ईश्वर को समर्पित कर्म ही पूजा है :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

28 नवम्बर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (449 बार पढ़ा जा चुका है)

ईश्वर को समर्पित कर्म ही पूजा है :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*ईश्वर द्वारा बनाई गयी सृष्टि बहुत ही देदीप्यमान एवं सुंदर है | मनुष्य के जन्म के पहले ही उसे सारी सुख - सुविधायें प्राप्त रहती हैं | जन्म लेने के बाद मनुष्य परिवार में प्रगति एवं विकास करते हुए पारिवारिक संस्कृति को स्वयं में समाहित करने लगता है | मनुष्य का जीवन ऐसा है कि एक क्षण भी कर्म किये बिना नहीं रह सकता , वह चाहे जैसा भी कर्म हो परन्तु मनुष्य कुछ न कुछ कर्म प्रत्येक मनुष्य करता ही रहता है | शायद इसीलिए इस सृष्टि में कर्म को ही प्रधान माना गया है | गीता में योगेश्वर भगवान श्रीकृष्ण ने गीता का उपदेश देते हुए "कर्मयोग" का विस्तृत वर्णन किया है | प्राय: कहा जाता है कि "कर्म ही पूजा है" | तो वह कौन सा कर्म है जो पूजा की श्रेणी में रखा जा सकता है | सनातन धर्म में नित्य देव पूजन करना अनिवार्य बताया गया है परंतु कभी कभी ऐसा समय भी जीवन में उपस्थित हो जाता है कि कार्यों की अधिकता में उलझे रहते हुए बहुत चाहकर भी मनुष्य पूजा नहीं कर पाता और मन में उदास हो जाता है कि आज हम पूजा नहीं कर पाये | जबकि ऐसा विचार कभी भी नहीं प्रकट होना चाहिए , क्योंकि हमारे महापुरुषों ने कर्म को ही सबसे बड़ी पूजा बताते हुए कहा है कि :- जब मनुष्य कोई भी कार्य करने के पहले यह निश्चय कर लेता है कि मैं जो काम कर रहा हूं वह भगवान के लिए कर रहा हूं , यदि व्यापारी है तो यह समझ ले कि व्यापार भगवान के लिए कर रहा है , जीवन में कोई भी कार्य करने के पहले यदि मनुष्य उसे भगवान के प्रति समर्पित करते हुए फिर मन में यह विचार कर ले कि यह सारा कार्य ईश्वर के लिए कर रहे हैं तो मनुष्य के हृदय में कभी कर्तापन का भाव नहीं आएगा और यही कर्म पूजा बन जाएगा | किसी भी पूजन अनुष्ठान में एक विधान होता है समर्पण का , उस विधान का पालन करते हुए मनुष्य को प्रत्येक कर्म ईश्वर को समर्पित करते हुए स्वयं उसके बोझ से बच के रहना चाहिए | ईश्वर को समर्पित कर्म ही सबसे बड़ी पूजा कहीं गई है | ऐसा विचार करके कर्म करने वाले मनुष्य कभी भी परिणाम की चिंता न करके सकारात्मकता से अपने कर्म में तत्पर रहता है | गीता में भगवान ने इसे ही कर्मयोग एवं निष्काम कर्म कहा है |*


*आज मनुष्य का जीवन इतना व्यस्त हो गया है कि दिन रात वह काम ही करता रहता है परंतु इतना करने के बाद भी उसे संतुष्टि नहीं होती है और ना ही वह स्वयं को सुखी मानता है | जब कर्म ही पूजा है तो पूजा करके भला कोई दुखी कैसे रह सकता है ? यदि कर्म करने के बाद भी मनुष्य दु:खी है तो इसका सबसे बड़ा कारण यह कि मनुष्य आज कोई भी कार्य निष्काम भाव से ना करके अपने लिए कर रहा है | जहां मनुष्य में कर्तापन का भाव आ जाता है वही मनुष्य के जीवन में दुख प्रारंभ हो जाता है | निष्काम भाव से कर्म करने वाला आज बड़ी कठिनता से दिखाई पड़ता है , प्रत्येक मनुष्य सकाम भाव से अपने लिए , अपने परिवार के लिए कर्म कर रहा है और वह कोई भी कर्म ईश्वर को समर्पित नहीं करना चाहता | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" इतना जानता हूं यदि अपने कार्यक्षेत्र में मनुष्य व्यस्त रहते हुए किसी भी पूजन अनुष्ठान का पालन नहीं कर पा रहा है और उसके कर्म के द्वारा अनेकों लोगों का भरण पोषण हो रहा है तो उसका कर्म ही सबसे बड़ी पूजा मानी जाएगी | जैसा कि बताया गया है कि कोई भी कर्म करते हुए हृदय में यह विचार अवश्य रखना चाहिए कि मैं यह कार्य अपने लिए नहीं बल्कि ईश्वर के लिए कर रहा हूं | समर्पण की भावना जिस दिन मनुष्य के अंदर उत्पन्न हो जाएगी उसी दिन उसका प्रत्येक कर्म पूजा बन जाएगा , अन्यथा मनुष्य जीवन भर अपने परिवार व समाज के लिए कार्य करते करते मृत्यु के निकट पहुंच जाता है परंतु उसे शांति एवं सुख का अनुभव नहीं हो पाता | इसका कारण एक ही है कि वह सारे कार्य करते हुए भी अपने कर्म को पूजा न मानकरके दायित्व समझकर कर रहा है | जिस संलग्नता व श्रद्धाभाव से मनुष्य किसी भी पूजन अनुष्ठान में बैठता है उसी संलग्नता व समर्पण भाव से कर्म को पूजा मान करके करने वाले मनुष्य कभी भी दुखी नहीं हो सकते |*


*इस सृष्टि में कर्म ही प्रधान है बिना कर्म किये कोई भी नहीं रह सकता परंतु कर्म पूजा की श्रेणी में तभी गिना जा सकता है जब वह सकारात्मक एवं ईश्वर को समर्पित हो |*

अगला लेख: जातस्य हि ध्रुवो मृत्यु: :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
25 नवम्बर 2019
*इस धराधाम पर परमपिता परमात्मा ने जलचर , थलचर नभचर आदि योनियों की उत्पत्ति की | कुल मिलाकर चौरासी लाख योनियाँ इस पृथ्वी पर विचरण करती हैं , इन सब में सर्वश्रेष्ठ योनि मनुष्य को कहा गया है क्योंकि जहां अन्य जीव एक निश्चित कर्म करते रहते हैं वही मनुष्य को ईश्वर ने विवेक दिया है , कोई भी कार्य करने के
25 नवम्बर 2019
09 दिसम्बर 2019
*इस संपूर्ण विश्व में प्रारंभ से ही भारत देश अपने क्रियाकलापों एवं दूरदर्शिता के लिए जाना जाता रहा है | विश्व के समस्त देशों की अपेक्षा भारत की सभ्यता , संस्कृति एवं आपसी सामंजस्य एक अनुपम उदाहरण प्रस्तुत करता रहा है | यहां पूर्व काल में एक दूसरे के सहयोग से दुष्कर से दुष्कर कार्य मनुष्य करता रहा है
09 दिसम्बर 2019
30 नवम्बर 2019
*इस धराधाम पर जन्म लेकर मनुष्य परमपिता परमेश्वर को प्राप्त करने के लिए अनेकों प्रकार के उपाय करता है यहां तक कि कभी-कभी वह संसार से विरक्त होकर के अकेले में बैठ कर परमात्मा का ध्यान तो करता ही रहता है साथ ही वह भावावेश में रोने भी लगता है और मन में विचार करता है कि हमको परमात्मा ने इस संसार में क्यो
30 नवम्बर 2019
16 नवम्बर 2019
*इस धराधाम पर जन्म लेने के बाद मनुष्य येन - केन प्रकारेण ईश्वर प्राप्ति का उपाय किया करता है | ईश्वर का प्रेम पिराप्त करने के लिए मनुष्य पूजा , अनुष्ठान , मन्दिरों में देवदर्शन तथा अनेक तीर्थों का भ्रमण किया करता है जबकि भगवान को कहीं भी ढूंढ़ने की आवश्यकता नहीं है मानव हृदय में तो ईश्वर का वास है ह
16 नवम्बर 2019
02 दिसम्बर 2019
*हमारे देश की संस्कृति इतनी महान रही है कि समस्त विश्व ने हमारी संस्कृति को आत्मसात किया | सनातन ने सदैव नारी को शक्ति के रूप में प्रतिपादित / स्थापित करते हुए सम्माननीय एवं पूज्यनीय माना है | इस मान्यता के विपरीत जाकर जिसने भी नारियों के सम्मान के विपरीत जाकर उनसे व्यवहार करने का प्रयास किया है उसक
02 दिसम्बर 2019
21 नवम्बर 2019
*सनातन धर्म में सोलह संस्कारों का वर्णन मिलता है इन संस्कारों में एक महत्वपूर्ण संस्कार है विवाह संस्कार | मनुष्य योनि में जन्म लेने के बाद वैवाहिक संस्कार महत्वपूर्ण हो जाता है क्योंकि सनातन धर्म में बताए गए चार आश्रम में सबसे महत्वपूर्ण है गृहस्थाश्रम | गृहस्थाश्रम में प्रवेश करने के लिए विवाह संस
21 नवम्बर 2019
09 दिसम्बर 2019
*इस संपूर्ण विश्व में प्रारंभ से ही भारत देश अपने क्रियाकलापों एवं दूरदर्शिता के लिए जाना जाता रहा है | विश्व के समस्त देशों की अपेक्षा भारत की सभ्यता , संस्कृति एवं आपसी सामंजस्य एक अनुपम उदाहरण प्रस्तुत करता रहा है | यहां पूर्व काल में एक दूसरे के सहयोग से दुष्कर से दुष्कर कार्य मनुष्य करता रहा है
09 दिसम्बर 2019
17 नवम्बर 2019
*इस सकल सृष्टि में समस्त जड़ चेतन के मध्य मनुष्य सिरमौर बना हुआ है | जन्म लेने के बाद मनुष्य को अपने माता - पिता एवं सद्गुरु के द्वारा सत्य की शिक्षा दी जाती है | यह सत्या आखिर है क्या ? तीनो लोक चौदहों भुवन में एक ही सत्य बताया गया है वह है परमात्मा | जिसके लिए लिखा भी गया है :-- "ब्रह्म सत्यं जगत
17 नवम्बर 2019
21 नवम्बर 2019
*सनातन धर्म में सोलह संस्कारों का वर्णन मिलता है इन संस्कारों में एक महत्वपूर्ण संस्कार है विवाह संस्कार | मनुष्य योनि में जन्म लेने के बाद वैवाहिक संस्कार महत्वपूर्ण हो जाता है क्योंकि सनातन धर्म में बताए गए चार आश्रम में सबसे महत्वपूर्ण है गृहस्थाश्रम | गृहस्थाश्रम में प्रवेश करने के लिए विवाह संस
21 नवम्बर 2019
27 नवम्बर 2019
*ईश्वर की बनायी यह सृष्टि बहुत ही विचित्र है , यहां एक ही भाँति दिखने वाले मनुष्यों के क्रियाकलाप भिन्न - भिन्न होते हैं | मनुष्य के आचरण एवं उसके क्रियाकलापों के द्वारा ही उनकी श्रेणियां निर्धारित हो जाती है | वैसे तो मनुष्य की अनेक श्रेणियां हैं परंतु मुख्यतः दो श्रेणियों में मनुष्य बंटा हुआ है |
27 नवम्बर 2019
08 दिसम्बर 2019
*सनातन धर्म के अनुसार मनुष्य का जीवन संस्कारों से बना होता है इसी को ध्यान में रखते हुए हमारे पूर्वजों ने मनुष्य के लिए सोलह संस्कारों का विधान बताया है | गर्भकाल से लेकर मृत्यु तक इन संस्कारों को मनुष्य स्वयं में समाहित करते हुए दिव्य
08 दिसम्बर 2019
16 नवम्बर 2019
*परमात्मा की बनाई यह सृष्टि निरन्तर क्षरणशील है | एक दिन सबका ही अन्त निश्चित है | सृष्टि का विकास हुआ तो एक दिन महाप्रलय के रूप में इसका विनाश भी हो जाना है , सूर्य प्रात:काल उदय होता है तो एक निश्चित समय पर अस्त भी हो जाता है | उसी प्रकार इस सृष्टि में जितने भी जड़
16 नवम्बर 2019
26 नवम्बर 2019
❌ *इस संसार परमात्मा ने अनेकानेक जीवो का सृजन किया | पशु - पक्षी ,कीड़े - मकोड़े और जलीय जंतुओं का सृजन करने के साथ ही मनुष्य का भी सृजन परमात्मा ने किया | सभी जीवो में समान रूप से आंख , मुख , नाक , कान एवं हाथ - पैर दिखाई देते हैं परंतु इन सब में मनुष्य को उस परमात्मा ने एक अमोघ शक्ति के रूप में बु
26 नवम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x