पशुता का करें त्याग :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

30 नवम्बर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (403 बार पढ़ा जा चुका है)

पशुता का करें त्याग :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस धराधाम पर परमात्मा ने अनेकों प्रकार के पशु-पक्षियों , जीव - जंतुओं का सृजन किया साथ ही मनुष्य को बनाया | मनुष्य को परमात्मा का युवराज कहा जाता है | इस धराधाम पर सभी प्रकार के जीव एक साथ निवास करते हैं , जिसमें से सर्वाधिक निकटता मनुष्य एवं पशुओं की आदिकाल से ही रही है | जीवमात्र के ऊपर संगत का प्रभाव बहुत शीघ्र पड़ता है | साथ - साथ रहते हुए पशुओं ने तो मनुष्य के बहुत से गुण स्वयं में समाहित कर लिये साथ ही विवेकवान होते हुए भी मनुष्य ने भी पशुओं के कुछ गुण अवश्य ग्रहण कर लिए हैं | आदिकाल से कुत्ते , बिल्ली , घोड़े एवं शेर आदि पशुओं के साथ जीवन बिताने वाले मनुष्य धीरे - धीरे उनके गुणों को भी आत्मसात करना प्रारंभ कर दिया | मानव के मन में ऐसी अनेक पशु प्रवृत्तियां प्रवेश कर गई जिन का विश्लेषण करना भी कठिन एवं हास्यास्पद लगता है | पूर्वकाल में हमारे पूर्वजों ने मनुष्यता के महत्व को जानते हुए मानवधर्म की नींव रखी थी , जिसमें एक दूसरे के सुख - दुख को जानना , उस में सहयोग करना तथा समाज को अपने साथ लेकर चलना मुख्य था | आज से पहले इतिहास को या पुराणों की कथाओं को पढ़ने से ज्ञात होता है कि इसी धराधाम पर अनेकों महामानव ऐसे भी हुए हैं जिन्होंने स्वयं को ईश्वर का युवराज सिद्ध भी किया है | विवेकवान , धीर - गंभीर एवं कार्यकुशलता से समस्त मानव समाज को सफलता के उच्च शिखर पर पहुंचाने वाला एक मनुष्य ही था | सकारात्मक सोच के साथ सही दिशा में आगे बढ़ते हुए समाज को साथ में लेकर चलने वाले हमारे पूर्वज मनुष्यता का अप्रतिम उदाहरण थी , जिन के पद चिन्हों का अनुसरण करके मानव जाति ने विकास के अनेकों अध्याय लिखें , परंतु धीरे-धीरे समय परिवर्तित होता गया और मनुष्यों ने अपनी मनुष्यता का त्याग करके पशुता को ग्रहण करना स्वीकार कर दिया और मानव समाज अनेकों प्रकार की विसंगतियों से जूझने लगा |*


*आज समाज में मनुष्यता के दर्शन बड़ी कठिनता से होते हैं चतुर्दिक पशुता ही तांडव करती हुई दिखाई पड़ रही है | भेड़िए की तरह एक दूसरे पर गुर्राना , कुत्ते की तरह आपस में लड़ जाना और बिल्ली की भाँति यह सोचना कि मैं जो कार्य कर रहा हूं कोई देख नहीं पा रहा है , इसके अतिरिक्त घोड़े की भांति कामुकता एवं वासना आज चारों ओर दिखाई पड़ती है | इससे यह स्पष्ट हो जाता है कि मनुष्य ने अपने स्वाभाविक स्वभाव मनुष्यता का त्याग करके पूर्ण रूप से पशुता को ग्रहण कर लिया है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" यह दृढ़ता के साथ कह सकता हूं कि कोई भी आज समाज में स्वयं को भेड़िया , कुत्ता , बिल्ली या घोड़ा कहलवाना कदापि पसंद नहीं करेगा तो आखिर ऐसा आचरण करके मनुष्य क्या सिद्ध करना चाहता है | ऐसे आचरण करने वालों से यही कहा जा सकता है कि आप मनुष्य हैं जिसे श्रेष्ठ का सर्वश्रेष्ठ प्राणी कहा जाता है | राम , कृष्ण , गौतम , महावीर आदि महापुरुषों की संतान हो करके पशु पक्षियों का परित्याग करके मनुष्यता को स्थापित करने की आवश्यकता है | इतनी महानता के पात्र होते हुए भी यदि मनुष्य के मन में पशु प्रवृत्तियों का प्रवेश हो गया है तो उसका एकमात्र कारण है मनुष्य की असावधानता , आलस्य और प्रमाद , इसके साथ ही अपनी चित्तवृत्तियों पर स्वयं का अनुशासन न रह जाना भी कहा जा सकता है | कुछ पशु प्रवृति के मनुष्यों ने आज पूरे समाज का क्या हाल बना दिया है यह किसी से छुपा नहीं है | आज पुनः आवश्यकता है कि अपनी शक्ति को एवं स्वयं को पहचान करके मानवता के निर्माण में अपना योगदान प्रत्येक मनुष्य दें जिससे कि मनुष्य का चरित्र पुनः ऊंचा उठ सके |*


*विश्व के विकास , मानवता के उत्थान के लिए मनुष्य को अपनी अनन्त शक्ति को पहचानना होगा और पशुता के आवरण को हटाकर आत्मस्वरूप का अनुभव करना होगा तभी पुनः मनुष्यता स्थापित हो पाएगी |*

पशुता का करें त्याग :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

अगला लेख: जातस्य हि ध्रुवो मृत्यु: :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
06 दिसम्बर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w
06 दिसम्बर 2019
22 नवम्बर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <
22 नवम्बर 2019
18 नवम्बर 2019
*इस संसार में प्राय: दो शब्द सुनने को मिलते हैं शिक्षा एवं दीक्षा | शिक्षा एवं दीक्षा मानव जीवन की दिशा एवं दशा परिवर्तित करने में सक्षम होती है | जहाँ शिक्षा का अर्थ होता है ज्ञानार्जन करना वहीं दीक्षा का अर्थ दिशा प्राप्त करना बताया गया है | पूर्वकाल में गुरु के द्वारा पहले शिष्य की योग्यता के अनु
18 नवम्बर 2019
18 नवम्बर 2019
*इस संसार में प्राय: दो शब्द सुनने को मिलते हैं शिक्षा एवं दीक्षा | शिक्षा एवं दीक्षा मानव जीवन की दिशा एवं दशा परिवर्तित करने में सक्षम होती है | जहाँ शिक्षा का अर्थ होता है ज्ञानार्जन करना वहीं दीक्षा का अर्थ दिशा प्राप्त करना बताया गया है | पूर्वकाल में गुरु के द्वारा पहले शिष्य की योग्यता के अनु
18 नवम्बर 2019
28 नवम्बर 2019
*इस समस्त सृष्टि में हमारा देश भारत अपने गौरवशाली संस्कृति एवं सभ्यता के लिए संपूर्ण विश्व में जाना जाता था | अनेक ऋषि - महर्षियों ने इसी पुण्य भूमि भारत में जन्म लेकर के मानव मात्र के कल्याण के लिए अनेकों प्रकार की मान्यताओं एवं परंपराओं का सृजन किया | संस्कृति एवं सभ्यता का प्रसार हमारे देश भारत स
28 नवम्बर 2019
21 नवम्बर 2019
*सनातन धर्म में सोलह संस्कारों का वर्णन मिलता है इन संस्कारों में एक महत्वपूर्ण संस्कार है विवाह संस्कार | मनुष्य योनि में जन्म लेने के बाद वैवाहिक संस्कार महत्वपूर्ण हो जाता है क्योंकि सनातन धर्म में बताए गए चार आश्रम में सबसे महत्वपूर्ण है गृहस्थाश्रम | गृहस्थाश्रम में प्रवेश करने के लिए विवाह संस
21 नवम्बर 2019
03 दिसम्बर 2019
*मानव जीवन में इस संसार में उपस्थित समस्त पदार्थ किसी न किसी रूप में महत्वपूर्ण है परंतु यदि इनका सूक्ष्म आंकलन किया जाय तो सबसे महत्वपूर्ण हैं मनुष्य के संस्कार | इन्हीं संस्कारों को अपना करके मनुष्य पदार्थों से उचित अनुचित व्यवहार करने का ज्ञान प्राप्त करता है | हमारे देश भारत की संस्कृति संस्कार
03 दिसम्बर 2019
26 नवम्बर 2019
क्
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedC
26 नवम्बर 2019
10 नवम्बर 2019
!! भगवत्कृपा हि केवलम् !!*सनातन धर्म की दिव्यता विश्व विख्यात है | संपूर्ण विश्व ने सनातन धर्म के ग्रंथों को ही आदर्श मान कर दिया जीवन जीने की कला सीखा है | प्राचीन काल में शिक्षा का स्तर इतना अच्छा नहीं था जितना इस समय है परंतु हमारे पूर्वज अनुभव के आधार पर समाज के सारे कार्य कुशलता से संपन्न कर दे
10 नवम्बर 2019
14 नवम्बर 2019
*सृष्टि के आदिकाल में वेद प्रकट हुए , वेदों का विन्यास करके वेदव्यास जी ने अनेकों पुराणों का लेखन किया परंतु उनको संतोष नहीं हुआ तब नारद जी के कहने से उन्होंने श्रीमद्भागवत महापुराण की रचना की | श्रीमद्भागवत के विषय में कहा जाता है यह वेद उपनिषदों के मंथन से निकला हुआ ऐसा नवनीत (मक्खन) है जो कि वेद
14 नवम्बर 2019
09 नवम्बर 2019
*सनातन धर्म में मानव जीवन को चार आश्रमों में बांटा गया है , जिनमें से सर्वश्रेष्ठ आश्रम गृहस्थाश्रम को बताया गया है , क्योंकि गृहस्थ आश्रम का पालन किए बिना मनुष्य अन्य तीन आश्रम के विषय में कल्पना भी नहीं कर सकता | मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है समाज का निर्माण परिवार से होता है | व्यक्ति के जीवन में
09 नवम्बर 2019
25 नवम्बर 2019
*इस धराधाम पर परमपिता परमात्मा ने जलचर , थलचर नभचर आदि योनियों की उत्पत्ति की | कुल मिलाकर चौरासी लाख योनियाँ इस पृथ्वी पर विचरण करती हैं , इन सब में सर्वश्रेष्ठ योनि मनुष्य को कहा गया है क्योंकि जहां अन्य जीव एक निश्चित कर्म करते रहते हैं वही मनुष्य को ईश्वर ने विवेक दिया है , कोई भी कार्य करने के
25 नवम्बर 2019
21 नवम्बर 2019
*परमात्मा के द्वारा मैथुनी सृष्टि का विस्तार करके इसे गतिशील किया गया | मानव जीवन में बताये गये सोलह संस्कारों में प्रमुख है विवाह संस्कार | विवाह संस्कार सम्पन्न होने के बाद पति - पत्नी एक नया जीवन प्रारम्भ करके सृष्टि में अपना योगदान करते हैं | सनातन धर्ण के सभी संस्कार स्वयं में अद्भुत व दिव्य रह
21 नवम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x