चाय पकौड़े और मन की बात - दिनेश डॉक्टर

15 दिसम्बर 2019   |  कात्यायनी डॉ पूर्णिमा शर्मा   (424 बार पढ़ा जा चुका है)

डॉ दिनेश शर्मा के दिल की बात मौजूदा राजनीतिक दाँव पेंच पर... ज़रूर पढ़ें... वैसे एक बात बताएँ, कल हमारे पास भी “मुफ्त तीर्थयात्रा – घर से घर से घर तक सब फ्री... अच्छे होटल, ए सी बस, घुमाना फिराना खिला पिलाना सब केजरीवाल सरकार का, यहाँ तक कि हम लोग अपने साथ एक युवा केयर टेकर भी ले जा सकते हैं उसका भी खर्च केजरीवाल सरकार ही उठाएगी” – के लिए केजरीवाल का हस्ताक्षरित पत्र आया है हमारे नाम से आया है, पर इस सबमें पैसा किसका लग रहा है – हमारे आपके टैक्स के पैसे को इस तरह वोटरों को लुभाने के लिए फ्री सेवाएँ देने में लुटाने का हक़ किसी भी सरकार को आख़िर दिया किसने है...?

चाय पकौड़े और मन की बात - दिनेश डॉक्टर

जैसे जैसे बाकी मुल्क की तरह देश की राजधानी दिल्ली में भी इलेक्शन पास आते जा रहे हैं , वैसे वैसे एक के बाद एक मुफ्तखोरों के लिए पिटारे खुलते जा रहे हैं । बिजली फ्री, पानी फ्री, महिलाओं के लिए बस यात्रा फ्री, साठ से ऊपर वालों के लिए तीर्थ यात्रा फ्री, और तो और वाई फाई डेटा भी फ्री । अभी तो इलेक्शन में और तीन चार महीने बाकी हैं तो चुपचाप तेल देखिए और तेल की धार देखिए कि और क्या क्या मुफ्त में मिलने वाला हैं । मेरे आपके टैक्स के पैसों से, जीएसटी के जज़िया से मुफ्तखोर माल-ए-मुफ्त दिल-ए-बेरहम तरुन्नम में गाते हुए ऐश कर रहे हैं । बीएमडब्लू कारों के वे मालिक जिनके पास पचास साठ हज़ार की रिश्वत के एवज में बने बीपीएल यानि बिलो पॉवर्टी लाइन वाले कार्ड है, उनके तो और भी मज़े ही मज़े हैं । एयर कंडिशन्ड रेलों से मुफ्त में तीर्थ यात्रा कर अपने सारे पाप धोने का इससे अच्छा मौका कब मिलता ।

दरअसल जिन अच्छे दिनों का वायदा बीजेपी ने किया था - पीने के गंदे पानी, कूड़े के पर्वतों और रोमांटिक धुंध का अहसास कराती दमघोंटू प्रदूषण परतों के बीच लाया तो केजरीवाल ही है । और देखो बड़े हक़ से चारों तरफ चुनौती देते पोस्टर भी दांये बाएं ऊपर नीचे चिपका दिए है कि जिसने जो उखाड़ना है उखाड़ लो - "दिल्ली में तो केजरीवाल" । कांग्रेसी और भाजपाई पंगत में बैठ भी नही पाए थे कि केजरीवाल पत्तल दोने उठा कर भाग गया । दोनों एक दूसरे का मुंह ताक रहे है पर कर कुछ भी नही पा रहे ।

चालीस और पचास और उनके बाद के दशकों में पैदा हुए लोग होश संभालने के बाद से देश में राजनीति और इसके खिलाड़ियों का ऐसा पतन देख कर रोज़ बस चुपचाप दुःखी हो लेते हैं । चुपचाप इसलिए कि जैसे ही कुछ बोलते हैं तो फौरन यार दोस्त और परिचित कोई न कोई लेबल चिपका देते हैं ; अच्छा तो आप कम्युनिस्ट है - या फिर आप तो इटली वाले कांग्रेसी है या फिर और कुछ नही तो मोदी भक्त का लेबल तो सबकी ऊपर वाली जेब में है ही ।

असल बात ये है कि जिस विचारधारा के साथ उनकी सहानुभूति है या फिर खिलाफत है - उसी के हिसाब से उनके रिएक्शन भी तय होते है । जैसे लेपटॉप बांटना कभी रिश्वत के रूप में देखा जा सकता है तो कभी युवाओं के सशक्तिकरण के रूप में । इसी तरह इलेक्शन से पहले धोती, चावल, साड़ियां, प्रेशर कुकर वगैरा बाँटना भी ऐसे ही परिभाषित होता है । कब कौन सा निर्णय सेक्युलर हो जाए या कम्यूनल यह भी डिपेंड करता है कि कौन सी पार्टी और किसके लिए कर रही है । संजीदा लोगों की कोफ्त की सबसे बड़ी वजह यह है कि वे अक्सर अच्छे खासे पढ़े लिखे और बुद्धिजीवियों को विचारधाराओं के चश्मे अलग अलग जगहों पर अवचेतन में पड़ी धार्मिक आस्थाओं के हिसाब से बदलते देखते हैं ।

दरअसल दोष उनका भी नही, बदलती उन फ़िज़ाओं का है जिनमे खौफ की आहट है। केजरीवाल हकीकत में परिष्कृत रूप में वही कर रहा है जो देश के अलग अलग राजनीतिक दल पिछले बहत्तर बरसों में क्रूड रूप में पूरे देश में करते आये हैं । फ़र्क़ सिर्फ इतना है कि पहले दारू की थैलियां, बिरयानी की देगें, हलवे पूरी और नगदी बंटती थी अब बिजली, पानी, बसों की टिकटें और तीर्थयात्रा का पुण्य बंट रहा है । क्योंकि केजरीवाल पुराने सियासी मगरमच्छों की तरह गंवार अनपढ़ नही बल्कि उच्च शिक्षा प्राप्त राजस्व अधिकारी है तो उसे अलग अलग तरह के तुष्टिकरण के समीकरण बैठाने दूसरोँ से इक्कीस ही आते हैं ।

कांग्रसियों के खिलाफ एक तरह का बुद्धिजीवी वर्ग खुश और चुप है और उन्हें केजरीवाल की इन नीतियों में कोई दोष नज़र नही आ रहा । उनकी संतुष्टि इसी में है कि इस इलेक्शन में कांग्रेस की ऐसी की तैसी हो जाएगी । बीजेपी के खिलाफ दूसरी तरह के बुद्धिजीवी प्लस अल्पसंख्यक वर्ग को भी केजरीवाल की मुफ्तखोरी की चालबाजियों से कोई आपत्ति नही है । वो भी खुश है कि राजधानी में मोदी को दिन रात उंगली करने वाला एक बन्दा तो है । रही आपकी मेरी यानि आम जनता की बात । मैं तो लेबल चिपकने के डर से वैसे ही चुप रहता हूँ । आप की आप जानों । किसी दिन आ जाओ । गर्म गर्म पकौड़ों के साथ चाय पियेंगे और मन की बात करेंगे । जय राम जी की ।

https://shabd.in/post/111244/-9956229

अगला लेख: २ से ८ दिसम्बर तक का सम्भावित साप्ताहिक राशिफल



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
08 दिसम्बर 2019
9 से 15 दिसम्बर 2019 तक का साप्ताहिक राशिफलनीचे दिया राशिफल चन्द्रमा की राशि परआधारित है और आवश्यक नहीं कि हर किसी के लिए सही ही हो – क्योंकि लगभग सवा दो दिनचन्द्रमा एक राशि में रहता है और उस सवा दो दिनों की अवधि में न जाने कितने लोगोंका जन्म होता है | साथ ही ये फलकथन केवलग्रहों के तात्कालिक गोचर पर
08 दिसम्बर 2019
04 दिसम्बर 2019
भारतीय रेलवे एक के बाद एक योजनाएं अपने यात्रियों के लिए निकालती जा रही है, कुछ दिन पहले ही जनरल डिब्बों पर भी आरक्षित सीटों की खबरों से आम जनता खुश हो गई थी। अब नॉर्थ में रहने वालों को आसानी से साउथ में घूमने को भी मिल जाएगा। भारतीय रेलवे ने एक ऐसी ट्रेन चलाई है जो कटरा से चलकर कई राज्यों को पार करत
04 दिसम्बर 2019
03 दिसम्बर 2019
दुनिया में बहुत सी विचित्र बातें होती हैं जिन्हें सुनने वाले एक बार हैरान रह जाते हैं। फिर चाहे कोई वारदात हो या फिर किसी के साथ उनकी मजबूरी में उनका फायदा उठाया जाना हो। लोगों का मन इस तरह से वो सब करने पर मजबूर हो जाता है जिसके बारे में वो सोचते भी नहीं हो। कुछ ऐसा ही केरल में भी होता है जिसे सुनन
03 दिसम्बर 2019
26 दिसम्बर 2019
हमें अपने “हिन्दुस्तानी”होने पर गर्व होना चाहिए हिन्दी हैं हम, वतन है हिन्दोस्तां हमाराकल 25 दिसम्बर की तारीख थी – हमारे ईसाई भाई बहनों के उल्लासमय पर्व क्रिसमस कापर्व | हमने भी और हमारे साथ साथ और भी बहुत से लोगों ने किसी भी जाति, धर्म, सम्प्रदाय से ऊपर उठकर क्रिसमस की शुभकामनाएँ अपने परिचितों को
26 दिसम्बर 2019
05 दिसम्बर 2019
शादियों का मौसम चल रहा है और ऐसे में सभी को आने वाली दावतों का इंतजार है। मगर इस दावत के आने से पहले शादी का कार्ड घर आता है जिसमें शादी से जुड़ी सभी जानकारियां होती हैं लेकिन एक ऐसा शादी का कार्ड को सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है। इसमें जो कुछ भी लिखा है वो बिल्कुल अलग है और इसे देखकर आपको भी ह
05 दिसम्बर 2019
28 दिसम्बर 2019
प्रदोषव्रत 2020कर्पूगौरं करुणावतारं संसारसारंभुजगेन्द्रहारम् |सदा वसन्तं हृदयारविन्दे भवं भवानी सहितन्नमामि ||कल हमनेवर्ष 2020 में आने वाली एकादशी की लिस्ट पोस्ट की थी | एकादशी के बाद आता है प्रदोषका व्रत | इस वर्ष सबसे पहला प्रदोष व्रत पौष माह के शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी कोबुधवार यानी आठ जनवरी को होग
28 दिसम्बर 2019
14 दिसम्बर 2019
सूर्य का धनु राशि में गोचर सोमवार 16 दिसम्बर यानी पौष कृष्ण पञ्चमी को कौलव करण औरवैधृति योग में दिन में 3:28 के लगभग पर सूर्य का संक्रमणधनु राशि में और मूल नक्षत्र पर हो जाएगा | धनु राशि में भ्रमण करते हुए भगवानभास्कर 29 दिसम्बर को पूर्वाषाढ़ और ग्यारह जनवरी कोउत्तराषाढ़ नक्षत्र पर विचरण करते हुए अन्त
14 दिसम्बर 2019
06 दिसम्बर 2019
दुनिया में अजब-गजब खबरें सामने आती हैं लेकिन प्यार या शादी से जुड़ी खबरों की बात ही अलग होती है। जब हम किसी से प्यार करते हैं और शादी भी उसी से हो जाती है तो हमरा एक सपना पूरा होता है। इसके बाद हमारी हर कोशिश होती है कि शादी के बाद हम अपने पार्टनर को खूब खुश रखा करें। मगर कभी-कभी हम अपने पार्टनर को
06 दिसम्बर 2019
24 दिसम्बर 2019
डॉ दिनेश शर्मा बहुत से सम सामयिक मुद्दों पर अपनी बेबाक राय के लिए जानेजाते हैं | मौजूदा राजनीतिक परिदृश्य पर एक बार फिर से उनकी बेबाक राय... एक बारज़रूर पढ़ें और पसंद आए तो शेयर करें..राजनेता उतने ही सच्चे है जितनी खुद को वर्जिन बताने वाली वेश्याएँ - दिनेशडॉक्टरएक आध प्रतिशतअपवाद को छोड़ दें तो दुनिया
24 दिसम्बर 2019
24 दिसम्बर 2019
बुधका धनु में गोचरवर्ष 2020 का अन्तिम सप्ताह– दो महत्त्वपूर्ण गोचर – मंगल का अपनी राशि वृश्चिक में गोचर और बुध का धनु मेंगोचर जहाँ राश्यधिपति गुरु, शनि, केतु और सूर्यदेव पहले सेविराजमान हैं | यहाँ हम बात कर रहे हैं बुध के गोचर की | जी हाँ, कल पौष अमावस्या यानी पच्चीस दिसम्बर को अपराह्न 3:46 के लगभग
24 दिसम्बर 2019
05 दिसम्बर 2019
भारत में एक से बढ़कर एक अजीबोगरीब घटनाएं होती हैं और ऐसे में खबरें आना बंद नहीं होती हैं। कुछ ऐसा ही हुआ जब पति-पत्नी के बीच जमकर झगड़ा हुआ और पत्नि ने पति के ऊपर थूक दिया। इसका बदला लेने के इरादे से पति ने उसके साथ ऐसा सुलूप किया ये आपको हैरान कर सकता है। मध्य प्रदेश के इंदौर की इस घटना को हर तरफ फ
05 दिसम्बर 2019
26 दिसम्बर 2019
डॉ दिनेश शर्माने आज ग्रहण से डरने वालों के लिए बड़ा ही सारगर्भित लेख लिखा है जो हम यहाँप्रस्तुत कर रहे हैं | हम जानते हैं अपने लाभ हानि से डरने वाले लोग ग्रहण केअंधविश्वास से बाहर नहीं निकल सकते । लेकिन विश्वास कीजिये ये खूबसूरत खगोलीय घटनाडरने के लिए नहीं है, बल्कि इसे देखकर इसके सौन्दर्य का सम्मान
26 दिसम्बर 2019
04 दिसम्बर 2019
हैदराबाद के गैंगरेप से पूरा देश हिल गया है और हर कोई आरोपियों के लिए फांसी की सजा की मांग कर रहा है। हर किसी की अपनी-अपनी प्रतिक्रिया दी है और सभी का एक ही नारा है कि आरोपियों को सख्त सजा दी जाए वो भी बहुत जल्दी। तेलंगाना के मुख्यमंत्री ने भी आदेश दिया है कि इस केस को फास्ट ट्रैक कोर्ट में सॉल्व करन
04 दिसम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x