अभिव्यक्ति की आजादी का अर्थ ये तो नहीं......

18 दिसम्बर 2019   |  शिल्पा रोंघे   (495 बार पढ़ा जा चुका है)

हमारे संविधान ने आर्टिकल 19 के तहत अभिव्यक्ति की आजादी दी है, ताकि हम बिना डरे अपनी बात रख सके, क्योंकि इस मौलिक अधिकार के साथ हम सम्मानपूर्वक जीवन बिता सकते है। अगर आप सोशल मीडिया की सूचना के दौर को देखे तब आपको महसूस होगा कि बहुत सारी सकारात्मक चीज़े हुई है आम लोगों को भी अपनी राय रखने का मौका मिला है और जिन चीज़ो को परंपरागत मीडिया में जगह नहीं मिल पाती थी वो सोशल मीडिया के द्वारा उजागर हो रही है, लेकिन अगर अखबारों से तुलना की जाए तब प्रामाणिकता के मामले में अखबार सोशल मीडिया न्यूज़ या पोस्ट से कहीं आगे है, सारे तथ्यों की जांच और आंकलन, पुष्टी करने के बाद ही अखबार में कोई खबर छापी जाती है, आज कल हर कोई पोस्ट लिखकर शेयर कर रहा है बिना तथ्यों की जांच किए, याद रखिए अपने आप को अभिव्यक्त कीजिए लेकिन जान लिजिए की कुछ ऐसा ना पोस्ट करे जिससे देश की अखंडता, संप्रभुता को खतरा पहुंचे। धर्मिक हिंसा फैलाने या मानहानि करने वाली चीज़ो को पोस्ट ना करे।



अधिकारों के साथ एक नागरिक होने के नाते अपने कर्तव्य याद रखना भी ज़रुरी है।

आज की पीढ़ी समस्या यही है कि पढ़ती बहुत कम है लेकिन अपने विचार अभिव्यक्त बहुत करती है।


अपना नॉलेज बढ़ाइए अखबारों के संपादकीय पढ़ेंगे तो आप पाएंगे कि कितनी सधी हुई भाषा और तर्कों के साथ लेखक अपनी बात रखते है बिना किसी की भावना आहत किए।

जिस विषय का हमें नॉलेज नहीं उस पर विचार रखना ज़रुरी नहीं सिर्फ इसलिए कि हमारे दोस्त या परिचित उस विषय पर बात कर रहे है।

सचमुच वाट्स अप और सोशल मीडिया के द्वारा होने वाली सूचना के आदान प्रदान पर फिर एक बार गंभीरता से सोचने की ज़रुरत है।


अगला लेख: जोगी बनना कहां आसान है ?



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
17 दिसम्बर 2019
हर बार सच्चाई की सफाई देना जरुरी नहीं.कभी कभी सही वक्त सब कुछसाफ कर देता हैअपने आप ही.सूरज को ढकनेकी कोशिश करता हैबादल हर कभी, लेकिन उसे रोशनी देनेसे रोक सका हैक्या वो कभी.शिल्पा रोंघे
17 दिसम्बर 2019
14 दिसम्बर 2019
पानीपत के लिए कृति सेनन ने मराठी स्टाईल अपनायाहै, इस फिल्म में वो दुल्हन के रुप में भी नज़र आई है।इस फिल्म सेपहले बाजीराव मस्तानी में प्रियंका चोपड़ा और मनीकर्णिका में कंगना ने झांसी की रानी में रॉयल ब्राईड लुकअपनाया था। जिसकी काफी तारीफ हुई थी। अब कृति की खूबसूरती में चा
14 दिसम्बर 2019
20 दिसम्बर 2019
स्
सीता स्वंयवर पर .....कैसे मैं पहचानू उन्हें.कैसे मैं जानूं के वो बनें हैै वो मेरे लिए.होगी सैकड़ों की भीड़ वहां.तेजस्वी और वैभवशाली तो होंगेवहां कई और भी.लेकिन सुना है मैंनें शिव का धनुषउठा सकेंगे कुछ ऐसे प्र
20 दिसम्बर 2019
01 जनवरी 2020
चक्षुओं में मदिरा सी मदहोशीमुख पर कुसुम सी कोमलतातरूणाई जैसे उफनती तरंगिणीउर में मिलन की व्याकुलताजवां जिस्म की भीनी खुशबूकमरे का एकांत वातावरणप्रेम-पुलक होने लगा अंगों मेंजब हुआ परस्पर प्रेमालिंगनडूब गया तन प्रेम-पयोधि मेंतीव्र हो उठा हृदय स्पंदनअंकित है स्मृति पटल परप्रेम दिवस पर प्रथम मिलन
01 जनवरी 2020
02 जनवरी 2020
हर राम का जटिल जीवन पथ होगा जब पिता भार्या भक्त दशरथ होगा करके ज़ुल्म करता है वो इबादत कहो फिर कैसे पूर्ण मनोरथ होगा नींद आयेगी तुझे भी सुकून भरी जब तू भी पसीने से लथपथ होगा कृष्ण का भी रथ बढ़ रहा नहीं आगे सुदामा के रक्त से सना राजपथ होगा आज भी दुःशासन कर रहा विचरण कानून खरीदने में वो महारथ होगा
02 जनवरी 2020
21 दिसम्बर 2019
सा
साथी उसे बनाओं जो सुख दुख में साथ दे.ना कि उसे जो सिर्फ तस्वीरों में आपकी शोभा बढ़ाएं.शिल्पा रोंघे
21 दिसम्बर 2019
05 दिसम्बर 2019
नौ
बिना मिठास के फल ही क्या ?बिना रस के काव्य की रचना ही कैसे हो भला.चलो रस भरते है जीवन में, काव्य रचते है रंग बिरंगे से हम.प्रेम रस के रूप अनेकश्रृंगार, वात्सल्य, भक्ति का का होता संचार.कभी मिलन है तो कभी विरह है, श्रृंगार रस.कभी कृष्ण तो कभी राधा है इसका दूसरा नाम.कभी ममत
05 दिसम्बर 2019
20 दिसम्बर 2019
दुनिया में अलग-अलग तरह के प्रोफेशन होते हैं जिसमें लोग अपनी-अपनी पसंद के प्रोफेशन में करियर बनाते हैं जिसमे डॉक्टर्स, इंजिनियर्स, टीचर या फिर पत्रकार जैसे प्लेटफॉर्म्स हैं। अगर आप पत्रकार बनना चाहते हैं तो आपको IIMC से बेहतर कोई विकल्प नहीं, क्योंकि यहां से पढेे हुए ब
20 दिसम्बर 2019
09 दिसम्बर 2019
रानी बेटी ,लाडो बेटीअसुरक्षित क्यों ?डॉ शोभा भारद्वाज देश में एक ही प्रश्न पूछा जा रहा है देश कीलगभग 48% आबादी महिलायें हैं |हर क्षेत्र में महिलायें पुरुष समाज से कमतर नहीं हैकई क्षेत्रों में आगे हैं |देश के विकास में उनका बराबर का योगदान है नेवी में एकमहिला पायलेट बनी , फाईटर पायलेट हैं लेकिन असुर
09 दिसम्बर 2019
13 दिसम्बर 2019
जो
आसान नहीं है ज़िंदगीजीने का तरीका सीखलाना.आसान नहीं किसी कोसही राह दिखाना.आसान नहीं है खुद को भी बदलना, कुछ ख़्वाहिशोंको छोड़ना, कुछ सुविधाओं को त्यागना.त्याग की अग्नी में तपना औरउम्मीद के दीपक जलाना.धूप, बारिश, और ठंडको सहना.होंठो पर शिकायत कम और समाधाननिकालना.हां सचम
13 दिसम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x