आज के रावण :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

29 नवम्बर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (442 बार पढ़ा जा चुका है)

आज के रावण :---  आचार्य अर्जुन तिवारी

*मनुष्य इस धरा धाम पर जन्म लेकर के अपने कर्मों के अनुसार समाज में स्थान पाता है , यदि उसके कर्म एवं आचरण समाज के हित में है तो वह समाज में पूज्यनीय हो जाता है वही उच्च कुल में जन्म लेकर के यदि उसका आचरण निम्न स्तरीय तथा समाज एवं मर्यादा के विपरीत होता है तो वह समाज में स्थान स्थान पर निंदित तो होता ही है साथ ही लोग उसके नाम से भी घृणा करने लगते हैं | कबीर दास जी ने लिखा भी है कि :-- "ऊंचे कुल का जनमिया करनी ऊंच ना होय ! सुबरन कलश सुरा भरा साधू निंदा सोय !!" अर्थात :- ऊंचे कुल में जन्म लेने मात्र से कुछ नहीं होता है मनुष्य के कर्म उसे उच्च एवं निम्न बनाते हैं | कर्मों से ही मनुष्य की पहचान बनती है जिस प्रकार सोने के बर्तन में यदि मदिरा रख दी जाए तो सोने का गुण निष्प्रभावी हो जाता है उसी प्रकार ऊंचे कुल में जन्म लेने के बाद भी यदि मनुष्य निंदित कार्य करता है तो वह कभी भी पूजनीय नहीं हो सकता | समाज विरोधी एवं मानवता के विपरीत कर्म करने वाला उच्च कुल में जन्म लेकर के , कठिन तपस्या करके भगवान शिव से असीम बल एवं अनेकों वरदान प्राप्त करने वाला रावण यदि आज निंदित है तो अपने कर्मों के के ही कारण | रावण में अहंकार , अधर्म , स्वार्थ एवं वासना भरी पड़ी थी | दिग दिगांतर को जीतने के बाद भी स्वर्ग तक अपनी विजय पताका फहराने वाला रावण अपने इसी अधर्म एवं अनीति के कारण उच्च कुल में जन्म लेकर भी भगवान श्री राम के हाथों असमय काल के गाल में समा गया और साथ ही अपने पूरे वंश का विनाश का कारण भी बना | कहने का तात्पर्य है कि ऊंचा कुल होना महत्वपूर्ण नहीं है , विद्वान होना महत्वपूर्ण नहीं है , महान तांत्रिक हो जाना भी उतना महत्वपूर्ण नहीं है जितना महत्वपूर्ण है अपने आचरण को सकारात्मक रखना परंतु यह शायद विधि का विधान है कि जब मनुष्य में ज्ञान , विज्ञान , बल एवं विस्तार हो जाता है तो वह स्वयं को ईश्वर के समकक्ष मानने लगता है और मनचाहा कार्य करने लगता है , जिसमें अनेकों प्रकार के समाज विरोधी कार्य भी उसके हाथों होने लगते हैं | लंकापति रावण इसी प्रकार का व्यक्तित्व था | कुछ लोग रावण की विद्वता एवं उसके उच्च कुल में जन्म लेने को लेकर के अनेकों प्रकार की चर्चा करते हैं परंतु वही लोग भूल जाते हैं कि उसने वेदवती से लेकर के अपनी पुत्रवधू एवं महारानी सीता तक को वासनात्मक दृष्टि से देखा जो कि उच्च कुलीन कृत्य नहीं कहा जा सकता है | रावण अपने इन्ही कुकृत्यों के कारण भर्त्सना एवं निंदा का पात्र है |*


*आज समाज में अनेकों रावण घूम रहे हैं | त्रेता युग के रावण ने वर्षों कठिन तपस्या करके ईश्वर से शक्तियां अर्जित की फिर उन शक्तियों के दुरुपयोग से अपने पाप की लंका का निर्माण किया था , परंतु आज अनेकों रावण है जो धन , पद और समाज में अनेकों उपमा रूपी शक्ति अर्जित करके उसके दुरुपयोग से पूरे समाज को ही पाप की लंका में बदल रहे हैं | आज समाज में अधर्म , अनीति चारों ओर दिखाई पड़ रहा है , व्यभिचार अपने चरम पर है यह रावण के कृत्य नहीं है तो और क्या है ? मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" आज यह कहना चाहता हूं कि हम प्रतिवर्ष विजयादशमी को रावण के पुतले को जलाते हैं परंतु यदि इस रावण रूपी वृत्ति से छुटकारा पाना है तो रावण के पुतले को नहीं बल्कि मनुष्य के भीतर बैठे हुए रावण को जलाना होगा | वह रावण जो अंदर ही लालच के रूप में , झूठ बोलने की प्रवृत्ति के रूप में , अहंकार के रूप में , वासना के रूप में बैठा हुआ है उसको ही जलाने से रावण का विनाश हो पाएगा | यह कलयुग है प्रत्येक मनुष्य के भीतर बैठे हुए रावण को मारने के लिए स्वयं भगवान नहीं आएंगे बल्कि मनुष्य को स्वयं अपने अंदर के रावण का वध करना होगा | जिस प्रकार अंधकार का विनाश एक छोटे से दीपक से हो जाता है उसी प्रकार समाज में व्याप्त इस रावण का विनाश करने के लिए एक सकारात्मक सोच की आवश्यकता है और वह सोच तभी पैदा हो पाएगी जब हम अपने आने वाली पीढ़ी को संस्कारवान बनाएंगे उन्हें नैतिकता का ज्ञान देंगे , और यह तभी संभव हो पाएगा जब हम स्वयं उनके समक्ष वह कृत्य करके एक सुंदर उदाहरण प्रस्तुत करेंगे | सबसे बड़ी समस्या यह है कि त्रेतायुग के रावण के दस सिर थे परंतु हर सिर का एक ही चेहरा था परंतु आज के रावण के एक ही सिर में अनेकों चेहरे देखने को मिलते हैं | यदि हमें समाज में फैले अनेकों रावण का विनाश करना है तो उसका एक ही मार्ग है कि स्वयं संस्कारवान बने और अपनी आने वाली पीढ़ियों को भी संस्कारवान बनाएं अन्यथा आने वाला समय रावण के अत्याचारों से पुनः हाहाकार करने वाला है |*


*त्रेतायुग के रावण को मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम ने तीर से मारा था परंतु आज के रावण को जो मनुष्य के मन में बैठा हुआ है उसे संस्कार , ज्ञान एवं इच्छाशक्ति से ही मारा जा सकता है |*

अगला लेख: जातस्य हि ध्रुवो मृत्यु: :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
11 दिसम्बर 2019
*इस धराधाम पर मनुष्य कर्मशील प्राणी है निरंतर कर्म करते रहना उसका स्वभाव है | मनुष्य शारीरिक श्रम के साथ-साथ मानसिक श्रम भी करता है जिससे उसे शारीरिक थकान के साथ-साथ मानसिक थकान का भी आभास होता है | इस थकान को दूर करने का सबसे सशक्त साधन कुछ देर के लिए मन को मनोरंजन में लगाना माना गया है | पूर्वकाल
11 दिसम्बर 2019
08 दिसम्बर 2019
*सनातन धर्म के अनुसार मनुष्य का जीवन संस्कारों से बना होता है इसी को ध्यान में रखते हुए हमारे पूर्वजों ने मनुष्य के लिए सोलह संस्कारों का विधान बताया है | गर्भकाल से लेकर मृत्यु तक इन संस्कारों को मनुष्य स्वयं में समाहित करते हुए दिव्य
08 दिसम्बर 2019
30 नवम्बर 2019
*इस धराधाम पर परमात्मा ने अनेकों प्रकार के पशु-पक्षियों , जीव - जंतुओं का सृजन किया साथ ही मनुष्य को बनाया | मनुष्य को परमात्मा का युवराज कहा जाता है | इस धराधाम पर सभी प्रकार के जीव एक साथ निवास करते हैं , जिसमें से सर्वाधिक निकटता मनुष्य एवं पशुओं की आदिकाल से ही रही है | जीवमात्र के ऊपर संगत का प
30 नवम्बर 2019
27 नवम्बर 2019
*ईश्वर की बनायी यह सृष्टि बहुत ही विचित्र है , यहां एक ही भाँति दिखने वाले मनुष्यों के क्रियाकलाप भिन्न - भिन्न होते हैं | मनुष्य के आचरण एवं उसके क्रियाकलापों के द्वारा ही उनकी श्रेणियां निर्धारित हो जाती है | वैसे तो मनुष्य की अनेक श्रेणियां हैं परंतु मुख्यतः दो श्रेणियों में मनुष्य बंटा हुआ है |
27 नवम्बर 2019
22 नवम्बर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <
22 नवम्बर 2019
16 नवम्बर 2019
*इस धराधाम पर जन्म लेने के बाद मनुष्य येन - केन प्रकारेण ईश्वर प्राप्ति का उपाय किया करता है | ईश्वर का प्रेम पिराप्त करने के लिए मनुष्य पूजा , अनुष्ठान , मन्दिरों में देवदर्शन तथा अनेक तीर्थों का भ्रमण किया करता है जबकि भगवान को कहीं भी ढूंढ़ने की आवश्यकता नहीं है मानव हृदय में तो ईश्वर का वास है ह
16 नवम्बर 2019
26 नवम्बर 2019
*इस संसार परमात्मा ने अनेकानेक जीवो का सृजन किया | पशु - पक्षी ,कीड़े - मकोड़े और जलीय जंतुओं का सृजन करने के साथ ही मनुष्य का भी सृजन परमात्मा ने किया | सभी जीवो में समान रूप से आंख , मुख , नाक , कान एवं हाथ - पैर दिखाई देते हैं परंतु इन सब में मनुष्य को उस परमात्मा
26 नवम्बर 2019
17 नवम्बर 2019
*इस सकल सृष्टि में समस्त जड़ चेतन के मध्य मनुष्य सिरमौर बना हुआ है | जन्म लेने के बाद मनुष्य को अपने माता - पिता एवं सद्गुरु के द्वारा सत्य की शिक्षा दी जाती है | यह सत्या आखिर है क्या ? तीनो लोक चौदहों भुवन में एक ही सत्य बताया गया है वह है परमात्मा | जिसके लिए लिखा भी गया है :-- "ब्रह्म सत्यं जगत
17 नवम्बर 2019
09 दिसम्बर 2019
*इस संपूर्ण विश्व में प्रारंभ से ही भारत देश अपने क्रियाकलापों एवं दूरदर्शिता के लिए जाना जाता रहा है | विश्व के समस्त देशों की अपेक्षा भारत की सभ्यता , संस्कृति एवं आपसी सामंजस्य एक अनुपम उदाहरण प्रस्तुत करता रहा है | यहां पूर्व काल में एक दूसरे के सहयोग से दुष्कर से दुष्कर कार्य मनुष्य करता रहा है
09 दिसम्बर 2019
02 दिसम्बर 2019
*हमारे देश की संस्कृति इतनी महान रही है कि समस्त विश्व ने हमारी संस्कृति को आत्मसात किया | सनातन ने सदैव नारी को शक्ति के रूप में प्रतिपादित / स्थापित करते हुए सम्माननीय एवं पूज्यनीय माना है | इस मान्यता के विपरीत जाकर जिसने भी नारियों के सम्मान के विपरीत जाकर उनसे व्यवहार करने का प्रयास किया है उसक
02 दिसम्बर 2019
09 दिसम्बर 2019
*इस संपूर्ण विश्व में प्रारंभ से ही भारत देश अपने क्रियाकलापों एवं दूरदर्शिता के लिए जाना जाता रहा है | विश्व के समस्त देशों की अपेक्षा भारत की सभ्यता , संस्कृति एवं आपसी सामंजस्य एक अनुपम उदाहरण प्रस्तुत करता रहा है | यहां पूर्व काल में एक दूसरे के सहयोग से दुष्कर से दुष्कर कार्य मनुष्य करता रहा है
09 दिसम्बर 2019
29 नवम्बर 2019
क्
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedC
29 नवम्बर 2019
25 नवम्बर 2019
*इस धराधाम पर परमपिता परमात्मा ने जलचर , थलचर नभचर आदि योनियों की उत्पत्ति की | कुल मिलाकर चौरासी लाख योनियाँ इस पृथ्वी पर विचरण करती हैं , इन सब में सर्वश्रेष्ठ योनि मनुष्य को कहा गया है क्योंकि जहां अन्य जीव एक निश्चित कर्म करते रहते हैं वही मनुष्य को ईश्वर ने विवेक दिया है , कोई भी कार्य करने के
25 नवम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x