन अगर इनमें सबसे अहम बात को जाना जाए तो पूजा सबसे अहम होती है। अगर दीपावली वाले दिन पूजा नहीं हो तो ये दिन मनाने का कोई मतलब नहीं होता है। यहां हम आपको दीपावली मनाने का तरीका और शुभ मुहूर्त के
24 अक्तूबर 2019
09 नवम्बर 2019
*सनातन धर्म में मानव जीवन को चार आश्रमों में बांटा गया है , जिनमें से सर्वश्रेष्ठ आश्रम गृहस्थाश्रम को बताया गया है , क्योंकि गृहस्थ आश्रम का पालन किए बिना मनुष्य अन्य तीन आश्रम के विषय में कल्पना भी नहीं कर सकता | मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है समाज का निर्माण परिवार से होता है | व्यक्ति के जीवन में
09 नवम्बर 2019
01 नवम्बर 2019
*इस संसार में मनुष्य एक चेतन प्राणी है , उसके सारे क्रियाकलाप में चैतन्यता स्पष्ट दिखाई पड़ती है | मनुष्य को चैतन्य रखने में मनुष्य के मन का महत्वपूर्ण स्थान है | मनुष्य का यह मन एक तरफ तो ज्ञान का भंडार है वहीं दूसरी ओर अंधकार का गहरा समुद्र भी कहा जा सकता है | मन के अनेक क्रियाकलापों में सबसे महत्
01 नवम्बर 2019
22 अक्तूबर 2019
*भारत देश में अपने परिवार तथा समाज को संपन्न एवं दीर्घायु की कामना से नारियों ने समय-समय पर कठिन से कठिन व्रत का पालन किया है | वैसे तो वर्ष भर कोई न कोई पर्व एवं त्योहार यहां मनाया जाता रहता है , परंतु कार्तिक मास विशेष रुप से पर्व एवं त्योहारों के लिए माना जाता है | कार्तिक मास में नित्य नए-नए त्य
22 अक्तूबर 2019
31 अक्तूबर 2019
..... इंसानियत ही सबसे पहले धर्म है, इसके बाद ही पन्ना खोलो गीता और कुरान का......"जय हिन्द"
31 अक्तूबर 2019
24 अक्तूबर 2019
*सनातन धर्म में मानव जीवन को चार भागों में विभक्त करते हुए इन्हें आश्रम कहा गया है | जो क्रमश: ब्रह्मचर्य , गृहस्थ , सन्यास एवं वानप्रस्थ के नाम से जाना जाता है | जीवन का प्रथम आश्रम ब्रह्मचर्य कहा जाता है | ब्रह्मचर्य एक ऐसा विषय है जिस पर आदिकाल से लेकर आज तक तीखी बहस होती रही है | स्वयं को ब्रह्म
24 अक्तूबर 2019
22 अक्तूबर 2019
*भारत देश में अपने परिवार तथा समाज को संपन्न एवं दीर्घायु की कामना से नारियों ने समय-समय पर कठिन से कठिन व्रत का पालन किया है | वैसे तो वर्ष भर कोई न कोई पर्व एवं त्योहार यहां मनाया जाता रहता है , परंतु कार्तिक मास विशेष रुप से पर्व एवं त्योहारों के लिए माना जाता है | कार्तिक मास में नित्य नए-नए त्य
22 अक्तूबर 2019
28 अक्तूबर 2019
*मानव जीवन पा करके मनुष्य लंबी आयु जीता है | जीवन को निरोगी एवं दीर्घ जीवी रखने के लिए मनुष्य की मुख्य आवश्यकता है भोजन करना | पौष्टिक भोजन करके मनुष्य एक सुंदर एवं स्वस्थ शरीर प्राप्त करता है | मानव जीवन में भोजन का क्या महत्व है इसको बताने की आवश्यकता नहीं है , नित्य अपने घरों में अनेकों प्रकार
28 अक्तूबर 2019
16 नवम्बर 2019
वृषभ राशि वाले जातको के लिए कोनसी राशि के जातक मित्र है और कोनसी राशि के जातक शत्रु ,यह जानना बहुत जरुरी है| यदि आपकी राशि वृषभ है तो आपको किन राशि वालो से मित्रता करनी चाहिए और किन राशि वालो से दूर रहना चाहिए | यह भी वृषभ राशि वालो के लिए
16 नवम्बर 2019
24 अक्तूबर 2019
उज्जैन (मध्यप्रदेश) निवासी आदरणीय पंडित सूर्य नारायण व्यास वह मूर्धन्य विद्वान ज्योतिषी थे जिन्होंने भारत की स्वतंत्रता का मुहूर्त 14 अगस्त की रात्रिकालीन अभिजीत (12 बजे ) या ये कहें की 15 अगस्त की सुबह 00 बजे का निकला था l स्वतंत्र भारत का जन्म 15 अगस्त 1947 को मध्यरात्रि दिल्ली में हुआ था और कुंडल
24 अक्तूबर 2019
12 नवम्बर 2019
*आदिकाल से ही से ही इस धराधाम पर अनेकों योद्धा ऐसे हुए हैं जिन्होंने अपनी शक्तियों का संचय करके एक विशाल जनसमूह को अपने वशीभूत किया एवं उन्हीं के माध्यम से मानवता के विरुद्ध कृत्य करना प्रारंभ किया | पूर्वकाल में ऐसे लोगों को राक्षस या निशाचर कहा जाता था | इनके अनेक अनुयायी ऐसे भी होते थे जिनको यह न
12 नवम्बर 2019
28 अक्तूबर 2019
*कार्तिक माह में चल रहे "पंच महापर्वों" के चौथे दिन आज अन्नकूट एवं गोवर्धन पूजा का पर्व मनाया जाएगा | भारतीय सनातन त्योहारों की यह दिव्यता रही है कि उसमें प्राकृतिक , वैज्ञानिक कारण भी रहते हैं | प्रकृति के वातावरण को स्वयं में समेटे हुए सनातन धर्म के त्योहार आम जनमानस पर अपना अमिट प्रभाव छोड़ते हैं
28 अक्तूबर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x