बुद्धि बल से श्रेष्ठ है मानव :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

26 नवम्बर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (453 बार पढ़ा जा चुका है)

बुद्धि बल से श्रेष्ठ है मानव :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

❌ *इस संसार परमात्मा ने अनेकानेक जीवो का सृजन किया | पशु - पक्षी ,कीड़े - मकोड़े और जलीय जंतुओं का सृजन करने के साथ ही मनुष्य का भी सृजन परमात्मा ने किया | सभी जीवो में समान रूप से आंख , मुख , नाक , कान एवं हाथ - पैर दिखाई देते हैं परंतु इन सब में मनुष्य को उस परमात्मा ने एक अमोघ शक्ति के रूप में बुद्धि प्रदान की है | यह मनुष्य को परमात्मा द्वारा प्राप्त अतुलनीय शक्ति है , इसी बुद्धि के बल पर मनुष्य लाखों-करोड़ों जीवो का स्वामी बनकर बैठा है | मनुष्य अपने बुद्धि के बल पर स्वयं तो श्रेष्ठ बना ही साथ ही उसने संसार को भी श्रेष्ठ बनाने का प्रयास किया है और उसमें सफल भी हुआ है | अपने बुद्धि का प्रयोग करके अनेकानेक रहस्यों का पता लगाने वाला मनुष्य सांसारिक सुख-सुविधाओं की वृद्धि करने में सक्षम हुआ है | ऐसा नहीं है कि बुद्धि के बल पर मनुष्य ने सिर्फ सांसारिक एवं भौतिक वस्तुओं की ही वृद्धि की है अपितु बुद्धि का ही प्रयोग करके उसने आत्मा - परमात्मा , जीवन - मृत्यु , प्रकृति एवं पुरुष के विषय में भी अधिक से अधिक जानने का प्रयास करते हुए जीवन को सफल भी बनाया है | प्रकृति में समावेशित पंचतत्व पर भी विजय प्राप्त करके उसकी पराधीनता से स्वयं को मुक्त करके आत्मनिर्भर होने का प्रयत्न भी मनुष्य ने किया है | ऋतुकालीन फसलों को मनुष्य आज बिना उस ऋतु के भी उत्पादित कर रहा है यह मनुष्य की बुद्धि बल का ही परिणाम है | अपने बुद्धि बल पर मनुष्य चाहे तो इस धराधाम को स्वर्ग बना सकता है और चाहे तो नरक से भी बदतर बनाने में सक्षम है | बुद्धि नामक अचूक अस्त्र परमात्मा ने मात्र मानव को दिया है सदैव इसका सदुपयोग ही करना चाहिए जिससे मानव मात्र का कल्याण होता रहे |*


*आज मनुष्य अपने बुद्धि बल से विज्ञान का सहारा लेकर के असंभव से असंभव कार्य को भी संभव कर पा रहा है परंतु ईश्वर द्वारा प्रदत्त इस अमोघ शक्ति का दुरुपयोग भी अधिक से अधिक हो रहा है | आज की परिस्थितियां देखते हुए दुर्भाग्यवश ऐसा नहीं लग रहा है कि मानवीय बुद्धि की यह शक्ति संसार को स्वर्ग के रूप में परिणत करेगी | आज मनुष्य अपनी बुद्धि बल का प्रयोग नकारात्मकता के साथ करके ईश्वर द्वारा बनाये इस सुंदर संसार को नर्क बनाने में तत्पर दिख रहा है | इस विषय में कुछ कहने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि आज चारों ओर विनाश एवं उससे पीड़ित मनुष्यों का हाहाकार ही अधिक सुनाई पड़ रहा है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" आज जिधर देख रहा हूं उधर ही दुख - पीड़ा , शोक - संताप , आवश्यकता एवं अभाव का ही तांडव दिखाई पड़ रहा है | आज मनुष्य सांसारिक सुख सुविधाओं की वृद्धि करने के लिए नित्य अपने बुद्धि बल का प्रयोग अनेक प्रकार से कर रहा है परंतु इतना करने के बाद भी मनुष्य आज आश्वस्त एवं निश्चिंत नहीं दिखाई पड़ता है | सुख - सुविधा के अनगिनत साधन संचित कर लेने के बाद भी मनुष्य उससे लाभान्वित नहीं हो पा रहा है तो उसका एक ही कारण है कि आज मनुष्य की बुद्धि विकृत हो गई है | बुद्धि बल का प्रयोग जब तक सकारात्मकता से नहीं किया जाएगा तब तक यह संसार दिन प्रतिदिन पतन की ओर अग्रसर होता रहेगा , जो कि आज दिखाई भी पड़ रहा है | आज प्रत्येक मनुष्य में सकारात्मकता कम एवं नकारात्मकता अधिक दिखाई पड़ रही है | ईश्वर द्वारा प्रदत्त बुद्धि नामक अमोघ अस्त्र का प्रयोग मनुष्य को सदैव सकारात्मकता के साथ सृष्टि के सृजन में लगाने का प्रयास करते रहना चाहिए अन्यथा अन्य जीवो एवं मनुष्य में कोई विशेष अंतर नहीं रह जाएगा | मनुष्य बुद्धि बल का सकारात्मक प्रयोग तब तक नहीं कर पाएगा जब तक उसके हृदय में श्रद्धा का भाव नहीं होगा क्योंकि श्रद्धा से ही मनुष्य सकारात्मक हो सकता है |*


*बुद्धि को परिष्कृत करने के लिए श्रद्धा का होना परम आवश्यक है | जिस दिन मनुष्य के ह्रदय में श्रद्धा का भाव उत्पन्न हो जाएगा उसी दिन विध्वंसक बौद्धिक चमत्कार सृजनात्मक वरदान बन जाएंगे |*

अगला लेख: विवाह संस्कार की दिव्यता :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
08 दिसम्बर 2019
*सनातन धर्म के अनुसार मनुष्य का जीवन संस्कारों से बना होता है इसी को ध्यान में रखते हुए हमारे पूर्वजों ने मनुष्य के लिए सोलह संस्कारों का विधान बताया है | गर्भकाल से लेकर मृत्यु तक इन संस्कारों को मनुष्य स्वयं में समाहित करते हुए दिव्य
08 दिसम्बर 2019
30 नवम्बर 2019
*इस धराधाम पर जन्म लेकर मनुष्य परमपिता परमेश्वर को प्राप्त करने के लिए अनेकों प्रकार के उपाय करता है यहां तक कि कभी-कभी वह संसार से विरक्त होकर के अकेले में बैठ कर परमात्मा का ध्यान तो करता ही रहता है साथ ही वह भावावेश में रोने भी लगता है और मन में विचार करता है कि हमको परमात्मा ने इस संसार में क्यो
30 नवम्बर 2019
09 दिसम्बर 2019
*इस संपूर्ण विश्व में प्रारंभ से ही भारत देश अपने क्रियाकलापों एवं दूरदर्शिता के लिए जाना जाता रहा है | विश्व के समस्त देशों की अपेक्षा भारत की सभ्यता , संस्कृति एवं आपसी सामंजस्य एक अनुपम उदाहरण प्रस्तुत करता रहा है | यहां पूर्व काल में एक दूसरे के सहयोग से दुष्कर से दुष्कर कार्य मनुष्य करता रहा है
09 दिसम्बर 2019
21 नवम्बर 2019
*सनातन धर्म में सोलह संस्कारों का वर्णन मिलता है इन संस्कारों में एक महत्वपूर्ण संस्कार है विवाह संस्कार | मनुष्य योनि में जन्म लेने के बाद वैवाहिक संस्कार महत्वपूर्ण हो जाता है क्योंकि सनातन धर्म में बताए गए चार आश्रम में सबसे महत्वपूर्ण है गृहस्थाश्रम | गृहस्थाश्रम में प्रवेश करने के लिए विवाह संस
21 नवम्बर 2019
11 दिसम्बर 2019
*आदिकाल में परमपिता परमात्मा ने इस धरती पर जीवन की सृष्टि करते हुए अनेकों प्राणियों का सृजन किया | पशु पक्षी जिन्हें हम जानवर कहते हैं इनके साथ ही मनुष्य का भी निर्माण हुआ | मनुष्य ने अपने बुद्धि कौशल से निरंतर विकास किया और समाज में स्थापित हुआ | यदि वैज्ञानिक तथ्यों को माना जाय तो मनुष्य भी पहले प
11 दिसम्बर 2019
08 दिसम्बर 2019
*सनातन धर्म के अनुसार मनुष्य का जीवन संस्कारों से बना होता है इसी को ध्यान में रखते हुए हमारे पूर्वजों ने मनुष्य के लिए सोलह संस्कारों का विधान बताया है | गर्भकाल से लेकर मृत्यु तक इन संस्कारों को मनुष्य स्वयं में समाहित करते हुए दिव्य
08 दिसम्बर 2019
16 नवम्बर 2019
*परमात्मा की बनाई यह सृष्टि निरन्तर क्षरणशील है | एक दिन सबका ही अन्त निश्चित है | सृष्टि का विकास हुआ तो एक दिन महाप्रलय के रूप में इसका विनाश भी हो जाना है , सूर्य प्रात:काल उदय होता है तो एक निश्चित समय पर अस्त भी हो जाता है | उसी प्रकार इस सृष्टि में जितने भी जड़
16 नवम्बर 2019
21 नवम्बर 2019
*सनातन धर्म में सोलह संस्कारों का वर्णन मिलता है इन संस्कारों में एक महत्वपूर्ण संस्कार है विवाह संस्कार | मनुष्य योनि में जन्म लेने के बाद वैवाहिक संस्कार महत्वपूर्ण हो जाता है क्योंकि सनातन धर्म में बताए गए चार आश्रम में सबसे महत्वपूर्ण है गृहस्थाश्रम | गृहस्थाश्रम में प्रवेश करने के लिए विवाह संस
21 नवम्बर 2019
27 नवम्बर 2019
*ईश्वर की बनायी यह सृष्टि बहुत ही विचित्र है , यहां एक ही भाँति दिखने वाले मनुष्यों के क्रियाकलाप भिन्न - भिन्न होते हैं | मनुष्य के आचरण एवं उसके क्रियाकलापों के द्वारा ही उनकी श्रेणियां निर्धारित हो जाती है | वैसे तो मनुष्य की अनेक श्रेणियां हैं परंतु मुख्यतः दो श्रेणियों में मनुष्य बंटा हुआ है |
27 नवम्बर 2019
25 नवम्बर 2019
*इस धराधाम पर परमपिता परमात्मा ने जलचर , थलचर नभचर आदि योनियों की उत्पत्ति की | कुल मिलाकर चौरासी लाख योनियाँ इस पृथ्वी पर विचरण करती हैं , इन सब में सर्वश्रेष्ठ योनि मनुष्य को कहा गया है क्योंकि जहां अन्य जीव एक निश्चित कर्म करते रहते हैं वही मनुष्य को ईश्वर ने विवेक दिया है , कोई भी कार्य करने के
25 नवम्बर 2019
30 नवम्बर 2019
*इस धराधाम पर परमात्मा ने अनेकों प्रकार के पशु-पक्षियों , जीव - जंतुओं का सृजन किया साथ ही मनुष्य को बनाया | मनुष्य को परमात्मा का युवराज कहा जाता है | इस धराधाम पर सभी प्रकार के जीव एक साथ निवास करते हैं , जिसमें से सर्वाधिक निकटता मनुष्य एवं पशुओं की आदिकाल से ही रही है | जीवमात्र के ऊपर संगत का प
30 नवम्बर 2019
14 नवम्बर 2019
*सृष्टि के आदिकाल में वेद प्रकट हुए , वेदों का विन्यास करके वेदव्यास जी ने अनेकों पुराणों का लेखन किया परंतु उनको संतोष नहीं हुआ तब नारद जी के कहने से उन्होंने श्रीमद्भागवत महापुराण की रचना की | श्रीमद्भागवत के विषय में कहा जाता है यह वेद उपनिषदों के मंथन से निकला हुआ ऐसा नवनीत (मक्खन) है जो कि वेद
14 नवम्बर 2019
09 दिसम्बर 2019
*सनातन धर्म की मान्यता है कि महाराज मनु से मनुष्य की उत्पत्ति इस धराधाम पर हुई है इसीलिए उसे मानव या मनुष्य कहा जाता है | मनुष्यों के लिए अनेकों प्रकार के धर्मों का पालन करने का निर्देश भी प्राप्त होता है | प्रत्येक मनुष्य में दया , दान , शील , सौजन्य , धृति , क्षमा आदि गुणों का होना परमावश्यक है इन
09 दिसम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x