साधक , सिद्ध , सुजान :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

06 नवम्बर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (473 बार पढ़ा जा चुका है)

साधक , सिद्ध , सुजान :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस धरा धाम पर जीवन जीने के लिए जिस प्रकार हवा , अग्नि एवं अन्न / जल की आवश्यकता होती है उसी प्रकार एक सुंदर जीवन जीने के लिए मनुष्य में संस्कारों की आवश्यकता होती है | व्यक्ति का प्रत्येक विचार , कथन और कार्य मस्तिष्क पर प्रभाव डालता है इसे ही संस्कार कहा जाता है | इन संस्कारों का समष्टि रूप ही चरित्र कहलाता है | मनुष्य का चरित्र ही उसके उद्धार एवं पतन का कारक होता है , इन संस्कारों की जड़ें भूतकाल में जमती हैं , वर्तमान में विकास करती है और भविष्य में पल्लवित - पुष्पित होती हैं | आदिकाल से ही भारतीय सांस्कृतिक गौरव की जड़ें बहुत मजबूत है | मनुष्य का चरित्र विश्व की सबसे बड़ी शक्ति एवं संपदा हैं , अनेक साधन - सम्पदाओं का स्वामी होने पर भी यदि मनुष्य चरित्रहीन है तो वह विपन्न अर्थात दरिद्र ही माना जाएगा | रामचरितमानस में कविकुल शिरोमणि गोस्वामी तुलसीदास जी ने तीन प्रकार के मनुष्यों का वर्णन करते हुए उनकी श्रेणी बताई है :- साधक , सिद्ध एवं सुजान | इन तीनों श्रेणियों में साधक तो प्रत्येक मनुष्य बन सकता है परंतु सिद्ध वही हो सकता है जिसकी साधना अखंडित हो | साधक और सिद्ध हो जाने के बाद भी मनुष्य का सुजान होना परम आवश्यक है , सुजान अर्थात सुसंस्कार | अन्यथा मनुष्य का पतन निश्चित होता है , साधक और सिद्ध लिख देने के बाद बाबा जी को सुजान क्यों लिखना पड़ा / इसका कारण स्पष्ट है कि रावण बहुत बड़ा साधक था अनेक साधनायें करके वह सिद्ध भी हो चुका था परंतु सुजान अर्थात संस्कारित ना होने के कारण वह अपने सिद्धियों का दुरुपयोग कर बैठा और इन्हीं सिद्धियों के दुरुपयोग के कारण उसका सर्वनाश हो गया | इसीलिए किसी भी साधक को सिद्धियां प्राप्त हो जाना तो सरल कहा जा सकता है परंतु यदि मनुष्य सुजान नहीं है तो वह सिद्धियों का सदुपयोग नहीं कर पाएगा | किसी भी सिद्धि का सदुपयोग करने के लिए मनुष्य में संस्कार का होना परम आवश्यक है , इसीलिए बाबा जी ने मनुष्य के लिए साधक सिद्ध और सुजान तीनों लिखा है |*


*आज के वर्तमान युग में अनेक देशों के वैज्ञानिकों ने अपनी साधना के बल पर आणविक शक्ति रूपी सिद्धियाँ प्राप्त कर ली हैं | यह परमाणु शक्तियां इतनी सिद्ध हैं कि पृथ्वी को कई बार नष्ट करने में सक्षम है , उसका दुरुपयोग रोकने के लिए सुजानता अर्थात संस्कारों की परम आवश्यकता है | वैसे तो हमारे भारतीय संस्कार बहुत ही सुदृढ़ रहे हैं परंतु आज पाश्चात्य संस्कृति की चकाचौंध मनुष्य को विवेकहीन बनाती जा रही है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" देख रहा हूँ कि आज के वर्तमान युग में हमारा युवा वर्ग पश्चिम की प्रत्येक चीज को बिना विवेक के अच्छा कह कहके अंधभक्तों की ही भाँति उसका अनुसरण करने में लगी हुई है | कभी कभी तो ऐसा लगता है कि हमारी संस्कृति की बागडोर युवा वर्ग के हाथ में जाने के बाद आज ही टूटने लगी है तो फिर भविष्य में इससे कैसे फूल और फल मिलेंगे यह चिंतनीय है | आज समस्त विश्व में जिस प्रकार प्रदूषण एक भयानक समस्या बनी हुई है उसी प्रकार हमारे देश भारत में भी अनेक प्रदूषण के साथ सांस्कृतिक प्रदूषण भी भयानक रूप ले चुका है | जिस प्रकार सभी प्रदूषण से निपटने का प्रयास सरकार द्वारा किया जा रहा है उसी प्रकार सांस्कृतिक प्रदूषण को रोकने का प्रयास सनातन के पुरोधाओं के द्वारा किया जाना चाहिए , परंतु आज दुखद यह है कि हमारे सनातन के पुरोधा भी इस सांस्कृतिक प्रदूषण से स्वयं को नहीं बचा पा रहे हैं | सदाचार , सत्यता एवं सच्चरित्रता आज दिवास्वप्न की भांति होती जा रही है | बाबाजी के अनुसार साधक , सिद्ध एवं सुजान की श्रेणी में आने वाला आज कोई भी नहीं दिख रहा है | मनुष्य को सर्वप्रथम साधक बनने की आवश्यकता करनी चाहिए , साधक की साधना यदि अनवरत चलती रहती है तो वह एक दिन सिद्ध अवश्य हो जाता है , और सिद्धियां प्राप्त होने के बाद उनका उपयोग करने के लिए सुजानता अर्थात संस्कारों की परम आवश्यकता पड़ती है और आज हमारे संस्कार विलुप्त होते जा रहे हैं यह घोर चिंता का विषय है |*


*आज की शिक्षा पद्धति मनुष्य को ज्ञानवान तो बना रही है परंतु सांस्कृतिक संस्कार बिगड़ते चले जा रहे हैं , इसलिए आज फिर आवश्यकता है कि मनुष्य अपने पास उपलब्ध साधन का सदुपयोग करते हुए चरित्रवान एवं संस्कार संपन्न बनने का प्रयास करें |*

अगला लेख: नारी का त्याग / अहोई अष्टमी :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
06 नवम्बर 2019
🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🌻☘🌻☘🌻☘🌻☘🌻☘🌻 *इस धरती पर अनेकों जीव विचरण कर रहे हैं इनमें सर्वश्रेष्ठ प्राणी मनुष्य को कहा गया है | चौरासी लाख योनियों में सर्वश्रेष्ठ मानव योनि कही गई है | साधारण से दिखने वाले मनुष्य में इतनी शक
06 नवम्बर 2019
30 अक्तूबर 2019
मित्रों , मैंने पहले एक लेख में बदलाव के कुछ सरल विषय लिखे थे जिनमें हमारे समाज को बदलने की आवश्यकता है. फिर मैंने ट्रैफिक के केवल तीन बिंदुओं पर आप सब का ध्यान आकर्षित किया था-फालतू हॉर्न बजाना; वाहन ठीक से पार्क करना एवं द
30 अक्तूबर 2019
22 अक्तूबर 2019
*भारत देश में अपने परिवार तथा समाज को संपन्न एवं दीर्घायु की कामना से नारियों ने समय-समय पर कठिन से कठिन व्रत का पालन किया है | वैसे तो वर्ष भर कोई न कोई पर्व एवं त्योहार यहां मनाया जाता रहता है , परंतु कार्तिक मास विशेष रुप से पर्व एवं त्योहारों के लिए माना जाता है | कार्तिक मास में नित्य नए-नए त्य
22 अक्तूबर 2019
07 नवम्बर 2019
🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🌻☘🌻☘🌻☘🌻☘🌻☘🌻 *हमारे देश में हिंदू संस्कृति में बताए गए बारहों महीने में कार्तिक मास का विशेष महत्व है , इसे दामोदर मास अर्थात भगवान विष्णु के प्रति समर्पित बताया गया है | कार्तिक मास का क्या महत्व है इसका वर
07 नवम्बर 2019
28 अक्तूबर 2019
पता नहीं ये जो कुछ भी हुआ, वो क्यों हुआ ?पता नहीं क्यों मैं ऐसा होने से नहीं रोक पाया ?मैं जानता था कि ये सब गलत है।लेकिन फिर भी मैं कुछ नहीं कर पाया।आखिर मैं इतना कमजोर क्यों पड़ गया ?मुझमें इतनी बेबसी कैसे आ गयी ?क्यों मेरे दिल ने मुझे लाचार बना दिया ?क्यों इतनी भावनाएं हैंइस दिल में ?क्यों मैंने अ
28 अक्तूबर 2019
25 अक्तूबर 2019
*सनातन धर्म के मानने वाले भारत वंशी सनातन की मान्यताओं एवं परम्पराओं को आदिकाल से मानते चले आये हैं | इन्हीं मान्यताओं एवं परम्पराओं ने सम्पूर्ण विश्व के समक्ष एक उदाहरण प्रस्तुत किया है | सनातन की संस्त परम्पराओं में प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से वैज्ञानिकता भी ओतप्
25 अक्तूबर 2019
19 अक्तूबर 2019
*हमारा देश भारत आध्यात्मिक सांस्कृतिक एवं वैज्ञानिक दृष्टि से आदिकाल से ही सर्वश्रेष्ठ रहा है | संपूर्ण विश्व भारत देश से ही ज्ञान - विज्ञान प्राप्त करता रहा है | संपूर्ण विश्व में भारत ही एक ऐसा देश है जहां समय-समय पर ईश्वरीय शक्तियों ने अवतार धारण किया जिन्हें भगवान की संज्ञा दी गई | भगवान धरा धा
19 अक्तूबर 2019
17 अक्तूबर 2019
*सनातन धर्म एक दिव्य एवं अलौकिक परंपरा को प्रस्तुत करता है , समय-समय पर सनातन धर्म में प्रत्येक प्राणी के लिए व्रत एवं पर्वों का महत्व रहा है | परिवार के जितने भी सदस्य होते हैं उनके लिए अलग अलग व्रतविशेष का विधान सनातन धर्म में ही प्राप्त होता है | सृष्टि का आधार नारी को माना गया है | एक नारी के द्
17 अक्तूबर 2019
28 अक्तूबर 2019
*कार्तिक माह में चल रहे "पंच महापर्वों" के चौथे दिन आज अन्नकूट एवं गोवर्धन पूजा का पर्व मनाया जाएगा | भारतीय सनातन त्योहारों की यह दिव्यता रही है कि उसमें प्राकृतिक , वैज्ञानिक कारण भी रहते हैं | प्रकृति के वातावरण को स्वयं में समेटे हुए सनातन धर्म के त्योहार आम जनमानस पर अपना अमिट प्रभाव छोड़ते हैं
28 अक्तूबर 2019
10 नवम्बर 2019
!! भगवत्कृपा हि केवलम् !!*सनातन धर्म की दिव्यता विश्व विख्यात है | संपूर्ण विश्व ने सनातन धर्म के ग्रंथों को ही आदर्श मान कर दिया जीवन जीने की कला सीखा है | प्राचीन काल में शिक्षा का स्तर इतना अच्छा नहीं था जितना इस समय है परंतु हमारे पूर्वज अनुभव के आधार पर समाज के सारे कार्य कुशलता से संपन्न कर दे
10 नवम्बर 2019
19 अक्तूबर 2019
*हमारा देश भारत आध्यात्मिक सांस्कृतिक एवं वैज्ञानिक दृष्टि से आदिकाल से ही सर्वश्रेष्ठ रहा है | संपूर्ण विश्व भारत देश से ही ज्ञान - विज्ञान प्राप्त करता रहा है | संपूर्ण विश्व में भारत ही एक ऐसा देश है जहां समय-समय पर ईश्वरीय शक्तियों ने अवतार धारण किया जिन्हें भगवान की संज्ञा दी गई | भगवान धरा धा
19 अक्तूबर 2019
08 नवम्बर 2019
*पंचतत्त्वों से बने मनुष्य को इस धरा धाम पर जीवन जीने के लिए मनुष्य को पंचतत्वों की आवश्यकता होती है | रहने के लिए धरती , ताप के लिए अग्नि , पीने के लिए पानी , सर ढकने के लिए आसमान , एवं जीवित रहने के लिए वायु की आवश्यकता होती है | मनुष्य प्रत्येक श्वांस में वायु ग्रहण करता है | श्वांस लेने के लिए
08 नवम्बर 2019
30 अक्तूबर 2019
*मानव जीवन में पवित्रता का बहुत बड़ा महत्त्व है | प्रत्येक मनुष्य स्वयं को स्वच्छ एवं पवित्र रखना चाहता है | नित्य अनेक प्रकार से संसाधनों से स्वयं के शरीर को चमकाने का प्रयास मनुष्य द्वारा किया जाता है | क्या पवित्रता का यही अर्थ हो सकता है ?? हमारे मनीषियों ने बताया है कि प्रत्येक तन के भीतर एक मन
30 अक्तूबर 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x