ध्यान के कुछ अन्य आसन

09 दिसम्बर 2019   |  कात्यायनी डॉ पूर्णिमा शर्मा   (501 बार पढ़ा जा चुका है)

ध्यान के कुछ अन्य आसन

ध्यान के कुछ अन्य आसन :

ध्यान के लिए उपयुक्त आसनों पर वार्ता के क्रम में हमने मैत्री आसन, सुखासन, स्वस्तिकासन और सिद्धासन पर बात की | कुछ अन्य आसन भी ध्यान में बैठने के लिए अनुकूल हो सकते हैं | जैसे:

वज्रासन : कुछ लोग जिनके कूल्हों अथवा घुटनों में किसी प्रकार की समस्या हो वे ऐसे किसी भी आसन में बैठने में कठिनाई का अनुभव कर सकते हैं जिनमें टाँगों को एक दूसरे के आर पार करना पड़ता हो | वे लोग टखनों के ऊपर घुटनों को रखकर भी ध्यान का अभ्यास कर सकते हैं | इसे “वज्रासन” कहा जाता है |

सीधे ज़मीन पर इस आसन में यदि बैठेंगे तो पैरों और टखनों पर अधिक ज़ोर पड़ेगा जिसके कारण माँसपेशियों में कोई समस्या हो सकती है | यदि आप इस आसन में बैठना अधिक पसन्द करते हैं तो आपको बता दें आजकल बाज़ार में इसके लिए लकड़ी की बेंच भी उपलब्ध है | आप एक बेंच ख़रीद कर ला सकते हैं | इस बेंच पर सीधे बैठ सकते हैं जिससे आपके पैरों और टखनों पर कम जोर पड़ेगा | इस आसन से लाभ एक सीमा तक ही सम्भव है | जैसे : लम्बी अवधि के ध्यान में इस आसन पर बैठने में शरीर में स्थिरता का अभाव रहता है और शरीर एक ओर को झुकने अथवा झूलने लगता है | फिर भी जिन साधकों को शारीरिक समस्याएँ इस प्रकार की हैं उनके लिए यही आसन उचित रहेगा |

सिद्धासन : इसकी चर्चा पहले भी की है | यह कुछ ऐसे साधकों को सिखाया जाता है जो ध्यान के अन्य आसनों के अभ्यस्त हो चुके हैं, साधारण साधकों के लिए यह आसन न तो उपयोगी ही है और न ही वे इसे सरलता से लगा सकते हैं | क्योंकि पद्मासन की भाँति ही इस आसन के लिए भी शरीर को एक विशेष स्थिति में रखने की आवश्यकता होती है | और यह तभी सहायक हो सकता है जब इसे नियमबद्ध और उचित रीति से किया जाए | यदि आप इस आसन में उचित और सुविधाजनक रीति से नहीं बैठ पाते तो आपको इससे लाभ होने की अपेक्षा समस्याएँ ही अधिक उत्पन्न होंगी | ध्यान के प्रारम्भिक साधकों के लिए अथवा संसारी लोगों के लिए सिद्धासन का सुझाव देना उचित नहीं होगा |

जो लोग ध्यान में पारंगत हैं अथवा ध्यान को जिन्होंने अपने जीवन में प्राथमिकता दी है वे धीरे धीरे इस आसन में बैठना सीख सकते हैं | हाँ जो लोग समाधि की अवस्था को प्राप्त होना चाहते हैं उन्हें निश्चित रूप से ध्यान के समय इस आसन का अभ्यास करना चाहिए | ध्यान में पारंगत साधक अपने लक्ष्य की प्राप्ति के लिए इस आसन में बैठने का अभ्यास डाल सकते हैं | जब एक कुशल छात्र बिना किसी कष्ट के एक ही समय में तीन घंटे से अधिक अवधि के लिए बैठने लगता है तब “आसनसिद्धि” हो जाती है | लेकिन प्रारम्भिक विद्यार्थी जो अभी तक इस आसन के लिए तैयार नहीं हैं वे इस आसन में असुविधा का ही अनुभव करेंगे | जिस आसन का अभ्यास आपने नहीं किया है ऐसे आसन में बैठने के प्रयास में माँसपेशियों और नसों में खिंचाव जैसी समस्याएँ उत्पन्न हो सकती हैं |

सिद्धासन में बैठने के लिए मूलबन्ध – जिसमें गुदा की माँसपेशियों को सँकुचित करके भीतर की ओर खींचा जाता है – लगाते हुए बाएँ पैर की एड़ी को मूलाधार – अंडकोष – पर रखिये | अब दूसरे पैर की एड़ी को जननेन्द्रिय के ऊपर प्यूबिक बोन (Pubic Bone) यानी जँघा के ऊपर की अस्थि पर रखिये | पैरों और टाँगों को इस तरह रखिये कि टखने एक सीध में अथवा एक दूसरे को स्पर्श कर सकें | दाहिने पैर की अँगुलियों को बाँयी जँघा और पिण्डली के बीच में कुछ इस भाँति रखिये कि केवल बड़ी अँगुली दिखाई दे | अब बाँए पैर की अँगुलियों को उठाकर दाहिनी जँघा और पिण्डली के बीच में इस प्रकार रखें कि केवल बड़ी अंगुलि दिखाई दे | दोनों हाथ दोनों घुटनों पर रखिये |

ध्यान रहे, हम इस आसन की सलाह नहीं देते – उन लोगों को छोड़कर जो किसी योग्य प्रशिक्षक के मार्गदर्शन में इसे सीख रहे हैं | क्योंकि अगर इसे ठीक से नहीं किया गया तो जैसा ऊपर कहा गया है – साधकों को किसी प्रकार की शारीरिक समस्या का सामना करना पड़ सकता है | परम्परा से तो ये आसन उन व्यक्तियों को सिखाया जाता है जो सन्यासी जीवन व्यतीत करना चाहते हैं | लेकिन यह सोचना भी उचित नहीं होगा कि केवल पुरुष ही इस आसन को लगा सकते हैं, कम सुविधाजनक होते हुए भी महिला साधिकाएँ और नन्स इस आसन के अभ्यास करती हैं |

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2019/12/09/meditation-and-its-practices-24/

अगला लेख: भेड़ें और भेड़िये



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
24 दिसम्बर 2019
बुधका धनु में गोचरवर्ष 2020 का अन्तिम सप्ताह– दो महत्त्वपूर्ण गोचर – मंगल का अपनी राशि वृश्चिक में गोचर और बुध का धनु मेंगोचर जहाँ राश्यधिपति गुरु, शनि, केतु और सूर्यदेव पहले सेविराजमान हैं | यहाँ हम बात कर रहे हैं बुध के गोचर की | जी हाँ, कल पौष अमावस्या यानी पच्चीस दिसम्बर को अपराह्न 3:46 के लगभग
24 दिसम्बर 2019
29 नवम्बर 2019
ध्यान में बैठने के लिए आसन (Posture) :बहुत सारे आसनहैं जिनमें आपकी रीढ़ सीढ़ी रहती है और आप आराम से सुविधाजनक स्थिति में अपनी टाँगोंको किसी प्रकार से तोड़े मरोड़े बिना बैठे रह सकते हैं | वास्तव में ध्यान में हाथोंअथवा पैरों पर ध्यान देने की अपेक्षा इस बात पर ध्यान देना चाहिए कि आपकी रीढ़ सीधीहो | इस क्रम
29 नवम्बर 2019
16 दिसम्बर 2019
ध्यान के आसन को और अधिक सुविधाजनक बनाने के कुछ सुझाव :अभी तक हम ध्यानके लिए उपयुक्त आसनों के विषय में चर्चा कर चुके हैं | अब आगे, एक अनुकूल आसन का चयनतो हमने कर लिया, लेकिन यदि उसे और अधिक सुविधाजनक बनाना होतो उसके लिए क्या करना चाहिए...यदि आप तह कियेहुए कम्बल को ज़मीन पर गद्दे की भाँति रखकर उस पर बै
16 दिसम्बर 2019
01 दिसम्बर 2019
2 से 8 दिसम्बर 2019 तक का साप्ताहिक राशिफलनीचे दिया राशिफल चन्द्रमा की राशि परआधारित है और आवश्यक नहीं कि हर किसी के लिए सही ही हो – क्योंकि लगभग सवा दो दिनचन्द्रमा एक राशि में रहता है और उस सवा दो दिनों की अवधि में न जाने कितने लोगोंका जन्म होता है | साथ ही ये फलकथन केवलग्रहों के तात्कालिक गोचर पर
01 दिसम्बर 2019
22 दिसम्बर 2019
23 से 29 दिसम्बर2019 तक का साप्ताहिकराशिफलनीचे दिया राशिफल चन्द्रमा की राशि परआधारित है और आवश्यक नहीं कि हर किसी के लिए सही ही हो – क्योंकि लगभग सवा दो दिनचन्द्रमा एक राशि में रहता है और उस सवा दो दिनों की अवधि में न जाने कितने लोगोंका जन्म होता है | साथ ही ये फलकथन केवलग्रहों के तात्कालिक गोचर पर
22 दिसम्बर 2019
15 दिसम्बर 2019
16 से 22 दिसम्बर2019 तक का साप्ताहिकराशिफलनीचे दिया राशिफल चन्द्रमा की राशि परआधारित है और आवश्यक नहीं कि हर किसी के लिए सही ही हो – क्योंकि लगभग सवा दो दिनचन्द्रमा एक राशि में रहता है और उस सवा दो दिनों की अवधि में न जाने कितने लोगोंका जन्म होता है | साथ ही ये फलकथन केवलग्रहों के तात्कालिक गोचर पर
15 दिसम्बर 2019
29 नवम्बर 2019
ध्यान में बैठने के लिए आसन (Posture) :बहुत सारे आसनहैं जिनमें आपकी रीढ़ सीढ़ी रहती है और आप आराम से सुविधाजनक स्थिति में अपनी टाँगोंको किसी प्रकार से तोड़े मरोड़े बिना बैठे रह सकते हैं | वास्तव में ध्यान में हाथोंअथवा पैरों पर ध्यान देने की अपेक्षा इस बात पर ध्यान देना चाहिए कि आपकी रीढ़ सीधीहो | इस क्रम
29 नवम्बर 2019
28 नवम्बर 2019
मुझे पता है तुमने मुझे देख लिया था पर फोन कीस्क्रीन पर आंख जमाये शो ऐसे किया जैसे मै कमरे में हूँ ही नही । फिर खिड़की की तरफदेखते हुए फोन कान पर लगा कर तुमने बात करनी शुरू कर दी ऐसा दिखा कर जैसे कोई बहुतज़रूरी काल है । दरअसल दूसरी तरफ लाइन पर कोई था ही नही बावजूद इसके कि तुमने हैलोहैलो बोलकर बातचीत ऐस
28 नवम्बर 2019
30 नवम्बर 2019
अपने लिए सुविधाजनक आसन का चयन :टाँगों मेंलचीलेपन के अभाव में सम्भव है कुछ प्रारम्भिक साधकों को सिद्धासन आरम्भ में सुविधाजनकन लगे | आप टाँगों को आर पार मोड़कर ऐसा कोई भी आसन बना सकते हैं जिससे आपके शरीरको इधर उधर झूले बिना, हिले डुले बिना स्थिर होकर बैठने में सहायता मिले, अथवा जैसा कि पहले बताया गया –
30 नवम्बर 2019
16 दिसम्बर 2019
ध्यान के आसन को और अधिक सुविधाजनक बनाने के कुछ सुझाव :अभी तक हम ध्यानके लिए उपयुक्त आसनों के विषय में चर्चा कर चुके हैं | अब आगे, एक अनुकूल आसन का चयनतो हमने कर लिया, लेकिन यदि उसे और अधिक सुविधाजनक बनाना होतो उसके लिए क्या करना चाहिए...यदि आप तह कियेहुए कम्बल को ज़मीन पर गद्दे की भाँति रखकर उस पर बै
16 दिसम्बर 2019
14 दिसम्बर 2019
सूर्य का धनु राशि में गोचर सोमवार 16 दिसम्बर यानी पौष कृष्ण पञ्चमी को कौलव करण औरवैधृति योग में दिन में 3:28 के लगभग पर सूर्य का संक्रमणधनु राशि में और मूल नक्षत्र पर हो जाएगा | धनु राशि में भ्रमण करते हुए भगवानभास्कर 29 दिसम्बर को पूर्वाषाढ़ और ग्यारह जनवरी कोउत्तराषाढ़ नक्षत्र पर विचरण करते हुए अन्त
14 दिसम्बर 2019
27 नवम्बर 2019
ध्यान के आसन (Posture)ध्यान एक ऐसीसरल प्रक्रिया है कि जिसका आनन्द हर कोई ले सकता है | जैसा कि पहले भी बता चुकेहैं – ध्यान के लिए शान्तचित्त होकर सुविधाजनक, आरामदायक और स्थिर आसन में बैठजाएँ | शरीर को स्थिर करें, श्वास प्रक्रिया को स्थिर और लयबद्ध करें, और मन कोस्थिर तथा केन्द्रित करें | ध्यान की इन
27 नवम्बर 2019
30 नवम्बर 2019
अपने लिए सुविधाजनक आसन का चयन :टाँगों मेंलचीलेपन के अभाव में सम्भव है कुछ प्रारम्भिक साधकों को सिद्धासन आरम्भ में सुविधाजनकन लगे | आप टाँगों को आर पार मोड़कर ऐसा कोई भी आसन बना सकते हैं जिससे आपके शरीरको इधर उधर झूले बिना, हिले डुले बिना स्थिर होकर बैठने में सहायता मिले, अथवा जैसा कि पहले बताया गया –
30 नवम्बर 2019
25 नवम्बर 2019
ध्यान के अभ्यास के लिए भोजन किसप्रकार का तथा किस प्रकार किया जाना चाहिए इसी क्रम में आगे...निश्चित रूप से जितने भी प्रकार काभोजन आप करते हैं उस सबका अलग अलग प्रभाव आपके शरीर पर होता है | हल्का और ताज़ाभोजन जिसमें सब्ज़ियाँ, फल और अनाज का मिश्रणहो वह सुपाच्य होता है | जबकि भारी और अच्छी तरह से तला भुना
25 नवम्बर 2019
28 नवम्बर 2019
ध्यान में बैठने के लिए आसन (Posture) :बहुत सारे आसनहैं जिनमें आपकी रीढ़ सीढ़ी रहती है और आप आराम से सुविधाजनक स्थिति में अपनी टाँगोंको किसी प्रकार से तोड़े मरोड़े बिना बैठे रह सकते हैं | वास्तव में ध्यान में हाथोंअथवा पैरों पर ध्यान देने की अपेक्षा इस बात पर ध्यान देना चाहिए कि आपकी रीढ़ सीधीहो | और इस आ
28 नवम्बर 2019
28 नवम्बर 2019
भारतीय संस्कृति में जन मानस में धार्मिक आस्थाभारत में उत्तर से दक्षिण तक और पूरबसे पश्चिम तक अनगिनत जातियाँ हैं | उन सबके अपने अपने कार्य व्यवहार हैं, रीतिरिवाज़ हैं, जीवन यापन की अनेकों शैलियाँ हैं, अनेकों पूजा विधियाँ हैं, उपासना केपंथ हैं और अनेकों प्रकार के कर्म विस्तार हैं, तथापि उनका धर्म एक ही
28 नवम्बर 2019
27 नवम्बर 2019
डॉ दिनेश शर्मा की हलके फुल्के अंदाज़ में गम्भीर बात...जाओ ! जाकर गोलगप्पे खा आओ !!डॉ दिनेश शर्मादेखो मेरी बात सुनो ! कब तक कुढोगे उन बातों कीसोच कर जो कुछ हफ्तों या महीनों या फिर सालों पहले हो चुकी है ? ठीक है ! माना तुम्हे बहुत सदमा लगा ! माना तुम्हारा बहुत अपमान हुआ औरतुम हफ्तों या महीनों
27 नवम्बर 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x