निर्वाण - टॉयलेट सीट पर

04 दिसम्बर 2019   |  कात्यायनी डॉ पूर्णिमा शर्मा   (3632 बार पढ़ा जा चुका है)

निर्वाण - टॉयलेट सीट पर

संस्कारों का दिखावा करने वालों पर डॉ दिनेश शर्मा का खरा व्यंग्य...

निर्वाण टॉयलेट सीट पर – दिनेश डॉक्टर

मन चंगा तो कठौती में गंगा

कई बरस पहले की बात है मैं दिल्ली से लंदन की फ्लाइट पर था । मैं जाकर बैठा ही था कि साथ वाली सीट पर सुप्रसिद्ध और जाने माने गायक श्री अनूप जलोटा जी आकर बैठ गए । इनके गाये भजन सुबह शाम हर घर में खूब बजते हैं । सेलिब्रिटीज़ को हर जगह लोगों की अटेंशन और इज़्ज़त खूब मिलती है। मैनें भी प्रणाम किया तो उन्होंने बड़े उदार ह्रदय और गर्मजोशी से जवाब दिया । फ्लाइट लंबी थी । बाते शुरू हुई । दो पैग पीने के बाद वो काफी खुल गए । मुझसे पूछा कि मैं क्या करता हूँ । जब मैंने अपना परिचय दिया तो ज्योतिष के दृष्टिकोण से अपनी जन्म कुंडली डिस्कस करने लगे । ज्योतिष का उन्हें भी अच्छा खासा ज्ञान है । इतने में स्नेक्स आ गए । ग्रिल्ड चिकन का एक पीस मुंह में डालते हुए उन्होंने बताया कि अक्सर लोग उनके शराब पीने और नॉन वेज खाने को लेकर अनचाहे कमेंट्स करते हैं कि मैं भजन गाता हूँ तो मैं ऐसा पाप क्यों करता हूँ । खास तौर पर हवाई यात्रा के वक़्त अगर मैं शराब पी रहा हूँ तो साथ बैठे लोग इस तरह के कमेंट्स करने से नही चूकते । फिर मुझे उन्हें प्यार से समझाना पड़ता है कि उन्हें इससे क्या मतलब कि मेरे मुंह में क्या जा रहा है -उन्हें तो इस बात से मतलब होना चाहिए कि मेरे मुंह से बाहर क्या आ रहा है और मैं तो ग़ज़ल और रोमांटिक गाने भी गाता हूँ ।

ऐसा ही एक किस्सा उन दिनों हुआ था जब टेलीविजन पर रामायण सीरियल चल रहा था । दिल्ली के चेम्सफोर्ड क्लब में भगवान राम का पात्र निभाने वाले श्री अरुण गोविल कुछ मित्रों के साथ शाम इंजॉय कर रहे थे । मैं भी क्योंकि क्लब का मेम्बर हूँ तो उस शाम इत्तेफ़ाक़ से वहीं था और उनकी बगल वाली मेज पर कुछ दोस्तों के साथ गप्पबाज़ी कर रहा था । तभी क्लब के दो अधेड़ उम्र के मेम्बर जो मुझे अच्छी तरह जानते थे और खुद अच्छी खासी पिये हुए थे, अपने गिलास थामे मेरी टेबल पर आ गए और श्री गोविल की तरफ इशारा करके शिकायत के स्वर में कहने लगे , "देक्खो डॉ साब इसको शर्म नही आती खुले आम शराब पी रहा है -लोगों की इस पर कितनी श्रद्धा है" ! सुन श्री गोविल ने भी लिया पर क्योंकि शालीन व्यक्ति हैं - कोई प्रतिक्रिया नही दी । हो सकता है कि वो ऐसा अक्सर सुनने के अभ्यस्त थे ।

हम अपनी अंधश्रद्धा की वजह से किसी व्यक्ति के बारे में जो इमेज बना लेते हैं वो हमारा अपना विषय है । हम उस व्यक्ति से ऐसी अपेक्षा करने लगें कि वह हमारी इमेज के हिसाब से जिये तो यह गलती उस व्यक्ति की नही बल्कि हमारी है । जब हम पाप और पुण्य की परिभाषा अपने हिसाब से गढ़ने लगते है तो यह हमारा खुद का अज्ञान है । आप रोज़ पूजा करते हैं , मंदिर जाते हैं , तीर्थ यात्रा करते हैं , शुद्ध शाकाहारी हैं , शराब सिगरेट तम्बाकू को हाथ नही लगाते - बहुत अच्छी बात है - पर आपके लिए । पर यह सब करने से आपको यह अधिकार बिल्कुल नही मिल जाता कि जिन लोगों का खान पान, रहन सहन आपके जैसा नही है उन्हें आप हीन दृष्टि से देखें या पापी समझें ।

कोई क्या खाता पीता है - पूजा करता है या नही करता, मंदिर जाता है या नही जाता यह उसकी अपनी चॉइस है । अगर आप की दृष्टि में वह पाप है तो अपने पाप का भागी वह खुद है वैसे ही - जैसे जो आप पुण्य समझकर कर रहें है उसके शुभ फल के प्राप्तकर्ता आप स्वयम हैं । जिस परिवार में हम जन्मे है तो बचपन से जो उस परिवार का खानपान या धर्म है वही हमारा भी हो जाता है । एक कर्मकांडी ब्राह्मण परिवार में जन्मे बच्चे के लिए जानवर को मारना पाप है पर एक कसाई के परिवार में जन्मे बच्चे के लिए पशु वध उसका कर्म है । संसार में अस्सी प्रतिशत से ज्यादा लोग मांसाहारी है तो क्या शाकाहारियों की दृष्टि में वे सब पापी हैं ? अधिकांश काश्मीरी ब्राह्मण मांसाहारी है क्योंकि मांसाहार उनकी भोजन संस्कृति का हिस्सा है । अधिकांश बंगाली और उड़िया ब्राह्मण मछली खाते हैं तो क्या वे सब पापी हैं ?

पाप और पुण्य से आपके खान पान, पूजा तीर्थ करने या न करने से कोई लेना देना नही है । आप लाख जाप करें, घंटों पूजा करें, मंदिर गुरुद्वारों में जाकर शीश नवाएं , भंडारे जागरण करें पर आपके ह्रदय में कुटिलता, क्रोध, ईर्ष्या, लोभ, अहंकार इत्यादि का वास हो तो क्या आप स्वयम को पुण्यात्मा कहेंगे ? हिमालय परम्परा के एक महान संत अक्सर एक अजीब बात कहते थे कि यदि टॉयलेट सीट पर बैठ कर भी शांत मन और पवित्र ह्रदय से ईश्वर का स्मरण कर लो तो वो महीनों मंदिरों में बैठ कर लोगों को दिखाने के लिए माला जपने से ज्यादा सार्थक और शुभ फलकारक है।

महान संत रविदास का अमर वाक्य तो आपको स्मरण ही होगा , "मन चंगा तो कठौती (मिट्टी का चौड़े मुंह का वह पात्र जिसमे जूते बनाने से पहले चमड़े को नर्म करने के लिए भिगोया जाता है ) में गंगा" ।

अगला लेख: ध्यान और इसका अभ्यास



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
21 नवम्बर 2019
अध्यात्मपरक मन:चिकित्सामनःचिकित्सक अनेक बार अपने रोगियों के साथ सम्मोहन आदि कीक्रिया करते हैं | भगवान को भी अपने एक मरीज़ अर्जुन के मन का विभ्रम दूर करकेउन्हें युद्ध के लिये प्रेरित करना था | अतः जब जब अर्जुन भ्रमित होते – उनके मनमें कोई शंका उत्पन्न होती – भगवान कोई न कोई झटका उन्हें दे देते | यही क
21 नवम्बर 2019
25 नवम्बर 2019
वर्तमान में राजनीतिक उठा पटक पर डॉ दिनेश शर्माका खरा व्यंग्य...भेडें और भेड़िये *डॉ दिनेश शर्माफाइव स्टार होटल की लाबी में भेड़ों के बड़े झुंडमें , दो भेडें जो एक दूसरे को अच्छी तरह पहचानती थी,अचानक आमने सामने पड़ गयी ।पहली भेड़ ; तुम यहां क्या कर रही हो ?दूसरी भेड़ ; जो तुम कर रही हो । पहली भेड़ ; मुझे तो
25 नवम्बर 2019
14 दिसम्बर 2019
कौ
"कौआ कान ले गया "(व्यंग्य)"हुजूर ,आरिजो रुख्सार क्या तमाम बदनमेरी सुनो तो मुजस्सिम गुलाब हो जाए ,गलत कहूँ तो मेरी आकबत बिगड़ती है जो सच कहूँ तो खुदी बेनकाब हो जाए"इधर सताए हुए कुछ लोगों के जख्मों पर फाहे क्या रखे गए उधर धर्म को अफीम मानने वाले लोगों ने लोगों को राजधर्म याद
14 दिसम्बर 2019
25 नवम्बर 2019
वर्तमान में राजनीतिक उठा पटक पर डॉ दिनेश शर्माका खरा व्यंग्य...भेडें और भेड़िये *डॉ दिनेश शर्माफाइव स्टार होटल की लाबी में भेड़ों के बड़े झुंडमें , दो भेडें जो एक दूसरे को अच्छी तरह पहचानती थी,अचानक आमने सामने पड़ गयी ।पहली भेड़ ; तुम यहां क्या कर रही हो ?दूसरी भेड़ ; जो तुम कर रही हो । पहली भेड़ ; मुझे तो
25 नवम्बर 2019
17 दिसम्बर 2019
मंटूबड़ा खुश था । प्राइमरी में टीचर लगे उसेअभी साल भर भी नहीं हुआ था कि सरकार द्वारा प्रायोजित डी-एड पाठ्यक्रम के लिए उसकानामांकन हो गया । प्राइमरी स्तर के बालकों कोपढ़ाने के लिए डी-एडकी पढाई काफी महत्वपूर्ण है । समय परसमस्त शिक्षक सेंटर पहुँच गए । पाठ्यक्रमप
17 दिसम्बर 2019
05 दिसम्बर 2019
चुनावी मौसम के वादों और उपहारों पर डॉ दिनेशशर्मा का एक व्यंग्य... देश की भैंस और तालाब - दिनेश डॉक्टरजैसे जैसे बाकी मुल्क की तरह देश की राजधानीदिल्ली में भी इलेक्शन पास आते जा रहे हैं , वैसे वैसे एक के बाद एक मुफ्तखोरों के लिए पिटारे खुलते जा रहे हैं ।बिजली फ्री, पानी फ्री, महिलाओं के लिएबस यात्रा फ
05 दिसम्बर 2019
20 नवम्बर 2019
शुक्र का धनु राशि में गोचर मार्गशीर्ष कृष्ण दशमी (सूर्योदय कालमें नवमी तिथि है किन्तु 11:29 पर दशमी तिथिलग जाएगी) यानी कल दिन में बारह बजकर तेईस मिनटके लगभग वणिज करण और वैधृति योग में समस्त सांसारिक सुख, समृद्धि, विवाह, परिवार सुख, कला, शिल्प,सौन्दर्य, बौद्धिकता,राजनीति तथा समाज में मान प्रतिष्ठा मे
20 नवम्बर 2019
24 नवम्बर 2019
अबकी बार,तीन सौ पार,(व्यंग्य)"नहीं निगाह में मंजिल तो जुस्तजू ही सही नहीं विसाल मयस्सर तो आरजू ही सही "जी नहीं ये किसी हारे या हताश राजनैतिक पार्टी के कार्यकर्ता की पीड़ा या उन्माद नहीं है।बल्कि हाल के दिनों में तीन सौ शब्द काफी चर्चा में रहा।एक राजनैतिक दल ने तीन सौ की ह
24 नवम्बर 2019
25 नवम्बर 2019
ध्यान के अभ्यास के लिए भोजन किसप्रकार का तथा किस प्रकार किया जाना चाहिए इसी क्रम में आगे...निश्चित रूप से जितने भी प्रकार काभोजन आप करते हैं उस सबका अलग अलग प्रभाव आपके शरीर पर होता है | हल्का और ताज़ाभोजन जिसमें सब्ज़ियाँ, फल और अनाज का मिश्रणहो वह सुपाच्य होता है | जबकि भारी और अच्छी तरह से तला भुना
25 नवम्बर 2019
28 नवम्बर 2019
भारतीय संस्कृति में जन मानस में धार्मिक आस्थाभारत में उत्तर से दक्षिण तक और पूरबसे पश्चिम तक अनगिनत जातियाँ हैं | उन सबके अपने अपने कार्य व्यवहार हैं, रीतिरिवाज़ हैं, जीवन यापन की अनेकों शैलियाँ हैं, अनेकों पूजा विधियाँ हैं, उपासना केपंथ हैं और अनेकों प्रकार के कर्म विस्तार हैं, तथापि उनका धर्म एक ही
28 नवम्बर 2019
29 नवम्बर 2019
*उम्मीद पे दुनिया कायम है**डॉ दिनेश शर्मा*अगर आपकी नीयत ठीक है और किसी के भले के लिए कर रहे है तो लोगों को उम्मीदें बांटे, भले ही झूठी ही क्यों न हो । कई बार झूठा दिलासा भी बहुत काम कर जाता है । ज़रूरी नही कि आप मुझसे सहमत हों । आपकी अपनी वज़हें हो सकती है मुझसे इत्तेफ़ाक़ न रखने के लिए । आप कह सकते है
29 नवम्बर 2019
24 नवम्बर 2019
25 नवम्बर से 1 दिसम्बर 2019 तक का साप्ताहिक राशिफलनीचे दिया राशिफल चन्द्रमा की राशि परआधारित है और आवश्यक नहीं कि हर किसी के लिए सही ही हो – क्योंकि लगभग सवा दो दिनचन्द्रमा एक राशि में रहता है और उस सवा दो दिनों की अवधि में न जाने कितने लोगोंका जन्म होता है | साथ ही ये फलकथन केवलग्रहों के तात्कालिक
24 नवम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x