किताबें पढ़ने से होते है ये फ़ायदे

06 नवम्बर 2019   |  शिल्पा रोंघे   (456 बार पढ़ा जा चुका है)

एक दौर था जब पुस्कालय में इतनी भीड़ लगी रहती थी कि पढ़ने के लिए अपनी बारी की इंतज़ार करना पड़ता था, कभी कभी कोई किताब इतनी लोकप्रिय होती थी कि अगर हम उसे खरीदने जाते तो उसकी प्रतियां भी खत्म हो चुकी रहती थी, क्योंकि अब बहुत सारे टीवी चैनल आ चुके है सोशल मीडिया का विस्तार हो चुका है ऐसे में बहुत कम लोग है जो किताब पढ़ने के लिए वक्त निकाल पाते है लेकिन बात अगर बुक रीडिंग की हो तो उसका स्थान कोई भी माध्यम नहीं ले सकता है उसका अपना एक महत्व आज भी है, अपने इस लेख के ज़रिए हम आपको किताब पढ़ने से होने वाले अनगिनत फायदे बताने वाले है।


इससे हमारी बुद्धि तेज होती है बात सिर्फ हमारी स्कूल और कॉलेज की किताबों तक सीमित नहीं है इसके अतिरिक्त वो किताबें भी हम पढ़नी चाहिए खासकर जिसमें हमारी रुची हो, ये उस विषय से संबंधित जानकारी बढ़ाने में मदद करती है।

कहानी, उपन्यास, कविता, संस्मरण, जीवनी, आत्मकथा, फिक्शन, नॉनफिक्शन हर इंसान की पुस्तक की अलग अलग पसंद हो सकती है, किताबें हमारी सोचने समझने की क्षमता को भी प्रभावित करती है, कठिन परिस्थितियों में किस तरह व्यवहार किया जाए, जिंदगी की उलझनों को सुलझाने का रहस्य भी ये अपने आप में समेटे हुए रहती है।


किताबें पढ़ने से किसी भी विषय के विश्लेषण करने की क्षमता में बढ़ोत्तरी होती है। अगर आप अच्छे वक्ता बनना चाहते है तो इसका रास्ता किताबों से होकर ही गुजरता है।

कुछ किताबें पढ़ने के पीछे हमारा उद्देश्य केवल मनोरंजन करना भी होता है, दिन भर की थकान और तनाव से निजात पाने के लिए रहस्य, रोमांच और ह्ल्के फुल्के मनोरंजन की किताबे काम आती है।


किताबें, जिस भी भाषा में आपकी रुची हो उसकी जानकारी में वृद्धि करती है आपकी शब्दावली को मजबूत बनाती है।


किताबें रचनात्मकता को नए आयाम देती है, जी हां किताबें पढ़ने वाले इंसान का रचनात्मक लेखन काफी अच्छा होता है।


किताब को पढ़ना हमारी एकाग्रता को बढ़ाता है है, साथ ही स्मरण शक्ति को तीव्र करता है। ये आपकी कल्पनाशीलता में वृद्धि करता है।

तो देखा आपने किताबें ना पढ़ने से आप कितने सारे फायदों से वंचित रह जाते है जो कि आपको होने चाहिए तो आज से ही किताब पढ़ने की आदत डाल ले, अगर आपके पास समय नहीं रहता को दिन का आधा घंटा तो आप निकाल ही सकते है ना। कभी कभी अपने आपको किसी एक विचार धारा का समर्थन करने वाली किताब तक सीमित ना रखे और अपनी सोच का दायरा विस्तृत करे, और एक सकारात्मक व्यक्तित्व गढ़ने में किताबों से बेहतर आपकी मदद कोई और नहीं कर सकता है और ये आपकी ऐसी मित्र बन सकती है जो बदले में आपसे कुछ नहीं चाहती है।

अगला लेख: एक कलम हूं मैं



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
19 नवम्बर 2019
हुई सभा एक दिन गुड्डे गुड़ियों की.गुड़िया बोली,मैं सुंदरता की पुड़ियामुझसे ना कोई बढ़िया.इतने में आया गुड्डापहन के लाल चोला,कितनों का घमंड है मैंने तोड़ा.बीच में उचका काठी का घोड़ाअरे चुप हो जाओ तुम थोड़ा.मैंने ही हवा का रुख़ है मोड़ा.लट्टू घूमा, कुछ झूमा.बोला लड़ों
19 नवम्बर 2019
12 नवम्बर 2019
सांप सीढ़ी सिर्फखेल नहीं,जीवन दर्शन भी है.सफलता और विफलता दुश्मन नहीं, एक दूसरे की साथी है.हर रास्ते पर सांप सा रोड़ा, कभी मंजिल के बेहद करीब आकर भी लौटना पड़ता है.कभी सिफ़र से शिखर तो कभी शिखर से सिफ़र का सफ़र तय करना पड़ता है.सफलता का कोई
12 नवम्बर 2019
11 नवम्बर 2019
देशभर में हर कोई योगा के नाम पर बाबा रामदेव को याद करते हैं वैसे ही पतंजलि के नाम पर आचार्य बालकृष्ण का नाम जरूर याद आता है। पतंजलि कंपनी खुलने के बाद से ही बाबा रामदेव और उनके शिष्य आचार्य बालकृष्ण ने हमेशा स्वदेशी चीजों का इस्तेमाल करने पर जोर दिया है। अपने देश में बनी चीजों का इस्तेमाल करना हमारे
11 नवम्बर 2019
19 नवम्बर 2019
नशा "नाश" का दूसरा नाम है.ये नाश करता है बुद्धि का.ये नाश करता है धन का.ये नाश करता है संबंधों का.ये नाश करता है नैतिक मूल्यों का.नाश नहीं निर्माण की तरफ बढ़ोयुवाओं तुम नशामुक्त समाज बनानेका संकल्प लो.शिल्पा रोंघे
19 नवम्बर 2019
14 नवम्बर 2019
सर्द धूप के साथ हो चुकी है शुरू स्वेटरों की बुनाई.और रज़ाईयों की सिलाई.हो चुका है ठंड से बाज़ार गर्म अब.अदरक की खुशबू से महकने लगी है चाय की दुकाने कुछ ज्यादा ही.हो चुका है ठंड से बाज़ार गर्म अब.गज़क और तिल के लड्डूओंसे सजने लगी है दुकानें
14 नवम्बर 2019
13 नवम्बर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKer
13 नवम्बर 2019
31 अक्तूबर 2019
तो
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedC
31 अक्तूबर 2019
23 अक्तूबर 2019
दो दिन गुजर गए-मुई ये रात भी-बीत हीं जाएगी।चलो तुम्हारीखुशबुओं से,कल की सुबह-दमक-गमक जाएगी।।रौशन शाम;महक------सराबोर कर जाएगी।ग़रीब की झोपड़ीआशियाना बन,मुहब्बत की,मिशाल बन जाएगी।।डॉ. कवि कुमार निर्मल
23 अक्तूबर 2019
05 नवम्बर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKer
05 नवम्बर 2019
07 नवम्बर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML></o:RelyOnVML> <o:AllowPNG></o:AllowPNG> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom>
07 नवम्बर 2019
27 अक्तूबर 2019
दीपवाली में 'मन' माना दूर,मंदीर अलग-अलग चमकते हैं!चंचल लक्ष्मी ठम- खड़ी दूर,हृदयहीन के घर-आँगन सजते हैं!!निर्मल
27 अक्तूबर 2019
24 अक्तूबर 2019
💓💓💓💓💓💓💓💓💓💓भाषा में "साहित्य" छुपा है💓💓भाषाविद् "हित" करता है💓💓काव्य सरीता का अविरल प्रवाह💓💓"क्षिर सागर" से जा मिलता है।💓💓💓डॉ कवि कुमार निर्मल💓💓
24 अक्तूबर 2019
26 अक्तूबर 2019
जा
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <w:ValidateAgainstSchemas></w:Val
26 अक्तूबर 2019
05 नवम्बर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKer
05 नवम्बर 2019
11 नवम्बर 2019
फिल्मों से आम लोगों का काफी गहरा कनेक्शन होता है क्योंकि लोग इससे खुद को कनेक्ट करने की कोशिश करते हैं। मगर 90 के दशक की फिल्में जिन दर्शकों ने देखी है उन्हें आज की फिल्में खास पसंद नहीं होती क्योंकि आज की फिल्मों में वो कहानी और अभिनय नहीं है जो तब होती थी। आज के लोगों को आधुनिक जमाने की फिल्में पस
11 नवम्बर 2019
25 अक्तूबर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormattin
25 अक्तूबर 2019
02 नवम्बर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <
02 नवम्बर 2019
22 अक्तूबर 2019
मेरा गांव शहर से क्या कम हैं।शुद्ध हवा और वातावरण है रेत के टीलों पर छा जाती हैंघनघोर घटाएंनज़ारे यह हिमाचल से क्या कम हैं।चलती है जब बरखा सावन की,धरती -अम्बर का मिलनास्वर्ग से क्या कम है।बादल ओढ़ा के जाता चुनरी हरियाली की बहना को,रिश्ता इनका रक्षाबंधन से क्या कम हैं।
22 अक्तूबर 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x