छोटे शहर की खुशबू

09 नवम्बर 2019   |  शिल्पा रोंघे   (431 बार पढ़ा जा चुका है)

छोटे शहर की खुशबू


जब छोटे शहरों के लोग रूख़
बड़े शहरों का करते है।
वो चंपा चमेली से हो जाते
हैं, महक साथ ले जाते हैं।
अपने पैरों की मिट्टी बिखेर कर आते है,

जहां कई और फूल उग आते है,

जहां भी जाते है अपनी पहचान साथ लेकर जाते है, वापस फिर
उसी महक को लेकर अपने छोटे से शहर
में जाते है, सब बदला -बदला सा उनको पाते हैं,
नहीं बदलती तो बस उनकी महक है जो दिखती नहीं
लेकिन बस जाती हैं उनकी सांसों में और बातों
में।


शिल्पा रोंघे

छोटे शहर की खुशबू

अगला लेख: जानिए भाग्य बड़ा या कर्म



शिल्पा रोंघे
11 नवम्बर 2019

कविता को पसंद करने के लिए शुक्रिया रेणु जी

रेणु
10 नवम्बर 2019

बहुत सुदर शिल्पा जी | छोटे शहर के संस्कार ऊँचे होते हैं , पर भौतिकता के मद में खोये बड़े शहर वाले ऐसा समझ नहीं पाते | हार्दिक स्नेह के साथ --

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
18 अक्तूबर 2019
🌹🌹🌹🌹🌹🌹मन बनाया है आज,तुम्हें जैसे भी हो, मना लूँ।दीपवाली के नावें,सारी रात रौशन कर निकाल दूँ!सुबह की खुमारी पुरजोर,गुस्ताखी कोई है मुमक़िऩचुप रहना जरा आज भर,ग़ुजारिस है- तोहफ़ों को बाँट दूँ!!🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷नज़रों का दोष कहें कि मुकद्दर का सौदागर।हर नज़्म लग रहीं है उनको, उम्दा बहर।।🌴
18 अक्तूबर 2019
06 नवम्बर 2019
कि
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <w:ValidateAgainstSchemas></w:Val
06 नवम्बर 2019
02 नवम्बर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <
02 नवम्बर 2019
21 अक्तूबर 2019
कुछ समय पहले सोशल मीडिया पर एक ही नाम और एक ही धुन खूब छाई हुई थी। कोलकाता के रेलवे स्टेशन पर गाना गाकर अपना पेट भरने वाली रानू मंडल ने पिछले दिनों खूब लोकप्रियता बटोरी। सोशल मीडिया पर उन्हें काफी सहानुभूति मिली और धीरे-धीरे वे स्टेशन से बॉलीवुड तक पहुंच गई, इतना ही नहीं म्यूजिक डायरेक्टर हिमेश रेश
21 अक्तूबर 2019
18 अक्तूबर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKe
18 अक्तूबर 2019
19 अक्तूबर 2019
रावण हर साल जल कर राख से जी उठता हैराम का तरकश खाली हो फिर भरता रहता हैयह राम रावण का युद्ध अनवरत मन में चलता हैखूँटे से बँधा स्वतंत्र हो लक्ष्मी संग विचरण करता हैसुर्य अस्त हो नित्य आभा बिखेर आलोकित करता हैअष्ट-पाश सट्-ऋपुओं के समन हेतु हमें यज्ञ करना हैसाघना-सेवा-त्याग से दग्ध मानवता को त्राण देना
19 अक्तूबर 2019
21 अक्तूबर 2019
देशभर में दीपावली का माहौल चल रहा है और हर कोई खरीददारी में लगा हुआ है। 25 अक्टूबर को धनतेरस का पर्व मनाया जाएगा और इस दिन आमतौर पर लोग बर्तन, सोना या चांदी खरीदते हैं, लेकिन इस विधायक ने ऐसा बयान दे दिया है कि आपको इनकी बात सही भी लग सकती है और गलत भी। ये बयान भारतीय जनता पार्टी के एक नेता ने कही ह
21 अक्तूबर 2019
19 अक्तूबर 2019
बॉलीवुड एक्ट्रेस स्वरा भास्कर इंडस्ट्री की ऐसी अभिनेत्री हैं जिन्हें सबसे ज्यादा ट्रोल किया जाता है और वे सबसे ज्यादा सोशल मीडिाय पर एक्टिव रहती हैं। मगर इस बार KBC को लेकर ट्रोल किया गया। बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन के क्विज रिएलिटी शो 'कौन बनेगा करोड़पति' को इस सीजन का तीसरा करोड़पति मिल चुका
19 अक्तूबर 2019
18 अक्तूबर 2019
तु
यह कविता मेरी दूसरी पुस्तक " क़यामत की रात " से है . इसमें प्रेम औ रदाम्पत्य जीवन के उतार-चढ़ाव पर जीवनसाथी द्वारा साथ छोड़ देने पर उत्पन्न हुए दुःख का वर्णन है .तुमने ऐसा क्यों किया जीवन की इस फुलवारी में, इस उम्र की चारदीवारी में।आकर वसंत भी चले गये, पतझड़ भी आकर चले गय
18 अक्तूबर 2019
31 अक्तूबर 2019
लोग बुरे नहीं होतेबस जब आपके मतलब के नहीं होतेतो बुरे लगने लगते हैसमझनी है जिंदगी तो पीछे देखोजीनी है जिंदगी तो आगे देखोहम भी वहीं होते हैं,रिश्ते भी वहीं होते हैंऔर रास्ते भी वहीं होते हैंबदलता है तो बस*समय, एहसास, और नज़रियाा🙏🙏 Good day 🙏🙏
31 अक्तूबर 2019
13 नवम्बर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKer
13 नवम्बर 2019
21 अक्तूबर 2019
धर्म और मज़हब के नाम पर जो एक सिरफिरापन हर तरफ दिखाई दे रहा है उसी विषय पर एक अच्छा लेख डॉ दिनेश शर्मा का. .. सिरफिरेदिनेश डॉक्टरकुछ सिरफिरे इधर भी है और उधर भी !क्योंकि ये सिरफिरे है तो इनका सोच भी बेसिर पैर का ही है ।जैसे कुछ सोचते हैं कि बी
21 अक्तूबर 2019
03 नवम्बर 2019
चाहे बात हॉलीवुड की हो या बॉलीवुड की प्रेम कहानियांहमेशा से ही दर्शकों की प्रिय रही है। हमेशा ऐसा नहीं होता कि प्रेम कहानी नायकनायिका और खलनायक के इर्द गिर्द ही घुमती हो। कभी कभी इंसान नहीं वक्त ही खलनायकबन जाता है और आ जाता है प्रेम कहानी तीसरा कोण, जी हां आज के इस लेख म
03 नवम्बर 2019
29 अक्तूबर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <w:ValidateAgainstSchemas></w:Val
29 अक्तूबर 2019
25 अक्तूबर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormattin
25 अक्तूबर 2019
22 अक्तूबर 2019
मेरा गांव शहर से क्या कम हैं।शुद्ध हवा और वातावरण है रेत के टीलों पर छा जाती हैंघनघोर घटाएंनज़ारे यह हिमाचल से क्या कम हैं।चलती है जब बरखा सावन की,धरती -अम्बर का मिलनास्वर्ग से क्या कम है।बादल ओढ़ा के जाता चुनरी हरियाली की बहना को,रिश्ता इनका रक्षाबंधन से क्या कम हैं।
22 अक्तूबर 2019
21 अक्तूबर 2019
आज का दौर ऐसा है कि प्यार नाम की चीज खो गई है और लोग बस शरीर से हमारे पास रहें यही ज्यादतर लोगों के लिए जरूरी है। इसके बाद भी अगर आपने किसी और को अपना बनाने के बारे में सोचा तो आपका पार्टनर आपके साथ कुछ भी कर सकता है। इसका जीता जागता उदाहरण अमेरिका में देखने को मिला। जब एक पॉर्न स्टार ने अपने ब्वॉयफ
21 अक्तूबर 2019
23 अक्तूबर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <
23 अक्तूबर 2019
31 अक्तूबर 2019
मन अक्सर कहता हैईश्वर से कुछ मांग लेआत्मा रोक देती है यह कहकर किप्रभु ने जितना दिया हैक्या मै उसके काबिल भी था
31 अक्तूबर 2019
14 नवम्बर 2019
सर्द धूप के साथ हो चुकी है शुरू स्वेटरों की बुनाई.और रज़ाईयों की सिलाई.हो चुका है ठंड से बाज़ार गर्म अब.अदरक की खुशबू से महकने लगी है चाय की दुकाने कुछ ज्यादा ही.हो चुका है ठंड से बाज़ार गर्म अब.गज़क और तिल के लड्डूओंसे सजने लगी है दुकानें.हो चुका है ठंड से बाज़ार गर्म अ
14 नवम्बर 2019
01 नवम्बर 2019
शा
कुछ तो तड़प शांत हो जाएंगी हमारी।जब तेरे पहलू में कुछ पल सुकून के बिताया हम करें ।।💓💓💓💓💓💓💓मिथ्या ✍
01 नवम्बर 2019
12 नवम्बर 2019
सांप सीढ़ी सिर्फखेल नहीं,जीवन दर्शन भी है.सफलता और विफलता दुश्मन नहीं, एक दूसरे की साथी है.हर रास्ते पर सांप सा रोड़ा, कभी मंजिल के बेहद करीब आकर भी लौटना पड़ता है.कभी सिफ़र से शिखर तो कभी शिखर से सिफ़र का सफ़र तय करना पड़ता है.सफलता का कोई
12 नवम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x