पशुता का करें त्याग :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

30 नवम्बर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (416 बार पढ़ा जा चुका है)

पशुता का करें त्याग :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस धराधाम पर परमात्मा ने अनेकों प्रकार के पशु-पक्षियों , जीव - जंतुओं का सृजन किया साथ ही मनुष्य को बनाया | मनुष्य को परमात्मा का युवराज कहा जाता है | इस धराधाम पर सभी प्रकार के जीव एक साथ निवास करते हैं , जिसमें से सर्वाधिक निकटता मनुष्य एवं पशुओं की आदिकाल से ही रही है | जीवमात्र के ऊपर संगत का प्रभाव बहुत शीघ्र पड़ता है | साथ - साथ रहते हुए पशुओं ने तो मनुष्य के बहुत से गुण स्वयं में समाहित कर लिये साथ ही विवेकवान होते हुए भी मनुष्य ने भी पशुओं के कुछ गुण अवश्य ग्रहण कर लिए हैं | आदिकाल से कुत्ते , बिल्ली , घोड़े एवं शेर आदि पशुओं के साथ जीवन बिताने वाले मनुष्य धीरे - धीरे उनके गुणों को भी आत्मसात करना प्रारंभ कर दिया | मानव के मन में ऐसी अनेक पशु प्रवृत्तियां प्रवेश कर गई जिन का विश्लेषण करना भी कठिन एवं हास्यास्पद लगता है | पूर्वकाल में हमारे पूर्वजों ने मनुष्यता के महत्व को जानते हुए मानवधर्म की नींव रखी थी , जिसमें एक दूसरे के सुख - दुख को जानना , उस में सहयोग करना तथा समाज को अपने साथ लेकर चलना मुख्य था | आज से पहले इतिहास को या पुराणों की कथाओं को पढ़ने से ज्ञात होता है कि इसी धराधाम पर अनेकों महामानव ऐसे भी हुए हैं जिन्होंने स्वयं को ईश्वर का युवराज सिद्ध भी किया है | विवेकवान , धीर - गंभीर एवं कार्यकुशलता से समस्त मानव समाज को सफलता के उच्च शिखर पर पहुंचाने वाला एक मनुष्य ही था | सकारात्मक सोच के साथ सही दिशा में आगे बढ़ते हुए समाज को साथ में लेकर चलने वाले हमारे पूर्वज मनुष्यता का अप्रतिम उदाहरण थी , जिन के पद चिन्हों का अनुसरण करके मानव जाति ने विकास के अनेकों अध्याय लिखें , परंतु धीरे-धीरे समय परिवर्तित होता गया और मनुष्यों ने अपनी मनुष्यता का त्याग करके पशुता को ग्रहण करना स्वीकार कर दिया और मानव समाज अनेकों प्रकार की विसंगतियों से जूझने लगा |*


*आज समाज में मनुष्यता के दर्शन बड़ी कठिनता से होते हैं चतुर्दिक पशुता ही तांडव करती हुई दिखाई पड़ रही है | भेड़िए की तरह एक दूसरे पर गुर्राना , कुत्ते की तरह आपस में लड़ जाना और बिल्ली की भाँति यह सोचना कि मैं जो कार्य कर रहा हूं कोई देख नहीं पा रहा है , इसके अतिरिक्त घोड़े की भांति कामुकता एवं वासना आज चारों ओर दिखाई पड़ती है | इससे यह स्पष्ट हो जाता है कि मनुष्य ने अपने स्वाभाविक स्वभाव मनुष्यता का त्याग करके पूर्ण रूप से पशुता को ग्रहण कर लिया है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" यह दृढ़ता के साथ कह सकता हूं कि कोई भी आज समाज में स्वयं को भेड़िया , कुत्ता , बिल्ली या घोड़ा कहलवाना कदापि पसंद नहीं करेगा तो आखिर ऐसा आचरण करके मनुष्य क्या सिद्ध करना चाहता है | ऐसे आचरण करने वालों से यही कहा जा सकता है कि आप मनुष्य हैं जिसे श्रेष्ठ का सर्वश्रेष्ठ प्राणी कहा जाता है | राम , कृष्ण , गौतम , महावीर आदि महापुरुषों की संतान हो करके पशु पक्षियों का परित्याग करके मनुष्यता को स्थापित करने की आवश्यकता है | इतनी महानता के पात्र होते हुए भी यदि मनुष्य के मन में पशु प्रवृत्तियों का प्रवेश हो गया है तो उसका एकमात्र कारण है मनुष्य की असावधानता , आलस्य और प्रमाद , इसके साथ ही अपनी चित्तवृत्तियों पर स्वयं का अनुशासन न रह जाना भी कहा जा सकता है | कुछ पशु प्रवृति के मनुष्यों ने आज पूरे समाज का क्या हाल बना दिया है यह किसी से छुपा नहीं है | आज पुनः आवश्यकता है कि अपनी शक्ति को एवं स्वयं को पहचान करके मानवता के निर्माण में अपना योगदान प्रत्येक मनुष्य दें जिससे कि मनुष्य का चरित्र पुनः ऊंचा उठ सके |*


*विश्व के विकास , मानवता के उत्थान के लिए मनुष्य को अपनी अनन्त शक्ति को पहचानना होगा और पशुता के आवरण को हटाकर आत्मस्वरूप का अनुभव करना होगा तभी पुनः मनुष्यता स्थापित हो पाएगी |*

पशुता का करें त्याग :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

अगला लेख: जातस्य हि ध्रुवो मृत्यु: :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
02 दिसम्बर 2019
*हमारे देश की संस्कृति इतनी महान रही है कि समस्त विश्व ने हमारी संस्कृति को आत्मसात किया | सनातन ने सदैव नारी को शक्ति के रूप में प्रतिपादित / स्थापित करते हुए सम्माननीय एवं पूज्यनीय माना है | इस मान्यता के विपरीत जाकर जिसने भी नारियों के सम्मान के विपरीत जाकर उनसे व्यवहार करने का प्रयास किया है उसक
02 दिसम्बर 2019
17 नवम्बर 2019
*इस सकल सृष्टि में समस्त जड़ चेतन के मध्य मनुष्य सिरमौर बना हुआ है | जन्म लेने के बाद मनुष्य को अपने माता - पिता एवं सद्गुरु के द्वारा सत्य की शिक्षा दी जाती है | यह सत्या आखिर है क्या ? तीनो लोक चौदहों भुवन में एक ही सत्य बताया गया है वह है परमात्मा | जिसके लिए लिखा भी गया है :-- "ब्रह्म सत्यं जगत
17 नवम्बर 2019
16 नवम्बर 2019
*परमात्मा की बनाई यह सृष्टि निरन्तर क्षरणशील है | एक दिन सबका ही अन्त निश्चित है | सृष्टि का विकास हुआ तो एक दिन महाप्रलय के रूप में इसका विनाश भी हो जाना है , सूर्य प्रात:काल उदय होता है तो एक निश्चित समय पर अस्त भी हो जाता है | उसी प्रकार इस सृष्टि में जितने भी जड़
16 नवम्बर 2019
06 दिसम्बर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w
06 दिसम्बर 2019
03 दिसम्बर 2019
*मानव जीवन में इस संसार में उपस्थित समस्त पदार्थ किसी न किसी रूप में महत्वपूर्ण है परंतु यदि इनका सूक्ष्म आंकलन किया जाय तो सबसे महत्वपूर्ण हैं मनुष्य के संस्कार | इन्हीं संस्कारों को अपना करके मनुष्य पदार्थों से उचित अनुचित व्यवहार करने का ज्ञान प्राप्त करता है | हमारे देश भारत की संस्कृति संस्कार
03 दिसम्बर 2019
22 नवम्बर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <
22 नवम्बर 2019
29 नवम्बर 2019
क्
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedC
29 नवम्बर 2019
12 दिसम्बर 2019
*परमात्मा ने सुंदर सृष्टि की रचना की तो मनुष्य ने इसे संवारने का कार्य किया | सृजन एवं विनाश मनुष्य के ही हाथों में है | हमारे पूर्वजों ने इस धरती को स्वर्ग बनाने के लिए अनेकों उपक्रम किए और हमको एक सुंदर वातावरण तैयार करके सुखद जीवन जीने की कला सिखाई थी | मनुष्य ने अपने बुद्धि विवेक से मानव जीवन मे
12 दिसम्बर 2019
09 दिसम्बर 2019
*इस संपूर्ण विश्व में प्रारंभ से ही भारत देश अपने क्रियाकलापों एवं दूरदर्शिता के लिए जाना जाता रहा है | विश्व के समस्त देशों की अपेक्षा भारत की सभ्यता , संस्कृति एवं आपसी सामंजस्य एक अनुपम उदाहरण प्रस्तुत करता रहा है | यहां पूर्व काल में एक दूसरे के सहयोग से दुष्कर से दुष्कर कार्य मनुष्य करता रहा है
09 दिसम्बर 2019
02 दिसम्बर 2019
*हमारे देश की संस्कृति इतनी महान रही है कि समस्त विश्व ने हमारी संस्कृति को आत्मसात किया | सनातन ने सदैव नारी को शक्ति के रूप में प्रतिपादित / स्थापित करते हुए सम्माननीय एवं पूज्यनीय माना है | इस मान्यता के विपरीत जाकर जिसने भी नारियों के सम्मान के विपरीत जाकर उनसे व्यवहार करने का प्रयास किया है उसक
02 दिसम्बर 2019
11 दिसम्बर 2019
*इस धराधाम पर मनुष्य कर्मशील प्राणी है निरंतर कर्म करते रहना उसका स्वभाव है | मनुष्य शारीरिक श्रम के साथ-साथ मानसिक श्रम भी करता है जिससे उसे शारीरिक थकान के साथ-साथ मानसिक थकान का भी आभास होता है | इस थकान को दूर करने का सबसे सशक्त साधन कुछ देर के लिए मन को मनोरंजन में लगाना माना गया है | पूर्वकाल
11 दिसम्बर 2019
27 नवम्बर 2019
*ईश्वर की बनायी यह सृष्टि बहुत ही विचित्र है , यहां एक ही भाँति दिखने वाले मनुष्यों के क्रियाकलाप भिन्न - भिन्न होते हैं | मनुष्य के आचरण एवं उसके क्रियाकलापों के द्वारा ही उनकी श्रेणियां निर्धारित हो जाती है | वैसे तो मनुष्य की अनेक श्रेणियां हैं परंतु मुख्यतः दो श्रेणियों में मनुष्य बंटा हुआ है |
27 नवम्बर 2019
25 नवम्बर 2019
*ईश्वर ने सृष्टि में सबके लिए समान अवसर प्रदान किये हैं , एक समान वायु , अन्न , जल का सेवन करने वाला मनुष्य भिन्न - भिन्न मानसिकता एवं भिन्न विचारों वाला हो जाता है | किसी विद्यालय की कक्षा में अनेक विद्यार्थी होते हैं परन्तु उन्हीं में से कोई सफलता के उच्चशिखर को छू लेता है तो कोई पतित हो जाता है |
25 नवम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x