संस्कार विहीन समाज :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

03 दिसम्बर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (440 बार पढ़ा जा चुका है)

संस्कार विहीन समाज :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*मानव जीवन में इस संसार में उपस्थित समस्त पदार्थ किसी न किसी रूप में महत्वपूर्ण है परंतु यदि इनका सूक्ष्म आंकलन किया जाय तो सबसे महत्वपूर्ण हैं मनुष्य के संस्कार | इन्हीं संस्कारों को अपना करके मनुष्य पदार्थों से उचित अनुचित व्यवहार करने का ज्ञान प्राप्त करता है | हमारे देश भारत की संस्कृति संस्कार बहुत ही दिव्य रही है , बिना संस्कार के मनुष्य का जीवन पशु के समान व्यतीत हो जाता है | हमारे संस्कार इतने दिव्य रहे हैं कि यहां बचपन से ही बालकों को गुरुकुल के माध्यम से मानव जीवन को श्रेष्ठ बनाने की शिक्षा दी जाती रही है | जहां सर्वप्रथम इस समस्त सृष्टि की मूल नारी जाति का सम्मान करना सबसे पहले सिखाया गया है | हमारे शास्त्रों में "मातृवत् परदारेषु परद्रव्येषु लोष्ठवत्" की शिक्षा दी गई है जिसका अर्थ है कि परनारी सदैव माता के समान होती है और पर धन मिट्टी के समान | इसी बात को सरल करते हुए बाबा जी अपने में लिखते हैं :- "जननी सम जानहिं परनारी ! धन पराव विष ते विष भारी !!" हमें आदिकाल से नारीजाति का सम्मान करना सिखाते हुए यह बताया गया है कि यदि उसकी आयु पुत्री के समान है तो उसको पुत्री मानो , अपने समकक्ष है तो उसको बहन मानो एवं अपने से वृद्ध होने पर उसे माता मानने की शिक्षा दी गई थी , इसके अतिरिक्त यह भी सिखाया गया था कि "यत्र नार्यस्तु पूज्यंते रमंते तत्र देवता" अर्थात :- जहां नारियों की पूजा होती है वहां देवता निवास करते | इन्हीं मान्यताओं को मानकरके एवं इसका पालन करते हुए ही हमारे देश की संस्कृति समस्त विश्व में प्रसारित हुई और भारत विश्व गुरु कहलाया था | ऐसी मान्यता हमारे देश में थी तो उसका मूल कारण यही था कि मनुष्य को बचपन से ही संस्कारित किया जाता था | गुरुकुल प्रणाली में शिक्षा प्राप्त करके मनुष्य संस्कारित होकर के समाज में मानवोचित कृत्य करता था , परंतु धीरे-धीरे समय परिवर्तित हो गया और आज मनुष्य सारे संस्कार एवं सारी शिक्षा को भूल गया है यह स्पष्ट दिखाई पड़ रहा है |*


*आज समाज में चारों ओर संस्कारों का पतन होता हुआ ही दिखाई पड़ रहा है | संस्कारों से विमुख होकर के मनुष्य ऐसे ऐसे कृत्य कर रहा है कि मानवता भी लज्जित होती जा रही है | आज "मातृवत् परदारेषु" की शिक्षा मनुष्य भूल चुका है | इसका मुख्य कारण है आज प्रदान की जाने वाली शिक्षा जिसमें सिर्फ अर्थोपार्जन का गुण सिखाया जाता है | आज की शिक्षा में संस्कार अंतर्ध्यान हो गए हैं | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" आज समाज की स्थिति देखकर कह सकता हूं कि आज मनुष्य को किसी भी नारी में पुत्री , बहन व माता के दर्शन नहीं हो पा रहे हैं | वासना के वशीभूत होकरके समस्त नारी जाति को वासनात्मक दृष्टिकोण से ही देखा जा रहा है , चाहे वह चार साल की अबोध कन्या हो या अस्सी साल की वयोवृद्ध | आज कहीं ना कहीं उनके साथ व्यभिचार की घटनाएं सुनने को मिल जाती हैं | यदि आज ऐसा हो रहा है तो इसका मुख्य कारण यही है कि मनुष्य संस्कारों से विहीन हो चुका है | आज मनुष्य के द्वारा नारी जाति के साथ जो कृत्य किया जा रहा है वह कहीं से भी मनुष्य के संस्कारित होने का प्रमाण नहीं प्रस्तुत करता है | आज निशाचरत्व अपने चरम पर तो नहीं कहा जा सकता परंतु इसका प्रसार तेजी से हो अवश्य रहा है | यदि इन से छुटकारा पाना है तो अपने बच्चों को संस्कारित करना ही होगा जो आज की शिक्षा पद्धति के भरोसे नहीं हो सकता है | बच्चों को संस्कार परिवार से मिलते हैं प्रत्येक माता-पिता का कर्तव्य बनता है कि अपने बच्चों को संस्कारित करते हुए नारी जाति का सम्मान करने की शिक्षा दें अन्यथा आने वाला समय और भी वीभत्स हो जाएगा | आज जिस प्रकार पूरे देश में कहीं भी नारी जाति सुरक्षित नहीं है उससे यह स्पष्ट हो जाता है कि मनुष्य आज अपने संस्कारों की पूर्णाहुति कर चुका है | इसका कारण शिक्षा पद्धति तो है ही साथ ही उन संस्कार विहीन पुरुषों के माता-पिता भी कहे जा सकते हैं जिन्होंने अपनी संतान को किसी के सम्मान करने की शिक्षा नहीं दी है | आज आवश्यकता है एक जन जागृति की अन्यथा कल क्या होगा यह सोच कर ही हृदय कम्पित हो जाता है |*


*जिस समाज में संस्कार नहीं रहते हैं वह निशाचरों का समाज कहा जाता है | आज देवत्व रो रहा है और किसी भी उम्र की नारी कहीं भी सुरक्षित नहीं दिख रही है | यह मानव समाज के पतन का स्पष्ट संकेत है |*

अगला लेख: जातस्य हि ध्रुवो मृत्यु: :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
02 दिसम्बर 2019
*हमारे देश की संस्कृति इतनी महान रही है कि समस्त विश्व ने हमारी संस्कृति को आत्मसात किया | सनातन ने सदैव नारी को शक्ति के रूप में प्रतिपादित / स्थापित करते हुए सम्माननीय एवं पूज्यनीय माना है | इस मान्यता के विपरीत जाकर जिसने भी नारियों के सम्मान के विपरीत जाकर उनसे व्यवहार करने का प्रयास किया है उसक
02 दिसम्बर 2019
18 नवम्बर 2019
*इस संसार में प्राय: दो शब्द सुनने को मिलते हैं शिक्षा एवं दीक्षा | शिक्षा एवं दीक्षा मानव जीवन की दिशा एवं दशा परिवर्तित करने में सक्षम होती है | जहाँ शिक्षा का अर्थ होता है ज्ञानार्जन करना वहीं दीक्षा का अर्थ दिशा प्राप्त करना बताया गया है | पूर्वकाल में गुरु के द्वारा पहले शिष्य की योग्यता के अनु
18 नवम्बर 2019
08 नवम्बर 2019
*पंचतत्त्वों से बने मनुष्य को इस धरा धाम पर जीवन जीने के लिए मनुष्य को पंचतत्वों की आवश्यकता होती है | रहने के लिए धरती , ताप के लिए अग्नि , पीने के लिए पानी , सर ढकने के लिए आसमान , एवं जीवित रहने के लिए वायु की आवश्यकता होती है | मनुष्य प्रत्येक श्वांस में वायु ग्रहण करता है | श्वांस लेने के लिए
08 नवम्बर 2019
12 नवम्बर 2019
*आदिकाल से ही से ही इस धराधाम पर अनेकों योद्धा ऐसे हुए हैं जिन्होंने अपनी शक्तियों का संचय करके एक विशाल जनसमूह को अपने वशीभूत किया एवं उन्हीं के माध्यम से मानवता के विरुद्ध कृत्य करना प्रारंभ किया | पूर्वकाल में ऐसे लोगों को राक्षस या निशाचर कहा जाता था | इनके अनेक अनुयायी ऐसे भी होते थे जिनको यह न
12 नवम्बर 2019
28 नवम्बर 2019
*इस समस्त सृष्टि में हमारा देश भारत अपने गौरवशाली संस्कृति एवं सभ्यता के लिए संपूर्ण विश्व में जाना जाता था | अनेक ऋषि - महर्षियों ने इसी पुण्य भूमि भारत में जन्म लेकर के मानव मात्र के कल्याण के लिए अनेकों प्रकार की मान्यताओं एवं परंपराओं का सृजन किया | संस्कृति एवं सभ्यता का प्रसार हमारे देश भारत स
28 नवम्बर 2019
14 नवम्बर 2019
*सृष्टि के आदिकाल में वेद प्रकट हुए , वेदों का विन्यास करके वेदव्यास जी ने अनेकों पुराणों का लेखन किया परंतु उनको संतोष नहीं हुआ तब नारद जी के कहने से उन्होंने श्रीमद्भागवत महापुराण की रचना की | श्रीमद्भागवत के विषय में कहा जाता है यह वेद उपनिषदों के मंथन से निकला हुआ ऐसा नवनीत (मक्खन) है जो कि वेद
14 नवम्बर 2019
16 नवम्बर 2019
*परमात्मा की बनाई यह सृष्टि निरन्तर क्षरणशील है | एक दिन सबका ही अन्त निश्चित है | सृष्टि का विकास हुआ तो एक दिन महाप्रलय के रूप में इसका विनाश भी हो जाना है , सूर्य प्रात:काल उदय होता है तो एक निश्चित समय पर अस्त भी हो जाता है | उसी प्रकार इस सृष्टि में जितने भी जड़
16 नवम्बर 2019
16 नवम्बर 2019
*इस धराधाम पर जन्म लेने के बाद मनुष्य येन - केन प्रकारेण ईश्वर प्राप्ति का उपाय किया करता है | ईश्वर का प्रेम पिराप्त करने के लिए मनुष्य पूजा , अनुष्ठान , मन्दिरों में देवदर्शन तथा अनेक तीर्थों का भ्रमण किया करता है जबकि भगवान को कहीं भी ढूंढ़ने की आवश्यकता नहीं है मानव हृदय में तो ईश्वर का वास है ह
16 नवम्बर 2019
30 नवम्बर 2019
*इस धराधाम पर परमात्मा ने अनेकों प्रकार के पशु-पक्षियों , जीव - जंतुओं का सृजन किया साथ ही मनुष्य को बनाया | मनुष्य को परमात्मा का युवराज कहा जाता है | इस धराधाम पर सभी प्रकार के जीव एक साथ निवास करते हैं , जिसमें से सर्वाधिक निकटता मनुष्य एवं पशुओं की आदिकाल से ही रही है | जीवमात्र के ऊपर संगत का प
30 नवम्बर 2019
22 नवम्बर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <
22 नवम्बर 2019
10 नवम्बर 2019
!! भगवत्कृपा हि केवलम् !!*सनातन धर्म की दिव्यता विश्व विख्यात है | संपूर्ण विश्व ने सनातन धर्म के ग्रंथों को ही आदर्श मान कर दिया जीवन जीने की कला सीखा है | प्राचीन काल में शिक्षा का स्तर इतना अच्छा नहीं था जितना इस समय है परंतु हमारे पूर्वज अनुभव के आधार पर समाज के सारे कार्य कुशलता से संपन्न कर दे
10 नवम्बर 2019
25 नवम्बर 2019
*इस धराधाम पर परमपिता परमात्मा ने जलचर , थलचर नभचर आदि योनियों की उत्पत्ति की | कुल मिलाकर चौरासी लाख योनियाँ इस पृथ्वी पर विचरण करती हैं , इन सब में सर्वश्रेष्ठ योनि मनुष्य को कहा गया है क्योंकि जहां अन्य जीव एक निश्चित कर्म करते रहते हैं वही मनुष्य को ईश्वर ने विवेक दिया है , कोई भी कार्य करने के
25 नवम्बर 2019
26 नवम्बर 2019
❌ *इस संसार परमात्मा ने अनेकानेक जीवो का सृजन किया | पशु - पक्षी ,कीड़े - मकोड़े और जलीय जंतुओं का सृजन करने के साथ ही मनुष्य का भी सृजन परमात्मा ने किया | सभी जीवो में समान रूप से आंख , मुख , नाक , कान एवं हाथ - पैर दिखाई देते हैं परंतु इन सब में मनुष्य को उस परमात्मा ने एक अमोघ शक्ति के रूप में बु
26 नवम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x