परिवार का महत्त्व :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

09 नवम्बर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (438 बार पढ़ा जा चुका है)

परिवार का महत्त्व :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सनातन धर्म में मानव जीवन को चार आश्रमों में बांटा गया है , जिनमें से सर्वश्रेष्ठ आश्रम गृहस्थाश्रम को बताया गया है , क्योंकि गृहस्थ आश्रम का पालन किए बिना मनुष्य अन्य तीन आश्रम के विषय में कल्पना भी नहीं कर सकता | मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है समाज का निर्माण परिवार से होता है | व्यक्ति के जीवन में परिवार की भूमिका बहुत ही महत्वपूर्ण होती है , परिवार में रहकर ही व्यक्ति सेवा , सहकार , सहिष्णुता और मानवीय गुणों को सीखता है तथा उसे अपने जीवन में धारण करता है | इसीलिए जन्म लेने के बाद मनुष्य के निर्माण में परिवार की महत्वपूर्ण भूमिका होती है , और जीवन निर्माण / व्यक्ति निर्माण की प्रथम पाठशाला परिवार को ही कहा जाता है | किसी भी परिवार में यदि सच्चरित्रता , सहयोग , संतोष , सादगी एवं एक दूसरे के प्रति सम्मान जैसे सद्गुणों का परिवेश होता है तो उस परिवार में पलने बढ़ने और रहने वाले लोग स्वत: ही उन सद्गुणों को सीखते है व अपने जीवन में उतारने का प्रयास करके ही सफल होते हैं | एक आदर्श परिवार से ही समाज व राष्ट्र को सभ्य , सुशील , सच्चरित्र व सदाचारी महापुरुष प्राप्त हो सकते हैं | परिवार से ही समाज बनता है और समाज से राष्ट्र का निर्माण होता है | जिस परिवार में एक दूसरे के प्रति सम्मान की भावना नहीं होती है , प्रत्येक सदस्य स्वयं के अहंकार में भरा होता है , असहयोग की भावना होती है वह परिवार बहुत जल्द बिखर जाता है और उस परिवार के सदस्यों की मानसिकता नकारात्मक हो जाती है , जो कि चिंताजनक है | प्राचीनकाल में परिवारों में जो सहयोग , समन्वय एवं एकजुटता देखने को मिलती थी वह अपने अपने एक दिव्य उदाहरण प्रस्तुत करती थी | आपसी प्रेम एवं सहयोग की भावना के कारण ही घर को मंदिर कहा जाता था और उस मंदिर में रहने वाले प्रत्येक सदस्य देव स्वरूप माने जाते थे , इसीलिए भारतीय समाज ने प्रारंभ से ही परिवार को महत्व दिया था , क्योंकि परिवार ही वो उपवन है जिसका मुखिया माली के रूप में अपने उपवन के सभी पौधों की बराबर देखभाल करते हुए उनकी उन्नति के प्रति सदैव मननशील रहा करता था और मुखिया की स्वीकृति के कारण परिवार सफल भी रहते थे |*


*आज पाश्चात्य संस्कृति का पूरा प्रभाव भारतीय समाज में भी देखने को मिल रहा है | जहां गृहस्थाश्रम अर्थात परिवार को एक तपोवन कहा जाता था वही आज परिवार में कलह , हिंसा , असहयोग एवं असहिष्णुता तथा स्वयं का मद प्रभावी दिख रहा है | इसका प्रमुख कारण यह भी कहा जा सकता है कि आज मनुष्य परिवार के महत्व को नहीं समझ पा रहा है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" आज समाज में हो रहे ऐसे कृत्यों को देख कर के यह कहने पर विवश हो रहा हूं कि आज मनुष्य का अहंभाव आपस में टकरा रहा है जिससे परिवार बिखराव की स्थिति को प्राप्त हो रहा है | जहां पूर्वकाल में परिवार की बागडोर परिवार के मुखिया के पास रहा करती थी उसका प्रत्येक निर्णय सम्मान के साथ पालन किया जाता था वही आज ना तो परिवार का कोई नियम रह गया है और ना ही मुखिया ही कोई रह गया है | आज एकल परिवारों का महत्व बढ़ गया है छोटी-छोटी बातों पर परिवार से अलग अपना घर बसाने की होड़ सी लग गई है जबकि इसका दूरगामी परिणाम बहुत सुखद नहीं होता है परंतु मनुष्य स्वयं पर नियंत्रण न कर पाने के कारण ऐसे कृत्य कर रहा है | ऐसा नहीं है कि वह परिवार से अलग हो जाने पर पश्चाताप नहीं करता , जब मनुष्य एकांत में होता है तब उसे अपने किए पर पश्चाताप अवश्य होता है परंतु वह उसे प्रकट नहीं कर पाता क्योंकि उसे ऐसा प्रतीत होता है कि पश्चाताप कर लेने से हम छोटे हो जाएंगे | परिवार सब के भाग्य में नहीं होता है माता - पिता का स्नेह एवं भाई बंधुओं का सहयोग मिलता रहे तो समझ लो यह मानव जीवन धन्य है | परिवार टूटने का सबसे बड़ा कारण आपसे कलह एवं संदेह की भावना ही होती है | बात - बात पर तर्क - कुतर्क में फंसने से ही कलह और क्लेश को पनपने का अवसर मिलता है और जिसका परिणाम संबंध विच्छेद के रूप में सामने आता है | जिस परिवार में एक दूसरे के प्रति सम्मान एवं तर्क कुतर्क नहीं होता है वह परिवार उन्नति करने के साथ ही समाज में एक आदर्श भी प्रस्तुत करता है परंतु यह दुर्भाग्य है कि आज ऐसा बहुत ही कम देखने को मिल रहा है , और आने वाले समय के लिए यह स्थिति बहुत सुखद नहीं कही जा सकती है क्योंकि आपसी फूट का लाभ सदैव विरोधियों ने लिया है | इसलिए मनुष्य को अपने परिवार का साथ कदापि नहीं छोड़ना चाहिए |*


*आज प्रत्येक परिवार में संयम , सहिष्णुता , आपसी विश्वास जैसे सद्गुणों की आवश्यकता है जिससे मनुष्य ना सिर्फ कलह, क्लेश से मुक्त रह सकता है बल्कि परिवार में शांति , समरसता , समृद्धि , सौभाग्य व खुशहाली भी ला सकता है |*

अगला लेख: मन की पवित्रता :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
12 नवम्बर 2019
*आदिकाल से ही से ही इस धराधाम पर अनेकों योद्धा ऐसे हुए हैं जिन्होंने अपनी शक्तियों का संचय करके एक विशाल जनसमूह को अपने वशीभूत किया एवं उन्हीं के माध्यम से मानवता के विरुद्ध कृत्य करना प्रारंभ किया | पूर्वकाल में ऐसे लोगों को राक्षस या निशाचर कहा जाता था | इनके अनेक अनुयायी ऐसे भी होते थे जिनको यह न
12 नवम्बर 2019
21 नवम्बर 2019
*सनातन धर्म में सोलह संस्कारों का वर्णन मिलता है इन संस्कारों में एक महत्वपूर्ण संस्कार है विवाह संस्कार | मनुष्य योनि में जन्म लेने के बाद वैवाहिक संस्कार महत्वपूर्ण हो जाता है क्योंकि सनातन धर्म में बताए गए चार आश्रम में सबसे महत्वपूर्ण है गृहस्थाश्रम | गृहस्थाश्रम में प्रवेश करने के लिए विवाह संस
21 नवम्बर 2019
16 नवम्बर 2019
*परमात्मा की बनाई यह सृष्टि निरन्तर क्षरणशील है | एक दिन सबका ही अन्त निश्चित है | सृष्टि का विकास हुआ तो एक दिन महाप्रलय के रूप में इसका विनाश भी हो जाना है , सूर्य प्रात:काल उदय होता है तो एक निश्चित समय पर अस्त भी हो जाता है | उसी प्रकार इस सृष्टि में जितने भी जड़
16 नवम्बर 2019
10 नवम्बर 2019
!! भगवत्कृपा हि केवलम् !!*सनातन धर्म की दिव्यता विश्व विख्यात है | संपूर्ण विश्व ने सनातन धर्म के ग्रंथों को ही आदर्श मान कर दिया जीवन जीने की कला सीखा है | प्राचीन काल में शिक्षा का स्तर इतना अच्छा नहीं था जितना इस समय है परंतु हमारे पूर्वज अनुभव के आधार पर समाज के सारे कार्य कुशलता से संपन्न कर दे
10 नवम्बर 2019
10 नवम्बर 2019
!! भगवत्कृपा हि केवलम् !!*सनातन धर्म की दिव्यता विश्व विख्यात है | संपूर्ण विश्व ने सनातन धर्म के ग्रंथों को ही आदर्श मान कर दिया जीवन जीने की कला सीखा है | प्राचीन काल में शिक्षा का स्तर इतना अच्छा नहीं था जितना इस समय है परंतु हमारे पूर्वज अनुभव के आधार पर समाज के सारे कार्य कुशलता से संपन्न कर दे
10 नवम्बर 2019
02 नवम्बर 2019
*इस संसार में जन्म लेने के बाद मनुष्य अपने संपूर्ण जीवन काल में अनेकों मित्र एवं शत्रु बनाता है | वैसे तो इस संसार में मनुष्य के कर्मों के अनुसार उसके अनेकों शत्रु हो जाते हैं जिनसे वह युद्ध करके जीत भी आता है , परंतु मनुष्य का एक प्रबल शत्रु है जिससे जीत पाना मनुष्य के लिए बहुत ही कठिन होता है | वह
02 नवम्बर 2019
28 अक्तूबर 2019
*कार्तिक माह में चल रहे "पंच महापर्वों" के चौथे दिन आज अन्नकूट एवं गोवर्धन पूजा का पर्व मनाया जाएगा | भारतीय सनातन त्योहारों की यह दिव्यता रही है कि उसमें प्राकृतिक , वैज्ञानिक कारण भी रहते हैं | प्रकृति के वातावरण को स्वयं में समेटे हुए सनातन धर्म के त्योहार आम जनमानस पर अपना अमिट प्रभाव छोड़ते हैं
28 अक्तूबर 2019
17 नवम्बर 2019
*इस सकल सृष्टि में समस्त जड़ चेतन के मध्य मनुष्य सिरमौर बना हुआ है | जन्म लेने के बाद मनुष्य को अपने माता - पिता एवं सद्गुरु के द्वारा सत्य की शिक्षा दी जाती है | यह सत्या आखिर है क्या ? तीनो लोक चौदहों भुवन में एक ही सत्य बताया गया है वह है परमात्मा | जिसके लिए लिखा भी गया है :-- "ब्रह्म सत्यं जगत
17 नवम्बर 2019
16 नवम्बर 2019
*इस धराधाम पर जन्म लेने के बाद मनुष्य येन - केन प्रकारेण ईश्वर प्राप्ति का उपाय किया करता है | ईश्वर का प्रेम पिराप्त करने के लिए मनुष्य पूजा , अनुष्ठान , मन्दिरों में देवदर्शन तथा अनेक तीर्थों का भ्रमण किया करता है जबकि भगवान को कहीं भी ढूंढ़ने की आवश्यकता नहीं है मानव हृदय में तो ईश्वर का वास है ह
16 नवम्बर 2019
21 नवम्बर 2019
बॉ
कुछ घटनाएं आपको और हमें ऐसे कचोटती हैं की पुछिये मत! कल एक ऐसा ही वाकया हुआ। औनलाइन दवाइयाँ खरीदने का दौर अब जबकि शुरू हो चुका है, फिर भी मैं दवा की दुकान पर ही जाना पसंद करता हुँ। इसके कई कारण हैं, जिसको इस पटल पर बता पाना शायद संभव नहीं है। सो कल भी पूर्वी दिल्ली की एक दवा-दुकान पर चला गया। मेरी द
21 नवम्बर 2019
30 अक्तूबर 2019
*मानव जीवन में पवित्रता का बहुत बड़ा महत्त्व है | प्रत्येक मनुष्य स्वयं को स्वच्छ एवं पवित्र रखना चाहता है | नित्य अनेक प्रकार से संसाधनों से स्वयं के शरीर को चमकाने का प्रयास मनुष्य द्वारा किया जाता है | क्या पवित्रता का यही अर्थ हो सकता है ?? हमारे मनीषियों ने बताया है कि प्रत्येक तन के भीतर एक मन
30 अक्तूबर 2019
22 नवम्बर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <
22 नवम्बर 2019
31 अक्तूबर 2019
*मनुष्य इस धरा धाम पर जन्म लेकर के जीवन भर अनेकों कृत्य करते हुए अपनी जीवन यात्रा पूर्ण करता है | इस जीवन अनेक बार ऐसी स्थितियां प्रकट हो जाती है मनुष्य किसी वस्तु , विषय या किसी व्यक्ति के प्रति इतना आकर्षित लगने लगता है कि उस वस्तु विशेष के लिए कई बार संसार को भी ठुकराने का संकल्प ले लेता है | आखि
31 अक्तूबर 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x