अपना सोंचा कुछ नहीं होता :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

25 नवम्बर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (429 बार पढ़ा जा चुका है)

अपना सोंचा कुछ नहीं होता :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस धराधाम पर परमपिता परमात्मा ने जलचर , थलचर नभचर आदि योनियों की उत्पत्ति की | कुल मिलाकर चौरासी लाख योनियाँ इस पृथ्वी पर विचरण करती हैं , इन सब में सर्वश्रेष्ठ योनि मनुष्य को कहा गया है क्योंकि जहां अन्य जीव एक निश्चित कर्म करते रहते हैं वही मनुष्य को ईश्वर ने विवेक दिया है , कोई भी कार्य करने के पहले विचार करने का अधिकार दिया है | अपनी इसी विचार शक्ति के कारण मनुष्य सभी योनियों में सर्वश्रेष्ठ हो जाता है | मनुष्य को ईश्वर ने विवेकवान तो बनाया ही साथ ही इतना स्वतंत्र कर दिया है कि वह जो चाहे सोच सकता है , जो चाहे कर सकता है , किसी के किए हुए कार्य पर मनचाही टिप्पणियां भी कर सकता है , परंतु इतना सब कुछ अधिकार देने के बाद भी उस परमपिता परमात्मा ने मनुष्य को स्वतंत्र नहीं किया है | मनुष्य विवेकशील प्राणी तो है और अपने विवेक से वह भविष्य के लिए अनेकानेक योजनाएं भी बनाया करता है परंतु यह आवश्यक नहीं है कि उसकी बनाई हुई योजना फलीभूत ही हो जाय | सर्वगुण संपन्न होने के बाद भी मनुष्य ईश्वर के अधीन है बड़ी-बड़ी योजनाएं ध्वस्त होती हुई देखी गई है | अयोध्या के चक्रवर्ती सम्राट महाराज दशरथ ने अगले दिन अपने सुपुत्र मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम के राज्याभिषेक की घोषणा कर दी परंतु उनका सोचा हुआ कार्य नहीं हो पाया और स्वयं परमात्मा को भी मानव होने के कारण वनवास भोगना पड़ा | कहने का तात्पर्य यह है कि मनुष्य योजनाएं बनाता रहता है परंतु उन योजनाओं पर अंतिम निर्णय उस परम सत्ता का ही होता है | शायद इसीलिए कहा गया है कि मनुष्य को सिर्फ कर्म करने का अधिकार है | इसका तात्पर्य यह नहीं हुआ कि मनुष्य योजनाएं बनाये ही ना क्योंकि बिना भविष्य की योजना बनाये मनुष्य कभी सफल ही नहीं हो सकता , लेकिन मनुष्य की कौन सी योजना फलीभूत होगी और कौन सी असफल इसका निर्णय ईश्वर के हाथ में होता है | यदि ईश्वर ने यह अधिकार भी मनुष्य को दे दिया होता तो आज मनुष्य स्वयं ईश्वर बन जाता | मनुष्य सप्ताह भर की तैयारियां बनाए रखता है परंतु कल क्या होगा इसका आभास किसी को भी नहीं होता शायद इसीलिए ईश्वर को सर्वशक्तिमान कहा गया है |*


*आज मनुष्य की वैचारिक शक्ति में वृद्धि हुई है पहले की अपेक्षा मनुष्य विवेकवान भी हुआ है परंतु मनुष्य का सोचा कुछ भी नहीं होता यह आज भी अटल सत्य हैं | लोग तरह-तरह के कार्यक्रमों के लिए योजनाएं बनाते हैं , कार्यक्रम की तिथि भी निश्चित कर दी जाती है , सारी रूपरेखा तैयार हो जाती है और मनुष्य दिन रात उन कार्यक्रमों के सपनों में खोया रहता है परंतु एक ही झटके में कुछ ऐसा हो जाता है कि मनुष्य की सारी योजनाएं धरी रह जाती हैं | मेरा "आचार्य अर्जुन तिवारी" का मानना है कि ऐसा इसलिए होता है क्योंकि इस संसार में कब क्या होना है इसकी रूपरेखा ईश्वर तय करता है , बिना उसकी सत्ता के पत्ता तक नहीं हिल सकता | इस संसार में मनुष्य को भेजने के पहले ही ईश्वर के द्वारा यह निर्धारित कर दिया जाता है कि इसके द्वारा कब क्या कार्य संपन्न होगा , कब कहां जाना है , कब कौन मिलेगा और कब कौन से क्रियाकलाप होंगे | मनुष्य जानता भी है कि पल भर का ठिकाना नहीं है परंतु इसके बाद भी अनेकानेक योजनाएं बनाने में व्यस्त रहता है | यह सत्य है कि जीवन संभावनाओं का नाम है , संभावनाओं को कभी समाप्त भी नहीं करना चाहिए परंतु किसी कार्य के बिगड़ जाने पर या स्थगित हो जाने पर स्वयं को या किसी अन्य को दोषी मानना भी उचित नहीं है | ऐसी किसी भी परिस्थिति मनुष्य को यह विचार करना चाहिए कि हमने अपना प्रयास किया परंतु शायद अभी उचित समय नहीं आया था , क्योंकि ईश्वर की न्याय प्रक्रिया बहुत ही पारदर्शी होती है | इस संसार में कब क्या होगा यह सब कुछ पहले से ही निश्चित होता है मनुष्य तो मात्र कठपुतली की भांति नाचता रहता है और स्वयं को दोषी या भाग्यवान समझता रहता है | शायद इसीलिए कविकुल शिरोमणि बाबा गोस्वामी तुलसीदास जी ने लिख दिया है :- "सबहिं नचावत राम गोसांईं" | ऐसे अवसर पर मनुष्य को अधीर ना हो करके यह विचार करना चाहिए कि मेरे नियत की गई तिथि पर यदि मेरा सोचा हुआ कार्य नहीं हो रहा है तो शायद ईश्वर ने जो समय निश्चित किया है उस समय पर मेरा सोचा हुआ कार्य और भव्य होने वाला है | सदैव सकारात्मकता के साथ ईश्वर के निर्णय को स्वीकार करना ही विवेकशीलता है |*


*मनुष्य आज एक दूसरे को मरने मारने पर उतारू है परंतु यह भी सत्य है कि ना तो कोई किसी के मरने से मरता है और ना ही कोई किसी को जीवन दे सकता है , क्योंकि जो भी करता है ईश्वर करता है मनुष्य निमित्त मात्र है | इसलिए इस विषय पर ज्यादा विचार ना करते हुए अपने कर्म को करते रहना चाहिए |*

अगला लेख: विवाह संस्कार की दिव्यता :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
12 नवम्बर 2019
*आदिकाल से ही से ही इस धराधाम पर अनेकों योद्धा ऐसे हुए हैं जिन्होंने अपनी शक्तियों का संचय करके एक विशाल जनसमूह को अपने वशीभूत किया एवं उन्हीं के माध्यम से मानवता के विरुद्ध कृत्य करना प्रारंभ किया | पूर्वकाल में ऐसे लोगों को राक्षस या निशाचर कहा जाता था | इनके अनेक अनुयायी ऐसे भी होते थे जिनको यह न
12 नवम्बर 2019
28 नवम्बर 2019
*ईश्वर द्वारा बनाई गयी सृष्टि बहुत ही देदीप्यमान एवं सुंदर है | मनुष्य के जन्म के पहले ही उसे सारी सुख - सुविधायें प्राप्त रहती हैं | जन्म लेने के बाद मनुष्य परिवार में प्रगति एवं विकास करते हुए पारिवारिक संस्कृति को स्वयं में समाहित करने लगता है | मनुष्य का जीवन ऐसा है कि एक क्षण भी कर्म किये बिना
28 नवम्बर 2019
10 दिसम्बर 2019
*इस संपूर्ण सृष्टि की रचना पारब्रह्म परमेश्वर ने अपनी इच्छा मात्र से कर दिया | इस सृष्टि का मूल वह परमात्मा ही है | प्रत्येक मनुष्य को मूल तत्व का सदैव ध्यान रखना चाहिए क्योंकि यदि मूल को अनदेखा कर दिया जाए तो जीवन सुचारू रूप से नहीं चल सकता | जिस प्रकार इस सृष्टि का मूल परमात्मा है उसी प्रकार मनुष्
10 दिसम्बर 2019
21 नवम्बर 2019
*सनातन धर्म में सोलह संस्कारों का वर्णन मिलता है इन संस्कारों में एक महत्वपूर्ण संस्कार है विवाह संस्कार | मनुष्य योनि में जन्म लेने के बाद वैवाहिक संस्कार महत्वपूर्ण हो जाता है क्योंकि सनातन धर्म में बताए गए चार आश्रम में सबसे महत्वपूर्ण है गृहस्थाश्रम | गृहस्थाश्रम में प्रवेश करने के लिए विवाह संस
21 नवम्बर 2019
27 नवम्बर 2019
*ईश्वर की बनायी यह सृष्टि बहुत ही विचित्र है , यहां एक ही भाँति दिखने वाले मनुष्यों के क्रियाकलाप भिन्न - भिन्न होते हैं | मनुष्य के आचरण एवं उसके क्रियाकलापों के द्वारा ही उनकी श्रेणियां निर्धारित हो जाती है | वैसे तो मनुष्य की अनेक श्रेणियां हैं परंतु मुख्यतः दो श्रेणियों में मनुष्य बंटा हुआ है |
27 नवम्बर 2019
26 नवम्बर 2019
*इस संसार परमात्मा ने अनेकानेक जीवो का सृजन किया | पशु - पक्षी ,कीड़े - मकोड़े और जलीय जंतुओं का सृजन करने के साथ ही मनुष्य का भी सृजन परमात्मा ने किया | सभी जीवो में समान रूप से आंख , मुख , नाक , कान एवं हाथ - पैर दिखाई देते हैं परंतु इन सब में मनुष्य को उस परमात्मा
26 नवम्बर 2019
26 नवम्बर 2019
❌ *इस संसार परमात्मा ने अनेकानेक जीवो का सृजन किया | पशु - पक्षी ,कीड़े - मकोड़े और जलीय जंतुओं का सृजन करने के साथ ही मनुष्य का भी सृजन परमात्मा ने किया | सभी जीवो में समान रूप से आंख , मुख , नाक , कान एवं हाथ - पैर दिखाई देते हैं परंतु इन सब में मनुष्य को उस परमात्मा ने एक अमोघ शक्ति के रूप में बु
26 नवम्बर 2019
14 नवम्बर 2019
*सृष्टि के आदिकाल में वेद प्रकट हुए , वेदों का विन्यास करके वेदव्यास जी ने अनेकों पुराणों का लेखन किया परंतु उनको संतोष नहीं हुआ तब नारद जी के कहने से उन्होंने श्रीमद्भागवत महापुराण की रचना की | श्रीमद्भागवत के विषय में कहा जाता है यह वेद उपनिषदों के मंथन से निकला हुआ ऐसा नवनीत (मक्खन) है जो कि वेद
14 नवम्बर 2019
21 नवम्बर 2019
*सनातन धर्म में सोलह संस्कारों का वर्णन मिलता है इन संस्कारों में एक महत्वपूर्ण संस्कार है विवाह संस्कार | मनुष्य योनि में जन्म लेने के बाद वैवाहिक संस्कार महत्वपूर्ण हो जाता है क्योंकि सनातन धर्म में बताए गए चार आश्रम में सबसे महत्वपूर्ण है गृहस्थाश्रम | गृहस्थाश्रम में प्रवेश करने के लिए विवाह संस
21 नवम्बर 2019
30 नवम्बर 2019
*इस धराधाम पर परमात्मा ने अनेकों प्रकार के पशु-पक्षियों , जीव - जंतुओं का सृजन किया साथ ही मनुष्य को बनाया | मनुष्य को परमात्मा का युवराज कहा जाता है | इस धराधाम पर सभी प्रकार के जीव एक साथ निवास करते हैं , जिसमें से सर्वाधिक निकटता मनुष्य एवं पशुओं की आदिकाल से ही रही है | जीवमात्र के ऊपर संगत का प
30 नवम्बर 2019
09 दिसम्बर 2019
*इस संपूर्ण विश्व में प्रारंभ से ही भारत देश अपने क्रियाकलापों एवं दूरदर्शिता के लिए जाना जाता रहा है | विश्व के समस्त देशों की अपेक्षा भारत की सभ्यता , संस्कृति एवं आपसी सामंजस्य एक अनुपम उदाहरण प्रस्तुत करता रहा है | यहां पूर्व काल में एक दूसरे के सहयोग से दुष्कर से दुष्कर कार्य मनुष्य करता रहा है
09 दिसम्बर 2019
02 दिसम्बर 2019
*हमारे देश की संस्कृति इतनी महान रही है कि समस्त विश्व ने हमारी संस्कृति को आत्मसात किया | सनातन ने सदैव नारी को शक्ति के रूप में प्रतिपादित / स्थापित करते हुए सम्माननीय एवं पूज्यनीय माना है | इस मान्यता के विपरीत जाकर जिसने भी नारियों के सम्मान के विपरीत जाकर उनसे व्यवहार करने का प्रयास किया है उसक
02 दिसम्बर 2019
16 नवम्बर 2019
*परमात्मा की बनाई यह सृष्टि निरन्तर क्षरणशील है | एक दिन सबका ही अन्त निश्चित है | सृष्टि का विकास हुआ तो एक दिन महाप्रलय के रूप में इसका विनाश भी हो जाना है , सूर्य प्रात:काल उदय होता है तो एक निश्चित समय पर अस्त भी हो जाता है | उसी प्रकार इस सृष्टि में जितने भी जड़
16 नवम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x