कर्मयोग - कर्म के लिए कर्म

08 नवम्बर 2019   |  डॉ पूर्णिमा शर्मा   (406 बार पढ़ा जा चुका है)

कर्मयोग - कर्म के लिए कर्म

गीता – कर्मयोग अर्थात कर्म के लिए कर्म

“गीता जैसा ग्रन्थ किसी को भी केवल मोक्ष की ही ओर कैसे ले जा सकता है ? आख़िर अर्जुन को युद्ध के लिये तैयार करने वाली वाली गीता केवल मोक्ष की बात कैसे कर सकती है ? वास्तव में मूल गीता निवृत्ति प्रधान नहीं है | वह तो कर्म प्रधान है | गीता चिन्तन उन लोगों के लिये नहीं है जो स्वार्थपूर्ण सांसारिक जीवन बिताने के बाद अवकाश के समय ख़ाली बैठकर पुस्तक पढने लगते हैं, और न ही यह संसारी लोगों के लिए कोई प्रारम्भिक शिक्षा है | इसमें दार्शनिकता निहित है कि हमें मुक्ति की ओर दृष्टि रखते हुए सांसारिक कर्तव्य कैसे करने चाहियें | इसमें मनुष्य को उसके संसार में वास्तविक कर्तव्यों का बोध कराया गया है |” बालगंगाधर तिलक

स्वामी विवेकानन्द ने कर्मयोग की दीपक से उपमा दी है - जिस प्रकार दीपक का जलना एवं उसके द्वारा प्रकाश का कर्म होना उसमें तेल, बाती तथा मिट्टी के विशिष्ट आकार - इन सभी की विशिष्ट सामूहिक भूमिका के द्वारा सम्भव होता है, उसी प्रकार समस्त गुणों की सामूहिक भूमिका से कर्म उत्पन्न होते हैं | इसी प्रकार फलों की सृष्टि भी गुणों का कर्म है न कि आत्मा का | इसी का ज्ञान वस्तुतः कर्म के रहस्य का ज्ञान है, इसे ही आत्म ज्ञान भी कहा गया है | तात्पर्य यह है कि संस्कारवश उत्तम-अनुत्तम कर्म में स्वतः ही प्रवृत्ति होती है, तथा संस्कारों के शमन होने पर स्वयं ही कर्मों से निवृत्ति भी हो जाती है, ऐसा जानना ही विवेकज्ञान कहलाता है | और यह ज्ञान उत्पन्न हो जाने पर अनासक्त भाव से कर्म होने लगते हैं, इन अनासक्त कर्मों को ही निष्काम कर्म कहा गया है | इस निष्काम कर्म के द्वारा पुनः कर्मों के परिणाम उत्पन्न नहीं होते | यही आत्म ज्ञान की स्थिति कही गयी है | इससे ही संयोग करने वाला मार्ग कर्मयोग कहा गया है |

योग का साधारण अर्थ है जोड़ और यह धर्म, आस्था और अंधविश्वास से परे है | योग एक सीधा विज्ञान है | प्रायोगिक विज्ञान है | योग है जीवन जीने की कला | योग एक पूर्ण चिकित्सा पद्धति है जो कि मनोवैज्ञानिक है | यह एक पूर्ण मार्ग है | वास्तव में देखा जाए तो धर्म लोगों को बन्धन में बाँधता है और योग सभी तरह के बन्धनों से मुक्ति का मार्ग बताता है | अध्यात्म का मार्ग बताता है |

अध्यात्म है क्या ? वह अनुभूति जहाँ सारी सीमाओं का अतिक्रमण हो जाता है, सब शब्द व्यर्थ हो जाते हैं, सारी अभिव्यक्तियाँ शून्य हो जाती हैं | तो जो कर्म जोड़ने का कार्य करे वह कर्मयोग है | और जब तक हम कर्म के द्वारा स्वयं से नहीं जुड़ते तब तक समाधि तक पहुँचना कठिन होगा और कर्मयोग को निष्ठा पूर्वक करने वाला व्यक्ति कर्मनिष्ठ है, कर्मयोगी है | इस योग में कर्म के द्वारा ईश्वर की प्राप्ति की जाती है | श्रीमद्भगवद्गीता में कर्मयोग को सर्वश्रेष्ठ माना गया है | गृहस्थ और कर्मठ व्यक्ति के लिए यह योग अधिक उपयुक्त है |

हममें से प्रत्येक किसी न किसी कार्य में लगा हुआ है, पर हममें से अधिकांश अपनी शक्तियों का अधिकतर भाग व्यर्थ खो देते हैं; क्योंकि हम कर्म के रहस्य को नहीं जानते | जीवन की रक्षा के लिए, समाज की रक्षा के लिए, देश की रक्षा के लिए, विश्व की रक्षा के लिए कर्म करना आवश्यक है |

किन्तु यह भी एक सत्य है कि दु:ख की उत्पत्ति कर्म से ही होती है | सारे दु:ख और कष्ट आसक्ति से उत्पन्न हुआ करते हैं | कोई व्यक्ति कर्म करना चाहता है, वह किसी मनुष्य की भलाई करना चाहता है और इस बात की भी प्रबल सम्भावना है कि उपकृत मनुष्य कृतघ्न निकलेगा और भलाई करने वाले के विरुद्ध कार्य करेगा | इस प्रकार सुकृत्य भी दु:ख देता है | फल यह होता है कि इस प्रकार की घटना मनुष्य को कर्म से दूर भगाती है | यह दु:ख या कष्ट का भय कर्म और शक्ति का बड़ा भाग नष्ट कर देता है |

कर्मयोग सिखाता है कि कर्म के लिए कर्म करो, आसक्ति रहित होकर कर्म करो | कर्मयोगी इसीलिए कर्म करता है कि कर्म करना उसे अच्छा लगता है और इसके परे उसका कोई हेतु नहीं है | कर्मयोगी कर्म का त्याग नहीं करता वह केवल कर्मफल का त्याग करता है और कर्मजनित दु:खों से मुक्त हो जाता है | उसकी स्थिति इस संसार में एक दाता के समान है और वह कुछ पाने की कभी चिन्ता नहीं करता | वह जानता है कि वह दे रहा है, और बदले में कुछ माँगता नहीं और इसीलिए वह दु:ख के चंगुल में नहीं पड़ता | वह जानता है कि दु:ख का बन्धन आसक्तिकी प्रतिक्रिया का ही फल हुआ करता है |

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2019/11/08/%e0%a4%97%e0%a5%80%e0%a4%a4%e0%a4%be-%e0%a4%95%e0%a4%b0%e0%a5%8d%e0%a4%ae%e0%a4%af%e0%a5%8b%e0%a4%97-%e0%a4%85%e0%a4%b0%e0%a5%8d%e0%a4%a5%e0%a4%be%e0%a4%a4-%e0%a4%95%e0%a4%b0%e0%a5%8d/

अगला लेख: ४ नवम्बर से १० नवम्बर तक का साप्ताहिक राशिफल



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
25 अक्तूबर 2019
नरक चतुर्दशी / रूप चतुर्दशीपाँचपर्वों की श्रृंखला “दीपावली” की दूसरी कड़ी है नरक चतुर्दशी, जिसे छोटी दिवाली अथवा रूप चतुर्दशी केनाम से भी जाना जाता है और प्रायः यह लक्ष्मी पूजन से पहले दिन मनाया जाता है |किन्तु यदि सूर्योदय में चतुर्दशी तिथि हो और उसी दिन अपराह्न मेंअमावस्या तिथि हो तो नरक चतुर्दशी ल
25 अक्तूबर 2019
30 अक्तूबर 2019
छठ पूजाशनिवार दो नवम्बर - कार्तिकशुक्ल षष्ठी - छठ पूजा का पावन पर्व – जिसका आरम्भ कल यानी कार्तिक शुक्ल चतुर्थी से ही हो जाएगाऔर सारा वातावरण “हमहूँ अरघिया देबई हे छठी मैया” और “कांच ही बाँस के बहंगियाबहंगी चालकत जाए” जैसे मधुर लोकगीतों से गुंजायमान हो उठेगा | सर्वप्रथम सभी को छठ पूजा की हार्दिक शुभ
30 अक्तूबर 2019
31 अक्तूबर 2019
..... इंसानियत ही सबसे पहले धर्म है, इसके बाद ही पन्ना खोलो गीता और कुरान का......"जय हिन्द"
31 अक्तूबर 2019
28 अक्तूबर 2019
गोवर्धन पूजा, भाई दूज, यम द्वितीया, चित्रगुप्तजयन्तीकल सबने ख़ूब धूमधाम से दीपोत्सव तथा लक्ष्मी पूजन का आयोजन किया | आज यानी दीपावली के अगले दिन –पाँच पर्वों की इस श्रृंखला की चतुर्थ कड़ी है – गोवर्धन पूजा और अन्नकूट | इस त्यौहार का भारतीय लोक जीवन में काफी महत्व है | इसकेपीछे एक कथा प्रसिद्ध है कि ए
28 अक्तूबर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x