संस्कार विहीन समाज :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

03 दिसम्बर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (457 बार पढ़ा जा चुका है)

संस्कार विहीन समाज :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*मानव जीवन में इस संसार में उपस्थित समस्त पदार्थ किसी न किसी रूप में महत्वपूर्ण है परंतु यदि इनका सूक्ष्म आंकलन किया जाय तो सबसे महत्वपूर्ण हैं मनुष्य के संस्कार | इन्हीं संस्कारों को अपना करके मनुष्य पदार्थों से उचित अनुचित व्यवहार करने का ज्ञान प्राप्त करता है | हमारे देश भारत की संस्कृति संस्कार बहुत ही दिव्य रही है , बिना संस्कार के मनुष्य का जीवन पशु के समान व्यतीत हो जाता है | हमारे संस्कार इतने दिव्य रहे हैं कि यहां बचपन से ही बालकों को गुरुकुल के माध्यम से मानव जीवन को श्रेष्ठ बनाने की शिक्षा दी जाती रही है | जहां सर्वप्रथम इस समस्त सृष्टि की मूल नारी जाति का सम्मान करना सबसे पहले सिखाया गया है | हमारे शास्त्रों में "मातृवत् परदारेषु परद्रव्येषु लोष्ठवत्" की शिक्षा दी गई है जिसका अर्थ है कि परनारी सदैव माता के समान होती है और पर धन मिट्टी के समान | इसी बात को सरल करते हुए बाबा जी अपने में लिखते हैं :- "जननी सम जानहिं परनारी ! धन पराव विष ते विष भारी !!" हमें आदिकाल से नारीजाति का सम्मान करना सिखाते हुए यह बताया गया है कि यदि उसकी आयु पुत्री के समान है तो उसको पुत्री मानो , अपने समकक्ष है तो उसको बहन मानो एवं अपने से वृद्ध होने पर उसे माता मानने की शिक्षा दी गई थी , इसके अतिरिक्त यह भी सिखाया गया था कि "यत्र नार्यस्तु पूज्यंते रमंते तत्र देवता" अर्थात :- जहां नारियों की पूजा होती है वहां देवता निवास करते | इन्हीं मान्यताओं को मानकरके एवं इसका पालन करते हुए ही हमारे देश की संस्कृति समस्त विश्व में प्रसारित हुई और भारत विश्व गुरु कहलाया था | ऐसी मान्यता हमारे देश में थी तो उसका मूल कारण यही था कि मनुष्य को बचपन से ही संस्कारित किया जाता था | गुरुकुल प्रणाली में शिक्षा प्राप्त करके मनुष्य संस्कारित होकर के समाज में मानवोचित कृत्य करता था , परंतु धीरे-धीरे समय परिवर्तित हो गया और आज मनुष्य सारे संस्कार एवं सारी शिक्षा को भूल गया है यह स्पष्ट दिखाई पड़ रहा है |*


*आज समाज में चारों ओर संस्कारों का पतन होता हुआ ही दिखाई पड़ रहा है | संस्कारों से विमुख होकर के मनुष्य ऐसे ऐसे कृत्य कर रहा है कि मानवता भी लज्जित होती जा रही है | आज "मातृवत् परदारेषु" की शिक्षा मनुष्य भूल चुका है | इसका मुख्य कारण है आज प्रदान की जाने वाली शिक्षा जिसमें सिर्फ अर्थोपार्जन का गुण सिखाया जाता है | आज की शिक्षा में संस्कार अंतर्ध्यान हो गए हैं | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" आज समाज की स्थिति देखकर कह सकता हूं कि आज मनुष्य को किसी भी नारी में पुत्री , बहन व माता के दर्शन नहीं हो पा रहे हैं | वासना के वशीभूत होकरके समस्त नारी जाति को वासनात्मक दृष्टिकोण से ही देखा जा रहा है , चाहे वह चार साल की अबोध कन्या हो या अस्सी साल की वयोवृद्ध | आज कहीं ना कहीं उनके साथ व्यभिचार की घटनाएं सुनने को मिल जाती हैं | यदि आज ऐसा हो रहा है तो इसका मुख्य कारण यही है कि मनुष्य संस्कारों से विहीन हो चुका है | आज मनुष्य के द्वारा नारी जाति के साथ जो कृत्य किया जा रहा है वह कहीं से भी मनुष्य के संस्कारित होने का प्रमाण नहीं प्रस्तुत करता है | आज निशाचरत्व अपने चरम पर तो नहीं कहा जा सकता परंतु इसका प्रसार तेजी से हो अवश्य रहा है | यदि इन से छुटकारा पाना है तो अपने बच्चों को संस्कारित करना ही होगा जो आज की शिक्षा पद्धति के भरोसे नहीं हो सकता है | बच्चों को संस्कार परिवार से मिलते हैं प्रत्येक माता-पिता का कर्तव्य बनता है कि अपने बच्चों को संस्कारित करते हुए नारी जाति का सम्मान करने की शिक्षा दें अन्यथा आने वाला समय और भी वीभत्स हो जाएगा | आज जिस प्रकार पूरे देश में कहीं भी नारी जाति सुरक्षित नहीं है उससे यह स्पष्ट हो जाता है कि मनुष्य आज अपने संस्कारों की पूर्णाहुति कर चुका है | इसका कारण शिक्षा पद्धति तो है ही साथ ही उन संस्कार विहीन पुरुषों के माता-पिता भी कहे जा सकते हैं जिन्होंने अपनी संतान को किसी के सम्मान करने की शिक्षा नहीं दी है | आज आवश्यकता है एक जन जागृति की अन्यथा कल क्या होगा यह सोच कर ही हृदय कम्पित हो जाता है |*


*जिस समाज में संस्कार नहीं रहते हैं वह निशाचरों का समाज कहा जाता है | आज देवत्व रो रहा है और किसी भी उम्र की नारी कहीं भी सुरक्षित नहीं दिख रही है | यह मानव समाज के पतन का स्पष्ट संकेत है |*

अगला लेख: ईश्वर को समर्पित कर्म ही पूजा है :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
30 नवम्बर 2019
*इस धराधाम पर परमात्मा ने अनेकों प्रकार के पशु-पक्षियों , जीव - जंतुओं का सृजन किया साथ ही मनुष्य को बनाया | मनुष्य को परमात्मा का युवराज कहा जाता है | इस धराधाम पर सभी प्रकार के जीव एक साथ निवास करते हैं , जिसमें से सर्वाधिक निकटता मनुष्य एवं पशुओं की आदिकाल से ही रही है | जीवमात्र के ऊपर संगत का प
30 नवम्बर 2019
28 नवम्बर 2019
*ईश्वर द्वारा बनाई गयी सृष्टि बहुत ही देदीप्यमान एवं सुंदर है | मनुष्य के जन्म के पहले ही उसे सारी सुख - सुविधायें प्राप्त रहती हैं | जन्म लेने के बाद मनुष्य परिवार में प्रगति एवं विकास करते हुए पारिवारिक संस्कृति को स्वयं में समाहित करने लगता है | मनुष्य का जीवन ऐसा है कि एक क्षण भी कर्म किये बिना
28 नवम्बर 2019
17 दिसम्बर 2019
*किसी भी देश का निर्माण समाज से होता है और समाज की प्रथम इकाई परिवार है | परिवार में आपसी सामंजस्य कैसा है ? यह निर्भर करता है कि हमारा समाज कैसा बनेगा | परिवार में प्राप्त संस्कारों के माध्यम से ही मनुष्य समाज में क्रियाकलाप करता है | हम इस भारत देश में पुनः रामराज्य की स्थापना की कल्पना किया करते
17 दिसम्बर 2019
02 दिसम्बर 2019
*हमारे देश की संस्कृति इतनी महान रही है कि समस्त विश्व ने हमारी संस्कृति को आत्मसात किया | सनातन ने सदैव नारी को शक्ति के रूप में प्रतिपादित / स्थापित करते हुए सम्माननीय एवं पूज्यनीय माना है | इस मान्यता के विपरीत जाकर जिसने भी नारियों के सम्मान के विपरीत जाकर उनसे व्यवहार करने का प्रयास किया है उसक
02 दिसम्बर 2019
17 दिसम्बर 2019
*किसी भी देश का निर्माण समाज से होता है और समाज की प्रथम इकाई परिवार है | परिवार में आपसी सामंजस्य कैसा है ? यह निर्भर करता है कि हमारा समाज कैसा बनेगा | परिवार में प्राप्त संस्कारों के माध्यम से ही मनुष्य समाज में क्रियाकलाप करता है | हम इस भारत देश में पुनः रामराज्य की स्थापना की कल्पना किया करते
17 दिसम्बर 2019
28 नवम्बर 2019
*इस समस्त सृष्टि में हमारा देश भारत अपने गौरवशाली संस्कृति एवं सभ्यता के लिए संपूर्ण विश्व में जाना जाता था | अनेक ऋषि - महर्षियों ने इसी पुण्य भूमि भारत में जन्म लेकर के मानव मात्र के कल्याण के लिए अनेकों प्रकार की मान्यताओं एवं परंपराओं का सृजन किया | संस्कृति एवं सभ्यता का प्रसार हमारे देश भारत स
28 नवम्बर 2019
17 दिसम्बर 2019
*आदिकाल से मनुष्य में सद्गुण एवं दुर्गुण साथ - साथ उत्पन्न् हुए इस धराधाम पर अनेकों सदुगुणों को जहाँ मनुष्य ने स्वयं में आत्मसात किया है वहीं दुर्गुणों से भी उसका गहरा सम्बन्ध रहा है | मनुष्य में सद्गुण एवं दुर्गुण उसके पारिवारिक परिवेश एवं संस्कारों के अनुसार ही प्रकट होते रहे हैं | सम्मान , सदाचार
17 दिसम्बर 2019
27 नवम्बर 2019
*ईश्वर की बनायी यह सृष्टि बहुत ही विचित्र है , यहां एक ही भाँति दिखने वाले मनुष्यों के क्रियाकलाप भिन्न - भिन्न होते हैं | मनुष्य के आचरण एवं उसके क्रियाकलापों के द्वारा ही उनकी श्रेणियां निर्धारित हो जाती है | वैसे तो मनुष्य की अनेक श्रेणियां हैं परंतु मुख्यतः दो श्रेणियों में मनुष्य बंटा हुआ है |
27 नवम्बर 2019
21 नवम्बर 2019
*सनातन धर्म में सोलह संस्कारों का वर्णन मिलता है इन संस्कारों में एक महत्वपूर्ण संस्कार है विवाह संस्कार | मनुष्य योनि में जन्म लेने के बाद वैवाहिक संस्कार महत्वपूर्ण हो जाता है क्योंकि सनातन धर्म में बताए गए चार आश्रम में सबसे महत्वपूर्ण है गृहस्थाश्रम | गृहस्थाश्रम में प्रवेश करने के लिए विवाह संस
21 नवम्बर 2019
26 नवम्बर 2019
*इस संसार परमात्मा ने अनेकानेक जीवो का सृजन किया | पशु - पक्षी ,कीड़े - मकोड़े और जलीय जंतुओं का सृजन करने के साथ ही मनुष्य का भी सृजन परमात्मा ने किया | सभी जीवो में समान रूप से आंख , मुख , नाक , कान एवं हाथ - पैर दिखाई देते हैं परंतु इन सब में मनुष्य को उस परमात्मा
26 नवम्बर 2019
09 दिसम्बर 2019
*इस संपूर्ण विश्व में प्रारंभ से ही भारत देश अपने क्रियाकलापों एवं दूरदर्शिता के लिए जाना जाता रहा है | विश्व के समस्त देशों की अपेक्षा भारत की सभ्यता , संस्कृति एवं आपसी सामंजस्य एक अनुपम उदाहरण प्रस्तुत करता रहा है | यहां पूर्व काल में एक दूसरे के सहयोग से दुष्कर से दुष्कर कार्य मनुष्य करता रहा है
09 दिसम्बर 2019
26 नवम्बर 2019
❌ *इस संसार परमात्मा ने अनेकानेक जीवो का सृजन किया | पशु - पक्षी ,कीड़े - मकोड़े और जलीय जंतुओं का सृजन करने के साथ ही मनुष्य का भी सृजन परमात्मा ने किया | सभी जीवो में समान रूप से आंख , मुख , नाक , कान एवं हाथ - पैर दिखाई देते हैं परंतु इन सब में मनुष्य को उस परमात्मा ने एक अमोघ शक्ति के रूप में बु
26 नवम्बर 2019
17 दिसम्बर 2019
*आदिकाल से मनुष्य में सद्गुण एवं दुर्गुण साथ - साथ उत्पन्न् हुए इस धराधाम पर अनेकों सदुगुणों को जहाँ मनुष्य ने स्वयं में आत्मसात किया है वहीं दुर्गुणों से भी उसका गहरा सम्बन्ध रहा है | मनुष्य में सद्गुण एवं दुर्गुण उसके पारिवारिक परिवेश एवं संस्कारों के अनुसार ही प्रकट होते रहे हैं | सम्मान , सदाचार
17 दिसम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x