मृत्यु का भय :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

16 नवम्बर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (435 बार पढ़ा जा चुका है)

मृत्यु का भय :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

*परमात्मा की बनाई यह सृष्टि निरन्तर क्षरणशील है | एक दिन सबका ही अन्त निश्चित है | सृष्टि का विकास हुआ तो एक दिन महाप्रलय के रूप में इसका विनाश भी हो जाना है , सूर्य प्रात:काल उदय होता है तो एक निश्चित समय पर अस्त भी हो जाता है | उसी प्रकार इस सृष्टि में जितने भी जड़ - चेतन हैं सबका ही एक दिन विनाश हो जाना है | मनुष्य इस धराधाम पर जन्म लेता है तो उसकी मृत्यु भी निश्चित है और यह तथ्य प्रत्येक व्यक्ति जानता भी है कि एक दिन ऐसा आयेगा जब अपना परिवार , समाज और इस धराधाम का त्याग करके चले जाना है | यद्यपि मृत्यु ही इस सृष्टि का सत्य है और यह निश्चित है परंतु फिर भी यह अनिश्चित है क्योंकि जहाँ महाप्रलय का समय है कि चतुर्युगी के व्यतीत हो जाने के बाद ही होगी , सूर्यास्त का भी समय निश्चित है कि दिन बीज जाने के बाद ही होगा परंतु मनुष्य की मृत्यु कब होगी यह कदापि नहीं निश्चित है | यह सभी लोग जानते भी हैं कि इस शरीर का कोई ठिकाना नहीं है कि कब साथ छोड़ दे | इतना जानने के बाद भी मनुष्य मरना नहीं चाहता और मृत्यु के नाम से ही काँप जाता है | मनुष्य मृत्यु से भयभीत क्यों रहता है ? इसके कारण पर विचार किया जाय तो यही परिणाम निकलता है कि भय किसी वस्तु से अलग हो जाने के विचार से ही प्रकट होता है | मनुष्य को कुछ भी छूट जाने या खो जाने का भय बना रहता है जैसे धन खो जाने का भय , परिवार छूट जाने का भय | यह भय मनुष्य में अज्ञान एवं अविद्या के कारण ही उत्पन्न होता है , अविद्या का प्रबल रूप है मोह | शरीर को अपना समझने का मोह ही मृत्यु से भय का मुख्य कारण है | जहाँ त्याग है वहाँ कभी भय नहीं हो सकता | वैसे तो मनुष्य को सबसे अधिक मृत्यु का ही भय होता है परमतु इसके अतिरिक्त अनेक प्रकार के भय मनुष्य को जीवन भर घेरे रहते हैं | परन्तु जहाँ त्याग की भावना होती है वहाँ कभी भी भय नहीं होता है जिस प्रकार मनुष्य कपड़ों के पुराने हो जाने पर उन्हें स्वेच्छा से त्याग देता है तो उसको भय नहीं होता उसी प्रकार जिसने भी इस शरीर से मोह त्याग दिया , जिसने शरीर की अपेक्षा आत्मा को महत्त्व दिया है उसे कभी भी मृत्यु से भय नहीं लगता है |*


*आज संसार में आधुनिकता के साथ मोह की प्रबलता भी बढ़ी है | मोह का शमन करने वाले साधनों आध्यात्म एवं सतसंग से आज का मनुष्य दूर होता चला जा रहा है | आध्यात्म एवं सतसंग मनुष्य को इस शरीर के प्रति मोह एवं अविद्या को नष्ट करने में सक्षम है परंतु मनुष्य ने आज अपनी व्यस्तताओं का हवाला देकर इनसे दूरी बना ली है | आज मनुष्य अपने जीवन में पल - प्रतिपल हो रहे परिवर्तनों में इतना व्यस्त है कि उसे अपनी मृत्यु रा ध्यान ही नहीं रहता , सांसारिक आकर्षणों में उलझा आज का मनुष्य यह भुलाये बैठा है कि हमें मरना भी है | यही कारण है कि जब मृत्यु उपस्थित होती है तो मनुष्य भूतकाल की बातें सोंचकर उद्वेलित होकर भयभीत होने लगता है | हमारे शास्त्रों में मृत्यु पर विजय प्राप्त करने के साधन भी बताये हैं | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" अब तक सद्गुरुओं से प्राप्त ज्ञानामृत के आधार पर यह बताना चाहता हूँ कि मृत्यु पर विजय तभी प्राप्त की जा सकती है जब मृत्यु से घबराहट नहीं वरन् प्रसन्नता से उसका स्वागत किया जाय | दु:खी मन से इस आनंददायक संसार को न छोड़ा जाय बल्कि अन्तिम समय में जीवनमुक्त अवस्था का परिचय देते हुए मृत्यु को स्वीकार किया जाय और यह तभी सम्भव है जब मनुष्य यह समझ ले कि शरीर के रूप में भिन्न - भिन्न स्वरूप धारण करने वाली आत्मा अमर है और शरीर नाशवान है | जिस दिन मनुष्य इस सत्य को स्वीकार कर लेगा उसी दिन वह मृत्युंजय हो जायेगा | मनुष्य का मृत्यु से भयभीत होने का एकमात्र कारण उसकी अज्ञानता है | मनुष्य यह जानते हुए भी नहीं मानना चाहता कि इस संसार में जो भी दृश्यमान पदार्थ है उन सबका विनाश निश्चित है | इन्हीं पदार्थों में से एक हमारा शरीर भी है और इसकी भी मृत्यु निश्चित है | जिस दिन मनुष्य को यह ज्ञान हो जायेगा उसी दिन वह मृत्यु रूपी भस़यानकता से भयमुक्त हो जायेगा |*


*मृत्यु के भय से मुक्ति पाने के लिए मनुष्य को गीता का स्वाध्याय अवश्य करना चाहिए | भगवान के मुखारविन्द से उच्चारित यह ग्रन्थ मनुष्य को मृत्यु भय से छुटकारा दिलाने में सक्षम है |*

अगला लेख: पंचकोसी परिक्रमा का महत्त्व :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
03 नवम्बर 2019
*इस संसार में मनुष्य ने अपनी कार्यकुशलता से अनहोनी को भी होनी करके दिखाया है | अपनी समझ से कोई भी ऐसा कार्य न बचा होगा जो मनुष्य ने कपने का प्रयास न किया हो | संसार में समय के साथ बड़े से बड़े घाव , गहरे से गहरे गड्ढे भी भर जाते हैं | समुद्र के विषय में बाबा गोस्वामी तुलसीदास जी ने मानस में लिखा है
03 नवम्बर 2019
02 नवम्बर 2019
*प्रत्येक शरीर में एक आत्मा निवास करती है जिस प्रकार भगवान शिव के हाथ में सुशोभित त्रिशूल में ती शूल होते हैं उसी प्रकार आत्मा की तुलना भी एक त्रिशूल से की जा सकती है, जिसमें तीन भाग होते हैं- मन, बुद्धि और संस्कार | इनको त्रिदेव भी कहा जा सकता है | मन सृजनकर्ता ब्रह्मा , बुद्धि संहारकारी शिव तथा सं
02 नवम्बर 2019
06 नवम्बर 2019
🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🌻☘🌻☘🌻☘🌻☘🌻☘🌻 *इस धरती पर अनेकों जीव विचरण कर रहे हैं इनमें सर्वश्रेष्ठ प्राणी मनुष्य को कहा गया है | चौरासी लाख योनियों में सर्वश्रेष्ठ मानव योनि कही गई है | साधारण से दिखने वाले मनुष्य में इतनी शक
06 नवम्बर 2019
28 नवम्बर 2019
*इस समस्त सृष्टि में हमारा देश भारत अपने गौरवशाली संस्कृति एवं सभ्यता के लिए संपूर्ण विश्व में जाना जाता था | अनेक ऋषि - महर्षियों ने इसी पुण्य भूमि भारत में जन्म लेकर के मानव मात्र के कल्याण के लिए अनेकों प्रकार की मान्यताओं एवं परंपराओं का सृजन किया | संस्कृति एवं सभ्यता का प्रसार हमारे देश भारत स
28 नवम्बर 2019
08 नवम्बर 2019
*पंचतत्त्वों से बने मनुष्य को इस धरा धाम पर जीवन जीने के लिए मनुष्य को पंचतत्वों की आवश्यकता होती है | रहने के लिए धरती , ताप के लिए अग्नि , पीने के लिए पानी , सर ढकने के लिए आसमान , एवं जीवित रहने के लिए वायु की आवश्यकता होती है | मनुष्य प्रत्येक श्वांस में वायु ग्रहण करता है | श्वांस लेने के लिए
08 नवम्बर 2019
17 नवम्बर 2019
*इस सकल सृष्टि में समस्त जड़ चेतन के मध्य मनुष्य सिरमौर बना हुआ है | जन्म लेने के बाद मनुष्य को अपने माता - पिता एवं सद्गुरु के द्वारा सत्य की शिक्षा दी जाती है | यह सत्या आखिर है क्या ? तीनो लोक चौदहों भुवन में एक ही सत्य बताया गया है वह है परमात्मा | जिसके लिए लिखा भी गया है :-- "ब्रह्म सत्यं जगत
17 नवम्बर 2019
25 नवम्बर 2019
*इस धराधाम पर परमपिता परमात्मा ने जलचर , थलचर नभचर आदि योनियों की उत्पत्ति की | कुल मिलाकर चौरासी लाख योनियाँ इस पृथ्वी पर विचरण करती हैं , इन सब में सर्वश्रेष्ठ योनि मनुष्य को कहा गया है क्योंकि जहां अन्य जीव एक निश्चित कर्म करते रहते हैं वही मनुष्य को ईश्वर ने विवेक दिया है , कोई भी कार्य करने के
25 नवम्बर 2019
16 नवम्बर 2019
*इस धराधाम पर जन्म लेने के बाद मनुष्य येन - केन प्रकारेण ईश्वर प्राप्ति का उपाय किया करता है | ईश्वर का प्रेम पिराप्त करने के लिए मनुष्य पूजा , अनुष्ठान , मन्दिरों में देवदर्शन तथा अनेक तीर्थों का भ्रमण किया करता है जबकि भगवान को कहीं भी ढूंढ़ने की आवश्यकता नहीं है मानव हृदय में तो ईश्वर का वास है ह
16 नवम्बर 2019
07 नवम्बर 2019
🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🌻☘🌻☘🌻☘🌻☘🌻☘🌻 *हमारे देश में हिंदू संस्कृति में बताए गए बारहों महीने में कार्तिक मास का विशेष महत्व है , इसे दामोदर मास अर्थात भगवान विष्णु के प्रति समर्पित बताया गया है | कार्तिक मास का क्या महत्व है इसका वर
07 नवम्बर 2019
10 नवम्बर 2019
!! भगवत्कृपा हि केवलम् !!*सनातन धर्म की दिव्यता विश्व विख्यात है | संपूर्ण विश्व ने सनातन धर्म के ग्रंथों को ही आदर्श मान कर दिया जीवन जीने की कला सीखा है | प्राचीन काल में शिक्षा का स्तर इतना अच्छा नहीं था जितना इस समय है परंतु हमारे पूर्वज अनुभव के आधार पर समाज के सारे कार्य कुशलता से संपन्न कर दे
10 नवम्बर 2019
12 नवम्बर 2019
*आदिकाल से ही से ही इस धराधाम पर अनेकों योद्धा ऐसे हुए हैं जिन्होंने अपनी शक्तियों का संचय करके एक विशाल जनसमूह को अपने वशीभूत किया एवं उन्हीं के माध्यम से मानवता के विरुद्ध कृत्य करना प्रारंभ किया | पूर्वकाल में ऐसे लोगों को राक्षस या निशाचर कहा जाता था | इनके अनेक अनुयायी ऐसे भी होते थे जिनको यह न
12 नवम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x