कहीं आप अपने बच्चों को भेड़चाल का हिस्सा तो नहीं बनाना चाहते है।

22 नवम्बर 2019   |  शिल्पा रोंघे   (431 बार पढ़ा जा चुका है)

कई बार हम सुनते है कि कोई बच्चा स्कूल में कोई विषय चुनता है या फिर किसी प्रोफेशन में जाने का फैसला करता है तो ये तर्क देता है कि उसने ऐसा अपने माता पिता के दबाव में किया, वो अपने प्रोफेशन में सफल भी हो जाते है लेकिन वो बेमन से बस काम किए जा रहे होते है अपनी आजीविका के लिए।

ज्यादातर माता पिता आपने बच्चों को पारंपरिक शिक्षा जैसे मेडिकल या आईएएस की एक्ज़ाम की तैयारी करने के लिए ज़ोर डालते है कुछ लोग इसमें सफल भी हो जाते है और कुछ लोगों का सिलेक्शन नहीं हो पाता तब वो हीनभावना के शिकार हो जाते है और खुद को ही दोष देने लगते है, असल में उन्हें खुद को दोषी नहीं मानना चाहिए। कोई भी करियर चुनने से पहले ये देख लेना चाहिए कि उनमें वो एप्टीट्यूड है या नहीं।

सबकी रूचि और किसी विषय को समझने की क्षमता अलग होती है कोई वकील बनना चाहता है कोई इंजिनियर बनना चाहता है तो कोई फॉयनेंस में अपना करियर बनाना चाहता है। बच्चों की रुचि अगर पारंपरिक शिक्षा में हो तो उसे वहीं करियर बनाने देना चाहिए।

कुछ बच्चे पेटिंग, आर्ट एंड क्राफ्ट, एनिमेशन, इंटिरियर डिज़ाईनिंग या कैटरिंग, फैशन डिजाइनिंग जैसे कलात्मक क्षेत्रों में जाना चाहते है लेकिन माता पिता को लगता है कलात्मक क्षेत्रों में अपना सिक्का जमाने के लिए काफी संघर्ष करना पड़ता है अगर सफलता ना मिले तो उनके बच्चे अवसाद में जा सकते है। यहां माता पिता की जिम्मेदारी बनती है कि वो इन प्रोफेशन में आनी वाली चुनौतियों से बच्चों को अवगत कराए और मानसिक रूप से तैयार करे ना कि उनके मन में रिस्क लेने के लिए डर भरे। कभी कभी टैलेंट होने के बावजूद अगर सही मार्गदर्शन ना मिले तो बच्चों का करियर बर्बाद हो सकता है।

कई बच्चे देखने में बहुत सुंदर होते है तो उनके माता पिता उन्होने ग्लैमर की दुनिया में कदम रखने को कहते है चाहे उनकी रुचि हो या ना हो वो ये भूल जाते है कि सुंदरता के साथ टैलेंट होना भी ज़रूरी है, अगर सिर्फ सौंदर्य से ही काम चल जाता तो सौंदर्य प्रतियोगिता में बुद्धिमत्ता, उनकी उत्तर देने की क्षमता जैसे पहलू समाहित ही ना किए जाते।

कुछ माता पिता ये चाहते है कि उनके बच्चे उसी शहर में रहे जहां उनका पैतृक निवास हो चाहे वहां करियर की संभावना हो या ना हो।

कुछ अभिभावक बच्चों पर सरकारी नौकरी का दबाव डालते है ताकी उनकी ज़िंदगी में स्थाईत्व आ जाए, बात कुछ हद तक सही भी है लेकिन देश की जनसंख्या इतनी बढ़ चुकी है कि सरकारी नौकरी मिलना पहले की तरह आसान नहीं रहा है।

आज के वक्त में माता पिता की ये जिम्मेदारी बनती है कि वो अपने बच्चों को भेड़चाल चलने की सलाह देने के बजाए अपने विवेक और रुचि के अनुसार निर्णय लेना सिखाए।

अगला लेख: क्या सचमुच जो काम आप कर रहे है वो आपके स्वास्थ्य लिए सही है ?



वर्तमान परिस्तिथियों से जूझते प्रत्येक परिवार को रेखांकित करता लेख बहुत सटीक है। हम कह सकते है दशा को देखते हुये ही दिशा को चुने।

शिल्पा रोंघे
23 नवम्बर 2019

धन्यवाद

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
09 नवम्बर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <w:ValidateAgainstSchemas></
09 नवम्बर 2019
30 नवम्बर 2019
क्या अब नारी सिर्फ देव लोक में हीसम्मानित रह गई है ?मां की कोख में होतब भ्रूणहत्या की बात सोचकर सहम जाती है.गर दुनिया में आने का सौभाग्य पा जाए तोतब अस्मत को लेकर जाती है सहम.चढ़ती है डोली तबदहेज जैसे दानव को देखकर जाती है सहम.दुनिया मे
30 नवम्बर 2019
20 नवम्बर 2019
इतिहास भले ही गुजरा हुआ वक्त होता है इसका मतलब नहीं हैकि इसके बारे में जानकारी होना हमारे लिए उपयोगी नहीं होता है, ये हमारे देश की धरोहर होता है, मानवसभ्यता के विकास और इतिहास से मिले सबक ही सुनहरे भविष्य को गढ़ने में मदद करतेहै। आज अपने इस
20 नवम्बर 2019
14 नवम्बर 2019
कर्मयोग – कर्म की तीनसंज्ञाएँजैसा कि पहले लिखा, कर्ता के भाव के अनुसार कर्म की तीन संज्ञाएँ होती हैं – कर्म, अकर्म और विकर्म | इन तीन संज्ञाओं के साथ साथ हमारेशास्त्रकारों ने कर्म के तीन रूप भी बताए हैं | इनमें प्रथम है संचित कर्म | अनेकजन्मों से लेकर अब तक के संगृहीत कर्म ही संचित कर्म कहलाते हैं |
14 नवम्बर 2019
14 नवम्बर 2019
भारत के दो ऐसे प्रधानमंत्री जिन्होंने अब तक सबसे ज्यादा लोकप्रियता हासिल की और इन्हें जनता ने सबसे ज्यादा पसंद किया। इनमें से एक हैं आजाद भारत के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू और दूसरे वर्तमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, ये दोनों ही जनता को काफी अजीज रहे हैं और मोदी का जलवा तो आप आज के समय में सोश
14 नवम्बर 2019
10 नवम्बर 2019
!! भगवत्कृपा हि केवलम् !!*सनातन धर्म की दिव्यता विश्व विख्यात है | संपूर्ण विश्व ने सनातन धर्म के ग्रंथों को ही आदर्श मान कर दिया जीवन जीने की कला सीखा है | प्राचीन काल में शिक्षा का स्तर इतना अच्छा नहीं था जितना इस समय है परंतु हमारे पूर्वज अनुभव के आधार पर समाज के सारे कार्य कुशलता से संपन्न कर दे
10 नवम्बर 2019
14 नवम्बर 2019
14 नवंबर को देश पूर्व प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू का जन्मदिवस मना रहा है और वर्तमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित कई बड़े नेताओं ने उन्हें एक बार फिर श्रद्धांजलि दी है। इनमें नेहरू के नाति राहुल गांधी और नातिन प्रियंका गांधी ने भी ट्विटर पर अपने ग्रैंड फादर को ट्रीब्यूट दिया है। ये नेहरू जी की 130
14 नवम्बर 2019
12 नवम्बर 2019
*आदिकाल से ही से ही इस धराधाम पर अनेकों योद्धा ऐसे हुए हैं जिन्होंने अपनी शक्तियों का संचय करके एक विशाल जनसमूह को अपने वशीभूत किया एवं उन्हीं के माध्यम से मानवता के विरुद्ध कृत्य करना प्रारंभ किया | पूर्वकाल में ऐसे लोगों को राक्षस या निशाचर कहा जाता था | इनके अनेक अनुयायी ऐसे भी होते थे जिनको यह न
12 नवम्बर 2019
19 नवम्बर 2019
नशा "नाश" का दूसरा नाम है.ये नाश करता है बुद्धि का.ये नाश करता है धन का.ये नाश करता है संबंधों का.ये नाश करता है नैतिक मूल्यों का.नाश नहीं निर्माण की तरफ बढ़ोयुवाओं तुम नशामुक्त समाज बनानेका संकल्प लो.शिल्पा रोंघे
19 नवम्बर 2019
23 नवम्बर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKer
23 नवम्बर 2019
19 नवम्बर 2019
हुई सभा एक दिन गुड्डे गुड़ियों की.गुड़िया बोली,मैं सुंदरता की पुड़ियामुझसे ना कोई बढ़िया.इतने में आया गुड्डापहन के लाल चोला,कितनों का घमंड है मैंने तोड़ा.बीच में उचका काठी का घोड़ाअरे चुप हो जाओ तुम थोड़ा.मैंने ही हवा का रुख़ है मोड़ा.लट्टू घूमा, कुछ झूमा.बोला लड़ों
19 नवम्बर 2019
02 दिसम्बर 2019
सो
खुश है कुछ लोगइंस्टाग्राम, फ़ेसबुक, और ट्विटरपर अपनी फ़ैन फॉलोइंग को गिनकर.अपनी निज़ी जिंदगी को सार्वजनिककर.मगर भूल जाते है इस वर्चुअल दुनियामें खोकर उस पड़ोस को जो सबसेपहले पूछते है उनका हाल चाल.वो स्कूल कॉलेज और दफ़्तर केदोस्त जो बिना बताएं ही जान लेते हैदिल की बात.उंगल
02 दिसम्बर 2019
29 नवम्बर 2019
क्
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedC
29 नवम्बर 2019
12 नवम्बर 2019
सांप सीढ़ी सिर्फखेल नहीं,जीवन दर्शन भी है.सफलता और विफलता दुश्मन नहीं, एक दूसरे की साथी है.हर रास्ते पर सांप सा रोड़ा, कभी मंजिल के बेहद करीब आकर भी लौटना पड़ता है.कभी सिफ़र से शिखर तो कभी शिखर से सिफ़र का सफ़र तय करना पड़ता है.सफलता का कोई
12 नवम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x