बढ़ते यौन अपराध का कारण :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

02 दिसम्बर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (472 बार पढ़ा जा चुका है)

बढ़ते यौन अपराध का कारण :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

*हमारे देश की संस्कृति इतनी महान रही है कि समस्त विश्व ने हमारी संस्कृति को आत्मसात किया | सनातन ने सदैव नारी को शक्ति के रूप में प्रतिपादित / स्थापित करते हुए सम्माननीय एवं पूज्यनीय माना है | इस मान्यता के विपरीत जाकर जिसने भी नारियों के सम्मान के विपरीत जाकर उनसे व्यवहार करने का प्रयास किया है उसका समूल विनाश ही हुआ है | त्रेतायुग में उच्चकुल में जन्म लेकर महान विद्वान बने रावण का विनाश उसकी कुचेष्टा के कारण ही हुआ | भरी सभा में महारानी द्रौपदी को नग्न करके अपनी जंधा पर बैठाने का आदेश देने वाला दुर्योधन हो या द्रौपदी का चीरहरण करने वाला दु:शासन हो उसका भी समूल विनाश हो गया है | जितना दोषी किसी नारी का अपमान करने वाला होता है उससे कहीं अधिक दोषी वह समाज होता है जो किसी नारी के अपमान को देख व सुनकर विरोध नहीं करता है इसका ज्वलंत उदाहरण उसी दुर्योधन की राजसभा में देखने को मिलता है जहाँ भीष्म , द्रोण जैसे धुरंधर वीरों ने इस कुकृत्य का विरोध तक नहीं किया और उनका भी वध ही हुआ है | धीरे-धीरे समय परिवर्तित हुआ त्रेता , द्वापर के बाद कलियुग में इस प्रकार के कृत्यों का चारों और बोलबाला हो गया | इसका कारण मात्र कोई एक बलात्कारी नहीं अपितु पूरे समाज को कहा जाय तो अतिशयोक्ति नहीं होगी | अपनी सनातन सभ्यता के लिए जाना जाने वाला देश आज इतना पतित हो गया है कि हमारे देश में बेटियां सुरक्षित नहीं है | इसका कारण कोई एक ना हो करके समाज के सभी प्राणी है | बलात्कार किसी एक बेटी का होता है परंतु उसका विरोध करने वाले बहुत कम मात्रा में देखे जाते हैं | इसका एक कारण और भी है कि आज टेलीविजन के माध्यम से घर-घर में बलात्कार दिखाया जा रहा है और लोगों मजे लेकर उसे देखते - देखते इसे देखने के अभ्यस्त हो गये हैं | ये मूर्ख लोग यह विचार नहीं कर पाते कि हमारे द्वारा देखे गए इस दृश्य को हमारा पुत्र , हमारा परिवार जिसमें हमारी पुत्री एवं बहू भी है सब देख रहे हैं | यदि इस प्रकार के कुकृत्य आज बढ़े हैं तो इसमें अश्लील साहित्य एवं घर-घर में पनपा टेलीविजन एवं उनमें दिखाए जाने वाले आपत्तिजनक दृश्यों के अतिरिक्त सबसे ज्यादा यदि कोई बेशर्मी का दृश्य होता है तो वह भोजपुरी फिल्मों में होता है | जब हम इसको देखने से स्वयं को नहीं रोक पा रहे हैं तो समाज में आए दिन हो रहे बलात्कार से बेटियों को कैसे बचा पाएंगे ? यह विचारणीय एवं यक्ष प्रश्न है |*


*आज हमारा देश भारत विदेशी सभ्यता को स्वयं में आत्मसात करने के लिए दिन रात अंधी दौड़ में सम्मिलित तो हो गया है परंतु बलात्कार पर मौन हो जाता है | बलात्कारी का कोई धर्म नहीं होता उसे निशाचर एवं राक्षस की श्रेणी में गिना जाना चाहिए | जहां विदेशों में बलात्कारियों के लिए विभिन्न तरीकों से मौत के घाट उतारने का प्रावधान है वही हमारे देश भारत नें विदेशों से सब कुछ तो सीखा परंतु यह नहीं सीख पाया क्योंकि हमारे राजनेता अपनी राजनीति के चलते कोई कठोर निर्णय नहीं ले पा रहे हैं | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" देश के उच्च पदों पर बैठे हुए सभी आदरणीयों से इतना ही कहना चाहूंगा कि बलात्कार जैसे कुकृत्य पर राजनीत से ऊपर उठकर एक कठोर कानून बनाने की आवश्यकता अब आ गई है | मोमबत्ती जलाकर किसी पीड़िता के प्रति संवेदना प्रकट करके अपने कर्तव्यों की इतिश्री कर लेने मात्र से यह अपराध नहीं रुकने वाला है , इसके लिए देश में एक ऐसा कानून होना चाहिए जिसने बलात्कारी के लिए मात्र एक दंड हो और वह प्राणदंड होना चाहिए | ऐसे अपराधियों को ऐसी मृत्यु दी जानी चाहिए जिसे पूरा समाज देख सके एवं ऐसा करने वाले इस कुकृत्य को करने के पहले हजारों बार विचार करने पर विवश हो जायं अन्यथा आए दिन निर्भया , दिशा एवं प्रियंका रेड्डी जैसे शर्मसार कर देने वाली को कृत्यों को देखना विवशता हो जाएगी | सर्वप्रथम तो अश्लील साहित्य एवं टीवी चैनल पर दिखाई जाने वाली फिल्म से ऐसे दृश्य को सेंसर द्वारा अलग करने की आवश्यकता है और साथ ही अपनी संतानों को संस्कारवान बनाने की भी आवश्यकता है और यह तभी संभव होगा जब हम स्वयं संस्कारवान बनते हुए ऐसी फिल्मों एवं चैनलों का बहिष्कार करेंगे |*


*आज पूरे देश में हैदराबाद की घटना पर उबाल देखने को मिल रहा है चार दिन बीत जाने पर यह उबाल पानी के बुलबुले की तरह बैठ जाएगा और फिर कोई प्रियंका रेड्डी इन बलात्कारियों का शिकार हो जाएगी | ऐसा ना होने पाए इसके लिए मात्र सरकार को ही नहीं वरन समाज के एक-एक व्यक्ति को सोचना होगा एवं इसके लिए आर-पार की लड़ाई लड़नी होगी |*

अगला लेख: ईश्वर को समर्पित कर्म ही पूजा है :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
09 दिसम्बर 2019
*सनातन धर्म की मान्यता है कि महाराज मनु से मनुष्य की उत्पत्ति इस धराधाम पर हुई है इसीलिए उसे मानव या मनुष्य कहा जाता है | मनुष्यों के लिए अनेकों प्रकार के धर्मों का पालन करने का निर्देश भी प्राप्त होता है | प्रत्येक मनुष्य में दया , दान , शील , सौजन्य , धृति , क्षमा आदि गुणों का होना परमावश्यक है इन
09 दिसम्बर 2019
22 नवम्बर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <
22 नवम्बर 2019
25 नवम्बर 2019
*परमात्मा द्वारा सृजित इस सृष्टि का अवलोकन प्रत्येक मनुष्य अपनी अपनी दृष्टिकोण से करता है | सुंदर-सुंदर दृश्य देखकर मनुष्य विचार करने पर विवश हो जाता है कि इस सुंदर सृष्टि का रचयिता अर्थात इसका मूल कितना सुंदर होगा | यदि मूल ना होता तो इतनी सुंदर सृष्टि शायद ही देखने को मिलती | जिस प्रकार इस सृष्टि
25 नवम्बर 2019
25 नवम्बर 2019
*ईश्वर ने सृष्टि में सबके लिए समान अवसर प्रदान किये हैं , एक समान वायु , अन्न , जल का सेवन करने वाला मनुष्य भिन्न - भिन्न मानसिकता एवं भिन्न विचारों वाला हो जाता है | किसी विद्यालय की कक्षा में अनेक विद्यार्थी होते हैं परन्तु उन्हीं में से कोई सफलता के उच्चशिखर को छू लेता है तो कोई पतित हो जाता है |
25 नवम्बर 2019
17 दिसम्बर 2019
*आदिकाल से मनुष्य में सद्गुण एवं दुर्गुण साथ - साथ उत्पन्न् हुए इस धराधाम पर अनेकों सदुगुणों को जहाँ मनुष्य ने स्वयं में आत्मसात किया है वहीं दुर्गुणों से भी उसका गहरा सम्बन्ध रहा है | मनुष्य में सद्गुण एवं दुर्गुण उसके पारिवारिक परिवेश एवं संस्कारों के अनुसार ही प्रकट होते रहे हैं | सम्मान , सदाचार
17 दिसम्बर 2019
29 नवम्बर 2019
क्
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedC
29 नवम्बर 2019
08 दिसम्बर 2019
*सनातन धर्म के अनुसार मनुष्य का जीवन संस्कारों से बना होता है इसी को ध्यान में रखते हुए हमारे पूर्वजों ने मनुष्य के लिए सोलह संस्कारों का विधान बताया है | गर्भकाल से लेकर मृत्यु तक इन संस्कारों को मनुष्य स्वयं में समाहित करते हुए दिव्य
08 दिसम्बर 2019
27 नवम्बर 2019
*ईश्वर की बनायी यह सृष्टि बहुत ही विचित्र है , यहां एक ही भाँति दिखने वाले मनुष्यों के क्रियाकलाप भिन्न - भिन्न होते हैं | मनुष्य के आचरण एवं उसके क्रियाकलापों के द्वारा ही उनकी श्रेणियां निर्धारित हो जाती है | वैसे तो मनुष्य की अनेक श्रेणियां हैं परंतु मुख्यतः दो श्रेणियों में मनुष्य बंटा हुआ है |
27 नवम्बर 2019
17 दिसम्बर 2019
*आदिकाल से मनुष्य में सद्गुण एवं दुर्गुण साथ - साथ उत्पन्न् हुए इस धराधाम पर अनेकों सदुगुणों को जहाँ मनुष्य ने स्वयं में आत्मसात किया है वहीं दुर्गुणों से भी उसका गहरा सम्बन्ध रहा है | मनुष्य में सद्गुण एवं दुर्गुण उसके पारिवारिक परिवेश एवं संस्कारों के अनुसार ही प्रकट होते रहे हैं | सम्मान , सदाचार
17 दिसम्बर 2019
28 नवम्बर 2019
*इस समस्त सृष्टि में हमारा देश भारत अपने गौरवशाली संस्कृति एवं सभ्यता के लिए संपूर्ण विश्व में जाना जाता था | अनेक ऋषि - महर्षियों ने इसी पुण्य भूमि भारत में जन्म लेकर के मानव मात्र के कल्याण के लिए अनेकों प्रकार की मान्यताओं एवं परंपराओं का सृजन किया | संस्कृति एवं सभ्यता का प्रसार हमारे देश भारत स
28 नवम्बर 2019
30 नवम्बर 2019
*इस धराधाम पर परमात्मा ने अनेकों प्रकार के पशु-पक्षियों , जीव - जंतुओं का सृजन किया साथ ही मनुष्य को बनाया | मनुष्य को परमात्मा का युवराज कहा जाता है | इस धराधाम पर सभी प्रकार के जीव एक साथ निवास करते हैं , जिसमें से सर्वाधिक निकटता मनुष्य एवं पशुओं की आदिकाल से ही रही है | जीवमात्र के ऊपर संगत का प
30 नवम्बर 2019
11 दिसम्बर 2019
*इस धराधाम पर मनुष्य कर्मशील प्राणी है निरंतर कर्म करते रहना उसका स्वभाव है | मनुष्य शारीरिक श्रम के साथ-साथ मानसिक श्रम भी करता है जिससे उसे शारीरिक थकान के साथ-साथ मानसिक थकान का भी आभास होता है | इस थकान को दूर करने का सबसे सशक्त साधन कुछ देर के लिए मन को मनोरंजन में लगाना माना गया है | पूर्वकाल
11 दिसम्बर 2019
09 दिसम्बर 2019
*सनातन धर्म की मान्यता है कि महाराज मनु से मनुष्य की उत्पत्ति इस धराधाम पर हुई है इसीलिए उसे मानव या मनुष्य कहा जाता है | मनुष्यों के लिए अनेकों प्रकार के धर्मों का पालन करने का निर्देश भी प्राप्त होता है | प्रत्येक मनुष्य में दया , दान , शील , सौजन्य , धृति , क्षमा आदि गुणों का होना परमावश्यक है इन
09 दिसम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x