आस्था बनाम श्रद्धा

07 नवम्बर 2019   |  डॉ पूर्णिमा शर्मा   (2704 बार पढ़ा जा चुका है)

आस्था बनाम श्रद्धा

हम लोग प्रायः आस्था और अंध श्रद्धा में भेद करना भूल जाते हैं, इसी विषय पर प्रस्तुत है डॉ दिनेश शर्मा का एक लेख... बड़ी अच्छी तरह इस लेख में डॉ शर्मा ने इस बात को बताने का प्रयास किया है. ..

आस्था बनाम अंध श्रद्धा

डॉ दिनेश शर्मा

आज सुबह ही सोसायटी पार्क में कुछ मित्रों से बड़ी सार्थक चर्चा फेथ यानी आस्था को लेकर हुई । इधर उधर के मज़ाक और कुछ जेल के अंदर और बाहर बाबाओं की चर्चा करते करते कुछ कमाल के निष्कर्ष भी निकले । हम मनुष्यों के पास जीवन की अनसरटेनिटी या अनिश्चितता से पार पाने के लिए आस्था या फेथ का ही सबसे बड़ा सहारा होता है । वो चाहे किसी गुरु में हो, मंदिर गुरुद्वारे में हो , अपने पूजा घर में हो, किसी प्रसिद्ध तीर्थ स्थान में हो या अपनी खुद की प्रार्थनाओं में हो । हमारी आस्था या फेथ कब अंधी श्रद्धा में बदल जाती है, हमें पता ही नही लगता ।

आपको जानकर अजीब लगेगा कि ज़रूरी नही यह आस्था या फेथ किसी देवता या मंदिर ही में हो । यह किसी कॉर्पोरेशन, पोलिटिकल सिस्टम या पोलिटिकल पर्सन में भी हो सकती है । पिछले सात दशकों से चीन के लोगों ने कम्युनिज़्म को ही धर्म मानकर उसमे फेथ या आस्था रखते हुए बड़े गज़ब की तरक्की की है और आज चीन दुनिया का सबसे धनी और ताकतवर देश बन गया है । आप सब को तो पता ही है चीन की कम्युनिस्ट सरकार ने सत्तर वर्ष पहले ही किसी भी प्रकार के धर्म और धार्मिक पूजा को गैरकानूनी घोषित कर दिया था । चीनियों ने धीरे धीरे माओत्से तुंग और कम्युनिस्ट पार्टी में ही सम्पूर्ण आस्था स्थापित कर दी । उइगर में मुसलमानों को किसी भी प्रकार की धार्मिक अभियक्ति जैसे रोज़ा नमाज़ से रोकना उसी नीति का हिस्सा है ।

हम में से ज्यादातर लोगों की प्रवृत्ति जानने के बजाय मानने की होती है । और यहीं से अंध श्रद्धा पैदा होनी शुरू होती है । जैसे मैं आपसे कहूँ कि ऋषिकेश में एक मनोकामना सिद्ध हनुमान जी का मंदिर है जहाँ कोई भी मन्नत मांगने से पूरी हो जाती है । तो यदि आप किसी बात को लेकर परेशान या चिंतित है और आपका कोई काम अटका हुआ है तो आप बिना ज्यादा विचार के वहां जाने को तत्पर हो जाएंगे । इसे ही मानना कहते है । ज्यादातर लोग ऐसा ही करते है । कोई ही बिरला होता है जो यह कहेगा कि भाई मेरे हनुमान जी तो मेरे अपने भीतर है , मुझे कहीं जाने की क्या ज़रूरत है ।

आज गुरुओं के डेरे हों या बाबाओं के आश्रम, यहां वहां के तीर्थ स्थल हों या साल दर साल बढ़ती कांवड़ियों की भीड़ इनके सबके पीछे 'गतानुगता' वाली अंध श्रद्धा ही है । यानि के तुम गए थे तो हम भी जाएंगे । एक मित्र ने एक बड़ा अच्छा उदाहरण दिया कि रेलवे लाइन के ऊपर बने पुल पर अगर चार आदमी इकट्ठे होकर नीचे झांकना शुरू कर दें, तो थोड़ी देर में वहां सैंकड़ो की भीड़ लग जाएगी, स्कूटर कारें रुक जाएंगी और सब लोग एक दूसरे की देखा देखी नीचे झांकना शुरू कर देंगे ।

यह भी 'अंध श्रद्धा' का ही एक रूप है ।

अगला लेख: ४ नवम्बर से १० नवम्बर तक का साप्ताहिक राशिफल



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
07 नवम्बर 2019
देवोत्थान एकादशी और तुलसी विवाह हिन्दू धर्म मेंएकादशी तिथि का विशेष महत्त्व है | Astrologers तथा पौराणिकमान्यताओं के अनुसार प्रत्येक वर्ष चौबीस एकादशी होतीहै, और अधिमास हो जाने पर ये छब्बीस हो जाती हैं | इनमें से आषाढ़ शुक्ल एकादशी को जब सूर्य मिथुन राशि में संचार करता
07 नवम्बर 2019
24 अक्तूबर 2019
लक्ष्मीपूजन का मुहूर्तजैसा कि सभी जानते हैं कि दीपावली बुराई, असत्य, अज्ञान, निराशा, निरुत्साह, क्रोध, घृणा तथा अन्य भी अनेक प्रकार के दुर्भावोंरूपी अन्धकार पर सत्कर्म, सत्य, ज्ञान,आशा तथा अन्य अनेकों सद्भावों रूपी प्रकाश की विजय का पर्व है और इस दीपमालिका केप्रमुख दीप हैं सत्कर्म, सत्य, ज्ञान, आशा,
24 अक्तूबर 2019
24 अक्तूबर 2019
मेष ( च, चू, चे, ला, ली, लू, ले, लो, अ ):- जीविका संबंधी महत्वपूर्ण कार्यों में आलस्य न करें. शिक्षा-प्रतियोगिता की दिशा में समुचित परिश्रम की आवश्यकता है. सुख-साधन हेतु व्यय संभव. यात्रा द्वारा कार्य सिद्धि होने का योग है. ==> शुभ रंग : सुनहरा शुभ अंक : 6# आपके लिए उपाय => गुनगुने पानी से सेंधा
24 अक्तूबर 2019
30 अक्तूबर 2019
शुक्र का वृश्चिक राशि मेंगोचर दीपावलीकी गहमा गहमी समाप्त हुई, अब दो नवम्बर को छठ पूजा का आयोजन होगा, जिसकाआरम्भ कल कार्तिक शुक्ल चतुर्थी से हो जाएगा | सभी को छठ पर्व की हार्दिकशुभकामनाएँ... इसबीच सोमवार 28 अक्तूबर को प्रातःकाल आठ बजकर बत्तीस मिनट के लगभग समस्त सांसारिक सुख, समृद्धि, विवाह, परिवार सु
30 अक्तूबर 2019
24 अक्तूबर 2019
भारत में जितने भी बड़े-बड़े व्यापारी और सेलिब्रिटीज हैं उनके अपने पर्सनल पंडितजी होते हैं। जिनसे पूछकर ही वे अपने सारे शुभ काम करते हैं। ऐसा हर कोई करता है और धार्मिक गुरु पर उनका ये विश्वास ही उन्हें सच्ची सफलता प्रदान करता है। ज्योतिषीयों के बारे में बहुत सारी बातें होती हैं जिन्हें समझने के लिए ज
24 अक्तूबर 2019
30 अक्तूबर 2019
भाई दूज भाई भाई के मध्य भी हो तो कैसा रहेकल यों ही दो मित्रों की बातें सुनकर मन में कुछ विचार उत्पन्न हुआ जोमित्रों के साथ साझा करने की सोची | एक मित्र दूसरे मित्र से बोल रहा था कि भाई कलदिल्ली वापस आ रहा हूँ और तब हम दोनों भाई मिलकर भाई दूज मनाएँगे | मन में विचारआया कि बात तो सही है, बहन भाई की मङ्
30 अक्तूबर 2019
23 अक्तूबर 2019
बुध कावृश्चिक में गोचर आज कार्तिक कृष्ण दशमी को विष्टि करण और शुक्ल योगमें रात्रि ग्यारह बजकर बयालीस मिनट लगभग पर बुध मित्र ग्रह शुक्र की तुला राशि सेनिकलकर मंगल की वृश्चिक राशि में प्रविष्ट हो जाएगा | इसप्रवेश के समय बुध विशाखा नक्षत्र पर होगा | यहाँ से 29 अक्टूबर को अनुराधा नक्षत्र पर जाएगा | जहाँ
23 अक्तूबर 2019
05 नवम्बर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKer
05 नवम्बर 2019
03 नवम्बर 2019
4 से 10 नवम्बर2019 तक का साप्ताहिकराशिफलनीचे दिया राशिफल चन्द्रमा की राशि परआधारित है और आवश्यक नहीं कि हर किसी के लिए सही ही हो – क्योंकि लगभग सवा दो दिनचन्द्रमा एक राशि में रहता है और उस सवा दो दिनों की अवधि में न जाने कितने लोगोंका जन्म होता है | साथ ही ये फलकथन केवलग्रहों के तात्कालिक गोचर पर आध
03 नवम्बर 2019
24 अक्तूबर 2019
उज्जैन (मध्यप्रदेश) निवासी आदरणीय पंडित सूर्य नारायण व्यास वह मूर्धन्य विद्वान ज्योतिषी थे जिन्होंने भारत की स्वतंत्रता का मुहूर्त 14 अगस्त की रात्रिकालीन अभिजीत (12 बजे ) या ये कहें की 15 अगस्त की सुबह 00 बजे का निकला था l स्वतंत्र भारत का जन्म 15 अगस्त 1947 को मध्यरात्रि दिल्ली में हुआ था और कुंडल
24 अक्तूबर 2019
28 अक्तूबर 2019
आस्था और विचारधार का प्रत्येक व्यक्ति का अपना व्यक्तिगत दृष्टिकोण हो सकता है, लेकिन अपनी आस्था और विचारधारा को दूसरे व्यक्ति पर थोपने का प्रयास ग़लत है | इस विषय में डॉ दिनेश शर्मा के लेख. ..आस्था और विचारधाराडॉ दिनेश शर्माहर आदमी की अपनी धार्मिक और राजनीतिक विचारधा
28 अक्तूबर 2019
06 नवम्बर 2019
सुखऔर दुःखजीवन में अनुभूत सुख अथवा दुःख अच्छेया बुरे जीवन का निर्धारण नहीं करते | क्योंकि जीवन सुख-दुख, आशा-निराशा, मान-अपमान, सफलता-असफलता, दिन-रात,जीवन-मृत्यु आदि का एक बड़ा उलझा हुआ सा लेकिन आकर्षक चित्र है | सुखी व्यक्ति वहनहीं है जो सदा “सुखी” रहता है, बल्कि सुखी व्यक्ति वह है जोदुःख में भी सुख
06 नवम्बर 2019
30 अक्तूबर 2019
छठ पूजाशनिवार दो नवम्बर - कार्तिकशुक्ल षष्ठी - छठ पूजा का पावन पर्व – जिसका आरम्भ कल यानी कार्तिक शुक्ल चतुर्थी से ही हो जाएगाऔर सारा वातावरण “हमहूँ अरघिया देबई हे छठी मैया” और “कांच ही बाँस के बहंगियाबहंगी चालकत जाए” जैसे मधुर लोकगीतों से गुंजायमान हो उठेगा | सर्वप्रथम सभी को छठ पूजा की हार्दिक शुभ
30 अक्तूबर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x