अभिव्यक्ति की आजादी का अर्थ ये तो नहीं......

18 दिसम्बर 2019   |  शिल्पा रोंघे   (549 बार पढ़ा जा चुका है)

हमारे संविधान ने आर्टिकल 19 के तहत अभिव्यक्ति की आजादी दी है, ताकि हम बिना डरे अपनी बात रख सके, क्योंकि इस मौलिक अधिकार के साथ हम सम्मानपूर्वक जीवन बिता सकते है। अगर आप सोशल मीडिया की सूचना के दौर को देखे तब आपको महसूस होगा कि बहुत सारी सकारात्मक चीज़े हुई है आम लोगों को भी अपनी राय रखने का मौका मिला है और जिन चीज़ो को परंपरागत मीडिया में जगह नहीं मिल पाती थी वो सोशल मीडिया के द्वारा उजागर हो रही है, लेकिन अगर अखबारों से तुलना की जाए तब प्रामाणिकता के मामले में अखबार सोशल मीडिया न्यूज़ या पोस्ट से कहीं आगे है, सारे तथ्यों की जांच और आंकलन, पुष्टी करने के बाद ही अखबार में कोई खबर छापी जाती है, आज कल हर कोई पोस्ट लिखकर शेयर कर रहा है बिना तथ्यों की जांच किए, याद रखिए अपने आप को अभिव्यक्त कीजिए लेकिन जान लिजिए की कुछ ऐसा ना पोस्ट करे जिससे देश की अखंडता, संप्रभुता को खतरा पहुंचे। धर्मिक हिंसा फैलाने या मानहानि करने वाली चीज़ो को पोस्ट ना करे।



अधिकारों के साथ एक नागरिक होने के नाते अपने कर्तव्य याद रखना भी ज़रुरी है।

आज की पीढ़ी समस्या यही है कि पढ़ती बहुत कम है लेकिन अपने विचार अभिव्यक्त बहुत करती है।


अपना नॉलेज बढ़ाइए अखबारों के संपादकीय पढ़ेंगे तो आप पाएंगे कि कितनी सधी हुई भाषा और तर्कों के साथ लेखक अपनी बात रखते है बिना किसी की भावना आहत किए।

जिस विषय का हमें नॉलेज नहीं उस पर विचार रखना ज़रुरी नहीं सिर्फ इसलिए कि हमारे दोस्त या परिचित उस विषय पर बात कर रहे है।

सचमुच वाट्स अप और सोशल मीडिया के द्वारा होने वाली सूचना के आदान प्रदान पर फिर एक बार गंभीरता से सोचने की ज़रुरत है।


अगला लेख: अलविदा 2019



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
05 दिसम्बर 2019
नौ
बिना मिठास के फल ही क्या ?बिना रस के काव्य की रचना ही कैसे हो भला.चलो रस भरते है जीवन में, काव्य रचते है रंग बिरंगे से हम.प्रेम रस के रूप अनेकश्रृंगार, वात्सल्य, भक्ति का का होता संचार.कभी मिलन है तो कभी विरह है, श्रृंगार रस.कभी कृष्ण तो कभी राधा है इसका दूसरा नाम.कभी ममत
05 दिसम्बर 2019
08 दिसम्बर 2019
मी
भेजा था विष का प्याला अमृत बन गया। भेजा था विषैला सांपफूलों का हार बन गया। तेरी ही करामात है ये मोहनकि कलियुग में भी जी रही हूं। बिना डरे तेरी भक्ति के गीतगा रही हूं। शिल्पा रोंघे
08 दिसम्बर 2019
21 दिसम्बर 2019
सा
साथी उसे बनाओं जो सुख दुख में साथ दे.ना कि उसे जो सिर्फ तस्वीरों में आपकी शोभा बढ़ाएं.शिल्पा रोंघे
21 दिसम्बर 2019
01 जनवरी 2020
किसी की मोहब्बत में खुद को मिटाकर कभी हम भी देखेंगे अपना आशियां अपने हाथों से जलाकर कभी हम भी देखेंगे ना रांझा ना मजनूं ना महिवाल बनेंगे इश्क में किसी के महबूब बिन होती है ज़िंदगी कैसी कभी हम भी देखेंगे मधुशाला में करेंगे इबादत ज़ाम पियेंगे मस्ज़िद में क्या सच में हो जायेगा ख़ुदा नाराज़ कभी हम भी देखेंगे
01 जनवरी 2020
20 दिसम्बर 2019
दुनिया में अलग-अलग तरह के प्रोफेशन होते हैं जिसमें लोग अपनी-अपनी पसंद के प्रोफेशन में करियर बनाते हैं जिसमे डॉक्टर्स, इंजिनियर्स, टीचर या फिर पत्रकार जैसे प्लेटफॉर्म्स हैं। अगर आप पत्रकार बनना चाहते हैं तो आपको IIMC से बेहतर कोई विकल्प नहीं, क्योंकि यहां से पढेे हुए ब
20 दिसम्बर 2019
28 दिसम्बर 2019
झड़ने दो पुराने पत्तों को.🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂गिरने दो फूलों को जमीं पर.🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼कि नए पत्ते फिर आएंगे शाखों पर.🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿कि नए फूल फिर उगेंगे डाली पर.🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹ताकेंगे आसमान की ओर.🌴🌴🌴🌴🌴🌴🌴🌴गिरने से मत डरो, झड़ने से ना डरो.बीज भी जमीन में गिरकर ही पौधे
28 दिसम्बर 2019
24 दिसम्बर 2019
“चकाचौंध” पत्रिका अपने प्रकाशन के चार साल पूरेकर चुकी थी, किसी को उम्मीद भी नहीं थी कि इस पत्रिका की बिक्री इतनी बढ़ जाएगी,अब ऐसे में सभी सदस्यों को मीटिंग में बुलाया गया और उनके योगदान के लिए बधाई दीगई। तभी मीटिंग में एक व्यक्ति ने पत्रिका
24 दिसम्बर 2019
30 दिसम्बर 2019
नू
वहीं खड़े है वृक्ष सभी तनकर.वहीं खिल रहे है फूल सुंगध फैलाकर.सदियों से वहीं खड़े पर्वत विशाल.उसी समुद्र में जाकर मिल रही तरंगिणी.उसी डाल पर बैठा है पक्षी घरौंदा बनाके,उसी नभ में उड़ रहा है पंख फैलाकर.कुछ नहीं बदलता नवीन वर्ष के साथ हां बस संकल्प निश्चित ही हो जाते है दृढ़.बीते वर्ष में मिली सीखें मा
30 दिसम्बर 2019
16 दिसम्बर 2019
बढ़ती जनसंख्या परस्वास्थ्य सुविधाएं पड़ रही कम.महंगी हुई शिक्षा और अच्छे स्कूल हुए कम.ट्रेनों में बैठने को हुई जगह कम.महानगरों में रहने को मकान पड़ रहे कम.पेड़ और पौधे हुए कम.पीने का पानी हुआ कम.सिकुड़ रहे खेत खलिहान, अनाज हुआ कम.बढ़ रही गरीबी और महंगाई.किसी ने धर्म को तो किसी ने जातिको देश की बदहाल
16 दिसम्बर 2019
21 दिसम्बर 2019
सा
साथी उसे बनाओं जो सुख दुख में साथ दे.ना कि उसे जो सिर्फ तस्वीरों में आपकी शोभा बढ़ाएं.शिल्पा रोंघे
21 दिसम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x