क्या आप भी है ओल्ड स्कूल लवर.....

29 नवम्बर 2019   |  शिल्पा रोंघे   (484 बार पढ़ा जा चुका है)


ओल्ड स्कूल लवर... जी नहीं हम आपको ये नहीं कह रहे है कि आप बहुत बूढ़े हो गए है या रुढ़िवादी विचारों के है अब बस अपने आपको नए जमाने की तेज़ रफ़्तार के साथ भागते हुए नहीं चलता हुआ पाते है तो परेशान होने के बिल्कुल ज़रुरत नहीं है हो सकता है आप ओल्ड स्कूल लवर हो ऐसा इसलिए होता हो। आईए ज़ानिए क्या आप भी है ओल्ड स्कूल लवर...

1. आपको बदलते और लेटेस्ट फ़ैशन से कोई ख़ास फर्क नहीं पड़ता आप वो कपड़े पहनना पसंद करते हो जो आपको पसंद हो या आपके व्यक्तित्व से मेल खाते हो। इसका मतलब ये नहीं कि आप आउटडेटेड कपड़े पहनना पसंद करते हो बस आपको जो आपके मन को भा गया वो आपने पहन लिया। कुल मिलाकर एवरग्रीन फ़ैशन स्टाइल पसंद है आपको।

2. ऐसा नहीं कि आपको पार्टियों में जाना पसंद नहीं है लेकिन उसकी बजाए आप कम भीड़ भाड़ वाली जगह जैसे समुद्र किनारे, किसी पार्क, प्राकृतिक नज़ारे वाली जगह पर वक्त बिताना पसंद करते हो।

3. अगर आपके दोस्त आपको मूवी देखने के लिए ज़ोर डाले तब आप उनके साथ फिल्म देखने चले भी जाते हो लेकिन अगर खुद सिलेक्शन की बात आए तब घर में बैठकर अपनी मनपसंद किताब पढ़ना ज्यादा पसंद करोगो। क्लासिक नॉवेल जो कि 100 साल से भी ज्यादा पुराना हो उसे भी बड़े ही मन लगाकर पढ़ते हो।

4. वेबसीरिज के दौर में भी आप पुरानी फिल्में देखना पसंद करते हो साथ ही गजल और क्लॉसिकल संगीत को अपने दिल के करीब पाते हो।

5. सोशल मीडिया पर ज्यादा एक्टिव ना रहते हो बस अपनी प्रोफेशन से जुड़ी बाते और तस्वीर शेयर करना पसंद हो, सिर्फ सोशल मीडिया पर किसी की लोकप्रियता के आधार पर किसी के व्यक्तित्व का आकलन करना ठीक नहीं समझते हो।

6. कोई भी फैसला लेने के लिए अपने भाई, बहन, माता पिता या दोस्त से सलाह मशविरा करना पसंद करते हो और उनकी राय आपको काफी हद तक प्रभावित करती है।

7. डेटिंग एप्स के दौर में भी सीरियस प्यार में ही यकीन रखते हो, वो ना मिलने पर अकेले रहना ही पसंद करते हो, उस दौर में जहां युवा एक दूसरे को लंबे वक्त से जानने समझने के बाद ही शादी का फैसला लेते है, उस दौर में अरेंज मैरिज़ आपको बोरिंग बिल्कुल नहीं लगती है, ऐसा नहीं है कि ये लोग प्रेम विवाह नहीं करते है, लेकिन तभी ऐसा कदम उठाते है जब सामने वाला इन्हें प्रपोज़ करे या इनका भरोसा जीतने में कामयाब हो जाए तब ही ये रिस्क लेते है, लव एट फर्स्ट साईट या फिर सामाजिक परंपरा से हटकर प्यार करना पाना इनके लिए थोड़ा मुश्किल होता है, इसका मतलब ये नहीं कि ये दिल के कठोर होते है बस थोड़ा संभालकर कदम रखने की आदत होती है, कुल मिलाकर बिना वजह किसी को परेशान नहीं करना चाहते है।

अगर आप में भी ये बाते है तो आप भी कुछ हद तक ओल्ड स्कूल लवर हो सकते है, लेकिन इसका मतलब नहीं कि आप गलत है बस आप थोड़े अलग है।

अगला लेख: क्या सचमुच जो काम आप कर रहे है वो आपके स्वास्थ्य लिए सही है ?



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
27 नवम्बर 2019
सु
है जुटे हुए कुछ लोगसुधार में.है जुटे कुछ लोग आधुनिकताकी दुहाई देकर पंरपराओं कोप्राचीन बताने में.तो कुछ पंरपराओं की आड़ लेकरबदलाव को ठुकराने में.है जुटे हुए कुछ लोगअपनी ही बात सही मनवाने में.उनकी इच्छाओं का नहीं कोईअंत, सिर्फ इसलिए जुटे है व
27 नवम्बर 2019
02 दिसम्बर 2019
सो
खुश है कुछ लोगइंस्टाग्राम, फ़ेसबुक, और ट्विटरपर अपनी फ़ैन फॉलोइंग को गिनकर.अपनी निज़ी जिंदगी को सार्वजनिककर.मगर भूल जाते है इस वर्चुअल दुनियामें खोकर उस पड़ोस को जो सबसेपहले पूछते है उनका हाल चाल.वो स्कूल कॉलेज और दफ़्तर केदोस्त जो बिना बताएं ही जान लेते हैदिल की बात.उंगल
02 दिसम्बर 2019
19 नवम्बर 2019
हुई सभा एक दिन गुड्डे गुड़ियों की.गुड़िया बोली,मैं सुंदरता की पुड़ियामुझसे ना कोई बढ़िया.इतने में आया गुड्डापहन के लाल चोला,कितनों का घमंड है मैंने तोड़ा.बीच में उचका काठी का घोड़ाअरे चुप हो जाओ तुम थोड़ा.मैंने ही हवा का रुख़ है मोड़ा.लट्टू घूमा, कुछ झूमा.बोला लड़ों
19 नवम्बर 2019
15 नवम्बर 2019
आज के समय में TikTok पर 80 करोड़ यूजर्स हैं और इनमें से 20 करोड़ यूजर्स तो सिर्फ भारत से ही हैं। अब इतने बड़े सोशल मीडिया के बाजार में भला फेसबुक की नजर कैसा नहीं पड़ेगी आखिर यूजर्स अपना समय फेसबुक की तरह यहां भी बिता रहे हैं। 20 करोड़ यूजर्स कम नहीं होते हैं इसलिए फेसबुक के मालिक मार्क ज़कर्बर्ग ने
15 नवम्बर 2019
30 नवम्बर 2019
क्या अब नारी सिर्फ देव लोक में हीसम्मानित रह गई है ?मां की कोख में होतब भ्रूणहत्या की बात सोचकर सहम जाती है.गर दुनिया में आने का सौभाग्य पा जाए तोतब अस्मत को लेकर जाती है सहम.चढ़ती है डोली तबदहेज जैसे दानव को देखकर जाती है सहम.दुनिया मे
30 नवम्बर 2019
21 नवम्बर 2019
कहीं कांप रही धरती. कहीं बेमौसम बारिश से बह रही धरती. कहीं ठंड के मौसम में बुखार से तप रही धरती. कभी जल से, तो कभी वायु प्रदूषण से ज़हरीली हो रही प्रकृति. विकास के नाम पर विनाश का दर्द झेलती प्रकृति अपनी ही संतति से अवहेलना प्
21 नवम्बर 2019
19 नवम्बर 2019
नशा "नाश" का दूसरा नाम है.ये नाश करता है बुद्धि का.ये नाश करता है धन का.ये नाश करता है संबंधों का.ये नाश करता है नैतिक मूल्यों का.नाश नहीं निर्माण की तरफ बढ़ोयुवाओं तुम नशामुक्त समाज बनानेका संकल्प लो.शिल्पा रोंघे
19 नवम्बर 2019
19 नवम्बर 2019
कुछ दिन पहले हमने आपको बताया था कि भारत की प्रतिष्ठित कंपनी 'पतंजलि' एक मल्टी नेशनल कंपनी होने की बात सामने आ रही है। इस बारे में पतंजलि के CEO ने बालकृष्ण ने मीडिया को इस बारे में जानकारी दी। अब बाबा रामदेव का स्टेटमेंट सामने आ रहा है कि ये कंपनी MNCs क्यों हो रही है। इसके अलावा कांग्रेस ने इस बारे
19 नवम्बर 2019
26 नवम्बर 2019
क्
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedC
26 नवम्बर 2019
03 दिसम्बर 2019
चा
ना कोई फ़ीस लगती है ना कोईसिफारिश लगती है.चाटुकारिता की शिक्षा बिल्कुल मुफ़्त में मिलती है.शिल्पा रोंघे
03 दिसम्बर 2019
09 दिसम्बर 2019
*सनातन धर्म की मान्यता है कि महाराज मनु से मनुष्य की उत्पत्ति इस धराधाम पर हुई है इसीलिए उसे मानव या मनुष्य कहा जाता है | मनुष्यों के लिए अनेकों प्रकार के धर्मों का पालन करने का निर्देश भी प्राप्त होता है | प्रत्येक मनुष्य में दया , दान , शील , सौजन्य , धृति , क्षमा आदि गुणों का होना परमावश्यक है इन
09 दिसम्बर 2019
13 दिसम्बर 2019
जो
आसान नहीं है ज़िंदगीजीने का तरीका सीखलाना.आसान नहीं किसी कोसही राह दिखाना.आसान नहीं है खुद को भी बदलना, कुछ ख़्वाहिशोंको छोड़ना, कुछ सुविधाओं को त्यागना.त्याग की अग्नी में तपना औरउम्मीद के दीपक जलाना.धूप, बारिश, और ठंडको सहना.होंठो पर शिकायत कम और समाधाननिकालना.हां सचम
13 दिसम्बर 2019
26 नवम्बर 2019
क्
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedC
26 नवम्बर 2019
19 नवम्बर 2019
हुई सभा एक दिन गुड्डे गुड़ियों की.गुड़िया बोली,मैं सुंदरता की पुड़ियामुझसे ना कोई बढ़िया.इतने में आया गुड्डापहन के लाल चोला,कितनों का घमंड है मैंने तोड़ा.बीच में उचका काठी का घोड़ाअरे चुप हो जाओ तुम थोड़ा.मैंने ही हवा का रुख़ है मोड़ा.लट्टू घूमा, कुछ झूमा.बोला लड़ों
19 नवम्बर 2019
22 नवम्बर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <
22 नवम्बर 2019
02 दिसम्बर 2019
*हमारे देश की संस्कृति इतनी महान रही है कि समस्त विश्व ने हमारी संस्कृति को आत्मसात किया | सनातन ने सदैव नारी को शक्ति के रूप में प्रतिपादित / स्थापित करते हुए सम्माननीय एवं पूज्यनीय माना है | इस मान्यता के विपरीत जाकर जिसने भी नारियों के सम्मान के विपरीत जाकर उनसे व्यवहार करने का प्रयास किया है उसक
02 दिसम्बर 2019
26 नवम्बर 2019
क्
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedC
26 नवम्बर 2019
15 नवम्बर 2019
सो
फ्रेंच के साथ फ्रांसीसी जर्मन के साथ जर्मनवासी,जापानी भाषा के साथ जापान निवासी बना गए देश को विकसित और उन्नत.अंग्रेजी सभ्यता के बनकरअनुगामी, विकासशील से विकसित राष्ट्र का सफर अब तक क्या तय कर पाए है हिन्दुस्तानी ?
15 नवम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x