ध्यान के लिए समय निकालना

07 नवम्बर 2019   |  डॉ पूर्णिमा शर्मा   (399 बार पढ़ा जा चुका है)

ध्यान के लिए समय निकालना

ध्यान के लिए समय निकालना और उसकी नियमितता बनाए रखना

ध्यान के लिए समय निकालना :

ध्यान का अभ्यास रात को अथवा दिन में किसी भी समय किया जा सकता है | किन्तु प्रातःकाल अथवा सायंकाल का समय ध्यान के लिए आदर्श समय होता है – क्योंकि इस समय का वातावरण ध्यान में सहायक होता है | आपके चारों ओर का संसार शान्त होता है और कोई आपके ध्यान में बाधा नहीं डाल सकता | सुबह सुबह और प्रातःकाल के समय आप तारो ताज़ा और अपेक्षाकृत अधिक चुस्त भी होते हैं | इसीलिए ऐसे ही समय ध्यान करना चाहिए | फिर भी आपकी दिनचर्या और आपके व्यक्तिगत उत्तरदायित्व आपके ध्यान के समय का निर्धारण करेंगे |

अगर आपके छोटे छोटे बच्चे हैं तो आपके लिए रात का समय उचित रहेगा जबकि बच्चे सोने के लिए चले जाएँगे | आरम्भ में आप पाँच से पन्द्रह मिनट तक की दो समयावधियाँ चुनिए जबकि आप दूसरों को कष्ट पहुँचाए बिना, दूसरों को असुविधा पहुँचाए बिना, अपने उत्तरदायित्वों की उपेक्षा किये बिना, बिना किसी शीघ्रता अथवा जल्दबाज़ी के और दूसरी बातों में स्वयं को व्यस्त रखे बिना ध्यान का अभ्यास कर सकें | इसके लिए अपनी दिनचर्या को व्यवस्थित करने का सबसे उपयुक्त समय होगा प्रातः जल्दी उठकर अथवा बिस्तर में जाने से ठीक पहले ध्यान करना |

कुछ लोग प्रातःकाल और कुछ सायंकाल स्वयं को प्राकृतिक रूप से ऊर्जावान और चेतन अनुभव करते हैं | यही समय आपके लिए ध्यान का उपयुक्त समय हो सकता है | फिर भी जैसा अभी ऊपर लिखा, आपकी दिनचर्या और आपके व्यक्तिगत उत्तरदायित्वों पर अधिक निर्भर करता है कि ध्यान के लिए कौन सा समय आपके लिए अधिक उपयुक्त और सुविधाजनक रहेगा |

समय की नियमितता को बनाए रखना :

यदि आप प्रतिदिन नियमित समय पर ध्यान का अभ्यास करेंगे तो निश्चित रूप से प्रगति ही होगी | इसको अपना स्वभाव बनाना और पूर्ण निष्ठा से उसका निर्वाह करना तथा अपनी दिनचर्या का पूर्व निर्धारित आवश्यक अंग बनाना ध्यान के अभ्यास में गहराई लाने के लिए सहायक होगा | यहाँ तक कि यदि आपकी दिनचर्या ऐसी है जो कि हर दिन बदलती रहती है तब भी ध्यान के लिए एक निश्चित समय निर्धारित करके प्रतिदिन उसी समय पर अभ्यास करने का प्रयास कीजिए | इससे आपके आलस्य तथा विलम्ब से कार्य करने की आपकी प्रवृत्ति के कारण जो व्यवधान उपस्थित होते हैं उनमें भी कमी आएगी |

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2019/11/07/meditation-and-its-practices-13/

अगला लेख: ४ नवम्बर से १० नवम्बर तक का साप्ताहिक राशिफल



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
30 अक्तूबर 2019
भाई दूज भाई भाई के मध्य भी हो तो कैसा रहेकल यों ही दो मित्रों की बातें सुनकर मन में कुछ विचार उत्पन्न हुआ जोमित्रों के साथ साझा करने की सोची | एक मित्र दूसरे मित्र से बोल रहा था कि भाई कलदिल्ली वापस आ रहा हूँ और तब हम दोनों भाई मिलकर भाई दूज मनाएँगे | मन में विचारआया कि बात तो सही है, बहन भाई की मङ्
30 अक्तूबर 2019
08 नवम्बर 2019
ध्यानऔर इसका अभ्यासध्यान के लिए स्वयं को तैयार करना :ध्यान के अभ्यास के लिए आपने अपने लिएउचित स्थान और अनुकूल समय का निर्धारण कर लिया तो समय की नियमितता भी हो जाएगी |अब आपको स्वयं को तैयार करना है ध्यान के अभ्यास के लिए | इस विषय में क्रमबद्धरूप से तैयारी करनी होगी | इसी क्रम में...प्रथम चरण – ध्यान
08 नवम्बर 2019
16 नवम्बर 2019
ध्यान की तैयारी की बात कर रहे हैं तोआगे बढ़ने से पूर्व ध्यान की तैयारी से सम्बद्ध कुछ अन्य महत्त्वपूर्ण तथ्यों को भीसमझ लेना आवश्यक होगा |ध्यान के समय भोजन का प्रभाव :योग का मनोविज्ञान चार प्राथमिकस्रोतों का वर्णन करता है – चार प्राथमिक इच्छाएँ जो हम सभी को प्रेरित करती हैं,और ये हैं – भोजन, सम्भोग,
16 नवम्बर 2019
30 अक्तूबर 2019
शुक्र का वृश्चिक राशि मेंगोचर दीपावलीकी गहमा गहमी समाप्त हुई, अब दो नवम्बर को छठ पूजा का आयोजन होगा, जिसकाआरम्भ कल कार्तिक शुक्ल चतुर्थी से हो जाएगा | सभी को छठ पर्व की हार्दिकशुभकामनाएँ... इसबीच सोमवार 28 अक्तूबर को प्रातःकाल आठ बजकर बत्तीस मिनट के लगभग समस्त सांसारिक सुख, समृद्धि, विवाह, परिवार सु
30 अक्तूबर 2019
06 नवम्बर 2019
ध्यान के अभ्यास के लिए स्थान एवं समयनियत करना :दीपमालिका का उल्लासमय पर्व सम्पन्नहो चुका है | अब ध्यान के अभ्यास के विषय में चर्चा को आगे बढ़ाते हुए बात करते हैंध्यान की प्रगाढ़ता के लिए ध्यान के अभ्यास के लिए समय एवं स्थान को नियत करने की |जो व्यक्ति नियमित रूप से ध्यान काअभ्यास करता है वह तो किसी भी
06 नवम्बर 2019
25 अक्तूबर 2019
क्षोभदिनेश डॉक्टरक्षोभ हिंदी का एक ऐसा शब्द है जिसके हूबहू भाववाला शब्द शायद किसी दूसरी भाषा में न हो । क्षोभ यानी खीज और दुख वाला ऐसा क्रोधजिसमे आप खुद को असहाय अनुभव करें । क्षोभ ऐसे लोगों को ज्यादा होता है जो देश औरसमाज की छोटी छोटी चीजों को लेकर जरूरत से ज्यादा सेंसिटिव होते है । यानि के जोगैंडे
25 अक्तूबर 2019
24 अक्तूबर 2019
लक्ष्मीपूजन का मुहूर्तजैसा कि सभी जानते हैं कि दीपावली बुराई, असत्य, अज्ञान, निराशा, निरुत्साह, क्रोध, घृणा तथा अन्य भी अनेक प्रकार के दुर्भावोंरूपी अन्धकार पर सत्कर्म, सत्य, ज्ञान,आशा तथा अन्य अनेकों सद्भावों रूपी प्रकाश की विजय का पर्व है और इस दीपमालिका केप्रमुख दीप हैं सत्कर्म, सत्य, ज्ञान, आशा,
24 अक्तूबर 2019
24 अक्तूबर 2019
कार्तिक मास का महत्त्वकार्तिक मास चल रहा है और कल से पञ्चपर्वों की श्रृंखला दीपावली कामहान पर्व आरम्भ हो जाएगा | वास्तव में हिन्दू मान्यता में कार्तिक मास का विशेषमहत्त्व माना गया है | इसे भगवान विष्णु का महीना कहा जाता है तथा विष्णु पूजा काइस माह में विशेष महत्त्व माना जाता है | साथ ही ऐसी भी मान्य
24 अक्तूबर 2019
30 अक्तूबर 2019
छठ पूजाशनिवार दो नवम्बर - कार्तिकशुक्ल षष्ठी - छठ पूजा का पावन पर्व – जिसका आरम्भ कल यानी कार्तिक शुक्ल चतुर्थी से ही हो जाएगाऔर सारा वातावरण “हमहूँ अरघिया देबई हे छठी मैया” और “कांच ही बाँस के बहंगियाबहंगी चालकत जाए” जैसे मधुर लोकगीतों से गुंजायमान हो उठेगा | सर्वप्रथम सभी को छठ पूजा की हार्दिक शुभ
30 अक्तूबर 2019
15 नवम्बर 2019
हम बात कर रहे हैं कि ध्यान के अभ्यासके लिए स्वयं को किस प्रकार तैयार करना चाहिए | इसी क्रम में आगे :पञ्चम चरण : ध्यान में बैठना :श्वास के अभ्यासों के महत्त्व के विषयमें पिछले अध्याय में चर्चा की थी | श्वास के उन विशिष्ट अभ्यासों को करने के बादआप अब ध्यान के लिए तैयार हैं | ध्यान के आसन में बैठ जाइए
15 नवम्बर 2019
03 नवम्बर 2019
4 से 10 नवम्बर2019 तक का साप्ताहिकराशिफलनीचे दिया राशिफल चन्द्रमा की राशि परआधारित है और आवश्यक नहीं कि हर किसी के लिए सही ही हो – क्योंकि लगभग सवा दो दिनचन्द्रमा एक राशि में रहता है और उस सवा दो दिनों की अवधि में न जाने कितने लोगोंका जन्म होता है | साथ ही ये फलकथन केवलग्रहों के तात्कालिक गोचर पर आध
03 नवम्बर 2019
28 अक्तूबर 2019
गोवर्धन पूजा, भाई दूज, यम द्वितीया, चित्रगुप्तजयन्तीकल सबने ख़ूब धूमधाम से दीपोत्सव तथा लक्ष्मी पूजन का आयोजन किया | आज यानी दीपावली के अगले दिन –पाँच पर्वों की इस श्रृंखला की चतुर्थ कड़ी है – गोवर्धन पूजा और अन्नकूट | इस त्यौहार का भारतीय लोक जीवन में काफी महत्व है | इसकेपीछे एक कथा प्रसिद्ध है कि ए
28 अक्तूबर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x