जामिया के छात्रों की आपबीति तो सुन ली आपने, अब दिल्ली पुलिस की भी सुन लो

16 दिसम्बर 2019   |  स्नेहा दुबे   (448 बार पढ़ा जा चुका है)

जामिया के छात्रों की आपबीति तो सुन ली आपने, अब दिल्ली पुलिस की भी सुन लो

देश की राजधानी में इन दिनों जो कुछ भी चल रहा है उससे हर कोई वाकिफ है। मगर ये बेफिजुली के झगड़े से आपको क्या लगता है कि इन छात्रों का उपद्रव पूरी तरह से सही है? किसी भी झगड़े में एक पक्ष पूरी तरह से सही नहीं हो सकता है और ऐसा ही जामिया में होने वाले विवाद में भी हो रहा है। ऐसा इसलिए क्योंकि रविवार को दिल्ली में नागरिकता संशोधन एक्ट लागू हुआ है और इसके खिलाफ इन छात्रों का ये प्रदर्शन है। सोशल मीडिया पर इस समय पत्रकार लोग दो भागों में बंट गया है, जिसमें एक उन छात्रों का विरोध कर रहे हैं तो दूसरा दिल्ली पुलिस का साथ दे रहे हैं। मगर इनमें सच्चाई क्या है ये किसी न्यूज चैनल ने नहीं दिखाया, क्योंकि हर जगह यही दिखाया जा रहा है कि दिल्ली पुलिस मासूम छात्रों पर अत्याचार कर रहे हैं।


क्या है जामिया विवाद?


जामिया विवाद


जामिया के छात्र रविवार को नए नागरिकता कानून के खिलाफ जाकर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। इसी दौरान ऐसी खबरें आईं कि तीन बसों में आग लगाई गई और ये वाक्या वाकई हिंसक थी। इस खबर को लेकर जामिया मिल्लिया की वीसी प्रोफेसर नजमा अख्तर ने कहा कि पुलिस बिना अनुमति के यूनिवर्सिटी कैंपस में घुसकर छात्रों पर लाठियां और आंसू गैस बरसाने लगी। पुलिस की कार्यवाही में कई छात्र जख्मी हुए और कई घायलों को अस्पताल पहुंचाया गया। मगर यहां सवाल आता है कि क्या दिल्ली पुलिस पागल हो गई है जो वे छात्रों पर बेवजह लाठियां बरसाए। हम सभी पढ़े-लिखे समाज से हैं तो हमें ये तो जरूर सोचना चाहिए कि आखिर पुलिस ऐसा क्यों कर रही, वहीं दूसरी ओर सुप्रीम कोर्ट ने भी छात्रों के ऐसे उपद्रव के बारे में नाराजगी जताई है। इस मामले में तत्काल सनवाई से सुप्रीम कोर्ट ने इंकार कर दिया है। कोर्ट ने याचिकाकर्ताओं से उचित प्रक्रिया का पालन करते हुए अदालत में आने का आदेश दिया है। भारत के नये मुख्य न्यायाधीश एसए बोबड़े ने कहा, 'बस इसलिए कि वो छात्र हैं, इसका मतलब ये नहीं कि वो कानून-व्यवस्था अपने हाथ में लें। इस बात का फैसला तभी होगा जब वे स्थिति शांत बनाएंगे, पहले दंगे बंद होने चाहिए।' सुप्रीम कोर्ट ने जामिया में हुई हिंसा पर टिप्पणी करते हुए कहा कि हिंसा बंद होनी चाहिए. शीर्ष अदालत ने कहा है कि वो इस बारे में दायर याचिकाओं पर मंगलवार को सुनवाई की जाएगी।


जामिया विवाद


रविवार को बेकाबू हुए हालात


रविवार को छात्रों ने जामिया मिलिया इस्लामिया के बाहर प्रदर्शन किया गया और नारेबाजी भी की गई लेकिन पुलिस के साथ उनका संघर्ष ज्यादा हुआ। पहले पत्थरबाजी फिर प्रदर्शनकारियों ने बसों-बाइकों में आग लगा दी। इसकी वजह से माहौल कुछ ज्यादा ही बिगड़ गया और दिल्ली पुलिस ने अपने बयान में बताया कि क्योंकि छात्रों की तरफ से पत्थरबाजी की गई थी और इसी वजह से उन्हें लाठीचार्ज करना पड़ा। बसों को जलाने के ऊपर ये खबर आई कि बसों में आग पुलिस ने लगाई जबकि एक बस ही जलाई गई और एनडीटीवी के एक संवादाता से बात करते हुए ये बात सामने आई कि जिस बस में आग लगाई गई उसमें पुलिस नहीं बल्कि आम जनता बैठी थी जो काफी हैरान और परेशान थी। वीडियो देखने के लिए यहां क्लिक करें


जामिया विवाद


हमने जो वीडियो यहां अपलोड किया है उसमें आप साफ देख सकेंगे कि पुलिस किस तरह से हिंसक महिलाओं से दूर जा रही जबकि छात्रों ने छात्राओं को आगे करके ऐसा किया जिससे पुलिस उनपर लाठीचार्ज नहीं कर पाए। ऐसा ही हुआ लेकिन सोशल मीडिया पर लोग इसे भी तोड़-मरोड़कर पेश कर रहे हैं लेकिन सवाल ये भी है कि कॉलेज कैंपस में हुए विवाद को बीच सड़क पर उतारने की जरूरत क्या थी। इसके अलावा इन छात्रों का दो ही नारा है 'गो बैक दिल्ली पुलिस' और 'बीजेपी के दलालों को जूता मारो सालों को'। इन छात्रों को इस नये बिल से इतनी परेशानी क्यों है। इन सभी सवालों का जवाब समय के साथ हम सबको मिलेगा। हालांकि ज्यादातर लोगों को कहना है ऐसा मुस्लिम समुदाय के लोग ज्यादा कर रहे हैं जिससे इस आड़ में वे अपने इस्लाम की रोटियां सेक सकें। ये बात हम नहीं कह रहे बल्कि नीचे दी ये तस्वीर बताती है-


जामिया विवाद


ये तस्वीर जामिया मिलिया के पास एक मेट्रो स्टेशन की है जिसमें आप देख सकते हैं कि किसी ने बड़े-बड़े अक्षरों में लिखा है, 'इस्लाम रहेगा'। क्या मतलब है इनके पढ़ने और लिखने का जब इन्हें सही और गलत में कोई फर्क ही नहीं मालूम है। इस बिल से धार्मिक यातनाएं सहने वाले हिंदू, मुस्लिम, सिख, ईसाई या फिर दूसके सभी धर्मों को भारत की नागरिकता प्राप्त करने का बिल पास किया गया है। इससे भला छात्रों को किस बात का खतरा है? खैर जो भी है अब सुप्रीम कोर्ट इसपर सुनवाई 17 दिसंबर यानी मंगलवार को करेगा।

जामिया के छात्रों की आपबीति तो सुन ली आपने, अब दिल्ली पुलिस की भी सुन लो

अगला लेख: जरा हटके: बारात आने में हुई देरी तो दुल्हन ने दूसरा पटा लिया, ऐसी है दिलचस्प कहानी



पहली बार किसी शीर्षस्थ अधिकारी (सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस) ने यह कहा है की 'बस इसलिए कि वो छात्र हैं, इसका मतलब ये नहीं कि वो कानून-व्यवस्था अपने हाथ में लें। इस बात का फैसला तभी होगा जब वे स्थिति शांत बनाएंगे, पहले दंगे बंद होने चाहिए।' सुप्रीम कोर्ट ने जामिया में हुई हिंसा पर टिप्पणी करते हुए कहा कि हिंसा बंद होनी चाहिए" .
क्या यह साहस कोई राजनीतिक नेता दिखायेगा.
छात्रों को आग लगाने और तांडव करने का " अधिकार" किसने दिया है.? तांडव के समय पुलिस क्या मूक दर्शक बानी रह सकती है?
यदि राजनेता अपना काम कर रहे हैं (हिंसा फैलाने का) तो पुलिस भी अपना काम कर रही है. -ाअराजक तत्वों से लड़ने का.
हमारी पुरानी रीतियां काफी बदलाव मांग रही हैं. इस दिशा में चीफ जस्टिस का वक्तव्य एक शुरुआत माना चाहिए और इस पर एक्शन होना चाहिए यदि कुछ छात्रों को सजा भी मिले तो उदाहरण बनेगा और शायद अन्य छात्र कुछ सबक ले सकें.
वीरेंद्र .

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
16 दिसम्बर 2019
राजधानी दिल्ली में जामिया मिलिया इस्लामिया कैंपस में रविवार की रात जो कुछ भी हुआ इससे देश अब तक वाकिफ हो चुका है। ये सभी छात्र थे या किस पक्ष के लोग थे इस बात की जांच होनी अभी बाकी है लेकिन कार्यवाही तो जरूर होगी, वहीं छात्रों का आरोप है दिल्ली पुलिस बिना वीसी के अनुम
16 दिसम्बर 2019
16 दिसम्बर 2019
रविवार को नागरिक संशोधन बिल पास होने के बाद संसद भवन में तो बहुत से लोग खुश हुए लेकिन देश के कुछ छात्रों को ये बात अच्छी नहीं लगी। उनके मुताबिक, ये बिल पास करने का मतलब देश के टुकड़े करना है। हम सभी अपने देश में रहते हैं लेकिन कोई दूसरा यहां आकर कैसे रह सकता है वो भी यहां की नागरिकता के साथ। जामिया
16 दिसम्बर 2019
04 दिसम्बर 2019
भारतीय रेलवे एक के बाद एक योजनाएं अपने यात्रियों के लिए निकालती जा रही है, कुछ दिन पहले ही जनरल डिब्बों पर भी आरक्षित सीटों की खबरों से आम जनता खुश हो गई थी। अब नॉर्थ में रहने वालों को आसानी से साउथ में घूमने को भी मिल जाएगा। भारतीय रेलवे ने एक ऐसी ट्रेन चलाई है जो कटरा से चलकर कई राज्यों को पार करत
04 दिसम्बर 2019
06 दिसम्बर 2019
भारत और पाकिस्तान के बीच दुश्मनी दशकों से चली आ रही है और अगर किसी ने यहां के क्रिकेटर्स के बारे में कोई खबर सुनी होती है तो भारतीय लोगों को हंसी ही आती है क्योंकि यहां पर पाकिस्तानी क्रिकेटर्स की खिल्ली ही उड़ाई जाती है। मगर पाकिस्तान के कुछ ऐसे भी खिलाड़ी हैं जिन्होंने पूरी दुनिया का दिल जीता है औ
06 दिसम्बर 2019
04 दिसम्बर 2019
हैदराबाद के गैंगरेप से पूरा देश हिल गया है और हर कोई आरोपियों के लिए फांसी की सजा की मांग कर रहा है। हर किसी की अपनी-अपनी प्रतिक्रिया दी है और सभी का एक ही नारा है कि आरोपियों को सख्त सजा दी जाए वो भी बहुत जल्दी। तेलंगाना के मुख्यमंत्री ने भी आदेश दिया है कि इस केस को फास्ट ट्रैक कोर्ट में सॉल्व करन
04 दिसम्बर 2019
04 दिसम्बर 2019
भारतीय रेलवे एक के बाद एक योजनाएं अपने यात्रियों के लिए निकालती जा रही है, कुछ दिन पहले ही जनरल डिब्बों पर भी आरक्षित सीटों की खबरों से आम जनता खुश हो गई थी। अब नॉर्थ में रहने वालों को आसानी से साउथ में घूमने को भी मिल जाएगा। भारतीय रेलवे ने एक ऐसी ट्रेन चलाई है जो कटरा से चलकर कई राज्यों को पार करत
04 दिसम्बर 2019
02 दिसम्बर 2019
देश में एक बार फिर गैंगरेप हो गया और सरकार से लोग आज भी अपील कर रहे हैं कि गुनाहगारों को फांसी दी जाए लेकिन क्या असल में उनके साथ ऐसा होगा? साल 2012 में निर्भया केस के दौरान जो भी हुआ तब तो लोगों को कोई सजा नहीं मिली तो आज इन लोगों को कैसे मिले? सच यही है कि रेप की कड
02 दिसम्बर 2019
02 दिसम्बर 2019
देश में एक बार फिर गैंगरेप हो गया और सरकार से लोग आज भी अपील कर रहे हैं कि गुनाहगारों को फांसी दी जाए लेकिन क्या असल में उनके साथ ऐसा होगा? साल 2012 में निर्भया केस के दौरान जो भी हुआ तब तो लोगों को कोई सजा नहीं मिली तो आज इन लोगों को कैसे मिले? सच यही है कि रेप की कड
02 दिसम्बर 2019
11 दिसम्बर 2019
हर इंसान के जीवन में शादी बहुत अहम फैसला होती है तभी इसे करने से पहले लोग बहुत सोचते हैं क्योंकि इंसान अपने जीवन में शादी एक बार ही करता है। अगर ये शादी हमेशा चल गई और इंसान खुशी के साथ इसे बिताने लगे तो बस उसकी सारी परेशानी दूर हो जाती है लेकिन अगर ऐसा नहीं हो पाता तो हमेशा के लिए उन्हें भोगना पड़त
11 दिसम्बर 2019
03 दिसम्बर 2019
दुनिया में बहुत सी विचित्र बातें होती हैं जिन्हें सुनने वाले एक बार हैरान रह जाते हैं। फिर चाहे कोई वारदात हो या फिर किसी के साथ उनकी मजबूरी में उनका फायदा उठाया जाना हो। लोगों का मन इस तरह से वो सब करने पर मजबूर हो जाता है जिसके बारे में वो सोचते भी नहीं हो। कुछ ऐसा ही केरल में भी होता है जिसे सुनन
03 दिसम्बर 2019
10 दिसम्बर 2019
देश में रेप और उसके बाद हत्या की घटना ज्यादा ही बढ़ने लगी है। हर लड़की एक डर के साए में जी रही है और सरकार से एक ही सवाल कर रही है कि क्या वे भारत में सेफ हैं। पहले दिल्ली वाले निर्भया केस और अब हैदराबाद जैसा केस सामने आया जिसके बाद देश में एक आक्रोश आ गया है। सभी एक ही सवाल कर रहे है कि उन्हें सजा
10 दिसम्बर 2019
02 दिसम्बर 2019
पिछले कुछ दिनों से महाराष्ट्र में जो कुछ भी हो रहा है उससे हर कोई वाकिफ है लेकिन असल में वहां की रणनीति कोई समझ ही नहीं पाता। जब भाजपा को वहां की सत्ता मिल गई थी तो इस्तीफा देने का क्या मतलब था। इस सवाल के साथ कई बीजेपी नेताओं ने पार्टी से सवाल किया लेकिन इसका जवाब किसी ने नहीं दिया। मगर अब इसका जवा
02 दिसम्बर 2019
02 दिसम्बर 2019
इंटरनेट सेंसेशन बनी सिंगर रानू मंडल को लेकर जितनी तेज से उनका गाना वायरल होता है उतनी ही तेजी से उनके मीम्स भी बन जाते हैं। रानू मंडल गाने गाएं या नहीं गाएं लेकिन उनके बारे में खबरें तेजी से वायरल होने लगती हैं। पिछले दिनों उनका एक और वीडियो सामने आया जिसमें उनके साथ पत्रकार बरखा दत्त नजर आ रही हैं
02 दिसम्बर 2019
06 दिसम्बर 2019
दुनिया में अजब-गजब खबरें सामने आती हैं लेकिन प्यार या शादी से जुड़ी खबरों की बात ही अलग होती है। जब हम किसी से प्यार करते हैं और शादी भी उसी से हो जाती है तो हमरा एक सपना पूरा होता है। इसके बाद हमारी हर कोशिश होती है कि शादी के बाद हम अपने पार्टनर को खूब खुश रखा करें। मगर कभी-कभी हम अपने पार्टनर को
06 दिसम्बर 2019
05 दिसम्बर 2019
देश में चल रहे राजनीतिक विवादों के बीच अब ऐसे इंसान ने बोला है जिन्हें बोलते शायद ही आपने सुना होगा। हम यहां बात पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की करने जा रहे हैं जिन्होंंने कांग्रेस को लेकर एक खुलासा किया है और इसमें उन्होंने साल 1984 में हुए सिख दंगे का जिक्र भी किया है। आमतौर पर मममोहन सिंह को ज्
05 दिसम्बर 2019
03 दिसम्बर 2019
दुनिया में बहुत सी विचित्र बातें होती हैं जिन्हें सुनने वाले एक बार हैरान रह जाते हैं। फिर चाहे कोई वारदात हो या फिर किसी के साथ उनकी मजबूरी में उनका फायदा उठाया जाना हो। लोगों का मन इस तरह से वो सब करने पर मजबूर हो जाता है जिसके बारे में वो सोचते भी नहीं हो। कुछ ऐसा ही केरल में भी होता है जिसे सुनन
03 दिसम्बर 2019
05 दिसम्बर 2019
शादियों का मौसम चल रहा है और ऐसे में सभी को आने वाली दावतों का इंतजार है। मगर इस दावत के आने से पहले शादी का कार्ड घर आता है जिसमें शादी से जुड़ी सभी जानकारियां होती हैं लेकिन एक ऐसा शादी का कार्ड को सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है। इसमें जो कुछ भी लिखा है वो बिल्कुल अलग है और इसे देखकर आपको भी ह
05 दिसम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x