साहित्यिक चोरी :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

17 दिसम्बर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (425 बार पढ़ा जा चुका है)

साहित्यिक चोरी :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*आदिकाल से मनुष्य में सद्गुण एवं दुर्गुण साथ - साथ उत्पन्न् हुए इस धराधाम पर अनेकों सदुगुणों को जहाँ मनुष्य ने स्वयं में आत्मसात किया है वहीं दुर्गुणों से भी उसका गहरा सम्बन्ध रहा है | मनुष्य में सद्गुण एवं दुर्गुण उसके पारिवारिक परिवेश एवं संस्कारों के अनुसार ही प्रकट होते रहे हैं | सम्मान , सदाचार , प्रेम , सहयोग आदि को सद्गुण तो व्यसन , ईर्ष्या , मात्सर्य एवं चोरी आदि को हमारे महापुरुषों ने दुर्गुण की संज्ञा दी है | जिन मनुष्यों के संस्कार उच्च श्रेणी के रहे हैं उन्होंने सद्गुणों को स्वयं में आत्मसात किया और जिनका पारिवारिक परिवेश अच्छा नहीं रहा है उन्हें दुर्गुणों ने अपने घेरे में ले लिया | कभी-कभी तो ऐसा भी होता है कि पारिवारिक परिवेश तो बहुत अच्छा होता है परंतु उसका एक सदस्य कुसंगति में पड़ करके अपने परिवार से बिल्कुल विपरीत कृत्य करने लगता है | सबसे घातक दुर्गुण चोरी को कहा गया है , चोरी करना जघन्य अपराध की श्रेणी में रखा गया है | पूर्वकाल में मनुष्य इन दुर्व्यसनों से दूर रहने का प्रयास किया करता था | परंतु धीरे-धीरे मनुष्य आधुनिक होता गया और उसके दुर्गुणों ने भी आधुनिकता ग्रहण कर लिया | आधुनिक युग में चोरी करने के नए-नए तरीके मनुष्य अपनाने लगा | आश्चर्य तो तब होता है जब समाज में उच्च पद पर आसीन होने पर भी वह अपने इन दुर्व्यसनों से मुक्ति नहीं पाता और समाज में अपने उच्च स्थान का ध्यान न रखकर इन दुर्व्यसनों में लिप्त रहता है | आज समाज में एक नवीन विधा देखने को मिलती है कि मनुष्य एक दूसरे के लेखों एवं रचनाओं को चुरा करके उसमें अपना नाम अंकित करके प्रस्तुत करने लगा है | इसे साहित्यिक चोरी का नाम दिया गया है | साहित्यिक चोरी किसे कहते हैं इसे हमारे आधुनिक विचारकों ने परिभाषित करते हुए बताया है कि जिस किसी दूसरे की भाषाशैली , उसके विचार उपाय आदि का अधिकांशत: नकल करते हुए अपनी मौलिक रचना के रूप में प्रस्तुत करना साहित्यिक चोरी की श्रेणी में आता है , और आज यह चोरी प्रतिदिन देखने को मिल रही है | ऐसा करके मनुष्य कितना बड़ा विद्वान बन जाएगा यह विचारणीय विषय है |*


*आज के आधुनिक युग में मनुष्य इंटरनेट के माध्यम से जन-जन तक पहुंचने का प्रयास कर रहा है | यह सत्य है कि पूर्वकाल की अपेक्षा आज इंटरनेट ने दुनिया की भाषा के साहित्य और लेखन को जनमानस के करीब और उनकी पहुंच में ला दिया है | जहां इससे इन लेखों के रचयिताओं की लोकप्रियता में वृद्धि हुई है वहीं इनकी साहित्यक चोरी भी बढ़ गई है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" आज समाज के उन प्रबुद्ध लोगों को देख रहा हूं जिन्हें लिखना तो नहीं आता परंतु सस्ती लोकप्रियता के कारण व अन्य लोगों / प्रसिद्ध लोगों की रचनाओं को तोड़ मरोड़ कर या फिर कई बार तो सीधे उनका नाम हटाकर खुद के नाम पर प्रचारित और प्रकाशित कर रहे हैं | किसी के विचारों को आत्मसात करके उस पर विचार प्रकट करना मनुष्य का स्वाभाविक कर्म एवं धर्म है परंतु यही कर्म साहित्यिक चोरी तब बन जाता है जब किसी के द्वारा लिखे गए साहित्य को बिना उसका संदर्भ दिए अपने नाम से मनुष्य प्रकाशित करता है | ऐसा करने वाले लोग नहीं समझ पाते हैं कि आज सूचना एवं प्रौद्योगिकी का विचार विस्तार इतनी तेजी से हुआ है की इन चोरों के अनैतिक कार्य आसानी से पकड़ में आ जाते हैं , परंतु यह लोग इतने बेशर्म होते हैं कि उनको ना तो अपने सम्मान का भय होता है और ना ही संविधान का | जिस प्रकार मनुष्य को अपने भौतिक संपदाओं को सुरक्षित रखने का अधिकार संविधान ने दिया है उसी प्रकार अपने साहित्य को सुरक्षित रखने के लिए "बौद्धिक संपदा अधिकार" मनुष्य को प्राप्त है | किसी भी लेख या रचना को बौद्धिक संपदा कहा गया है , परंतु आज के समाज में साहित्यिक चोरियां विशेषकर इंटरनेट पर बहुत साधारण सी बात हो गई है | इन चोरों के हौसले इतने बुलंद हैं कि वे लोगों की रचनाओं में कुछेक शब्दों का उलटफेर करके उसे प्रस्तुत कर देते हैं | ऐसा करके वे स्वयं के साथ घात तो कर ही रहे हैं साथ ही समय-समय पर समाज में असम्मानित भी होते रहते हैं | ऐसे महान लोगों को ईश्वर सद्बुद्धि प्रदान करे |*


*साहित्यिक चोरी करके मनुष्य कुछ देर के लिए स्वयं में विद्वता का गर्व तो कर सकता है परंतु वह स्वयं उन रचनाओं से अपने जीवन में कुछ भी ग्रहण नहीं कर पाता है और मूर्खता की पराकाष्ठा का परिचय जीवन भर देता रहता है |*

अगला लेख: लुप्त होती परम्परायें :---आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
09 दिसम्बर 2019
*सनातन धर्म की मान्यता है कि महाराज मनु से मनुष्य की उत्पत्ति इस धराधाम पर हुई है इसीलिए उसे मानव या मनुष्य कहा जाता है | मनुष्यों के लिए अनेकों प्रकार के धर्मों का पालन करने का निर्देश भी प्राप्त होता है | प्रत्येक मनुष्य में दया , दान , शील , सौजन्य , धृति , क्षमा आदि गुणों का होना परमावश्यक है इन
09 दिसम्बर 2019
06 दिसम्बर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w
06 दिसम्बर 2019
27 दिसम्बर 2019
गु
दोस्तों ,मेरी यह कविता समाज के उन वहशी गुनहगारों के लिए है, जो वहशियत की सीमाएँ लाँघने के बाद भी स्वयं के लिए माफ़ी की उम्मीद रखते हैं। गुहार क्यों ?साँप तुम सभ्य तो हुए नहीं ,फिर ये दया की गुहार क्यों ?हाँ , यह तेरा ज़हर ही है ,जो तुझे असभ्य बनाता है ,जो तेरे मस्तिष्क के साथ , हलक में आकर वहशियत फै
27 दिसम्बर 2019
23 दिसम्बर 2019
*आदिकाल से ही इस धरती पर अनेकों भक्त हुए हैं जिन्होंने भगवान की भक्ति करके उनको प्राप्त करने का अनुभव किया है | अनेकों भक्तों तो ऐसे भी हुए जिन्होंने साक्षात भगवान का दर्शन भी किया है | भक्ति की महत्ता का विस्तृत वर्णन हमारे शास्त्र एवं पुराणों में देखने को मिलता है | भक्ति क्या होती है ? इसको बता
23 दिसम्बर 2019
20 दिसम्बर 2019
*प्राचीनकाल से ही भारत देश आपसी सौहार्द्र , प्रेम एवं भाईचारे का उदाहरण समस्त विश्व के समक्ष प्रस्तुत करता रहा है | वैदिककाल में मनुष्य आपस में तो सौहार्द्र पूर्वक रहता ही था अपितु इससे भी आगे बढ़कर वैदिककाल के महामानवों ने पशु - पक्षियों के प्रति भी अपना प्रेम प्रकट करके उनसे भी सम्बन्ध स्थापित करन
20 दिसम्बर 2019
02 दिसम्बर 2019
*हमारे देश की संस्कृति इतनी महान रही है कि समस्त विश्व ने हमारी संस्कृति को आत्मसात किया | सनातन ने सदैव नारी को शक्ति के रूप में प्रतिपादित / स्थापित करते हुए सम्माननीय एवं पूज्यनीय माना है | इस मान्यता के विपरीत जाकर जिसने भी नारियों के सम्मान के विपरीत जाकर उनसे व्यवहार करने का प्रयास किया है उसक
02 दिसम्बर 2019
14 दिसम्बर 2019
*इस धराधाम पर जन्म लेकर के मनुष्य सभी प्राणियों में सर्वश्रेष्ठ है तो इसके कई कारण हैं | इन्हीं कारणों में मुख्य है मनुष्य का जीवनमूल्य | मनुष्य जीवन की उत्कृष्टता और सार्थकता का मानदंड जीवन मूल्य ही है | हमारी सनातन संस्कृति मैं हमारे ऋषियों - महर्षियोंं का महत्वपूर्
14 दिसम्बर 2019
17 दिसम्बर 2019
*किसी भी देश का निर्माण समाज से होता है और समाज की प्रथम इकाई परिवार है | परिवार में आपसी सामंजस्य कैसा है ? यह निर्भर करता है कि हमारा समाज कैसा बनेगा | परिवार में प्राप्त संस्कारों के माध्यम से ही मनुष्य समाज में क्रियाकलाप करता है | हम इस भारत देश में पुनः रामराज्य की स्थापना की कल्पना किया करते
17 दिसम्बर 2019
19 दिसम्बर 2019
*मानव जीवन में अनेकों प्रकार के क्रियाकलाप मनुष्य द्वारा किए जाते हैं | संपूर्ण जीवन काल में मनुष्य भय एवं भ्रम से भी दो-चार होता रहता है | मानव जीवन की सार्थकता तभी है जब वह किसी भी भ्रम में पड़ने से बचा रहे | भ्रम मनुष्य को किंकर्तव्यविमूढ़ करके सोचने - समझने की शक्ति का हरण कर लेता है | भ्रम में
19 दिसम्बर 2019
23 दिसम्बर 2019
*संपूर्ण विश्व में विविधता में एकता यदि कहीं देखने को मिलती है तो वह हमारा देश भारत है जहां विभिन्न धर्म जाति वर्ण के लोग एक साथ रहते हैं | हमारा देश एकमात्र ऐसा देश है जहां भिन्न-भिन्न जातियों के वंशज एक साथ रहते हैं और इन सब की मूल धरोहर है इनकी संस्कृति , सभ्
23 दिसम्बर 2019
18 दिसम्बर 2019
*किसी भी राष्ट्र के निर्माण में वहां के समाज का बहुत बड़ा योगदान होता है | आदिकाल से हमारे देश भारत की सांस्कृतिक और सामाजिक इकाई का एक वृहद ढांचा राष्ट्र के संस्कार और सचेतक समाज की है | अन्य देशों की अपेक्षा हमारे देश के धर्मग्रंथ और उपनिषद मनुष्य को जीवन जीने की कल
18 दिसम्बर 2019
03 दिसम्बर 2019
*मानव जीवन में इस संसार में उपस्थित समस्त पदार्थ किसी न किसी रूप में महत्वपूर्ण है परंतु यदि इनका सूक्ष्म आंकलन किया जाय तो सबसे महत्वपूर्ण हैं मनुष्य के संस्कार | इन्हीं संस्कारों को अपना करके मनुष्य पदार्थों से उचित अनुचित व्यवहार करने का ज्ञान प्राप्त करता है | हमारे देश भारत की संस्कृति संस्कार
03 दिसम्बर 2019
02 दिसम्बर 2019
*हमारे देश की संस्कृति इतनी महान रही है कि समस्त विश्व ने हमारी संस्कृति को आत्मसात किया | सनातन ने सदैव नारी को शक्ति के रूप में प्रतिपादित / स्थापित करते हुए सम्माननीय एवं पूज्यनीय माना है | इस मान्यता के विपरीत जाकर जिसने भी नारियों के सम्मान के विपरीत जाकर उनसे व्यवहार करने का प्रयास किया है उसक
02 दिसम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x