साधक कैसे बनें :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

06 नवम्बर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (435 बार पढ़ा जा चुका है)

साधक कैसे बनें :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸


‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼



🌻☘🌻☘🌻☘🌻☘🌻☘🌻


*इस धरती पर अनेकों जीव विचरण कर रहे हैं इनमें सर्वश्रेष्ठ प्राणी मनुष्य को कहा गया है | चौरासी लाख योनियों में सर्वश्रेष्ठ मानव योनि कही गई है | साधारण से दिखने वाले मनुष्य में इतनी शक्तियां छुपी हुई है कि वह हजारों जन्मों के कर्म बंधनों और पाप - तापों को काटकर अपने अजन्मा अमर आत्मा में प्रतिष्ठित हो सकता है , परंतु इसके लिए मनुष्य को साधक बनना पड़ेगा | साधक क्या है ? इस पर यदि विचार किया जाय तो यही सामने आता है कि जिस प्रकार लोधी धन को संभालता है , अहंकारी अपनी कुर्सी को संभालता है , मोही व्यक्ति अपने कुटुंबियों को संभालता है उसी प्रकार एक साधक को अपने चित्त को चंचल क्षीण एवं उग्र होने से बचाना पड़ता है | साधक बनने की पहली प्रक्रिया है अपने चित्त को शांत करना , जिन कारणों से चित्त में मोह लोभ क्षोभ आदि उत्पन्न होते हैं उन कारणों से साधक को सदैव सावधान रहना पड़ता है | जो साधक होता है वह अपनी आंतरिक शक्तियों का संचय करता है , एक साधक के हृदय में निर्मलता , निर्मोहिता , निर्भीकता एवं निरहंकारिता की सुगंध होती है | साधक संसार के नश्वर सुख भोग की वस्तुओं की अपेक्षा ना करके अंतर्मुखी होकर आत्मानंद को पाने के महान पथ का पथिक हो जाता है , उसे किसी की निंदा - स्तुति , मान - अपमान और राग द्वेष से कोई मतलब नहीं रह जाता है , वह तो सिर्फ अपनी आत्मा में गोता मारने का प्रयास करता है | साधक सदैव परमात्मप्राप्त महापुरुषों का सान्निध्य प्राप्त करने के लिए उत्सुक होता है | साधक एकांतवास , धारणा ध्यान का अभ्यास , ईश्वर के प्रति प्रेम , शास्त्रों पर विचार एवं महापुरुषों की संगति करने के लिए सदैव तत्पर रहता है | सांसारिकता से दूर होकर जो भी व्यक्ति आध्यात्मिक पथ का पथिक बनने का प्रयास करता है वही साधक बन सकता है कहने को तो अनेक लोग स्वयं को साधक कहते हैं परंतु सत्संग चर्चा में वेदांत के वचनों पर भी उनको अविश्वास ही होता रहता है | इन सबसे अलग हटते हुए वेदांत के वचनों को सुनकर एकांत में उनका मनन करते हुए निदिध्यासन की भूमिका प्राप्त करने वाला ही साधक बन सकता है , और अंततोगत्वा वही सिद्ध भी होता है | यदि कोई साधक अपने आंतरिक शक्तियों का संचय करते हुए अपनी आत्मा में प्रतिष्ठित होने तक उसे सावधानी से संभाल कर रखे तो एक दिन ऐसा आएगा कि वही साधक सिद्ध हो जाता है |*



*आज के युग में जहां चारों ओर काम , क्रोध , मोह , लोभ , अहंकार , ईर्ष्या एवं मात्सर्य का साम्राज्य दिखाई पड़ रहा है ऐसे में साधक मिल पाना या बन पाना बहुत ही दुष्कर कार्य है | आज अनेकों विद्वान स्वयं को साधक तो कहते हैं परंतु उनकी बातों में समय-समय पर लोभ , मोह , अहंकार का पुट स्पष्ट दिखाई पड़ता है | जहां साधक के लिए सुख भोग की वस्तुओं का त्याग लिखा हुआ है वही आज के साधक सांसारिक सुख भोग की वस्तुओं का संग्रह करके इंद्रिय सुखों को भोगने के लिए तत्पर दिखाई पड़ रहे हैं | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" किसी साधक के ऊपर कटाक्ष ना करके आज के वर्तमान में दिखाई पड़ रहे साधकों के क्रियाकलाप देखते हुए यह कह सकता हूं कि आज स्वयं को आत्मसाधक , तंत्र साधक एवं मंत्र साधक कहने वाले अनेकों विद्वान दिन भर एक दूसरे की निंदा - स्तुति करते हुए राग - द्वेष के झूले में झूल रहे हैं | आज सनातन धर्म के उच्च पदों पर बैठे हुए अनेकों महापुरुष भी दिन भर टेलीविजन पर बैठ कर के एक दूसरे के प्रति कैसे वक्तव्य दे रहे हैं यह किसी से छुपा नहीं है | दूसरों को अपने मन को साधने का उपदेश देने वाले स्वयं अपने मन को नहीं साध पा रहे हैं , अपने चित्त में शांति नहीं ला पा रहे हैं | इन साधकों को यद्यपि यह ज्ञान होता है कि एक साधक के लिए व्यर्थ का बोलना , सुनना एवं देखना उनकी प्राणशक्ति , मन:शक्ति एवं एकाग्रता की शक्ति को क्षीण कर रहा है फिर भी वे स्वयं को इससे बचा नहीं पा रहे हैं | एकांतवास करने वाले आज ज्यादा से ज्यादा समाज के बीच में रहकर ख्याति प्राप्त करने के लिए उत्सुक दिखाई पड़ रहे हैं | ऐसे में किसे साधक माना जाए और किसी ना माना जाए यह असमंजस की स्थिति उपस्थित हो जाती है | यदि साधक बनना है तो सबसे पहले चित्त की चंचलता को समाप्त करना होगा अन्यथा कोई भी साधना या सिद्धि कदापि नहीं प्राप्त हो सकती |*


*ईश्वर का युवराज कहा जाने वाला मनुष्य को यदि साधक बन करके सिद्धि प्राप्त करना है तो उसे एकांतवास , धारणा ध्यान का अभ्यास , शास्त्र विचार एवं महापुरुषों की संगत करना ही होगा , तभी उस परम सुख स्वरूप परमात्मा की प्राप्ति हो सकती है |*



आचार्य अर्जुन तिवारी

प्रवक्ता

श्रीमद्भागवत/श्रीरामकथा

संरक्षक

संकटमोचन हनुमानमंदिर

बड़ागाँव श्रीअयोध्याजी

(उत्तर-प्रदेश)

9935328830


🍀🌟🍀🌟🍀🌟🍀🌟🍀🌟🍀

अगला लेख: ब्रह्मचर्य क्या है ??:-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
01 नवम्बर 2019
*इस संसार में मनुष्य एक चेतन प्राणी है , उसके सारे क्रियाकलाप में चैतन्यता स्पष्ट दिखाई पड़ती है | मनुष्य को चैतन्य रखने में मनुष्य के मन का महत्वपूर्ण स्थान है | मनुष्य का यह मन एक तरफ तो ज्ञान का भंडार है वहीं दूसरी ओर अंधकार का गहरा समुद्र भी कहा जा सकता है | मन के अनेक क्रियाकलापों में सबसे महत्
01 नवम्बर 2019
16 नवम्बर 2019
*परमात्मा की बनाई यह सृष्टि निरन्तर क्षरणशील है | एक दिन सबका ही अन्त निश्चित है | सृष्टि का विकास हुआ तो एक दिन महाप्रलय के रूप में इसका विनाश भी हो जाना है , सूर्य प्रात:काल उदय होता है तो एक निश्चित समय पर अस्त भी हो जाता है | उसी प्रकार इस सृष्टि में जितने भी जड़
16 नवम्बर 2019
01 नवम्बर 2019
*इस संसार में मनुष्य एक चेतन प्राणी है , उसके सारे क्रियाकलाप में चैतन्यता स्पष्ट दिखाई पड़ती है | मनुष्य को चैतन्य रखने में मनुष्य के मन का महत्वपूर्ण स्थान है | मनुष्य का यह मन एक तरफ तो ज्ञान का भंडार है वहीं दूसरी ओर अंधकार का गहरा समुद्र भी कहा जा सकता है | मन के अनेक क्रियाकलापों में सबसे महत्
01 नवम्बर 2019
21 नवम्बर 2019
अध्यात्मपरक मन:चिकित्सामनःचिकित्सक अनेक बार अपने रोगियों के साथ सम्मोहन आदि कीक्रिया करते हैं | भगवान को भी अपने एक मरीज़ अर्जुन के मन का विभ्रम दूर करकेउन्हें युद्ध के लिये प्रेरित करना था | अतः जब जब अर्जुन भ्रमित होते – उनके मनमें कोई शंका उत्पन्न होती – भगवान कोई न कोई झटका उन्हें दे देते | यही क
21 नवम्बर 2019
12 नवम्बर 2019
*आदिकाल से ही से ही इस धराधाम पर अनेकों योद्धा ऐसे हुए हैं जिन्होंने अपनी शक्तियों का संचय करके एक विशाल जनसमूह को अपने वशीभूत किया एवं उन्हीं के माध्यम से मानवता के विरुद्ध कृत्य करना प्रारंभ किया | पूर्वकाल में ऐसे लोगों को राक्षस या निशाचर कहा जाता था | इनके अनेक अनुयायी ऐसे भी होते थे जिनको यह न
12 नवम्बर 2019
09 नवम्बर 2019
*सनातन धर्म में मानव जीवन को चार आश्रमों में बांटा गया है , जिनमें से सर्वश्रेष्ठ आश्रम गृहस्थाश्रम को बताया गया है , क्योंकि गृहस्थ आश्रम का पालन किए बिना मनुष्य अन्य तीन आश्रम के विषय में कल्पना भी नहीं कर सकता | मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है समाज का निर्माण परिवार से होता है | व्यक्ति के जीवन में
09 नवम्बर 2019
07 नवम्बर 2019
🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🌻☘🌻☘🌻☘🌻☘🌻☘🌻 *हमारे देश में हिंदू संस्कृति में बताए गए बारहों महीने में कार्तिक मास का विशेष महत्व है , इसे दामोदर मास अर्थात भगवान विष्णु के प्रति समर्पित बताया गया है | कार्तिक मास का क्या महत्व है इसका वर
07 नवम्बर 2019
02 नवम्बर 2019
*इस धराधाम पर परमात्मा द्वारा सृजित सभी प्रकार के जड़ - चेतन में सबसे शक्तिशाली मनुष्स ही है | सब पर विजय प्राप्त कर लेने वाला मनुष्य किसी से पराजित होता है तो वह उसका स्वयं का मन है जो उसको ऐसे निर्णय व कार्य करने के लिए विवश कर देता है जो कि वह कभी भी करना पसंद नहीं करता | कभी - कभी तो मन के बहकाव
02 नवम्बर 2019
28 अक्तूबर 2019
*मानव जीवन पा करके मनुष्य लंबी आयु जीता है | जीवन को निरोगी एवं दीर्घ जीवी रखने के लिए मनुष्य की मुख्य आवश्यकता है भोजन करना | पौष्टिक भोजन करके मनुष्य एक सुंदर एवं स्वस्थ शरीर प्राप्त करता है | मानव जीवन में भोजन का क्या महत्व है इसको बताने की आवश्यकता नहीं है , नित्य अपने घरों में अनेकों प्रकार
28 अक्तूबर 2019
30 अक्तूबर 2019
*मानव जीवन में पवित्रता का बहुत बड़ा महत्त्व है | प्रत्येक मनुष्य स्वयं को स्वच्छ एवं पवित्र रखना चाहता है | नित्य अनेक प्रकार से संसाधनों से स्वयं के शरीर को चमकाने का प्रयास मनुष्य द्वारा किया जाता है | क्या पवित्रता का यही अर्थ हो सकता है ?? हमारे मनीषियों ने बताया है कि प्रत्येक तन के भीतर एक मन
30 अक्तूबर 2019
02 नवम्बर 2019
*प्रत्येक शरीर में एक आत्मा निवास करती है जिस प्रकार भगवान शिव के हाथ में सुशोभित त्रिशूल में ती शूल होते हैं उसी प्रकार आत्मा की तुलना भी एक त्रिशूल से की जा सकती है, जिसमें तीन भाग होते हैं- मन, बुद्धि और संस्कार | इनको त्रिदेव भी कहा जा सकता है | मन सृजनकर्ता ब्रह्मा , बुद्धि संहारकारी शिव तथा सं
02 नवम्बर 2019
31 अक्तूबर 2019
*मनुष्य इस धरा धाम पर जन्म लेकर के जीवन भर अनेकों कृत्य करते हुए अपनी जीवन यात्रा पूर्ण करता है | इस जीवन अनेक बार ऐसी स्थितियां प्रकट हो जाती है मनुष्य किसी वस्तु , विषय या किसी व्यक्ति के प्रति इतना आकर्षित लगने लगता है कि उस वस्तु विशेष के लिए कई बार संसार को भी ठुकराने का संकल्प ले लेता है | आखि
31 अक्तूबर 2019
31 अक्तूबर 2019
*इस संसार में समस्त जड़ - चेतन को संचालित करने वाला परमात्मा है तो मनुष्य को क्रियान्वित करने वाला है मनुष्य का मन | मनुष्य का मन स्वचालित होता है और मौसम , खान - पान , परिस्थिति एवं आसपास घट रही घटनाओं के अनुसार परिवर्तित होता रहता है | जिस प्रकार मनुष्य के जीवन में बचपन , जवानी एवं बुढ़ापा रूपी ती
31 अक्तूबर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x