पंचकोसी परिक्रमा का महत्त्व :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

07 नवम्बर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (455 बार पढ़ा जा चुका है)

पंचकोसी परिक्रमा का महत्त्व :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸


‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼


🌻☘🌻☘🌻☘🌻☘🌻☘🌻


*हमारे देश में हिंदू संस्कृति में बताए गए बारहों महीने में कार्तिक मास का विशेष महत्व है , इसे दामोदर मास अर्थात भगवान विष्णु के प्रति समर्पित बताया गया है | कार्तिक मास का क्या महत्व है इसका वर्णन हमारे धर्म ग्रंथों में किया गया है | नित्य कार्तिक स्नान एवं दीपदान करने से मनुष्य के जीवन में तो प्रकाश होता ही है साथ ही इस मृत्युलोक को छोड़ने के बाद अन्य लोकोंं में भी मनुष्य का जीवन प्रकाशित रहता है | कार्तिक मास में मानव जीवन से जुड़े हुए अनेकों पर्व एवं त्योहार मनाए जाते हैं इसी क्रम में तीर्थों परिक्रमा भी विशेष है | जहां चौदह कोसी परिक्रमा करके मनुष्य चौदह लोकों से मुक्ति पाने की कामना करता है वही पंचकोसी परिक्रमा का अपना एक अलग महत्व है | सनातन धर्म के प्रत्येक क्रियाकलाप में वैज्ञानिकता भी समायी रहती है , सनातन धर्म के महापुरुषों एवं वैज्ञानिकों का भी मानना है कि यह सृष्टि एवं मनुष्य का शरीर पंच तत्वों से बना हुआ है | गोस्वामी तुलसीदास जी ने अपने मानस में लिखा है कि :- "क्षिति जल पावक गगन समीरा ! पंच रचित अति अधम शरीरा !! अर्थात :- पृथ्वी , जल , आकाश , हवा एवं अग्नि से मिलकर यह सृष्टि बनी एवं मनुष्य का शरीर भी इन्हीं पंच तत्वों से मिलकर बना है | पंचमहाभौतिक शरीर को मुक्ति दिलाने की कामना से भक्तजन अपने आराध्य की पंचकोसी परिक्रमा करते हैं | पंचकोशी परिक्रमा अर्थात एक - एक कोस एक - एक तत्व के लिए समर्पित माना जाता है | अयोध्या , मथुरा , काशी , वाराणसी एवं दक्षिण के लगभग सभी तीर्थ स्थलों पर पंचकोसी परिक्रमा कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को श्रद्धालु जनों के द्वारा बड़े प्रेम से की जाती है | मानव जीवन ही नहीं बल्कि यह सृष्टि भीी निरंतर परिक्रमा करती रहती है इसलिए प्रत्येक मनुष्य को अपने जीवन में परिक्रमा के महत्व को समझना परम आवश्यक है |*



*आज कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को जैसे ही एकादशी का मान प्रारंभ होगा भक्तजन अपने आराध्य की पंचकोशी परिक्रमा प्रारंभ कर देंगे | अयोध्या ही नहीं बल्कि देश के अनेक धर्म स्थानों / तीर्थ स्थलों पर यह परिक्रमा प्रारंभ हो जाएगी | ऐसा मानना है चार महीने की निद्रा के बाद आज के ही दिन भगवान श्री विष्णु निद्रा का त्याग करते हैं , इस अवसर पर सभी देवताओं ने इनका पूजन करके परिक्रमा की थी इसीलिए देवोत्थानी एकादशी के दिन परिक्रमा करने का विधान है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" परिक्रमा के विषय में इतना ही कहना चाहूंगा कि इस संपूर्ण ब्रह्मांड का प्रत्येक ग्रह - नक्षत्र किसी न किसी तारे की परिक्रमा की कर रहा है | सूर्य उदय हो करके एक परिक्रमा के क्रम में ही पश्चिम में अस्त हो जाता है | यह परिक्रमा ही जीवन का सत्य है | मनुष्य का संपूर्ण जीवन ही एक चक्र है इस चक्र को समझने के लिए ही परिक्रमा जैसे विधानों को निर्मित किया गया है | हमारे मनीषियों का मानना है कि यह समस्त सृष्टि भगवान में ही समाई हुई है उन्हीं से सृष्टि की उत्पत्ति हुई है , भगवान ही सृष्टि का मूल है इसलिए उनकी परिक्रमा करके मनुष्य समस्त सृष्टि की परिक्रमा करने का फल प्राप्त करता है | आज मनुष्य के व्यस्ततम जीवन में भी मनुष्य कुछ समय निकालकर अयोध्या , काशी , मथुरा की पंचकोशी परिक्रमा करके ईश्वर के प्रति अपनी श्रद्धा अर्पित करता है | पंचतत्वों को अपने जीवन में विकार रहित करने के उद्देश्य मनुष्य अपने आराध्य की पंचकोसी परिक्रमा करता है | परिक्रमा का धार्मिक महत्व कोई भी हो परंतु आज के व्यस्ततम जीवन में मनुष्य यदि कुछ समय अपने आराध्य के प्रति निकालता है तो निश्चित ही उसे उसके जीवन में पंच विकारों से मुक्ति प्राप्त हो सकती है |*


*समय-समय पर मनुष्य को सचेत करने के लिए एवं जीवन के ज्ञात - अज्ञात पाप कर्मों से बचाने के लिए हमारे सनातन के पुराधाओं ने ऐसे नियम बनाए हैं जिससे मनुष्य कम से कम एक दिन के लिए की ईश्वर के प्रति समर्पित हो |*


🌺💥🌺 *जय श्री हरि* 🌺💥🌺


🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥



आचार्य अर्जुन तिवारी

प्रवक्ता

श्रीमद्भागवत/श्रीरामकथा

संरक्षक

संकटमोचन हनुमानमंदिर

बड़ागाँव श्रीअयोध्याजी

(उत्तर-प्रदेश)

9935328830


🍀🌟🍀🌟🍀🌟🍀🌟🍀🌟🍀

अगला लेख: ब्रह्मचर्य क्या है ??:-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
10 नवम्बर 2019
!! भगवत्कृपा हि केवलम् !!*सनातन धर्म की दिव्यता विश्व विख्यात है | संपूर्ण विश्व ने सनातन धर्म के ग्रंथों को ही आदर्श मान कर दिया जीवन जीने की कला सीखा है | प्राचीन काल में शिक्षा का स्तर इतना अच्छा नहीं था जितना इस समय है परंतु हमारे पूर्वज अनुभव के आधार पर समाज के सारे कार्य कुशलता से संपन्न कर दे
10 नवम्बर 2019
08 नवम्बर 2019
*पंचतत्त्वों से बने मनुष्य को इस धरा धाम पर जीवन जीने के लिए मनुष्य को पंचतत्वों की आवश्यकता होती है | रहने के लिए धरती , ताप के लिए अग्नि , पीने के लिए पानी , सर ढकने के लिए आसमान , एवं जीवित रहने के लिए वायु की आवश्यकता होती है | मनुष्य प्रत्येक श्वांस में वायु ग्रहण करता है | श्वांस लेने के लिए
08 नवम्बर 2019
12 नवम्बर 2019
*आदिकाल से ही से ही इस धराधाम पर अनेकों योद्धा ऐसे हुए हैं जिन्होंने अपनी शक्तियों का संचय करके एक विशाल जनसमूह को अपने वशीभूत किया एवं उन्हीं के माध्यम से मानवता के विरुद्ध कृत्य करना प्रारंभ किया | पूर्वकाल में ऐसे लोगों को राक्षस या निशाचर कहा जाता था | इनके अनेक अनुयायी ऐसे भी होते थे जिनको यह न
12 नवम्बर 2019
24 अक्तूबर 2019
27 अक्टूबर के दिन पूरा देश दीपावली का शुभ त्यौहार मनाएगा। हर कोई इसकी खरीदारी और तैयारी में लगा हुआ है लेकिन अगर इनमें सबसे अहम बात को जाना जाए तो पूजा सबसे अहम होती है। अगर दीपावली वाले दिन पूजा नहीं हो तो ये दिन मनाने का कोई मतलब नहीं होता है। यहां हम आपको दीपावली मनाने का तरीका और शुभ मुहूर्त के
24 अक्तूबर 2019
31 अक्तूबर 2019
*मनुष्य इस धरा धाम पर जन्म लेकर के जीवन भर अनेकों कृत्य करते हुए अपनी जीवन यात्रा पूर्ण करता है | इस जीवन अनेक बार ऐसी स्थितियां प्रकट हो जाती है मनुष्य किसी वस्तु , विषय या किसी व्यक्ति के प्रति इतना आकर्षित लगने लगता है कि उस वस्तु विशेष के लिए कई बार संसार को भी ठुकराने का संकल्प ले लेता है | आखि
31 अक्तूबर 2019
28 अक्तूबर 2019
*मानव जीवन पा करके मनुष्य लंबी आयु जीता है | जीवन को निरोगी एवं दीर्घ जीवी रखने के लिए मनुष्य की मुख्य आवश्यकता है भोजन करना | पौष्टिक भोजन करके मनुष्य एक सुंदर एवं स्वस्थ शरीर प्राप्त करता है | मानव जीवन में भोजन का क्या महत्व है इसको बताने की आवश्यकता नहीं है , नित्य अपने घरों में अनेकों प्रकार
28 अक्तूबर 2019
24 अक्तूबर 2019
उज्जैन (मध्यप्रदेश) निवासी आदरणीय पंडित सूर्य नारायण व्यास वह मूर्धन्य विद्वान ज्योतिषी थे जिन्होंने भारत की स्वतंत्रता का मुहूर्त 14 अगस्त की रात्रिकालीन अभिजीत (12 बजे ) या ये कहें की 15 अगस्त की सुबह 00 बजे का निकला था l स्वतंत्र भारत का जन्म 15 अगस्त 1947 को मध्यरात्रि दिल्ली में हुआ था और कुंडल
24 अक्तूबर 2019
17 नवम्बर 2019
*इस सकल सृष्टि में समस्त जड़ चेतन के मध्य मनुष्य सिरमौर बना हुआ है | जन्म लेने के बाद मनुष्य को अपने माता - पिता एवं सद्गुरु के द्वारा सत्य की शिक्षा दी जाती है | यह सत्या आखिर है क्या ? तीनो लोक चौदहों भुवन में एक ही सत्य बताया गया है वह है परमात्मा | जिसके लिए लिखा भी गया है :-- "ब्रह्म सत्यं जगत
17 नवम्बर 2019
16 नवम्बर 2019
*परमात्मा की बनाई यह सृष्टि निरन्तर क्षरणशील है | एक दिन सबका ही अन्त निश्चित है | सृष्टि का विकास हुआ तो एक दिन महाप्रलय के रूप में इसका विनाश भी हो जाना है , सूर्य प्रात:काल उदय होता है तो एक निश्चित समय पर अस्त भी हो जाता है | उसी प्रकार इस सृष्टि में जितने भी जड़
16 नवम्बर 2019
30 अक्तूबर 2019
*मानव जीवन में पवित्रता का बहुत बड़ा महत्त्व है | प्रत्येक मनुष्य स्वयं को स्वच्छ एवं पवित्र रखना चाहता है | नित्य अनेक प्रकार से संसाधनों से स्वयं के शरीर को चमकाने का प्रयास मनुष्य द्वारा किया जाता है | क्या पवित्रता का यही अर्थ हो सकता है ?? हमारे मनीषियों ने बताया है कि प्रत्येक तन के भीतर एक मन
30 अक्तूबर 2019
31 अक्तूबर 2019
..... इंसानियत ही सबसे पहले धर्म है, इसके बाद ही पन्ना खोलो गीता और कुरान का......"जय हिन्द"
31 अक्तूबर 2019
24 अक्तूबर 2019
भारत में जितने भी बड़े-बड़े व्यापारी और सेलिब्रिटीज हैं उनके अपने पर्सनल पंडितजी होते हैं। जिनसे पूछकर ही वे अपने सारे शुभ काम करते हैं। ऐसा हर कोई करता है और धार्मिक गुरु पर उनका ये विश्वास ही उन्हें सच्ची सफलता प्रदान करता है। ज्योतिषीयों के बारे में बहुत सारी बातें होती हैं जिन्हें समझने के लिए ज
24 अक्तूबर 2019
16 नवम्बर 2019
वृषभ राशि वाले जातको के लिए कोनसी राशि के जातक मित्र है और कोनसी राशि के जातक शत्रु ,यह जानना बहुत जरुरी है| यदि आपकी राशि वृषभ है तो आपको किन राशि वालो से मित्रता करनी चाहिए और किन राशि वालो से दूर रहना चाहिए | यह भी वृषभ राशि वालो के लिए
16 नवम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x