पंचकोसी परिक्रमा का महत्त्व :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

07 नवम्बर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (448 बार पढ़ा जा चुका है)

पंचकोसी परिक्रमा का महत्त्व :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸


‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼


🌻☘🌻☘🌻☘🌻☘🌻☘🌻


*हमारे देश में हिंदू संस्कृति में बताए गए बारहों महीने में कार्तिक मास का विशेष महत्व है , इसे दामोदर मास अर्थात भगवान विष्णु के प्रति समर्पित बताया गया है | कार्तिक मास का क्या महत्व है इसका वर्णन हमारे धर्म ग्रंथों में किया गया है | नित्य कार्तिक स्नान एवं दीपदान करने से मनुष्य के जीवन में तो प्रकाश होता ही है साथ ही इस मृत्युलोक को छोड़ने के बाद अन्य लोकोंं में भी मनुष्य का जीवन प्रकाशित रहता है | कार्तिक मास में मानव जीवन से जुड़े हुए अनेकों पर्व एवं त्योहार मनाए जाते हैं इसी क्रम में तीर्थों परिक्रमा भी विशेष है | जहां चौदह कोसी परिक्रमा करके मनुष्य चौदह लोकों से मुक्ति पाने की कामना करता है वही पंचकोसी परिक्रमा का अपना एक अलग महत्व है | सनातन धर्म के प्रत्येक क्रियाकलाप में वैज्ञानिकता भी समायी रहती है , सनातन धर्म के महापुरुषों एवं वैज्ञानिकों का भी मानना है कि यह सृष्टि एवं मनुष्य का शरीर पंच तत्वों से बना हुआ है | गोस्वामी तुलसीदास जी ने अपने मानस में लिखा है कि :- "क्षिति जल पावक गगन समीरा ! पंच रचित अति अधम शरीरा !! अर्थात :- पृथ्वी , जल , आकाश , हवा एवं अग्नि से मिलकर यह सृष्टि बनी एवं मनुष्य का शरीर भी इन्हीं पंच तत्वों से मिलकर बना है | पंचमहाभौतिक शरीर को मुक्ति दिलाने की कामना से भक्तजन अपने आराध्य की पंचकोसी परिक्रमा करते हैं | पंचकोशी परिक्रमा अर्थात एक - एक कोस एक - एक तत्व के लिए समर्पित माना जाता है | अयोध्या , मथुरा , काशी , वाराणसी एवं दक्षिण के लगभग सभी तीर्थ स्थलों पर पंचकोसी परिक्रमा कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को श्रद्धालु जनों के द्वारा बड़े प्रेम से की जाती है | मानव जीवन ही नहीं बल्कि यह सृष्टि भीी निरंतर परिक्रमा करती रहती है इसलिए प्रत्येक मनुष्य को अपने जीवन में परिक्रमा के महत्व को समझना परम आवश्यक है |*



*आज कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को जैसे ही एकादशी का मान प्रारंभ होगा भक्तजन अपने आराध्य की पंचकोशी परिक्रमा प्रारंभ कर देंगे | अयोध्या ही नहीं बल्कि देश के अनेक धर्म स्थानों / तीर्थ स्थलों पर यह परिक्रमा प्रारंभ हो जाएगी | ऐसा मानना है चार महीने की निद्रा के बाद आज के ही दिन भगवान श्री विष्णु निद्रा का त्याग करते हैं , इस अवसर पर सभी देवताओं ने इनका पूजन करके परिक्रमा की थी इसीलिए देवोत्थानी एकादशी के दिन परिक्रमा करने का विधान है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" परिक्रमा के विषय में इतना ही कहना चाहूंगा कि इस संपूर्ण ब्रह्मांड का प्रत्येक ग्रह - नक्षत्र किसी न किसी तारे की परिक्रमा की कर रहा है | सूर्य उदय हो करके एक परिक्रमा के क्रम में ही पश्चिम में अस्त हो जाता है | यह परिक्रमा ही जीवन का सत्य है | मनुष्य का संपूर्ण जीवन ही एक चक्र है इस चक्र को समझने के लिए ही परिक्रमा जैसे विधानों को निर्मित किया गया है | हमारे मनीषियों का मानना है कि यह समस्त सृष्टि भगवान में ही समाई हुई है उन्हीं से सृष्टि की उत्पत्ति हुई है , भगवान ही सृष्टि का मूल है इसलिए उनकी परिक्रमा करके मनुष्य समस्त सृष्टि की परिक्रमा करने का फल प्राप्त करता है | आज मनुष्य के व्यस्ततम जीवन में भी मनुष्य कुछ समय निकालकर अयोध्या , काशी , मथुरा की पंचकोशी परिक्रमा करके ईश्वर के प्रति अपनी श्रद्धा अर्पित करता है | पंचतत्वों को अपने जीवन में विकार रहित करने के उद्देश्य मनुष्य अपने आराध्य की पंचकोसी परिक्रमा करता है | परिक्रमा का धार्मिक महत्व कोई भी हो परंतु आज के व्यस्ततम जीवन में मनुष्य यदि कुछ समय अपने आराध्य के प्रति निकालता है तो निश्चित ही उसे उसके जीवन में पंच विकारों से मुक्ति प्राप्त हो सकती है |*


*समय-समय पर मनुष्य को सचेत करने के लिए एवं जीवन के ज्ञात - अज्ञात पाप कर्मों से बचाने के लिए हमारे सनातन के पुराधाओं ने ऐसे नियम बनाए हैं जिससे मनुष्य कम से कम एक दिन के लिए की ईश्वर के प्रति समर्पित हो |*


🌺💥🌺 *जय श्री हरि* 🌺💥🌺


🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥



आचार्य अर्जुन तिवारी

प्रवक्ता

श्रीमद्भागवत/श्रीरामकथा

संरक्षक

संकटमोचन हनुमानमंदिर

बड़ागाँव श्रीअयोध्याजी

(उत्तर-प्रदेश)

9935328830


🍀🌟🍀🌟🍀🌟🍀🌟🍀🌟🍀

अगला लेख: नारी का त्याग / अहोई अष्टमी :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
24 अक्तूबर 2019
*सनातन धर्म में मानव जीवन को चार भागों में विभक्त करते हुए इन्हें आश्रम कहा गया है | जो क्रमश: ब्रह्मचर्य , गृहस्थ , सन्यास एवं वानप्रस्थ के नाम से जाना जाता है | जीवन का प्रथम आश्रम ब्रह्मचर्य कहा जाता है | ब्रह्मचर्य एक ऐसा विषय है जिस पर आदिकाल से लेकर आज तक तीखी बहस होती रही है | स्वयं को ब्रह्म
24 अक्तूबर 2019
12 नवम्बर 2019
*सनातन धर्म में समय - समय पर अनेक व्रत / त्यौहार मनाये जाते रहते हैं | यहाँ शायद ही कोई दिन ऐसा हो जिस दिन कोई व्रत या पर्व न मनाया जाता हो | कार्तिक मास तो सबसे दिव्य है | अनेक अलौकिक , पौराणिक एवं लोक मान्यताओं के रूप में अनेक त्योहारों को स्वयं में समेटे हुए कार्तिक मास का आज समापन हो रहा है | जह
12 नवम्बर 2019
24 अक्तूबर 2019
27 अक्टूबर के दिन पूरा देश दीपावली का शुभ त्यौहार मनाएगा। हर कोई इसकी खरीदारी और तैयारी में लगा हुआ है लेकिन अगर इनमें सबसे अहम बात को जाना जाए तो पूजा सबसे अहम होती है। अगर दीपावली वाले दिन पूजा नहीं हो तो ये दिन मनाने का कोई मतलब नहीं होता है। यहां हम आपको दीपावली मनाने का तरीका और शुभ मुहूर्त के
24 अक्तूबर 2019
31 अक्तूबर 2019
..... इंसानियत ही सबसे पहले धर्म है, इसके बाद ही पन्ना खोलो गीता और कुरान का......"जय हिन्द"
31 अक्तूबर 2019
01 नवम्बर 2019
*इस संसार में मनुष्य एक चेतन प्राणी है , उसके सारे क्रियाकलाप में चैतन्यता स्पष्ट दिखाई पड़ती है | मनुष्य को चैतन्य रखने में मनुष्य के मन का महत्वपूर्ण स्थान है | मनुष्य का यह मन एक तरफ तो ज्ञान का भंडार है वहीं दूसरी ओर अंधकार का गहरा समुद्र भी कहा जा सकता है | मन के अनेक क्रियाकलापों में सबसे महत्
01 नवम्बर 2019
24 अक्तूबर 2019
सुप्रीमकोर्ट में अब हिंदू और मुस्लिम पक्ष से सारी दलीलें 16 अक्टूबर को ही बंद कर दी गई थी। अब इस राम मंदिर-बाबरी मस्जिद विवाद पर फैसला दीवाली की छुट्टियों के बाद आ सकता है। पूरा देश अपने-अपने समर्थन में फैसला आने का इंतजार कर रहे हैं मगर क्या आपको ये मामला पूरी तरह से पता है? अगर पता है तो क्या आपको
24 अक्तूबर 2019
09 नवम्बर 2019
*सनातन धर्म में मानव जीवन को चार आश्रमों में बांटा गया है , जिनमें से सर्वश्रेष्ठ आश्रम गृहस्थाश्रम को बताया गया है , क्योंकि गृहस्थ आश्रम का पालन किए बिना मनुष्य अन्य तीन आश्रम के विषय में कल्पना भी नहीं कर सकता | मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है समाज का निर्माण परिवार से होता है | व्यक्ति के जीवन में
09 नवम्बर 2019
25 अक्तूबर 2019
*सनातन धर्म के मानने वाले भारत वंशी सनातन की मान्यताओं एवं परम्पराओं को आदिकाल से मानते चले आये हैं | इन्हीं मान्यताओं एवं परम्पराओं ने सम्पूर्ण विश्व के समक्ष एक उदाहरण प्रस्तुत किया है | सनातन की संस्त परम्पराओं में प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से वैज्ञानिकता भी ओतप्
25 अक्तूबर 2019
28 अक्तूबर 2019
*मानव जीवन पा करके मनुष्य लंबी आयु जीता है | जीवन को निरोगी एवं दीर्घ जीवी रखने के लिए मनुष्य की मुख्य आवश्यकता है भोजन करना | पौष्टिक भोजन करके मनुष्य एक सुंदर एवं स्वस्थ शरीर प्राप्त करता है | मानव जीवन में भोजन का क्या महत्व है इसको बताने की आवश्यकता नहीं है , नित्य अपने घरों में अनेकों प्रकार
28 अक्तूबर 2019
11 नवम्बर 2019
*मानव जीवन में षट्कर्मों का विशेष स्थान है | जिस प्रकार प्रकृति की षडरितुयें , मनुष्यों के षडरिपुओं का वर्णन प्राप्त होता है उसी प्रकार मनुष्य के जीवन में षट्कर्म भी बताये गये हैं | सर्वप्रथम तो मानवमात्र के जीवन में छह व्यवस्थाओं का वर्णन बाबा जी ने किया है जिससे कोई भी नहीं बच सकता | यथा :- जन्म ,
11 नवम्बर 2019
30 अक्तूबर 2019
*मानव जीवन में पवित्रता का बहुत बड़ा महत्त्व है | प्रत्येक मनुष्य स्वयं को स्वच्छ एवं पवित्र रखना चाहता है | नित्य अनेक प्रकार से संसाधनों से स्वयं के शरीर को चमकाने का प्रयास मनुष्य द्वारा किया जाता है | क्या पवित्रता का यही अर्थ हो सकता है ?? हमारे मनीषियों ने बताया है कि प्रत्येक तन के भीतर एक मन
30 अक्तूबर 2019
22 अक्तूबर 2019
इस संसार में महिलाओं का जीवन सरल नहीं है और हर पग पर उन्हें कोई ना कोई परीक्षा देनी होती है। उनके ही कारण रमायण, महाभारत जैसे कई युद्ध हुए लेकिन फिर भी हिंदू धर्म में कहीं ना कहीं महिलाओं को देवी का दर्जा दिया गया है। मगर इस्लामिक धर्म
22 अक्तूबर 2019
31 अक्तूबर 2019
*मनुष्य इस धरा धाम पर जन्म लेकर के जीवन भर अनेकों कृत्य करते हुए अपनी जीवन यात्रा पूर्ण करता है | इस जीवन अनेक बार ऐसी स्थितियां प्रकट हो जाती है मनुष्य किसी वस्तु , विषय या किसी व्यक्ति के प्रति इतना आकर्षित लगने लगता है कि उस वस्तु विशेष के लिए कई बार संसार को भी ठुकराने का संकल्प ले लेता है | आखि
31 अक्तूबर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x