सुख और दुःख

06 नवम्बर 2019   |  कात्यायनी डॉ पूर्णिमा शर्मा   (2836 बार पढ़ा जा चुका है)

सुख और दुःख

सुख और दुःख

जीवन में अनुभूत सुख अथवा दुःख अच्छे या बुरे जीवन का निर्धारण नहीं करते | क्योंकि जीवन सुख-दुख, आशा-निराशा, मान-अपमान, सफलता-असफलता, दिन-रात, जीवन-मृत्यु आदि का एक बड़ा उलझा हुआ सा लेकिन आकर्षक चित्र है | सुखी व्यक्ति वह नहीं है जो सदा “सुखी” रहता है, बल्कि सुखी व्यक्ति वह है जो दुःख में भी सुख का अनुभव करता है – जो जीवन के इन दोनों किनारों को भली भाँति समझता है | ऐसा करने से उसमें स्वीकार्यता (Acceptance) का भाव आ जाता है | हमारे पास क्या है या क्या नहीं है इस बात से हमारे सुख का निर्णय नहीं होता | यदि हम भीतर से सुखी हैं, तो भले ही सारा संसार हमें दुखी सिद्ध करने के प्रयास में जुट जाए, हम सुखी ही रहेंगे |

वास्तव में देखा जाए तो सुख और दुःख का न तो कोई अपना व्यक्तिगत अस्तित्व है और न ही कोई ठोस और सर्वमान्य आधार | क्योंकि कुछ परिस्थितियों में एक व्यक्ति सुखी रह सकता है तो वहीं दूसरा व्यक्ति दुःख का अनुभव कर सकता है | साथ ही इनकी निरंतरता तथा स्थायित्व भी नहीं होता | एक के आने पर दूसरा कहीं खो जाता है और तब हमें दूसरे का स्मरण भी नहीं रहता | साथ ही दोनों एक दूसरे के पूरक भी हैं | एक के बिना दूसरे के महत्त्व का भान हो ही नहीं सकता | है न कितनी विचित्र बात ? वस्तुतः अनुकूलताओं में सुखी और प्रतिकूलताओं में दुखी हो जाना हमारा स्वभाव बन जाता है |

अस्तु, अच्छा जीवन जीने का अर्थ है कि सुख हो या दुःख, हर्ष हो या विषाद, आशा हो या निराशा, हर स्थिति में चेहरे पर मुस्कान खिली रहे, खुलकर हँसी बिखरती रहे, और इस तथ्य को स्वीकार करके ईश्वर को धन्यवाद देते रहें कि हमारे पास वो सब कुछ है जिसकी हमें आवश्यकता है | जब हम नींद से जागते हैं तो पूरे चौबीस घंटे हमारे पास होते हैं हमारे अधूरे कार्यों को पूर्ण करने के लिए और जीवन को सुख और शान्ति से व्यतीत करने के लिए | हमारे पास पूरा समय होता है आत्मोन्नति के प्रयास के लिए | हमारे पास पूरा समय होता है किसी दुखी के जीवन में आशा, विश्वास, अपनेपन और प्रेम का प्रसार करने के लिए | यदि हमारे मन में हमारी सम्भावनाओं और योग्यताओं के प्रति विश्वास है और मन आशा तथा उत्साह से भरपूर है तो हम कठिन से कठिन समस्याओं का भी समाधान सरलता से खोज सकते हैं | यदि हमारे मन में प्रेम की भावना है तो जो कुछ भी हम सोचेंगे अथवा करेंगे वह सब सौन्दर्य और प्रसन्नता से भरपूर होगा... समस्त भारतीय संस्कृति और दर्शनों का यही तो सार है...

सुख दुःख दोनों जीवन साथी, एक दिया है एक है बाती |

किन्तु स्नेह के बिना व्यर्थ है दीप और दीपक की बाती ||

सुख जाता है दुःख को देकर, दुःख जाता है सुख को देकर |

सुख देकर जाने वाले से डरना क्यों और बचना क्यों ||

अगला लेख: ४ नवम्बर से १० नवम्बर तक का साप्ताहिक राशिफल



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
30 अक्तूबर 2019
भाई दूज भाई भाई के मध्य भी हो तो कैसा रहेकल यों ही दो मित्रों की बातें सुनकर मन में कुछ विचार उत्पन्न हुआ जोमित्रों के साथ साझा करने की सोची | एक मित्र दूसरे मित्र से बोल रहा था कि भाई कलदिल्ली वापस आ रहा हूँ और तब हम दोनों भाई मिलकर भाई दूज मनाएँगे | मन में विचारआया कि बात तो सही है, बहन भाई की मङ्
30 अक्तूबर 2019
03 नवम्बर 2019
4 से 10 नवम्बर2019 तक का साप्ताहिकराशिफलनीचे दिया राशिफल चन्द्रमा की राशि परआधारित है और आवश्यक नहीं कि हर किसी के लिए सही ही हो – क्योंकि लगभग सवा दो दिनचन्द्रमा एक राशि में रहता है और उस सवा दो दिनों की अवधि में न जाने कितने लोगोंका जन्म होता है | साथ ही ये फलकथन केवलग्रहों के तात्कालिक गोचर पर आध
03 नवम्बर 2019
27 अक्तूबर 2019
दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँप्रिय मित्रों, प्रकाश पर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ |दीपमालिका में प्रज्वलित प्रत्येक दीप की प्रत्येक किरण आपके जीवनमें सुख, समृद्धि, स्नेह और सौभाग्य कीस्वर्णिम आभा प्रसारित करे…. दिवाली पर्व है प्रकाश का – केवल दीयों का प्रकाशनहीं, मानव हृदय आलोकित हो जिससे ऐसे स्नेहरस मे
27 अक्तूबर 2019
22 अक्तूबर 2019
जब किसी महिला के साथ बलात्कार होता है तब उसके शरीर के साथ ही उन्हें मानसिक रूप से भी चोट पहुंचती है। ये बात सिर्फ वही लड़की जान सकती है जिनके साथ ये हादसा होता है। इस बारे में कोई महिला तो गलत बयान कभी नहीं देगी, ऐसा हर कोई सोचता था लेकिन इस महिला ने सबकी इस सोच को बदल दिया। ये महिला राजनीति से भी ज
22 अक्तूबर 2019
23 अक्तूबर 2019
सोशल मीडिया के इस दौर में बहुत सी अच्छाई तो उससे ज्यादा बुराईयां देखने को मिलती है। लोग महिलाओं की तस्वीरों के साथ भद्दा मजाक करते हैं तो कुछ लोग तस्वीरों का गलत इस्तेमाल करके कुछ पैसे कमाने के चक्कर में उनकी जिंदगी के साथ खेल जाते हैं। कुछ ऐसा ही हुआ दिल्ली की रहने वाली इस महिला के साथ, जिसे जैसे ह
23 अक्तूबर 2019
25 अक्तूबर 2019
क्षोभदिनेश डॉक्टरक्षोभ हिंदी का एक ऐसा शब्द है जिसके हूबहू भाववाला शब्द शायद किसी दूसरी भाषा में न हो । क्षोभ यानी खीज और दुख वाला ऐसा क्रोधजिसमे आप खुद को असहाय अनुभव करें । क्षोभ ऐसे लोगों को ज्यादा होता है जो देश औरसमाज की छोटी छोटी चीजों को लेकर जरूरत से ज्यादा सेंसिटिव होते है । यानि के जोगैंडे
25 अक्तूबर 2019
28 अक्तूबर 2019
आस्था और विचारधार का प्रत्येक व्यक्ति का अपना व्यक्तिगत दृष्टिकोण हो सकता है, लेकिन अपनी आस्था और विचारधारा को दूसरे व्यक्ति पर थोपने का प्रयास ग़लत है | इस विषय में डॉ दिनेश शर्मा के लेख. ..आस्था और विचारधाराडॉ दिनेश शर्माहर आदमी की अपनी धार्मिक और राजनीतिक विचारधा
28 अक्तूबर 2019
24 अक्तूबर 2019
लक्ष्मीपूजन का मुहूर्तजैसा कि सभी जानते हैं कि दीपावली बुराई, असत्य, अज्ञान, निराशा, निरुत्साह, क्रोध, घृणा तथा अन्य भी अनेक प्रकार के दुर्भावोंरूपी अन्धकार पर सत्कर्म, सत्य, ज्ञान,आशा तथा अन्य अनेकों सद्भावों रूपी प्रकाश की विजय का पर्व है और इस दीपमालिका केप्रमुख दीप हैं सत्कर्म, सत्य, ज्ञान, आशा,
24 अक्तूबर 2019
24 अक्तूबर 2019
27 अक्टूबर के दिन पूरा देश दीपावली का शुभ त्यौहार मनाएगा। हर कोई इसकी खरीदारी और तैयारी में लगा हुआ है लेकिन अगर इनमें सबसे अहम बात को जाना जाए तो पूजा सबसे अहम होती है। अगर दीपावली वाले दिन पूजा नहीं हो तो ये दिन मनाने का कोई मतलब नहीं होता है। यहां हम आपको दीपावली मनाने का तरीका और शुभ मुहूर्त के
24 अक्तूबर 2019
07 नवम्बर 2019
ध्यानके लिए समय निकालना और उसकी नियमितता बनाए रखनाध्यान के लिए समय निकालना :ध्यान का अभ्यास रात को अथवा दिन मेंकिसी भी समय किया जा सकता है | किन्तु प्रातःकाल अथवा सायंकाल का समय ध्यान के लिएआदर्श समय होता है – क्योंकि इस समय का वातावरण ध्यान में सहायक होता है | आपकेचारों ओर का संसार शान्त होता है और
07 नवम्बर 2019
28 अक्तूबर 2019
गोवर्धन पूजा, भाई दूज, यम द्वितीया, चित्रगुप्तजयन्तीकल सबने ख़ूब धूमधाम से दीपोत्सव तथा लक्ष्मी पूजन का आयोजन किया | आज यानी दीपावली के अगले दिन –पाँच पर्वों की इस श्रृंखला की चतुर्थ कड़ी है – गोवर्धन पूजा और अन्नकूट | इस त्यौहार का भारतीय लोक जीवन में काफी महत्व है | इसकेपीछे एक कथा प्रसिद्ध है कि ए
28 अक्तूबर 2019
23 अक्तूबर 2019
दीपावली का त्यौहार है और ऐसे में लोग खरीदारियों में लगे हुए हैं। 27 अक्टूबर यानी इस रविवार को हर कोई दिवाली का त्यौहार अपने परिवार, रिश्तेदार और दोस्तों के साथ मनाएगा। ये माहौल ही बहुत अलग होता है जब लोग जमकर शॉपिंग करते है और सबसे ज्यादा खरीददारी लोग धनतेरस वाले दिन करते हैं। 25 अक्टूबर को आप भी इल
23 अक्तूबर 2019
25 अक्तूबर 2019
धनतेरस - धन्वन्तरी त्रयोदशीआजधनतेरस है – यानी देवताओं के वैद्य धन्वन्तरी की जयन्ती – धन्वन्तरी त्रयोदशी | प्राचीनकाल में इस पर्व को इसी नाम से मनाते थे | कालान्तर में धन्वन्तरी का केवल “धन”शेष रह गया और इसे जोड़ दिया गया धन सम्पत्ति के साथ, स्वर्णाभूषणों के साथ | पहलेक
25 अक्तूबर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
25 अक्तूबर 2019
30 अक्तूबर 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x