पितृदोष :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

15 दिसम्बर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (418 बार पढ़ा जा चुका है)

पितृदोष :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस धराधाम पर सर्वश्रेष्ठ योनि मनुष्य की कही गई है , देवताओं की कृपा एवं पूर्वजन्म में किए गए सत्संग के फल स्वरुप जीव को माता-पिता के माध्यम से इस धरती पर मनुष्य योनि प्राप्त होती है | इस धरती पर जन्म लेने के बाद मनुष्य तीन प्रकार से ऋणी हो जाता है जिन्हें हमारे शास्त्रों में ऋषिऋण , देवऋण एवं पितृऋण कहा गया है | प्रत्येक मनुष्य को इन तीन प्रकार के ऋणों से उऋण होने का प्रयास करना चाहिए | जिस प्रकार मनुष्य किसी से उधार के रूप में धन ले लेता है तो उसे चुकाने की चिंता लगी रहती है उसी प्रकार इन तीन प्रकार के ऋणों को भी प्रत्येक मनुष्य को चुकाने की चिंता करनी चाहिए | जिन मनुष्यों के द्वारा इन ऋणों को नहीं चुकाया जाता है उनके जीवन में अनेकों प्रकार की व्याधियों असमय उत्पन्न हो जाती है | वैसे तो पितृऋण के विषय में लिखा है कि संतान उत्पन्न कर देने के बाद मनुष्य पितृऋण से उऋण हो जाता है परंतु इतना ही पर्याप्त नहीं है | जो मनुष्य पितृऋण नहीं उतारने का प्रयास करता वह जीवन भर पितृदोष से पीड़ित रहता है | पूर्वकाल में मनुष्यों का संस्कार इतना दिव्य था कि वे अपने माता-पिता एवं अपने सगे संबंधियों का आदर सम्मान एवं सेवा करके पितृदोष से बचे रहते थे , पूर्व काल में बहुत कम ही लोग ऐसे मिलते हैं जो पितृदोष से पीड़ित रहे हो | पितृऋण कई प्रकार का होता है जैसे हमारे कर्मों का , आत्मा का , पिता का , भाई का , बहन का , मां का , पत्नी का , बेटी और बेटे का | आत्मा के ऋण को स्वयं का ऋण भी कहते हैं यह सभी पितृदोष के रूप में मनुष्य को पीड़ित करते रहते हैं , इसलिए प्रत्येक मनुष्य को अपनी माता पिता के प्रति एवं परिवार के प्रति अपने कर्तव्यों का निर्वहन ईमानदारी से करते रहना चाहिए और यह तभी संभव है जब मनुष्य के भीतर ऐसा करने के संस्कार विद्यमान होंगे , अन्यथा मनुष्य अनेक प्रकार की आधि - व्याधियों से पीड़ित होकर कष्टमय जीवन व्यतीत करने पर विवश रहेगा |*


*आज के आधुनिक युग में जिस प्रकार संस्कारों का लोप हो रहा है उसी अनुपात में लोग पितृदोष से पीड़ित भी मिल रहे हैं , इसका मुख्य कारण यही है कि आज लोगों ने अपने सम्माननीयों एवं आदरणीयों का आदर करना लगभग बंद कर दिया है | जिस माता-पिता के माध्यम से इस संसार में मनुष्य का जन्म हुआ है उन्हीं को आज तिरस्कृत होकर जीवन जीने पर विवश होना पड़ रहा है | मेरा "आचार्य अर्जुन तिवारी" का स्पष्ट कथन है कि पितृदोष से यदि बचना है तो पितृऋण से उऋण होने का पूरा प्रयास करना चाहिए | आज का मनुष्य धन वैभव से परिपूर्ण तो दिखाई पड़ता है परंतु सुखी भी हो यह आवश्यक नहीं | आज यदि चारों ओर दुख ही दुख दिखाई पड़ रहा है तो उसका कारण यही है कि मनुष्य अपने संस्कारों से दूर हो रहा है | आज प्राय: कुंडलियों में देवदोष व पितृदोष देखने को मिलता है इसका कारण यही है कि मनुष्य सनातन से चले आ रहे अपनी तीनो ऋणों को चुकता करना भूलता चला जा रहा है | अपने माता - पिता , सगे - संबंधी , देवताओं एवं ऋषियों की अवहेलना करके सुख की कामना करना महज मूर्खता के अतिरिक्त और कुछ नहीं है | जीवित माता-पिता को असहनीय कष्ट देकर उनके मरने पर उनके नाम से विशाल भंडारा करवाकर कोई भी पितृदोष से बच नहीं सकता है | आज समाज में वृद्ध माता - पिताओं का जो हाल है वह प्रत्येक व्यक्ति की कुंडली में पितृदोष पैदा करने के लिए पर्याप्त हैं | यदि पितृदोष नामक घातक बीमारी से बचना है तो समय-समय पर पितृऋण को चुकता करने का प्रयास तो करना ही चाहिए साथ ही अपने माता-पिता के प्रति पूर्ण समर्पण भाव से उनकी सेवा करके भी इस दोष से बचा जा सकता है |*


*मनुष्य अनेकों प्रकार के कृत्य समाज को दिखाने के लिए तो करता रहता है परन्तु अपने परिवार एवं माता - पिता के प्रति अपने कर्तव्यों का निर्वहन नहीं कर पा रहा है , यही कारण है कि आज अधिकांश लोगों की कुण्डली में पितृदोष मिल रहा है |*

अगला लेख: लुप्त होती परम्परायें :---आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
23 दिसम्बर 2019
*आदिकाल से ही इस धरती पर अनेकों भक्त हुए हैं जिन्होंने भगवान की भक्ति करके उनको प्राप्त करने का अनुभव किया है | अनेकों भक्तों तो ऐसे भी हुए जिन्होंने साक्षात भगवान का दर्शन भी किया है | भक्ति की महत्ता का विस्तृत वर्णन हमारे शास्त्र एवं पुराणों में देखने को मिलता है | भक्ति क्या होती है ? इसको बता
23 दिसम्बर 2019
17 दिसम्बर 2019
*किसी भी देश का निर्माण समाज से होता है और समाज की प्रथम इकाई परिवार है | परिवार में आपसी सामंजस्य कैसा है ? यह निर्भर करता है कि हमारा समाज कैसा बनेगा | परिवार में प्राप्त संस्कारों के माध्यम से ही मनुष्य समाज में क्रियाकलाप करता है | हम इस भारत देश में पुनः रामराज्य की स्थापना की कल्पना किया करते
17 दिसम्बर 2019
01 दिसम्बर 2019
*सनातन धर्म की मान्यताओं के अनुसार मानव जीवन को चार भागों में विभक्त करके उन्हें आश्रमों का नाम दिया गया है | इन चारों आश्रमों में सबसे महत्त्वपूर्ण एवं मुख्य है गृहस्थाश्रम क्योंकि बिना गृहस्थ धर्म के पालन के सृष्टि की निरन्तरता बाधित हो जायेगी | परमात्मा द्वारा सृजित इस मैथुनी सृष्टि में गृहस्थाश्
01 दिसम्बर 2019
23 दिसम्बर 2019
*संपूर्ण विश्व में विविधता में एकता यदि कहीं देखने को मिलती है तो वह हमारा देश भारत है जहां विभिन्न धर्म जाति वर्ण के लोग एक साथ रहते हैं | हमारा देश एकमात्र ऐसा देश है जहां भिन्न-भिन्न जातियों के वंशज एक साथ रहते हैं और इन सब की मूल धरोहर है इनकी संस्कृति , सभ्
23 दिसम्बर 2019
03 दिसम्बर 2019
*मानव जीवन में इस संसार में उपस्थित समस्त पदार्थ किसी न किसी रूप में महत्वपूर्ण है परंतु यदि इनका सूक्ष्म आंकलन किया जाय तो सबसे महत्वपूर्ण हैं मनुष्य के संस्कार | इन्हीं संस्कारों को अपना करके मनुष्य पदार्थों से उचित अनुचित व्यवहार करने का ज्ञान प्राप्त करता है | हमारे देश भारत की संस्कृति संस्कार
03 दिसम्बर 2019
17 दिसम्बर 2019
*आदिकाल से मनुष्य में सद्गुण एवं दुर्गुण साथ - साथ उत्पन्न् हुए इस धराधाम पर अनेकों सदुगुणों को जहाँ मनुष्य ने स्वयं में आत्मसात किया है वहीं दुर्गुणों से भी उसका गहरा सम्बन्ध रहा है | मनुष्य में सद्गुण एवं दुर्गुण उसके पारिवारिक परिवेश एवं संस्कारों के अनुसार ही प्रकट होते रहे हैं | सम्मान , सदाचार
17 दिसम्बर 2019
16 दिसम्बर 2019
*मानव जीवन में मनुष्य को क्या करना चाहिए क्या नहीं करना चाहिए यह सारा मार्गदर्शन हमारे ऋषियों ने शास्त्रों में लिख दिया है | क्या करके मनुष्य सफलता के शिखर पर पहुंच सकता है और क्या करके उसका पतन हो सकता है इसका मार्गदर्शन एवं उदाहरण हमारे पुराण में भरा पड़ा है | जिनके अनुसार मनुष्य सत्कर्म करके सफलत
16 दिसम्बर 2019
09 दिसम्बर 2019
*इस संपूर्ण विश्व में प्रारंभ से ही भारत देश अपने क्रियाकलापों एवं दूरदर्शिता के लिए जाना जाता रहा है | विश्व के समस्त देशों की अपेक्षा भारत की सभ्यता , संस्कृति एवं आपसी सामंजस्य एक अनुपम उदाहरण प्रस्तुत करता रहा है | यहां पूर्व काल में एक दूसरे के सहयोग से दुष्कर से दुष्कर कार्य मनुष्य करता रहा है
09 दिसम्बर 2019
02 दिसम्बर 2019
*हमारे देश की संस्कृति इतनी महान रही है कि समस्त विश्व ने हमारी संस्कृति को आत्मसात किया | सनातन ने सदैव नारी को शक्ति के रूप में प्रतिपादित / स्थापित करते हुए सम्माननीय एवं पूज्यनीय माना है | इस मान्यता के विपरीत जाकर जिसने भी नारियों के सम्मान के विपरीत जाकर उनसे व्यवहार करने का प्रयास किया है उसक
02 दिसम्बर 2019
12 दिसम्बर 2019
*सृष्टि के आदिकाल से ही इस धरा धाम पर मनुष्य विचरण कर रहा है | मनुष्य ने अपने जीवन को सुचारू ढंग से चलाने के लिए जहां अनेकों प्रकार के संसाधन बनाएं वही समय-समय पर वह ईश्वर का भी आश्रय लेता रहा है इसके लिए मनुष्य ने वैदिक कर्मकांड एवम पूजा पाठ का सहारा लिया | सतयुग से लेकर के त्रेता , द्वापर तक ईश्वर
12 दिसम्बर 2019
19 दिसम्बर 2019
*किसी भी देश का भविष्य युवाओं को कहा जाता है | युवा शक्ति राष्ट्र शक्ति के रूप में जानी जाती है | भारत के संपूर्ण जनसंख्या का एक चौथाई हिस्सा आज युवा वर्ग है | छात्रों को राष्ट्र का भविष्य एवं भाग्यविधाता कहा जाता है छात्र समाज में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं | विद्यालय में रहकर सामाजिकता , नैति
19 दिसम्बर 2019
09 दिसम्बर 2019
*इस संपूर्ण विश्व में प्रारंभ से ही भारत देश अपने क्रियाकलापों एवं दूरदर्शिता के लिए जाना जाता रहा है | विश्व के समस्त देशों की अपेक्षा भारत की सभ्यता , संस्कृति एवं आपसी सामंजस्य एक अनुपम उदाहरण प्रस्तुत करता रहा है | यहां पूर्व काल में एक दूसरे के सहयोग से दुष्कर से दुष्कर कार्य मनुष्य करता रहा है
09 दिसम्बर 2019
20 दिसम्बर 2019
*प्राचीनकाल से ही भारत देश आपसी सौहार्द्र , प्रेम एवं भाईचारे का उदाहरण समस्त विश्व के समक्ष प्रस्तुत करता रहा है | वैदिककाल में मनुष्य आपस में तो सौहार्द्र पूर्वक रहता ही था अपितु इससे भी आगे बढ़कर वैदिककाल के महामानवों ने पशु - पक्षियों के प्रति भी अपना प्रेम प्रकट करके उनसे भी सम्बन्ध स्थापित करन
20 दिसम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x