विवाह संस्कार की दिव्यता :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

21 नवम्बर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (415 बार पढ़ा जा चुका है)

विवाह संस्कार की दिव्यता :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सनातन धर्म में सोलह संस्कारों का वर्णन मिलता है इन संस्कारों में एक महत्वपूर्ण संस्कार है विवाह संस्कार | मनुष्य योनि में जन्म लेने के बाद वैवाहिक संस्कार महत्वपूर्ण हो जाता है क्योंकि सनातन धर्म में बताए गए चार आश्रम में सबसे महत्वपूर्ण है गृहस्थाश्रम | गृहस्थाश्रम में प्रवेश करने के लिए विवाह संस्कार आवश्यक है | विवाह दो शब्दों से मिलकर बना है | वि + वाह जिसका शाब्दिक अर्थ हुआ विशेष रुप से दायित्वों का वहन करना | विवाह संस्कार में पाणिग्रहण संस्कार मुख्य है जिसमें वर के द्वारा कन्या का हाथ ग्रहण किया जाता है और उसके जीवन की जिम्मेदारियों को संभालने का संकल्प लिया जाता है | मंडप में उपस्थित देवताओं , अग्नि एवं ध्रुव तारे को साक्षी मानकरके दो अन्जान पथ के पथिक एक साथ जीवन यापन करना प्रारंभ करते हैं | सनातन धर्म की मान्यता है कि मनुष्य तीन प्रकार से ऋणी होता है देवऋण , ऋषिऋण एवं पितृऋण | पितृऋण से उऋण होने के लिए विवाह संस्कार होना परम आवश्यक है | भारतीय संस्कृति के अनुसार विवाह कोई शारीरिक , सामाजिक अनुबंध मात्र नहीं बल्कि दांपत्य के द्वारा एक श्रेष्ठ आध्यात्मिक साधना का भी रूप है इसलिए कहा गया है "धन्यो गृहस्थाश्रम:" | विवाह संस्कार में पति और पत्नी के बीच शारीरिक संबंध से अधिक आत्मिक संबंध होना परम आवश्यक है क्योंकि आत्मिक संबंधी सात जन्मो तक साथ निभाते हैं | इस प्रकार विवाह संस्कार की मान्यता सनातन धर्म की धुरी कहा जा सकता है |*


*आज जिस प्रकार मनुष्य अपने सभी संस्कार भूलता चला जा रहा है उसी प्रकार विवाह संस्कार भी भव्यता की भेंट चढ़ता चला जा रहा है | पूर्व काल में जहां वैदिक मंत्रोच्चार के बीच विवाह संपन्न होता था वही आज वैदिक मंत्रोच्चार मात्र दिखावा बनकर रह गए हैं क्योंकि अधिकतर समय जयमाल स्टेज पर अपनी भव्यता दिखाने में ही व्यतीत कर दिया जाता है | आज का विवाह समाज के लिए अधिक से अधिक धन खर्च करने का पर्याय बन गया है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" आज प्राय: देख रहा हूं कि जिस प्रकार हमारे सनातन शास्त्र ने बताया था कि पति-पत्नी के बीच जन्म जन्मांतरों का संबंध होता है जिसे किसी भी परिस्थिति में नहीं तोड़ा जा सकता है , वहीं आज जरा जरा सी बात पर सात जन्मों के संबंध को तोड़ देना बहुत आसान सा लग रहा है | आज के लोग अधिक पढ़े लिखे होकर भी आत्मिक संबंध नहीं बना पा रहे हैं क्योंकि कहीं ना कहीं से उनमें अहंभाव की भावना भी है | विवाह कोई साधारण खेल नहीं है विवाह दो प्राणी , दो आत्माओं का पवित्र बंधन है जिसमें अलग अलग अस्तित्वों को समाप्त कर एक सम्मिलित इकाई का निर्माण पति-पत्नी मिलकर करते हैं | इस संसार में कोई भी पूर्ण नहीं है पति हो चाहे पत्नी कुछ ना कुछ अपूर्णता दोनों में होती है इसी अपूर्णता को दोनों मिलकर के अपनी विशेषताओं से पूर्ण कर लेने वाले वैवाहिक संबंधों का निर्वहन कर पाते हैं |एक दूसरे को अपनी योग्यता और भावनाओं से लाभ पहुंचाते हुए गाड़ी में लगे हुए दो पहियों की तरह प्रगति पथ पर अग्रसर होते रहना ही विवाह का उद्देश्य है , परंतु आज दांपत्य जीवन में भी वासना ने अपना घर बना लिया है शायद इसीलिए आज वैवाहिक संबंध पल भर में टूट जा रहे हैं | विवाह संस्कार के महत्व को समझते हुए इस पर विचार करने एवं मंडप में दिए गए वचनों को याद करने की आवश्यकता है जिससे कि समाज में वैवाहिक संबंध विच्छेदन कम हो सके |*


*सनातन धर्म की यही दिव्यता है कि जहां अन्य धर्मों में विवाह को एक समझौता माना गया है वहीं सनातन धर्म ने विवाह को एक संस्कार की संज्ञा दी है |*

अगला लेख: पंचकोसी परिक्रमा का महत्त्व :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
14 नवम्बर 2019
*सृष्टि के आदिकाल में वेद प्रकट हुए , वेदों का विन्यास करके वेदव्यास जी ने अनेकों पुराणों का लेखन किया परंतु उनको संतोष नहीं हुआ तब नारद जी के कहने से उन्होंने श्रीमद्भागवत महापुराण की रचना की | श्रीमद्भागवत के विषय में कहा जाता है यह वेद उपनिषदों के मंथन से निकला हुआ ऐसा नवनीत (मक्खन) है जो कि वेद
14 नवम्बर 2019
01 दिसम्बर 2019
*आदिकाल से इस धरा धाम पर सनातन धर्म की स्थापना मानी जाती है | सनातन धर्म ने सदैव देव पूजा के साथ-साथ प्रकृति पूजा को भी महत्व दिया है | पृथ्वी पर जन्म लेकर के मनुष्य बड़ा होता है , इसीलिए पृथ्वी को माता की संज्ञा दी गई है , उसी की गोद में मनुष्य का बचपन व्यतीत होता है | इसके अतिरिक्त पहाड़ों , नदिय
01 दिसम्बर 2019
25 नवम्बर 2019
*ईश्वर ने सृष्टि में सबके लिए समान अवसर प्रदान किये हैं , एक समान वायु , अन्न , जल का सेवन करने वाला मनुष्य भिन्न - भिन्न मानसिकता एवं भिन्न विचारों वाला हो जाता है | किसी विद्यालय की कक्षा में अनेक विद्यार्थी होते हैं परन्तु उन्हीं में से कोई सफलता के उच्चशिखर को छू लेता है तो कोई पतित हो जाता है |
25 नवम्बर 2019
05 दिसम्बर 2019
*पूर्वकाल में हमारे देश भारत को सोने की चिड़िया कहा जाता था , सोने की चिड़िया कहे जाने का तात्पर्य यह था कि यहां अकूत धन का भंडार तो था ही साथ ही आध्यात्मिकता एवं विद्या का केंद्र भी हमारा देश भारत था | हमारी शिक्षा पद्धति इतनी दिव्य थी उसी के बल पर समस्त विश्व में भारत की कीर्ति पताका फहराई थी और
05 दिसम्बर 2019
30 नवम्बर 2019
*इस धराधाम पर जन्म लेकर मनुष्य परमपिता परमेश्वर को प्राप्त करने के लिए अनेकों प्रकार के उपाय करता है यहां तक कि कभी-कभी वह संसार से विरक्त होकर के अकेले में बैठ कर परमात्मा का ध्यान तो करता ही रहता है साथ ही वह भावावेश में रोने भी लगता है और मन में विचार करता है कि हमको परमात्मा ने इस संसार में क्यो
30 नवम्बर 2019
07 नवम्बर 2019
🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🌻☘🌻☘🌻☘🌻☘🌻☘🌻 *हमारे देश में हिंदू संस्कृति में बताए गए बारहों महीने में कार्तिक मास का विशेष महत्व है , इसे दामोदर मास अर्थात भगवान विष्णु के प्रति समर्पित बताया गया है | कार्तिक मास का क्या महत्व है इसका वर
07 नवम्बर 2019
28 नवम्बर 2019
*ईश्वर द्वारा बनाई गयी सृष्टि बहुत ही देदीप्यमान एवं सुंदर है | मनुष्य के जन्म के पहले ही उसे सारी सुख - सुविधायें प्राप्त रहती हैं | जन्म लेने के बाद मनुष्य परिवार में प्रगति एवं विकास करते हुए पारिवारिक संस्कृति को स्वयं में समाहित करने लगता है | मनुष्य का जीवन ऐसा है कि एक क्षण भी कर्म किये बिना
28 नवम्बर 2019
30 नवम्बर 2019
*इस धराधाम पर परमात्मा ने अनेकों प्रकार के पशु-पक्षियों , जीव - जंतुओं का सृजन किया साथ ही मनुष्य को बनाया | मनुष्य को परमात्मा का युवराज कहा जाता है | इस धराधाम पर सभी प्रकार के जीव एक साथ निवास करते हैं , जिसमें से सर्वाधिक निकटता मनुष्य एवं पशुओं की आदिकाल से ही रही है | जीवमात्र के ऊपर संगत का प
30 नवम्बर 2019
17 नवम्बर 2019
*इस सकल सृष्टि में समस्त जड़ चेतन के मध्य मनुष्य सिरमौर बना हुआ है | जन्म लेने के बाद मनुष्य को अपने माता - पिता एवं सद्गुरु के द्वारा सत्य की शिक्षा दी जाती है | यह सत्या आखिर है क्या ? तीनो लोक चौदहों भुवन में एक ही सत्य बताया गया है वह है परमात्मा | जिसके लिए लिखा भी गया है :-- "ब्रह्म सत्यं जगत
17 नवम्बर 2019
25 नवम्बर 2019
*इस धराधाम पर परमपिता परमात्मा ने जलचर , थलचर नभचर आदि योनियों की उत्पत्ति की | कुल मिलाकर चौरासी लाख योनियाँ इस पृथ्वी पर विचरण करती हैं , इन सब में सर्वश्रेष्ठ योनि मनुष्य को कहा गया है क्योंकि जहां अन्य जीव एक निश्चित कर्म करते रहते हैं वही मनुष्य को ईश्वर ने विवेक दिया है , कोई भी कार्य करने के
25 नवम्बर 2019
10 नवम्बर 2019
!! भगवत्कृपा हि केवलम् !!*सनातन धर्म की दिव्यता विश्व विख्यात है | संपूर्ण विश्व ने सनातन धर्म के ग्रंथों को ही आदर्श मान कर दिया जीवन जीने की कला सीखा है | प्राचीन काल में शिक्षा का स्तर इतना अच्छा नहीं था जितना इस समय है परंतु हमारे पूर्वज अनुभव के आधार पर समाज के सारे कार्य कुशलता से संपन्न कर दे
10 नवम्बर 2019
28 नवम्बर 2019
*इस समस्त सृष्टि में हमारा देश भारत अपने गौरवशाली संस्कृति एवं सभ्यता के लिए संपूर्ण विश्व में जाना जाता था | अनेक ऋषि - महर्षियों ने इसी पुण्य भूमि भारत में जन्म लेकर के मानव मात्र के कल्याण के लिए अनेकों प्रकार की मान्यताओं एवं परंपराओं का सृजन किया | संस्कृति एवं सभ्यता का प्रसार हमारे देश भारत स
28 नवम्बर 2019
27 नवम्बर 2019
*ईश्वर की बनायी यह सृष्टि बहुत ही विचित्र है , यहां एक ही भाँति दिखने वाले मनुष्यों के क्रियाकलाप भिन्न - भिन्न होते हैं | मनुष्य के आचरण एवं उसके क्रियाकलापों के द्वारा ही उनकी श्रेणियां निर्धारित हो जाती है | वैसे तो मनुष्य की अनेक श्रेणियां हैं परंतु मुख्यतः दो श्रेणियों में मनुष्य बंटा हुआ है |
27 नवम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x