तुम्हारा स्वागत है शीत ऋतु

14 नवम्बर 2019   |  शिल्पा रोंघे   (2436 बार पढ़ा जा चुका है)

तुम्हारा स्वागत है शीत ऋतु



सर्द धूप के साथ हो चुकी है शुरू स्वेटरों की बुनाई.
और रज़ाईयों की सिलाई.


हो चुका है ठंड से बाज़ार गर्म अब.

अदरक की खुशबू से महकने लगी है चाय की दुकाने कुछ ज्यादा ही.



हो चुका है ठंड से बाज़ार गर्म अब.

गज़क और तिल के लड्डूओं
से सजने लगी है दुकानें.


हो चुका है ठंड से बाज़ार गर्म अब.

हरी सब्जियों से हरियाली सी हुई जा रही है सब्जी मंडियां.


हो चुका ठंड से बाज़ार गर्म अब.

जलने लगे हैं अलाव
सड़कों पर.


आंच के ताप से सुकून पाने लगी है उंगलियां.
हो चुका ठंड से बाज़ार अब गर्म.


कुछ ऐसा है मेरे शहर की ठंड का हाल.
जो है सुकून भरी, नहीं करती है बेहाल.



शिल्पा रोंघे

अगला लेख: कुछ यूं होती है जापानी शैली में बनी हिंदी कविता



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
13 नवम्बर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKer
13 नवम्बर 2019
12 नवम्बर 2019
सांप सीढ़ी सिर्फखेल नहीं,जीवन दर्शन भी है.सफलता और विफलता दुश्मन नहीं, एक दूसरे की साथी है.हर रास्ते पर सांप सा रोड़ा, कभी मंजिल के बेहद करीब आकर भी लौटना पड़ता है.कभी सिफ़र से शिखर तो कभी शिखर से सिफ़र का सफ़र तय करना पड़ता है.सफलता का कोई
12 नवम्बर 2019
23 नवम्बर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKer
23 नवम्बर 2019
18 नवम्बर 2019
साल 2001 में अमेरिका के वर्ल्ड ट्रेड सेंटर में आतंकी हमला हुआ था और इसके बाद पूरे अमेरिका में काफी दहशत फैल गई थी। फिर अमेरिकी सरकार ने सख्त कदम उठाया और हमले के ठीक 10 साल के बाद मौका मिलते ही अमेरिकी कमांडो ने पाकिस्तान में घुसकर मार गिराया था। मगर कुछ समय पहले समुद
18 नवम्बर 2019
19 नवम्बर 2019
नशा "नाश" का दूसरा नाम है.ये नाश करता है बुद्धि का.ये नाश करता है धन का.ये नाश करता है संबंधों का.ये नाश करता है नैतिक मूल्यों का.नाश नहीं निर्माण की तरफ बढ़ोयुवाओं तुम नशामुक्त समाज बनानेका संकल्प लो.शिल्पा रोंघे
19 नवम्बर 2019
21 नवम्बर 2019
कहीं कांप रही धरती. कहीं बेमौसम बारिश से बह रही धरती. कहीं ठंड के मौसम में बुखार से तप रही धरती. कभी जल से, तो कभी वायु प्रदूषण से ज़हरीली हो रही प्रकृति. विकास के नाम पर विनाश का दर्द झेलती प्रकृति अपनी ही संतति से अवहेलना प्
21 नवम्बर 2019
31 अक्तूबर 2019
मन अक्सर कहता हैईश्वर से कुछ मांग लेआत्मा रोक देती है यह कहकर किप्रभु ने जितना दिया हैक्या मै उसके काबिल भी था
31 अक्तूबर 2019
05 नवम्बर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKer
05 नवम्बर 2019
01 नवम्बर 2019
शा
कुछ तो तड़प शांत हो जाएंगी हमारी।जब तेरे पहलू में कुछ पल सुकून के बिताया हम करें ।।💓💓💓💓💓💓💓मिथ्या ✍
01 नवम्बर 2019
02 नवम्बर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <
02 नवम्बर 2019
02 नवम्बर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <
02 नवम्बर 2019
15 नवम्बर 2019
आज के समय में TikTok पर 80 करोड़ यूजर्स हैं और इनमें से 20 करोड़ यूजर्स तो सिर्फ भारत से ही हैं। अब इतने बड़े सोशल मीडिया के बाजार में भला फेसबुक की नजर कैसा नहीं पड़ेगी आखिर यूजर्स अपना समय फेसबुक की तरह यहां भी बिता रहे हैं। 20 करोड़ यूजर्स कम नहीं होते हैं इसलिए फेसबुक के मालिक मार्क ज़कर्बर्ग ने
15 नवम्बर 2019
21 नवम्बर 2019
कहीं कांप रही धरती. कहीं बेमौसम बारिश से बह रही धरती. कहीं ठंड के मौसम में बुखार से तप रही धरती. कभी जल से, तो कभी वायु प्रदूषण से ज़हरीली हो रही प्रकृति. विकास के नाम पर विनाश का दर्द झेलती प्रकृति अपनी ही संतति से अवहेलना प्
21 नवम्बर 2019
01 नवम्बर 2019
गी
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <w:ValidateAgainstSchemas></w:Val
01 नवम्बर 2019
30 अक्तूबर 2019
कु
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedContent> <w:AlwaysShowPlaceh
30 अक्तूबर 2019
06 नवम्बर 2019
कि
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <w:ValidateAgainstSchemas></w:Val
06 नवम्बर 2019
31 अक्तूबर 2019
लोग बुरे नहीं होतेबस जब आपके मतलब के नहीं होतेतो बुरे लगने लगते हैसमझनी है जिंदगी तो पीछे देखोजीनी है जिंदगी तो आगे देखोहम भी वहीं होते हैं,रिश्ते भी वहीं होते हैंऔर रास्ते भी वहीं होते हैंबदलता है तो बस*समय, एहसास, और नज़रियाा🙏🙏 Good day 🙏🙏
31 अक्तूबर 2019
30 अक्तूबर 2019
प्
मात्रा---15, 12 🌹प्रेम पावनी 🌹 **""**""** टकटकी लगा निहार रहे, एक दूजे में लीन । मन के भीतर चलता रहा, ख्वाबो का एक सीन।।तेरे दर से न जाएंगे मन में जगी है आस। उठ रही दिलों में सैकड़ों दबी हुई मिठी प्यास।।पाकर प्रेम पावनी पिया , पीकर होती निहाल।
30 अक्तूबर 2019
22 नवम्बर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <
22 नवम्बर 2019
30 अक्तूबर 2019
कु
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedContent> <w:AlwaysShowPlaceh
30 अक्तूबर 2019
01 नवम्बर 2019
📱 📱📱📱📱 #मोबाइल_एरा 📱📱📱📱 📱मोबाइल ने घर - घर में धनधोर "संग्राम" छेड़ रखा है।नवजात शिशु उफ़! मोबाइल की ओर अरे! लपका है।।रिश्ते सिमट कर सारे एन्ड्राइड से चिपक गुम हुए हैं।आस - पास बैठे हैं मगर, "मिनी केक" सेंड किए हैं।।पति - पत्नी को गुड - नाइट कर शाम ढ़ले सुलाता है।हूर कि परियों से इस्टाग्रा
01 नवम्बर 2019
15 नवम्बर 2019
सो
फ्रेंच के साथ फ्रांसीसी जर्मन के साथ जर्मनवासी,जापानी भाषा के साथ जापान निवासी बना गए देश को विकसित और उन्नत.अंग्रेजी सभ्यता के बनकरअनुगामी, विकासशील से विकसित राष्ट्र का सफर अब तक क्या तय कर पाए है हिन्दुस्तानी ?
15 नवम्बर 2019
19 नवम्बर 2019
नशा "नाश" का दूसरा नाम है.ये नाश करता है बुद्धि का.ये नाश करता है धन का.ये नाश करता है संबंधों का.ये नाश करता है नैतिक मूल्यों का.नाश नहीं निर्माण की तरफ बढ़ोयुवाओं तुम नशामुक्त समाज बनानेका संकल्प लो.शिल्पा रोंघे
19 नवम्बर 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x