आज के रावण :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

29 नवम्बर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (436 बार पढ़ा जा चुका है)

आज के रावण :---  आचार्य अर्जुन तिवारी

*मनुष्य इस धरा धाम पर जन्म लेकर के अपने कर्मों के अनुसार समाज में स्थान पाता है , यदि उसके कर्म एवं आचरण समाज के हित में है तो वह समाज में पूज्यनीय हो जाता है वही उच्च कुल में जन्म लेकर के यदि उसका आचरण निम्न स्तरीय तथा समाज एवं मर्यादा के विपरीत होता है तो वह समाज में स्थान स्थान पर निंदित तो होता ही है साथ ही लोग उसके नाम से भी घृणा करने लगते हैं | कबीर दास जी ने लिखा भी है कि :-- "ऊंचे कुल का जनमिया करनी ऊंच ना होय ! सुबरन कलश सुरा भरा साधू निंदा सोय !!" अर्थात :- ऊंचे कुल में जन्म लेने मात्र से कुछ नहीं होता है मनुष्य के कर्म उसे उच्च एवं निम्न बनाते हैं | कर्मों से ही मनुष्य की पहचान बनती है जिस प्रकार सोने के बर्तन में यदि मदिरा रख दी जाए तो सोने का गुण निष्प्रभावी हो जाता है उसी प्रकार ऊंचे कुल में जन्म लेने के बाद भी यदि मनुष्य निंदित कार्य करता है तो वह कभी भी पूजनीय नहीं हो सकता | समाज विरोधी एवं मानवता के विपरीत कर्म करने वाला उच्च कुल में जन्म लेकर के , कठिन तपस्या करके भगवान शिव से असीम बल एवं अनेकों वरदान प्राप्त करने वाला रावण यदि आज निंदित है तो अपने कर्मों के के ही कारण | रावण में अहंकार , अधर्म , स्वार्थ एवं वासना भरी पड़ी थी | दिग दिगांतर को जीतने के बाद भी स्वर्ग तक अपनी विजय पताका फहराने वाला रावण अपने इसी अधर्म एवं अनीति के कारण उच्च कुल में जन्म लेकर भी भगवान श्री राम के हाथों असमय काल के गाल में समा गया और साथ ही अपने पूरे वंश का विनाश का कारण भी बना | कहने का तात्पर्य है कि ऊंचा कुल होना महत्वपूर्ण नहीं है , विद्वान होना महत्वपूर्ण नहीं है , महान तांत्रिक हो जाना भी उतना महत्वपूर्ण नहीं है जितना महत्वपूर्ण है अपने आचरण को सकारात्मक रखना परंतु यह शायद विधि का विधान है कि जब मनुष्य में ज्ञान , विज्ञान , बल एवं विस्तार हो जाता है तो वह स्वयं को ईश्वर के समकक्ष मानने लगता है और मनचाहा कार्य करने लगता है , जिसमें अनेकों प्रकार के समाज विरोधी कार्य भी उसके हाथों होने लगते हैं | लंकापति रावण इसी प्रकार का व्यक्तित्व था | कुछ लोग रावण की विद्वता एवं उसके उच्च कुल में जन्म लेने को लेकर के अनेकों प्रकार की चर्चा करते हैं परंतु वही लोग भूल जाते हैं कि उसने वेदवती से लेकर के अपनी पुत्रवधू एवं महारानी सीता तक को वासनात्मक दृष्टि से देखा जो कि उच्च कुलीन कृत्य नहीं कहा जा सकता है | रावण अपने इन्ही कुकृत्यों के कारण भर्त्सना एवं निंदा का पात्र है |*


*आज समाज में अनेकों रावण घूम रहे हैं | त्रेता युग के रावण ने वर्षों कठिन तपस्या करके ईश्वर से शक्तियां अर्जित की फिर उन शक्तियों के दुरुपयोग से अपने पाप की लंका का निर्माण किया था , परंतु आज अनेकों रावण है जो धन , पद और समाज में अनेकों उपमा रूपी शक्ति अर्जित करके उसके दुरुपयोग से पूरे समाज को ही पाप की लंका में बदल रहे हैं | आज समाज में अधर्म , अनीति चारों ओर दिखाई पड़ रहा है , व्यभिचार अपने चरम पर है यह रावण के कृत्य नहीं है तो और क्या है ? मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" आज यह कहना चाहता हूं कि हम प्रतिवर्ष विजयादशमी को रावण के पुतले को जलाते हैं परंतु यदि इस रावण रूपी वृत्ति से छुटकारा पाना है तो रावण के पुतले को नहीं बल्कि मनुष्य के भीतर बैठे हुए रावण को जलाना होगा | वह रावण जो अंदर ही लालच के रूप में , झूठ बोलने की प्रवृत्ति के रूप में , अहंकार के रूप में , वासना के रूप में बैठा हुआ है उसको ही जलाने से रावण का विनाश हो पाएगा | यह कलयुग है प्रत्येक मनुष्य के भीतर बैठे हुए रावण को मारने के लिए स्वयं भगवान नहीं आएंगे बल्कि मनुष्य को स्वयं अपने अंदर के रावण का वध करना होगा | जिस प्रकार अंधकार का विनाश एक छोटे से दीपक से हो जाता है उसी प्रकार समाज में व्याप्त इस रावण का विनाश करने के लिए एक सकारात्मक सोच की आवश्यकता है और वह सोच तभी पैदा हो पाएगी जब हम अपने आने वाली पीढ़ी को संस्कारवान बनाएंगे उन्हें नैतिकता का ज्ञान देंगे , और यह तभी संभव हो पाएगा जब हम स्वयं उनके समक्ष वह कृत्य करके एक सुंदर उदाहरण प्रस्तुत करेंगे | सबसे बड़ी समस्या यह है कि त्रेतायुग के रावण के दस सिर थे परंतु हर सिर का एक ही चेहरा था परंतु आज के रावण के एक ही सिर में अनेकों चेहरे देखने को मिलते हैं | यदि हमें समाज में फैले अनेकों रावण का विनाश करना है तो उसका एक ही मार्ग है कि स्वयं संस्कारवान बने और अपनी आने वाली पीढ़ियों को भी संस्कारवान बनाएं अन्यथा आने वाला समय रावण के अत्याचारों से पुनः हाहाकार करने वाला है |*


*त्रेतायुग के रावण को मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम ने तीर से मारा था परंतु आज के रावण को जो मनुष्य के मन में बैठा हुआ है उसे संस्कार , ज्ञान एवं इच्छाशक्ति से ही मारा जा सकता है |*

अगला लेख: जातस्य हि ध्रुवो मृत्यु: :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
18 नवम्बर 2019
*इस संसार में प्राय: दो शब्द सुनने को मिलते हैं शिक्षा एवं दीक्षा | शिक्षा एवं दीक्षा मानव जीवन की दिशा एवं दशा परिवर्तित करने में सक्षम होती है | जहाँ शिक्षा का अर्थ होता है ज्ञानार्जन करना वहीं दीक्षा का अर्थ दिशा प्राप्त करना बताया गया है | पूर्वकाल में गुरु के द्वारा पहले शिष्य की योग्यता के अनु
18 नवम्बर 2019
08 नवम्बर 2019
*पंचतत्त्वों से बने मनुष्य को इस धरा धाम पर जीवन जीने के लिए मनुष्य को पंचतत्वों की आवश्यकता होती है | रहने के लिए धरती , ताप के लिए अग्नि , पीने के लिए पानी , सर ढकने के लिए आसमान , एवं जीवित रहने के लिए वायु की आवश्यकता होती है | मनुष्य प्रत्येक श्वांस में वायु ग्रहण करता है | श्वांस लेने के लिए
08 नवम्बर 2019
16 नवम्बर 2019
*परमात्मा की बनाई यह सृष्टि निरन्तर क्षरणशील है | एक दिन सबका ही अन्त निश्चित है | सृष्टि का विकास हुआ तो एक दिन महाप्रलय के रूप में इसका विनाश भी हो जाना है , सूर्य प्रात:काल उदय होता है तो एक निश्चित समय पर अस्त भी हो जाता है | उसी प्रकार इस सृष्टि में जितने भी जड़
16 नवम्बर 2019
27 नवम्बर 2019
सु
है जुटे हुए कुछ लोगसुधार में.है जुटे कुछ लोग आधुनिकताकी दुहाई देकर पंरपराओं कोप्राचीन बताने में.तो कुछ पंरपराओं की आड़ लेकरबदलाव को ठुकराने में.है जुटे हुए कुछ लोगअपनी ही बात सही मनवाने में.उनकी इच्छाओं का नहीं कोईअंत, सिर्फ इसलिए जुटे है व
27 नवम्बर 2019
28 नवम्बर 2019
*इस समस्त सृष्टि में हमारा देश भारत अपने गौरवशाली संस्कृति एवं सभ्यता के लिए संपूर्ण विश्व में जाना जाता था | अनेक ऋषि - महर्षियों ने इसी पुण्य भूमि भारत में जन्म लेकर के मानव मात्र के कल्याण के लिए अनेकों प्रकार की मान्यताओं एवं परंपराओं का सृजन किया | संस्कृति एवं सभ्यता का प्रसार हमारे देश भारत स
28 नवम्बर 2019
12 नवम्बर 2019
*आदिकाल से ही से ही इस धराधाम पर अनेकों योद्धा ऐसे हुए हैं जिन्होंने अपनी शक्तियों का संचय करके एक विशाल जनसमूह को अपने वशीभूत किया एवं उन्हीं के माध्यम से मानवता के विरुद्ध कृत्य करना प्रारंभ किया | पूर्वकाल में ऐसे लोगों को राक्षस या निशाचर कहा जाता था | इनके अनेक अनुयायी ऐसे भी होते थे जिनको यह न
12 नवम्बर 2019
02 दिसम्बर 2019
*हमारे देश की संस्कृति इतनी महान रही है कि समस्त विश्व ने हमारी संस्कृति को आत्मसात किया | सनातन ने सदैव नारी को शक्ति के रूप में प्रतिपादित / स्थापित करते हुए सम्माननीय एवं पूज्यनीय माना है | इस मान्यता के विपरीत जाकर जिसने भी नारियों के सम्मान के विपरीत जाकर उनसे व्यवहार करने का प्रयास किया है उसक
02 दिसम्बर 2019
17 नवम्बर 2019
*इस सकल सृष्टि में समस्त जड़ चेतन के मध्य मनुष्य सिरमौर बना हुआ है | जन्म लेने के बाद मनुष्य को अपने माता - पिता एवं सद्गुरु के द्वारा सत्य की शिक्षा दी जाती है | यह सत्या आखिर है क्या ? तीनो लोक चौदहों भुवन में एक ही सत्य बताया गया है वह है परमात्मा | जिसके लिए लिखा भी गया है :-- "ब्रह्म सत्यं जगत
17 नवम्बर 2019
12 नवम्बर 2019
*आदिकाल से ही से ही इस धराधाम पर अनेकों योद्धा ऐसे हुए हैं जिन्होंने अपनी शक्तियों का संचय करके एक विशाल जनसमूह को अपने वशीभूत किया एवं उन्हीं के माध्यम से मानवता के विरुद्ध कृत्य करना प्रारंभ किया | पूर्वकाल में ऐसे लोगों को राक्षस या निशाचर कहा जाता था | इनके अनेक अनुयायी ऐसे भी होते थे जिनको यह न
12 नवम्बर 2019
27 नवम्बर 2019
*ईश्वर की बनायी यह सृष्टि बहुत ही विचित्र है , यहां एक ही भाँति दिखने वाले मनुष्यों के क्रियाकलाप भिन्न - भिन्न होते हैं | मनुष्य के आचरण एवं उसके क्रियाकलापों के द्वारा ही उनकी श्रेणियां निर्धारित हो जाती है | वैसे तो मनुष्य की अनेक श्रेणियां हैं परंतु मुख्यतः दो श्रेणियों में मनुष्य बंटा हुआ है |
27 नवम्बर 2019
26 नवम्बर 2019
क्
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedC
26 नवम्बर 2019
09 नवम्बर 2019
*सनातन धर्म में मानव जीवन को चार आश्रमों में बांटा गया है , जिनमें से सर्वश्रेष्ठ आश्रम गृहस्थाश्रम को बताया गया है , क्योंकि गृहस्थ आश्रम का पालन किए बिना मनुष्य अन्य तीन आश्रम के विषय में कल्पना भी नहीं कर सकता | मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है समाज का निर्माण परिवार से होता है | व्यक्ति के जीवन में
09 नवम्बर 2019
16 नवम्बर 2019
*इस धराधाम पर जन्म लेने के बाद मनुष्य येन - केन प्रकारेण ईश्वर प्राप्ति का उपाय किया करता है | ईश्वर का प्रेम पिराप्त करने के लिए मनुष्य पूजा , अनुष्ठान , मन्दिरों में देवदर्शन तथा अनेक तीर्थों का भ्रमण किया करता है जबकि भगवान को कहीं भी ढूंढ़ने की आवश्यकता नहीं है मानव हृदय में तो ईश्वर का वास है ह
16 नवम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x