चलो कुछ चुस्कियां चाय की हो जाए

13 नवम्बर 2019   |  शिल्पा रोंघे   (2358 बार पढ़ा जा चुका है)

वो जो लोग भारी भरकम काम करते है,
चुस्ती फुर्ती से भर जाना चाहते है.


बारिश की बूंदों में भीग जाते है,
पकौड़ों का मज़ा और बढ़ना चाहते है.

सर्दियों में हल्दी और अदरक संगम चाहते है,
ठिठुरन से निजात पाना चाहते है.

कभी कभी यूं ही गुफ़्तगु करना चाहते है,
माहौल को ख़ुशनुमा बनाना चाहते है.

वो जो लोग सुख और दुख
साथ साथ बांटना चाहते है,

वो लोग चाय की चुस्कियों
को ही अमृत समझते है.

शिल्पा रोंघे

अगला लेख: कुछ यूं होती है जापानी शैली में बनी हिंदी कविता



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
14 नवम्बर 2019
सर्द धूप के साथ हो चुकी है शुरू स्वेटरों की बुनाई.और रज़ाईयों की सिलाई.हो चुका है ठंड से बाज़ार गर्म अब.अदरक की खुशबू से महकने लगी है चाय की दुकाने कुछ ज्यादा ही.हो चुका है ठंड से बाज़ार गर्म अब.गज़क और तिल के लड्डूओंसे सजने लगी है दुकानें
14 नवम्बर 2019
04 नवम्बर 2019
मा
मासूम बन के बहुत दिल तोड़ लिए साहिब, अब गुनाह कबूलने का है वक्त आ गया. आग इश्क की लगाईं जो है दिल में मेरे, उस आग में जलने का तेरा वक्त आ गया. ना जियेंगे हम ना तुम ही यूँ जी पाओगे, खेल आग का है इससे यूँ बच ना पाओगे. आसान
04 नवम्बर 2019
21 नवम्बर 2019
कहीं कांप रही धरती. कहीं बेमौसम बारिश से बह रही धरती. कहीं ठंड के मौसम में बुखार से तप रही धरती. कभी जल से, तो कभी वायु प्रदूषण से ज़हरीली हो रही प्रकृति. विकास के नाम पर विनाश का दर्द झेलती प्रकृति अपनी ही संतति से अवहेलना प्
21 नवम्बर 2019
03 नवम्बर 2019
चाहे बात हॉलीवुड की हो या बॉलीवुड की प्रेम कहानियांहमेशा से ही दर्शकों की प्रिय रही है। हमेशा ऐसा नहीं होता कि प्रेम कहानी नायकनायिका और खलनायक के इर्द गिर्द ही घुमती हो। कभी कभी इंसान नहीं वक्त ही खलनायकबन जाता है और आ जाता है प्रेम कहानी तीसरा कोण, जी हां आज के इस लेख म
03 नवम्बर 2019
31 अक्तूबर 2019
लोग बुरे नहीं होतेबस जब आपके मतलब के नहीं होतेतो बुरे लगने लगते हैसमझनी है जिंदगी तो पीछे देखोजीनी है जिंदगी तो आगे देखोहम भी वहीं होते हैं,रिश्ते भी वहीं होते हैंऔर रास्ते भी वहीं होते हैंबदलता है तो बस*समय, एहसास, और नज़रियाा🙏🙏 Good day 🙏🙏
31 अक्तूबर 2019
20 नवम्बर 2019
इतिहास भले ही गुजरा हुआ वक्त होता है इसका मतलब नहीं हैकि इसके बारे में जानकारी होना हमारे लिए उपयोगी नहीं होता है, ये हमारे देश की धरोहर होता है, मानवसभ्यता के विकास और इतिहास से मिले सबक ही सुनहरे भविष्य को गढ़ने में मदद करतेहै। आज अपने इस
20 नवम्बर 2019
02 नवम्बर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <
02 नवम्बर 2019
31 अक्तूबर 2019
मन अक्सर कहता हैईश्वर से कुछ मांग लेआत्मा रोक देती है यह कहकर किप्रभु ने जितना दिया हैक्या मै उसके काबिल भी था
31 अक्तूबर 2019
30 अक्तूबर 2019
कु
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedContent> <w:AlwaysShowPlaceh
30 अक्तूबर 2019
30 अक्तूबर 2019
प्
मात्रा---15, 12 🌹प्रेम पावनी 🌹 **""**""** टकटकी लगा निहार रहे, एक दूजे में लीन । मन के भीतर चलता रहा, ख्वाबो का एक सीन।।तेरे दर से न जाएंगे मन में जगी है आस। उठ रही दिलों में सैकड़ों दबी हुई मिठी प्यास।।पाकर प्रेम पावनी पिया , पीकर होती निहाल।
30 अक्तूबर 2019
30 अक्तूबर 2019
कु
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedContent> <w:AlwaysShowPlaceh
30 अक्तूबर 2019
05 नवम्बर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKer
05 नवम्बर 2019
23 नवम्बर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKer
23 नवम्बर 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x