मृत्यु का भय :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

16 नवम्बर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (446 बार पढ़ा जा चुका है)

मृत्यु का भय :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

*परमात्मा की बनाई यह सृष्टि निरन्तर क्षरणशील है | एक दिन सबका ही अन्त निश्चित है | सृष्टि का विकास हुआ तो एक दिन महाप्रलय के रूप में इसका विनाश भी हो जाना है , सूर्य प्रात:काल उदय होता है तो एक निश्चित समय पर अस्त भी हो जाता है | उसी प्रकार इस सृष्टि में जितने भी जड़ - चेतन हैं सबका ही एक दिन विनाश हो जाना है | मनुष्य इस धराधाम पर जन्म लेता है तो उसकी मृत्यु भी निश्चित है और यह तथ्य प्रत्येक व्यक्ति जानता भी है कि एक दिन ऐसा आयेगा जब अपना परिवार , समाज और इस धराधाम का त्याग करके चले जाना है | यद्यपि मृत्यु ही इस सृष्टि का सत्य है और यह निश्चित है परंतु फिर भी यह अनिश्चित है क्योंकि जहाँ महाप्रलय का समय है कि चतुर्युगी के व्यतीत हो जाने के बाद ही होगी , सूर्यास्त का भी समय निश्चित है कि दिन बीज जाने के बाद ही होगा परंतु मनुष्य की मृत्यु कब होगी यह कदापि नहीं निश्चित है | यह सभी लोग जानते भी हैं कि इस शरीर का कोई ठिकाना नहीं है कि कब साथ छोड़ दे | इतना जानने के बाद भी मनुष्य मरना नहीं चाहता और मृत्यु के नाम से ही काँप जाता है | मनुष्य मृत्यु से भयभीत क्यों रहता है ? इसके कारण पर विचार किया जाय तो यही परिणाम निकलता है कि भय किसी वस्तु से अलग हो जाने के विचार से ही प्रकट होता है | मनुष्य को कुछ भी छूट जाने या खो जाने का भय बना रहता है जैसे धन खो जाने का भय , परिवार छूट जाने का भय | यह भय मनुष्य में अज्ञान एवं अविद्या के कारण ही उत्पन्न होता है , अविद्या का प्रबल रूप है मोह | शरीर को अपना समझने का मोह ही मृत्यु से भय का मुख्य कारण है | जहाँ त्याग है वहाँ कभी भय नहीं हो सकता | वैसे तो मनुष्य को सबसे अधिक मृत्यु का ही भय होता है परमतु इसके अतिरिक्त अनेक प्रकार के भय मनुष्य को जीवन भर घेरे रहते हैं | परन्तु जहाँ त्याग की भावना होती है वहाँ कभी भी भय नहीं होता है जिस प्रकार मनुष्य कपड़ों के पुराने हो जाने पर उन्हें स्वेच्छा से त्याग देता है तो उसको भय नहीं होता उसी प्रकार जिसने भी इस शरीर से मोह त्याग दिया , जिसने शरीर की अपेक्षा आत्मा को महत्त्व दिया है उसे कभी भी मृत्यु से भय नहीं लगता है |*


*आज संसार में आधुनिकता के साथ मोह की प्रबलता भी बढ़ी है | मोह का शमन करने वाले साधनों आध्यात्म एवं सतसंग से आज का मनुष्य दूर होता चला जा रहा है | आध्यात्म एवं सतसंग मनुष्य को इस शरीर के प्रति मोह एवं अविद्या को नष्ट करने में सक्षम है परंतु मनुष्य ने आज अपनी व्यस्तताओं का हवाला देकर इनसे दूरी बना ली है | आज मनुष्य अपने जीवन में पल - प्रतिपल हो रहे परिवर्तनों में इतना व्यस्त है कि उसे अपनी मृत्यु रा ध्यान ही नहीं रहता , सांसारिक आकर्षणों में उलझा आज का मनुष्य यह भुलाये बैठा है कि हमें मरना भी है | यही कारण है कि जब मृत्यु उपस्थित होती है तो मनुष्य भूतकाल की बातें सोंचकर उद्वेलित होकर भयभीत होने लगता है | हमारे शास्त्रों में मृत्यु पर विजय प्राप्त करने के साधन भी बताये हैं | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" अब तक सद्गुरुओं से प्राप्त ज्ञानामृत के आधार पर यह बताना चाहता हूँ कि मृत्यु पर विजय तभी प्राप्त की जा सकती है जब मृत्यु से घबराहट नहीं वरन् प्रसन्नता से उसका स्वागत किया जाय | दु:खी मन से इस आनंददायक संसार को न छोड़ा जाय बल्कि अन्तिम समय में जीवनमुक्त अवस्था का परिचय देते हुए मृत्यु को स्वीकार किया जाय और यह तभी सम्भव है जब मनुष्य यह समझ ले कि शरीर के रूप में भिन्न - भिन्न स्वरूप धारण करने वाली आत्मा अमर है और शरीर नाशवान है | जिस दिन मनुष्य इस सत्य को स्वीकार कर लेगा उसी दिन वह मृत्युंजय हो जायेगा | मनुष्य का मृत्यु से भयभीत होने का एकमात्र कारण उसकी अज्ञानता है | मनुष्य यह जानते हुए भी नहीं मानना चाहता कि इस संसार में जो भी दृश्यमान पदार्थ है उन सबका विनाश निश्चित है | इन्हीं पदार्थों में से एक हमारा शरीर भी है और इसकी भी मृत्यु निश्चित है | जिस दिन मनुष्य को यह ज्ञान हो जायेगा उसी दिन वह मृत्यु रूपी भस़यानकता से भयमुक्त हो जायेगा |*


*मृत्यु के भय से मुक्ति पाने के लिए मनुष्य को गीता का स्वाध्याय अवश्य करना चाहिए | भगवान के मुखारविन्द से उच्चारित यह ग्रन्थ मनुष्य को मृत्यु भय से छुटकारा दिलाने में सक्षम है |*

अगला लेख: पंचकोसी परिक्रमा का महत्त्व :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
17 नवम्बर 2019
*चौरासी लाख योनियों में मानव जीवन को देव दुर्लभ कहा गया है | मनुष्य जन्म बड़े भाग्य से मिलता है क्योंकि मनुष्य को छोड़कर अन्य सभी योनियाँ भोग योनि होती हैं | इस संसार में दो प्रकार की योनियों का वर्णन मिलता है एक भोगयोनि दूसरी कर्मियोनि | मनुष्य के अतिरिक्त अन्य योनियों को भोग योनि कहा गया है क्योंक
17 नवम्बर 2019
03 नवम्बर 2019
*भारतीय परंपरा में आदिकाल से एक शब्द प्रचलन में रहा है साधना | हमारे महापुरूषों ने अपने जीवन काल में अनेकों प्रकार की साधनायें की हैं | अनेकों प्रकार की साधनाएं हमारे भारतीय सनातन के धर्म ग्रंथों में वर्णित है | यंत्र साधना , मंत्र साधना आदि इनका उदाहरण कही जा सकती हैं | यह साधना आखिर क्या है ? किस
03 नवम्बर 2019
28 नवम्बर 2019
*ईश्वर द्वारा बनाई गयी सृष्टि बहुत ही देदीप्यमान एवं सुंदर है | मनुष्य के जन्म के पहले ही उसे सारी सुख - सुविधायें प्राप्त रहती हैं | जन्म लेने के बाद मनुष्य परिवार में प्रगति एवं विकास करते हुए पारिवारिक संस्कृति को स्वयं में समाहित करने लगता है | मनुष्य का जीवन ऐसा है कि एक क्षण भी कर्म किये बिना
28 नवम्बर 2019
26 नवम्बर 2019
❌ *इस संसार परमात्मा ने अनेकानेक जीवो का सृजन किया | पशु - पक्षी ,कीड़े - मकोड़े और जलीय जंतुओं का सृजन करने के साथ ही मनुष्य का भी सृजन परमात्मा ने किया | सभी जीवो में समान रूप से आंख , मुख , नाक , कान एवं हाथ - पैर दिखाई देते हैं परंतु इन सब में मनुष्य को उस परमात्मा ने एक अमोघ शक्ति के रूप में बु
26 नवम्बर 2019
27 नवम्बर 2019
*ईश्वर की बनायी यह सृष्टि बहुत ही विचित्र है , यहां एक ही भाँति दिखने वाले मनुष्यों के क्रियाकलाप भिन्न - भिन्न होते हैं | मनुष्य के आचरण एवं उसके क्रियाकलापों के द्वारा ही उनकी श्रेणियां निर्धारित हो जाती है | वैसे तो मनुष्य की अनेक श्रेणियां हैं परंतु मुख्यतः दो श्रेणियों में मनुष्य बंटा हुआ है |
27 नवम्बर 2019
28 नवम्बर 2019
*इस समस्त सृष्टि में हमारा देश भारत अपने गौरवशाली संस्कृति एवं सभ्यता के लिए संपूर्ण विश्व में जाना जाता था | अनेक ऋषि - महर्षियों ने इसी पुण्य भूमि भारत में जन्म लेकर के मानव मात्र के कल्याण के लिए अनेकों प्रकार की मान्यताओं एवं परंपराओं का सृजन किया | संस्कृति एवं सभ्यता का प्रसार हमारे देश भारत स
28 नवम्बर 2019
12 नवम्बर 2019
*आदिकाल से ही से ही इस धराधाम पर अनेकों योद्धा ऐसे हुए हैं जिन्होंने अपनी शक्तियों का संचय करके एक विशाल जनसमूह को अपने वशीभूत किया एवं उन्हीं के माध्यम से मानवता के विरुद्ध कृत्य करना प्रारंभ किया | पूर्वकाल में ऐसे लोगों को राक्षस या निशाचर कहा जाता था | इनके अनेक अनुयायी ऐसे भी होते थे जिनको यह न
12 नवम्बर 2019
06 नवम्बर 2019
🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🌻☘🌻☘🌻☘🌻☘🌻☘🌻 *इस धरती पर अनेकों जीव विचरण कर रहे हैं इनमें सर्वश्रेष्ठ प्राणी मनुष्य को कहा गया है | चौरासी लाख योनियों में सर्वश्रेष्ठ मानव योनि कही गई है | साधारण से दिखने वाले मनुष्य में इतनी शक
06 नवम्बर 2019
02 नवम्बर 2019
*प्रत्येक शरीर में एक आत्मा निवास करती है जिस प्रकार भगवान शिव के हाथ में सुशोभित त्रिशूल में ती शूल होते हैं उसी प्रकार आत्मा की तुलना भी एक त्रिशूल से की जा सकती है, जिसमें तीन भाग होते हैं- मन, बुद्धि और संस्कार | इनको त्रिदेव भी कहा जा सकता है | मन सृजनकर्ता ब्रह्मा , बुद्धि संहारकारी शिव तथा सं
02 नवम्बर 2019
07 नवम्बर 2019
🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🌻☘🌻☘🌻☘🌻☘🌻☘🌻 *हमारे देश में हिंदू संस्कृति में बताए गए बारहों महीने में कार्तिक मास का विशेष महत्व है , इसे दामोदर मास अर्थात भगवान विष्णु के प्रति समर्पित बताया गया है | कार्तिक मास का क्या महत्व है इसका वर
07 नवम्बर 2019
16 नवम्बर 2019
*इस धराधाम पर जन्म लेने के बाद मनुष्य येन - केन प्रकारेण ईश्वर प्राप्ति का उपाय किया करता है | ईश्वर का प्रेम पिराप्त करने के लिए मनुष्य पूजा , अनुष्ठान , मन्दिरों में देवदर्शन तथा अनेक तीर्थों का भ्रमण किया करता है जबकि भगवान को कहीं भी ढूंढ़ने की आवश्यकता नहीं है मानव हृदय में तो ईश्वर का वास है ह
16 नवम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x