सुलगता भारत :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

12 दिसम्बर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (418 बार पढ़ा जा चुका है)

सुलगता भारत :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*परमात्मा ने सुंदर सृष्टि की रचना की तो मनुष्य ने इसे संवारने का कार्य किया | सृजन एवं विनाश मनुष्य के ही हाथों में है | हमारे पूर्वजों ने इस धरती को स्वर्ग बनाने के लिए अनेकों उपक्रम किए और हमको एक सुंदर वातावरण तैयार करके सुखद जीवन जीने की कला सिखाई थी | मनुष्य ने अपने बुद्धि विवेक से मानव जीवन में उपयोगी अनेक संसाधनों का आविष्कार किया जिसका उपयोग हम आज तक कर रहे हैं | सकारात्मक एवं नकारात्मक शक्तियां एक साथ इस धरा धाम पर उत्पन्न होती हैं , एक तरफ जहां सकारात्मक प्रवृत्तियों के लोग सृष्टि के सृजन में सहयोगी की भूमिका निभाते आए हैं वही नकारात्मक लोग इसका विनाश करते रहे हैं और विनाश करने वालों का क्या हाल हुआ है यह भी इतिहास बताता रहा है , परंतु इतिहास से सबक न लेना मनुष्य की आदत सी बन गई है | पूर्वकाल में जहां मनुष्य मानव धर्म का पालन करते हुए एक दूसरे के प्रति संवेदना , प्रेम एवं सहयोग की भावना रखता था जिसके कारण मानव मात्र का कल्याण होता रहता था | लोग पढ़े - लिखे तो कम होते थे परंतु उनको इतना ज्ञान अवश्य होता था कि क्या करना उचित है या अनुचित | हमारे पूर्वजों के इसी ज्ञान एवं सृजन तथा मानव मात्र के कल्याण के लिए किए गए कार्यों के कारण भारत विश्व गुरु कहां जाता था | परंतु धीरे-धीरे देश का विकास हुआ और लोगों ने शिक्षा ग्रहण करना प्रारंभ किया | इस आधुनिक शिक्षा ने जहां लोगों को उन्नतशील तो बनाया वही दूसरी ओर कुछ लोग ऐसे भी हैं जिन्होंने इस शिक्षा का दुरुपयोग करना प्रारंभ किया और मनुष्य अनेकों जातियों एवं धर्मों में विभाजित हो गया और भारत में जाति धर्म के नाम पर विनाश लीला प्रारंभ हो गई | मनुष्य ने मनुष्य को पहचानना बंद कर दिया | मनुष्य की पहचान जाति एवं धर्म के माध्यम से ही होने लगी | एक दूसरे का कत्लेआम आज मनुष्य ही कर रहा है | परमात्मा की सृष्टि में सहयोगी की भूमिका निभाने वाला मनुष्य आज विनाशक की भूमिका में दिखाई देने लगा है |*


*आज हमारे देश भारत में किसी भी विषय को लेकर के लोगों का समूह सड़कों पर निकलता है और उसे आंदोलन का नाम दे कर के आगजनी हिंसा एवं अनेक कई कार्य कैसे किए जाते हैं जो मानवोचित नहीं कहे जा सकते | लोगों का यह तर्क होता है कि ऐसे कार्य करके हुए अपनी बात सत्ता में बैठे लोगों तक पहुंचाना चाहते हैं | आज चारों ओर भारत जल रहा है और इसे जलाने वाले कुछ नकारात्मक प्रवृत्ति के लोग ही हैं | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" ऐसे सभी लोगों से यह जानने का इच्छुक हूं कि जब वे सृजन में भागीदारी नहीं कर सकते तो विनाश करने का अधिकार उन्हें किसने दिया है ?? जाति एवं धर्म के नाम पर हिंसा फैलाने वाले लोगों एवं कुछ नकारात्मक मानसिकता के राजनेताओं के चलते आज सुलगता हुआ भारत हमको देखने को मिल रहा है | किसी भी राष्ट्र का भविष्य छात्रों को कहा गया है परंतु आज का छात्र अपनी शिक्षा को छोड़कर के सड़कों पर आंदोलन करता हुआ दिखाई पड़ रहा है | विचार कीजिए की आगजनी एवं हिंसा करने वाले छात्र देश का भविष्य कैसे हो सकते हैं ?? कुछ लोगों के बरगलाने मात्र से आज देश का भविष्य जो आने वाले समय में देश के सृजन में सहयोग करने वाला था आज वह विनाश करने पर उतारू दिखाई पड़ रहा है | समय रहते हुए यदि जागृति नहीं हुई तो आने वाला समय और भी दुष्कर हो सकता है | अभिव्यक्ति की आजादी के नाम पर जो तांडव आज किया जा रहा है उस पर लगाम लगाने की आवश्यकता है नहीं तो शांत एवं सौम्य हमारा देश भारत इसकी आग में धू-धू करके जल उठेगा | बुद्धिजीवी मनुष्य की बुद्धि आज कुछ लोगों ने कुंठित कर रखी है | ऐसे लोगों को पहचान करके उनके मंतव्यों को समझना होगा तथा विनाश की अपेक्षा विकास में सहयोग करके मनुष्यता की स्थापना की मानसिकता बनानी होगी | आंदोलन करना गलत नहीं है अपनी बात सरकार तक पहुंचाने का शांतिप्रिय मार्ग भी हमारे महापुरुषों ने अपनाया है परंतु आज हिंसात्मक कार्य करके मनुष्य अपनी बात कहने की विधा बना रहा है जो कि आने वाले भविष्य के लिए बहुत ही घातक है |*


*आज जहां देखो वहां भारत जल रहा है | भारत स्वतंत्र अवश्य है परंतु कितनी स्वतंत्रता कहां तक उचित है ? यह विचार करने का विषय है ! और देश के उच्च पदों पर बैठे हुए महानुभावों को इस पर विचार अवश्य करना चाहिए |*

सुलगता भारत :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

अगला लेख: लुप्त होती परम्परायें :---आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
21 दिसम्बर 2019
*इस धरती पर मानव समाज में वैसे तो अनेकों प्रकार के मनुष्य होते हैं परंतु इन सभी को यदि सूक्ष्मता से देखा जाय तो प्रमुखता दो प्रकार के व्यक्ति पाए जाते हैं | एक तो वह होते हैं जो समाज की चिंता करते हुए समाज को विकासशील बनाने के लिए निरंतर प्रगतिशील रहते हैं जिन्हें सभ्य समाज का प्राणी कहा जाता है ,
21 दिसम्बर 2019
30 नवम्बर 2019
*इस धराधाम पर परमात्मा ने अनेकों प्रकार के पशु-पक्षियों , जीव - जंतुओं का सृजन किया साथ ही मनुष्य को बनाया | मनुष्य को परमात्मा का युवराज कहा जाता है | इस धराधाम पर सभी प्रकार के जीव एक साथ निवास करते हैं , जिसमें से सर्वाधिक निकटता मनुष्य एवं पशुओं की आदिकाल से ही रही है | जीवमात्र के ऊपर संगत का प
30 नवम्बर 2019
18 दिसम्बर 2019
*किसी भी राष्ट्र के निर्माण में वहां के समाज का बहुत बड़ा योगदान होता है | आदिकाल से हमारे देश भारत की सांस्कृतिक और सामाजिक इकाई का एक वृहद ढांचा राष्ट्र के संस्कार और सचेतक समाज की है | अन्य देशों की अपेक्षा हमारे देश के धर्मग्रंथ और उपनिषद मनुष्य को जीवन जीने की कल
18 दिसम्बर 2019
28 नवम्बर 2019
*ईश्वर द्वारा बनाई गयी सृष्टि बहुत ही देदीप्यमान एवं सुंदर है | मनुष्य के जन्म के पहले ही उसे सारी सुख - सुविधायें प्राप्त रहती हैं | जन्म लेने के बाद मनुष्य परिवार में प्रगति एवं विकास करते हुए पारिवारिक संस्कृति को स्वयं में समाहित करने लगता है | मनुष्य का जीवन ऐसा है कि एक क्षण भी कर्म किये बिना
28 नवम्बर 2019
09 दिसम्बर 2019
*सनातन धर्म की मान्यता है कि महाराज मनु से मनुष्य की उत्पत्ति इस धराधाम पर हुई है इसीलिए उसे मानव या मनुष्य कहा जाता है | मनुष्यों के लिए अनेकों प्रकार के धर्मों का पालन करने का निर्देश भी प्राप्त होता है | प्रत्येक मनुष्य में दया , दान , शील , सौजन्य , धृति , क्षमा आदि गुणों का होना परमावश्यक है इन
09 दिसम्बर 2019
28 नवम्बर 2019
*इस समस्त सृष्टि में हमारा देश भारत अपने गौरवशाली संस्कृति एवं सभ्यता के लिए संपूर्ण विश्व में जाना जाता था | अनेक ऋषि - महर्षियों ने इसी पुण्य भूमि भारत में जन्म लेकर के मानव मात्र के कल्याण के लिए अनेकों प्रकार की मान्यताओं एवं परंपराओं का सृजन किया | संस्कृति एवं सभ्यता का प्रसार हमारे देश भारत स
28 नवम्बर 2019
02 दिसम्बर 2019
*हमारे देश की संस्कृति इतनी महान रही है कि समस्त विश्व ने हमारी संस्कृति को आत्मसात किया | सनातन ने सदैव नारी को शक्ति के रूप में प्रतिपादित / स्थापित करते हुए सम्माननीय एवं पूज्यनीय माना है | इस मान्यता के विपरीत जाकर जिसने भी नारियों के सम्मान के विपरीत जाकर उनसे व्यवहार करने का प्रयास किया है उसक
02 दिसम्बर 2019
17 दिसम्बर 2019
*आदिकाल से मनुष्य में सद्गुण एवं दुर्गुण साथ - साथ उत्पन्न् हुए इस धराधाम पर अनेकों सदुगुणों को जहाँ मनुष्य ने स्वयं में आत्मसात किया है वहीं दुर्गुणों से भी उसका गहरा सम्बन्ध रहा है | मनुष्य में सद्गुण एवं दुर्गुण उसके पारिवारिक परिवेश एवं संस्कारों के अनुसार ही प्रकट होते रहे हैं | सम्मान , सदाचार
17 दिसम्बर 2019
02 दिसम्बर 2019
*हमारे देश की संस्कृति इतनी महान रही है कि समस्त विश्व ने हमारी संस्कृति को आत्मसात किया | सनातन ने सदैव नारी को शक्ति के रूप में प्रतिपादित / स्थापित करते हुए सम्माननीय एवं पूज्यनीय माना है | इस मान्यता के विपरीत जाकर जिसने भी नारियों के सम्मान के विपरीत जाकर उनसे व्यवहार करने का प्रयास किया है उसक
02 दिसम्बर 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x