अंकों का खेल

08 नवम्बर 2019   |  शिल्पा रोंघे   (398 बार पढ़ा जा चुका है)



क्या स्कूल और कॉलेज

के अंक ही सफलता

का अंकशास्त्र लिखते है ?


क्या यही सफलता की

आखिरी सीढ़ी होते है ?


अंकों का अतीत ही सुनहरे

भविष्य की गारंटी हो सकता है ?


समझ गया जो जीवन को बहुमूल्य

समझ ले वो ये भी, सफलता असफलता अंकों से परे होती है, ये दृष्टिकोण में

होती है, प्रमाणपत्रों तक ही सीमित नहीं.


शिल्पा रोंघे

अगला लेख: जानिए भाग्य बड़ा या कर्म



रेणु
10 नवम्बर 2019

बहुत सही प्रिय शिल्पा जी | अंकों से किसी भी व्यक्ति के व्यक्तित्व का आकलन नहीं हो सकता ये बात समझना आज की जरूरत है| सस्नेह --

शिल्पा रोंघे
11 नवम्बर 2019

धन्यवाद रेणु जी

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
31 अक्तूबर 2019
लोग बुरे नहीं होतेबस जब आपके मतलब के नहीं होतेतो बुरे लगने लगते हैसमझनी है जिंदगी तो पीछे देखोजीनी है जिंदगी तो आगे देखोहम भी वहीं होते हैं,रिश्ते भी वहीं होते हैंऔर रास्ते भी वहीं होते हैंबदलता है तो बस*समय, एहसास, और नज़रियाा🙏🙏 Good day 🙏🙏
31 अक्तूबर 2019
26 अक्तूबर 2019
जा
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <w:ValidateAgainstSchemas></w:Val
26 अक्तूबर 2019
05 नवम्बर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKer
05 नवम्बर 2019
12 नवम्बर 2019
सांप सीढ़ी सिर्फखेल नहीं,जीवन दर्शन भी है.सफलता और विफलता दुश्मन नहीं, एक दूसरे की साथी है.हर रास्ते पर सांप सा रोड़ा, कभी मंजिल के बेहद करीब आकर भी लौटना पड़ता है.कभी सिफ़र से शिखर तो कभी शिखर से सिफ़र का सफ़र तय करना पड़ता है.सफलता का कोई
12 नवम्बर 2019
31 अक्तूबर 2019
मन अक्सर कहता हैईश्वर से कुछ मांग लेआत्मा रोक देती है यह कहकर किप्रभु ने जितना दिया हैक्या मै उसके काबिल भी था
31 अक्तूबर 2019
11 नवम्बर 2019
फिल्मों से आम लोगों का काफी गहरा कनेक्शन होता है क्योंकि लोग इससे खुद को कनेक्ट करने की कोशिश करते हैं। मगर 90 के दशक की फिल्में जिन दर्शकों ने देखी है उन्हें आज की फिल्में खास पसंद नहीं होती क्योंकि आज की फिल्मों में वो कहानी और अभिनय नहीं है जो तब होती थी। आज के लोगों को आधुनिक जमाने की फिल्में पस
11 नवम्बर 2019
11 नवम्बर 2019
देशभर में हर कोई योगा के नाम पर बाबा रामदेव को याद करते हैं वैसे ही पतंजलि के नाम पर आचार्य बालकृष्ण का नाम जरूर याद आता है। पतंजलि कंपनी खुलने के बाद से ही बाबा रामदेव और उनके शिष्य आचार्य बालकृष्ण ने हमेशा स्वदेशी चीजों का इस्तेमाल करने पर जोर दिया है। अपने देश में बनी चीजों का इस्तेमाल करना हमारे
11 नवम्बर 2019
14 नवम्बर 2019
सर्द धूप के साथ हो चुकी है शुरू स्वेटरों की बुनाई.और रज़ाईयों की सिलाई.हो चुका है ठंड से बाज़ार गर्म अब.अदरक की खुशबू से महकने लगी है चाय की दुकाने कुछ ज्यादा ही.हो चुका है ठंड से बाज़ार गर्म अब.गज़क और तिल के लड्डूओंसे सजने लगी है दुकानें
14 नवम्बर 2019
29 अक्तूबर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <w:ValidateAgainstSchemas></w:Val
29 अक्तूबर 2019
19 नवम्बर 2019
हुई सभा एक दिन गुड्डे गुड़ियों की.गुड़िया बोली,मैं सुंदरता की पुड़ियामुझसे ना कोई बढ़िया.इतने में आया गुड्डापहन के लाल चोला,कितनों का घमंड है मैंने तोड़ा.बीच में उचका काठी का घोड़ाअरे चुप हो जाओ तुम थोड़ा.मैंने ही हवा का रुख़ है मोड़ा.लट्टू घूमा, कुछ झूमा.बोला लड़ों
19 नवम्बर 2019
19 नवम्बर 2019
नशा "नाश" का दूसरा नाम है.ये नाश करता है बुद्धि का.ये नाश करता है धन का.ये नाश करता है संबंधों का.ये नाश करता है नैतिक मूल्यों का.नाश नहीं निर्माण की तरफ बढ़ोयुवाओं तुम नशामुक्त समाज बनानेका संकल्प लो.शिल्पा रोंघे
19 नवम्बर 2019
01 नवम्बर 2019
शा
कुछ तो तड़प शांत हो जाएंगी हमारी।जब तेरे पहलू में कुछ पल सुकून के बिताया हम करें ।।💓💓💓💓💓💓💓मिथ्या ✍
01 नवम्बर 2019
30 अक्तूबर 2019
कु
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedContent> <w:AlwaysShowPlaceh
30 अक्तूबर 2019
02 नवम्बर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <
02 नवम्बर 2019
25 अक्तूबर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormattin
25 अक्तूबर 2019
04 नवम्बर 2019
मा
मासूम बन के बहुत दिल तोड़ लिए साहिब, अब गुनाह कबूलने का है वक्त आ गया. आग इश्क की लगाईं जो है दिल में मेरे, उस आग में जलने का तेरा वक्त आ गया. ना जियेंगे हम ना तुम ही यूँ जी पाओगे, खेल आग का है इससे यूँ बच ना पाओगे. आसान
04 नवम्बर 2019
14 नवम्बर 2019
सर्द धूप के साथ हो चुकी है शुरू स्वेटरों की बुनाई.और रज़ाईयों की सिलाई.हो चुका है ठंड से बाज़ार गर्म अब.अदरक की खुशबू से महकने लगी है चाय की दुकाने कुछ ज्यादा ही.हो चुका है ठंड से बाज़ार गर्म अब.गज़क और तिल के लड्डूओंसे सजने लगी है दुकानें
14 नवम्बर 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x