लडके लड़किया दोस्त नहीं by नीतेश शाक्य

08 नवम्बर 2019   |  Neetesh shakya   (449 बार पढ़ा जा चुका है)

लडके लड़कियां प्रेमी प्रेमिका बन सकते दोस्त नहीं प्रेम बासना कर सकते स्नेह नहीं, लड़कियां कहती एक या उससे अधिक दोस्त है, मेरे अनुभव के अनुसार यह बात अपने परिवार वालों से झूठ बोलती है| जबकि यह सच है कि हमने लडके लड़कियों पर मनोविज्ञानिकी अध्ययन किया उससे यह बात बिल्कुल हकीकत सिद्ध होती | हमारे लेख पड़ने वाले कुछ भी कह सकते है| लेखिन मुझे यकीन है कि आज नहीं तो कल सही मेरे इन शब्दों को मान्यता जरूर दी जाएगी |

किसी भी त्रुटि के लिए हमें क्षमा करें|

अगला लेख: नीतेश शाक्य



Neetesh shakya
07 दिसम्बर 2019

thanks sir

क्यों नहीं.
प्रेम शब्द के चक्कर में हम लोग स्नेह, एक दूसरे की क़द्र, मान सम्मान इत्यादि सभी शब्दों को भूल गए हैं. शायद ऐसा इसलिए है कि बचपन से हम लोग टेलीविजन व फिल्मों में केवल इश्क ही इश्क देखते है. स्नेह देखते हैं तो वह 'इमोशंस' से लबा लब भरा होता है.; अधिकांश तो 'इमोशनल ब्लैकमेल ' होता है. इन्ही सब से संस्कार पड़ रहे है की बस लड़के और लड़की में केवल वासना वाल प्रेम/इश्क ही पनप सकता है, स्नेह, एक दूसरे की भावनाओं की क़द्र नहीं.
वीरेन्द्र

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x