सत्यनारायण व्रत कथा :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

12 दिसम्बर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (410 बार पढ़ा जा चुका है)

सत्यनारायण व्रत कथा :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सृष्टि के आदिकाल से ही इस धरा धाम पर मनुष्य विचरण कर रहा है | मनुष्य ने अपने जीवन को सुचारू ढंग से चलाने के लिए जहां अनेकों प्रकार के संसाधन बनाएं वही समय-समय पर वह ईश्वर का भी आश्रय लेता रहा है इसके लिए मनुष्य ने वैदिक कर्मकांड एवम पूजा पाठ का सहारा लिया | सतयुग से लेकर के त्रेता , द्वापर तक ईश्वर को प्रसन्न करने के लिए अनेक विधान बताए गए और इन विधानों को पूर्ण भक्ति - श्रद्धा के साथ करके मनुष्य ने अपना अभीष्ट भी प्राप्त किया | छोटे से बालक प्रहलाद को उसकी पूर्ण भक्ति पर भगवान खंभे से प्रकट होकर दर्शन देते हैं | पाँच साल के बालक ध्रुव को उसकी अटूट श्रद्धा एवं विश्वास पर परमपिता परमात्मा को आकर दर्शन देना पड़ता है | यहां विचारणीय यह है कि बालक ध्रुव एवं बालक प्रहलाद के पास भगवान को मनाने के लिए ना तो कोई विधान था और ना ही पूजन सामग्री उनके पास थी तो मात्र भगवान के प्रति विश्वास की भावना एवं हृदय में उत्पन्न पूर्ण श्रद्धा , इसी को आधार बनाकर ध्रुव एवं प्रहलाद जैसे बालकों ने ईश्वर को प्राप्त किया | और भी अनेक कथानक इतिहास एवं पुराणों में पढ़ने को मिलते हैं जहां मनुष्य ने श्रद्धा एवं विश्वास के ऊपर तथा पूर्ण भक्ति भाव की भावना से ईश्वर को प्राप्त किया है | कलियुग में भगवान की कृपा को प्राप्त करने का सरल साधन सत्यनारायण व्रत कथा को बताया गया है | सत्यनारायण व्रत कथा के माहात्त्म्य में लिखा हुआ है कि :- "विशेषतः कलियुगे लघूपायो$स्ति भूतले" अर्थात :- कलियुग में विशेष रूप से सबसे छोटा एवं सरल उपाय सत्यनारायण व्रत कथा ही है | इस कथा का एवं व्रत का पालन करके सतानंद ब्राम्हण , लकड़हारा महाराज उल्कामुख , साधु वैश्य एवं तुंगध्वज आदि ने अपने अभीष्ट को प्राप्त किया है | यदि उनको उनका अभीष्ट प्राप्त हुआ तो उसमें पूर्ण समर्पण की भावना एवं विश्वास की भावना प्रबल थी | कहने का तात्पर्य है कि कोई भी पूजा पाठ सामग्री की अपेक्षा पूर्ण भक्ति भाव एवं समर्पण की भावना से ही सफल होता है उसमें भव्यता हो या ना हो |*


*आज कलियुग में भारत देश के पूर्वांचल एवं उत्तरांचल में विशेष रूप से सत्यनारायण व्रत कथा घर घर में कहीं व सुनी जाती है परंतु उसका फल शायद ही लोगों को मिल पाता है | लोग प्रायः शिकायत करते हैं कि हमने भगवान सत्यनारायण स्वामी का पूजन किया , व्रत किया परंतु उसका फल नहीं मिला | ऐसे सभी शिकायतकर्ताओं से मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" पूछना चाहता हूं कि सत्यनारायण व्रत कथा में बताए गए विधान का कितने प्रतिशत उनके द्वारा पालन किया जा रहा है | सत्यनारायण व्रत कथा के माहात्त्म्य में स्पष्ट लिखा हुआ है कि सुबह स्नान ध्यान करके व्रत का संकल्प लिया जाय और दिन भर व्रत रह करके सायंकाल के समय अपने बंधुओं के सहित अपने ब्राह्मण को बुलाकर भगवान सत्यनारायण स्वामी का पूजन किया जाय | प्रसाद का वितरण तत्पश्चात अपने बंधुओं सहित ब्राह्मण को भोजन कराकर दक्षिणा देकर तब विदा करें | सनातन धर्म की मान्यता रही है कि कोई भी व्रत सूर्योदय से लेकर सूर्योदय तक माना जाता है उसी प्रकार सत्यनारायण भगवान का व्रत विधान जिस दिन किया जाय उस दिन रात्रि में निद्रा का त्याग करके रात्रि जागरण करते हुए भगवान का कीर्तन भजन आदि करते रहना चाहिए | दूसरे दिन प्रात:काल सूर्योदय के समय स्नान करके सूर्य को अर्घ्य देकर तब व्रत का पारण किया जाता है | इस विधान को आज मानने वाला एवं पालन करने वाला कोई नहीं दिखाई पड़ता है | पूजन सामग्री में भव्यता तो दिखाई पड़ती है परंतु व्रत के विधान का पालन करना सबको कठिन लगता है तो भला फल कैसे प्राप्त होगा ? पूजन की सामग्री भले ही कम हो परंतु बताए गए विधान के अनुसार यदि कोई भी व्रत कर लिया जाय तो उसका फल अवश्य मिलता है | आज व्यक्ति पूजन करने तो बैठता है परंतु उसका ध्यान पूजन में न लग करके घर के अन्य कार्यों में लगा रहता है और उसके बाद भी मनुष्य फल की अपेक्षा करता है | जो कि संभव नहीं है |*


*जितनी देर के लिए भगवान की पूजा में बैठा जाय उतनी देर के लिए मन को संयमित रखने से ही पूजन का फल प्राप्त हो सकता है जो कि मनुष्य आज नहीं कर पा रहा है और स्वयं का दोष ना देख कर के दोषी व्रत विधान एवं विद्वान को बताता है |*

अगला लेख: लुप्त होती परम्परायें :---आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
13 दिसम्बर 2019
जो
आसान नहीं है ज़िंदगीजीने का तरीका सीखलाना.आसान नहीं किसी कोसही राह दिखाना.आसान नहीं है खुद को भी बदलना, कुछ ख़्वाहिशोंको छोड़ना, कुछ सुविधाओं को त्यागना.त्याग की अग्नी में तपना औरउम्मीद के दीपक जलाना.धूप, बारिश, और ठंडको सहना.होंठो पर शिकायत कम और समाधाननिकालना.हां सचम
13 दिसम्बर 2019
08 दिसम्बर 2019
मी
भेजा था विष का प्याला अमृत बन गया। भेजा था विषैला सांपफूलों का हार बन गया। तेरी ही करामात है ये मोहनकि कलियुग में भी जी रही हूं। बिना डरे तेरी भक्ति के गीतगा रही हूं। शिल्पा रोंघे
08 दिसम्बर 2019
28 नवम्बर 2019
*ईश्वर द्वारा बनाई गयी सृष्टि बहुत ही देदीप्यमान एवं सुंदर है | मनुष्य के जन्म के पहले ही उसे सारी सुख - सुविधायें प्राप्त रहती हैं | जन्म लेने के बाद मनुष्य परिवार में प्रगति एवं विकास करते हुए पारिवारिक संस्कृति को स्वयं में समाहित करने लगता है | मनुष्य का जीवन ऐसा है कि एक क्षण भी कर्म किये बिना
28 नवम्बर 2019
28 नवम्बर 2019
*इस समस्त सृष्टि में हमारा देश भारत अपने गौरवशाली संस्कृति एवं सभ्यता के लिए संपूर्ण विश्व में जाना जाता था | अनेक ऋषि - महर्षियों ने इसी पुण्य भूमि भारत में जन्म लेकर के मानव मात्र के कल्याण के लिए अनेकों प्रकार की मान्यताओं एवं परंपराओं का सृजन किया | संस्कृति एवं सभ्यता का प्रसार हमारे देश भारत स
28 नवम्बर 2019
23 दिसम्बर 2019
*संपूर्ण विश्व में विविधता में एकता यदि कहीं देखने को मिलती है तो वह हमारा देश भारत है जहां विभिन्न धर्म जाति वर्ण के लोग एक साथ रहते हैं | हमारा देश एकमात्र ऐसा देश है जहां भिन्न-भिन्न जातियों के वंशज एक साथ रहते हैं और इन सब की मूल धरोहर है इनकी संस्कृति , सभ्
23 दिसम्बर 2019
20 दिसम्बर 2019
*प्राचीनकाल से ही भारत देश आपसी सौहार्द्र , प्रेम एवं भाईचारे का उदाहरण समस्त विश्व के समक्ष प्रस्तुत करता रहा है | वैदिककाल में मनुष्य आपस में तो सौहार्द्र पूर्वक रहता ही था अपितु इससे भी आगे बढ़कर वैदिककाल के महामानवों ने पशु - पक्षियों के प्रति भी अपना प्रेम प्रकट करके उनसे भी सम्बन्ध स्थापित करन
20 दिसम्बर 2019
18 दिसम्बर 2019
भविष्य की आवाज।जुबा चुप ही सही सत्य बोलताहैं, गरीब ही अमीरी को जानता हैं।लम्हे कितने भी दुख भरे होजीवन की राह मे, चलते रहो मंजिल की तरफ। जिसे मजदूर अपनी जरूरत समझताहैं, अमीर उसे अपना सौक समझता हैं।मोटा दाना खाने वाले को दिमागसे मोटा कहते हैं,चना खाकर घोड़ा दौड़ता हैं।मक
18 दिसम्बर 2019
17 दिसम्बर 2019
*किसी भी देश का निर्माण समाज से होता है और समाज की प्रथम इकाई परिवार है | परिवार में आपसी सामंजस्य कैसा है ? यह निर्भर करता है कि हमारा समाज कैसा बनेगा | परिवार में प्राप्त संस्कारों के माध्यम से ही मनुष्य समाज में क्रियाकलाप करता है | हम इस भारत देश में पुनः रामराज्य की स्थापना की कल्पना किया करते
17 दिसम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x