मनोरंजन के नाम पर अश्लीलता क्यों :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

11 दिसम्बर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (463 बार पढ़ा जा चुका है)

मनोरंजन के नाम पर अश्लीलता क्यों :----  आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस धराधाम पर मनुष्य कर्मशील प्राणी है निरंतर कर्म करते रहना उसका स्वभाव है | मनुष्य शारीरिक श्रम के साथ-साथ मानसिक श्रम भी करता है जिससे उसे शारीरिक थकान के साथ-साथ मानसिक थकान का भी आभास होता है | इस थकान को दूर करने का सबसे सशक्त साधन कुछ देर के लिए मन को मनोरंजन में लगाना माना गया है | पूर्वकाल में भारतीय समाज में मनोरंजन के कई साधन स्थापित थे जिसके माध्यम से मनुष्य मनोरंजन तो करता ही था साथ ही उससे जीवन जीने के लिए कुछ शिक्षा भी प्राप्त होती थी | अधिकतर लोग ऐसी दशा में सत्संग कथाओं का आश्रय लिया करते थे इसके अतिरिक्त भारतीय समाज में सामूहिक समयानुकूल सांस्कृतिक कार्यक्रम आदि का आयोजन करके शिक्षापरक मनोरंजन होता था जिससे आने वाली युवा पीढ़ी को एक दिशा एवं दशा प्राप्त होती थी | कुछ लोग यह भी कहते हैं कि पूर्वकाल में संसाधनों के अभाव में मनुष्य यह सब किया करता था परंतु यह भी सत्य है कि पूर्वकाल में किया गया मनोरंजन मनुष्य के जीवन को उज्ज्वल करने वाला होता था | धीरे-धीरे मनुष्य ने जैसे-जैसे विकास किया वैसे - वैसे उसके मनोरंजन के साधनों में भी परिवर्तन होता गया | सांस्कृतिक कार्यक्रमों का स्थान भारतीय दूरदर्शन ने ले लिया | दूरदर्शन पर दिखाए जाने वाले कार्यक्रम भी शिक्षा परक एवं ज्ञानवर्धक होते थे इनमें तनिक भी फूहड़ता एवं अश्लीलता नहीं होती थी | पूरे परिवार के साथ बैठ करके मनुष्य बड़े प्रेम से दूरदर्शन के कार्यक्रम को देखा करता था एवं युवा पीढ़ी ज्यादा नहीं तो कुछ शिक्षा अवश्य ग्रहण करती थी | परंतु अब समय बिल्कुल परिवर्तित हो गया है |*


*आज घर घर में टीवी एवं फिल्मों के बढ़ते प्रभाव से सभी परिचित हैं , सिनेमा जगत को किसी भी देश का आईना कहा जाता है | पूर्वकाल में भारतीय सिनेमा ने विश्व में अपना एक अलग स्थान बनाया था , उसका मुख्य कारण यह था कि फिल्म निर्माता मनोरंजन के साथ-साथ एक अच्छे उद्देश्य एवं समाज को दिशा देने वाले विषयों का चयन करके फिल्म का निर्माण करते थे , जिसका समाज पर सकारात्मक प्रभाव भी पड़ता था , परंतु आज जिस प्रकार की सामग्रियाँ परोसी जा रही है उसने मर्यादा के सारे बंधन को तोड़ दिया है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" उन लोगों से पूछना चाहता हूं जो इसे अभिव्यक्ति की आजादी का नाम देते हैं कि क्या अश्लीलता एवं फूहड़ता के बिना फिल्में नहीं चल सकती हैं ?? कुछ लोग यह भी कहते कि आज के लोग यही देखना पसंद करते हैं तो मैं उनसे यही कहना चाहता हूं कि दर्शक तो वही देखेगा जो आप दिखाएंगे | यदि अश्लीलता एवं फूहड़ता न दिखाई जाय तो धीरे-धीरे दर्शकों की मानसिकता भी परिवर्तित हो सकती है , परंतु सस्ती लोकप्रियता एवं धन कमाने के चक्कर में आज के फिल्म निर्माता एवं टीवी चैनल घर-घर में अश्लीलता परोस रहे हैं | हत्या , लूट , डकैती एवं मारधाड़ से भरपूर फिल्में दिखाई जा रही है | ऐसा करके यह लोग देश को बुराइयों की खाई में धकेल रहे हैं | कभी-कभी मन में यह विचार उठता है कि क्या आज हमारे देश के फिल्मकारों एवं टीवी के शो निर्माताओं के पास अश्लीलता भरे शब्दों से सजे गीत एवं अश्लील दृश्य ही मनुष्य को इन कार्यक्रमों की और आकर्षित करने का विषय बचा है ?? आज हमारे देश का यह हाल है तो इसका एक प्रमुख कारण इस प्रकार की फिल्में भी कही जा सकती हैं | आज पूरे देश में बच्चे , युवा एवं सम्माननीय ग्रहणी भी इनके मकड़जाल में जकड़ी हुई दिखाई पड़ रही है | मनुष्य जिस प्रकार के कार्यक्रम देखता है उसी प्रकार उसकी मानसिकता भी बन जाती है इसलिए इन पर प्रतिबंध लगाना बहुत आवश्यक है |*


*जो भी अभिव्यक्ति की आजादी के नाम पर इस प्रकार के मनोरंजन के साधनों का निर्माण करके आम जनमानस को बुराई की ओर ढकेल रहे हैं ऐसे लोगों पर सरकार के द्वारा भी सख्त से सख्त कार्यवाही की जानी चाहिए |*

मनोरंजन के नाम पर अश्लीलता क्यों :----  आचार्य अर्जुन तिवारी

अगला लेख: लुप्त होती परम्परायें :---आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
20 दिसम्बर 2019
*आदिकाल से ही संपूर्ण विश्व में विशेषकर हमारे देश भारत में सत्ता प्राप्ति के लिए मनुष्य के द्वारा अनेक प्रकार के क्रियाकलाप किए जाते रहे हैं | कभी तो मनुष्य को उसके सकारात्मक कार्यों एवं आम जनमानस में लोकप्रियता के कारण सत्ता प्राप्त हुई तो कभी मनुष्य सत्ता प्राप्त करने के लिए साम-दाम-दंड-भेद आदि क
20 दिसम्बर 2019
19 दिसम्बर 2019
*मानव जीवन में अनेकों प्रकार के क्रियाकलाप मनुष्य द्वारा किए जाते हैं | संपूर्ण जीवन काल में मनुष्य भय एवं भ्रम से भी दो-चार होता रहता है | मानव जीवन की सार्थकता तभी है जब वह किसी भी भ्रम में पड़ने से बचा रहे | भ्रम मनुष्य को किंकर्तव्यविमूढ़ करके सोचने - समझने की शक्ति का हरण कर लेता है | भ्रम में
19 दिसम्बर 2019
28 नवम्बर 2019
*ईश्वर द्वारा बनाई गयी सृष्टि बहुत ही देदीप्यमान एवं सुंदर है | मनुष्य के जन्म के पहले ही उसे सारी सुख - सुविधायें प्राप्त रहती हैं | जन्म लेने के बाद मनुष्य परिवार में प्रगति एवं विकास करते हुए पारिवारिक संस्कृति को स्वयं में समाहित करने लगता है | मनुष्य का जीवन ऐसा है कि एक क्षण भी कर्म किये बिना
28 नवम्बर 2019
09 दिसम्बर 2019
*इस संपूर्ण विश्व में प्रारंभ से ही भारत देश अपने क्रियाकलापों एवं दूरदर्शिता के लिए जाना जाता रहा है | विश्व के समस्त देशों की अपेक्षा भारत की सभ्यता , संस्कृति एवं आपसी सामंजस्य एक अनुपम उदाहरण प्रस्तुत करता रहा है | यहां पूर्व काल में एक दूसरे के सहयोग से दुष्कर से दुष्कर कार्य मनुष्य करता रहा है
09 दिसम्बर 2019
17 दिसम्बर 2019
*किसी भी देश का निर्माण समाज से होता है और समाज की प्रथम इकाई परिवार है | परिवार में आपसी सामंजस्य कैसा है ? यह निर्भर करता है कि हमारा समाज कैसा बनेगा | परिवार में प्राप्त संस्कारों के माध्यम से ही मनुष्य समाज में क्रियाकलाप करता है | हम इस भारत देश में पुनः रामराज्य की स्थापना की कल्पना किया करते
17 दिसम्बर 2019
17 दिसम्बर 2019
*आदिकाल से मनुष्य में सद्गुण एवं दुर्गुण साथ - साथ उत्पन्न् हुए इस धराधाम पर अनेकों सदुगुणों को जहाँ मनुष्य ने स्वयं में आत्मसात किया है वहीं दुर्गुणों से भी उसका गहरा सम्बन्ध रहा है | मनुष्य में सद्गुण एवं दुर्गुण उसके पारिवारिक परिवेश एवं संस्कारों के अनुसार ही प्रकट होते रहे हैं | सम्मान , सदाचार
17 दिसम्बर 2019
21 दिसम्बर 2019
*इस धरती पर मानव समाज में वैसे तो अनेकों प्रकार के मनुष्य होते हैं परंतु इन सभी को यदि सूक्ष्मता से देखा जाय तो प्रमुखता दो प्रकार के व्यक्ति पाए जाते हैं | एक तो वह होते हैं जो समाज की चिंता करते हुए समाज को विकासशील बनाने के लिए निरंतर प्रगतिशील रहते हैं जिन्हें सभ्य समाज का प्राणी कहा जाता है ,
21 दिसम्बर 2019
19 दिसम्बर 2019
*किसी भी देश का भविष्य युवाओं को कहा जाता है | युवा शक्ति राष्ट्र शक्ति के रूप में जानी जाती है | भारत के संपूर्ण जनसंख्या का एक चौथाई हिस्सा आज युवा वर्ग है | छात्रों को राष्ट्र का भविष्य एवं भाग्यविधाता कहा जाता है छात्र समाज में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं | विद्यालय में रहकर सामाजिकता , नैति
19 दिसम्बर 2019
02 दिसम्बर 2019
*हमारे देश की संस्कृति इतनी महान रही है कि समस्त विश्व ने हमारी संस्कृति को आत्मसात किया | सनातन ने सदैव नारी को शक्ति के रूप में प्रतिपादित / स्थापित करते हुए सम्माननीय एवं पूज्यनीय माना है | इस मान्यता के विपरीत जाकर जिसने भी नारियों के सम्मान के विपरीत जाकर उनसे व्यवहार करने का प्रयास किया है उसक
02 दिसम्बर 2019
29 नवम्बर 2019
क्
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedC
29 नवम्बर 2019
18 दिसम्बर 2019
*किसी भी राष्ट्र के निर्माण में वहां के समाज का बहुत बड़ा योगदान होता है | आदिकाल से हमारे देश भारत की सांस्कृतिक और सामाजिक इकाई का एक वृहद ढांचा राष्ट्र के संस्कार और सचेतक समाज की है | अन्य देशों की अपेक्षा हमारे देश के धर्मग्रंथ और उपनिषद मनुष्य को जीवन जीने की कल
18 दिसम्बर 2019
09 दिसम्बर 2019
*इस संपूर्ण विश्व में प्रारंभ से ही भारत देश अपने क्रियाकलापों एवं दूरदर्शिता के लिए जाना जाता रहा है | विश्व के समस्त देशों की अपेक्षा भारत की सभ्यता , संस्कृति एवं आपसी सामंजस्य एक अनुपम उदाहरण प्रस्तुत करता रहा है | यहां पूर्व काल में एक दूसरे के सहयोग से दुष्कर से दुष्कर कार्य मनुष्य करता रहा है
09 दिसम्बर 2019
12 दिसम्बर 2019
*परमात्मा ने सुंदर सृष्टि की रचना की तो मनुष्य ने इसे संवारने का कार्य किया | सृजन एवं विनाश मनुष्य के ही हाथों में है | हमारे पूर्वजों ने इस धरती को स्वर्ग बनाने के लिए अनेकों उपक्रम किए और हमको एक सुंदर वातावरण तैयार करके सुखद जीवन जीने की कला सिखाई थी | मनुष्य ने अपने बुद्धि विवेक से मानव जीवन मे
12 दिसम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x